Dhanteras 2023 | धनतेरस कब व क्यों मनाया जाता है, जाने धनतेरस पूजा विधि

Dhanteras

Dhanteras 2023:-  10 नवंबर के दिन इस साल धनतेरस का त्योहार पूरे देश में जोरो शोरो के साथ मनाया जाएगा। धनतेरस के दिन से पांच दिवसीय दिवाली त्योहार की शुरुआत हो जाती। जैसे कि हमने आपको बताया है कि इस वर्ष धनतेरस 10 नवंबर 2023 को मनाया जाएगा। 2023 में धनतेरस मनाने का शुभ समय 10 नवंबर को दोपहर 12:35 बजे शुरू होगा और 11 नवंबर को दोपहर 01:57 बजे समाप्त होगा। इसलिए, धनतेरस 10 नवंबर को मनाया जाएगा। ड्रिक पंचांग वेबसाइट के अनुसार, धनतेरस पूजा मुहूर्त शाम 05:47 बजे से शाम 07:43 बजे तक है। भारत में धनतेरस के दिन सोना और सोने के आभूषण खरीदना शुभ माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि ऐसे शुभ दिन पर सोना खरीदने से आपको सौभाग्य और समृद्धि लाने में मदद मिल सकती है। दिवाली का उत्सव धनतेरस से शुरू होकर पांच दिनों तक चलता है। जबकि ‘धन’ धन को संदर्भित करता है, ‘तेरस’ कृष्ण पक्ष के तेरहवें दिन को संदर्भित करता है। विशेष रूप से, दिवाली के पहले दिन को भारत में धनतेरस या धनत्रयोदशी के नाम से जाना जाता है।

Happy Dhanteras

Dhanteras 2023- Overview

त्यौहार का नामधनतेरस
साल2023
कब मनाया जाएगा?10 नवंबर 2023 को
कहां मनाया जाएगा?पूरे भारतवर्ष में
कौन से धर्म के लोग मनाते हैं?हिंदू धर्म के
धनतेरस क्यों मनाया जाता है?मंत्र मंथन के समय भगवान धन्वंतरि हाथ में कलश लेकर प्रकट हुए थे इसी कारण से
धनतेरस पर किन-किन लोगों की पूजा की जाती है?धनतेरस पर माता लक्ष्मी, कुबेर, धनवंतरी भगवान की पूजा की जाती है .
धनतेरस पर क्या खरीदना शुभ है?बर्तन और आभूषण

Also Read: धनतेरस में क्या खरीदना चाहिए? क्या खरीदना शुभ होता हैं?

See also  रुचिका कालदर्शक हिंदी कैलेंडर | Ruchika Kaldarshak Hindi Panchang 2024 (PDF Download)

धनतेरस कब हैं | Dhanteras Kab Hai

धनतेरस कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की 13वीं तिथि को मनाया जाता है | इस त्यौहार के द्वारा ही दीपावली की शुरुआत मानी जाती है | इस दिन हम सभी लोग अपने घर में कोई भी नई चीज खरीद के लाते हैं और उसे माता लक्ष्मी के चरणों में अर्पित करते हैं |  लोगों का विश्वास है कि अगर आप इस दिन कोई नई चीज माता लक्ष्मी को अर्पित करते हैं तो आपके घर में माता लक्ष्मी की कृपा हमेशा बनी रहेगी और धन में वृद्धि होगी I इसके अलावा धनतेरस पर भगवान धन्वंतरि की पूजा भी की जाती है I इनके बारे में कहा जाता है कि जब समुद्र मंथन हुआ था | भगवान धन्वंतरी अपने साथ अमृत का कलश लेकर प्रकट हुए थे I जिसके कारण ऐसी मान्यता है कि अगर आप इनके ऊपर सोना चांदी आभूषण अर्पित करेंगे तो आपके धन्य में कई गुना वृद्धि होगी |

यह भी पढ़ें: धनतेरस स्टेटस हिंदी में

धनतेरस का त्यौहार क्यों मनाया जाता हैं ?

Dhanteras Kyu Manaya Jata Hai: धनतेरस का त्यौहार मनाने के पीछे एक पौराणिक कथा है ऐसा कहा जाता है कि जब समुद्र मंथन हुआ तो मंथन से भगवान धन्वंतरी हाथ में कलश लेकर प्रकट हुए जिसके बाद से ही धनतेरस मनाने की परंपरा शुरू की गई I भगवान धन्वंतरी को भगवान विष्णु का दसवां अवतार माना जाता है | इसीलिए धनतेरस पर नए बर्तन खरीदना शुभ माना जाता है और अगर कोई भी व्यक्ति भगवान धनवंतरी के ऊपर सोने चांदी आभूषण अर्पित करता है तो उसके धन में वृद्धि होती है I इसके अलावा धनतेरस पर भगवान कुबेर की पूजा की जाती है | जिन्हें धन का देवता का जाता है I धनतेरस का त्यौहार धन के अलावा स्वास्थ्य से भी जुड़ा हुआ है | ऐसी मान्यता है कि अगर आप इस दिन भगवान धनवंतरी की पूजा करते हैं तो आप हमेशा ही निरोग रहेंगे क्योंकि उन्हें आधुनिक शल्य चिकित्सा जनक कहा जाता है |

See also  चैत्र नवरात्रि 2023 घटस्थापना मुहूर्त | नवरात्रि मुहूर्त | Chaitra Navratri 2023 Ghatasthapana Muhurat

यह भी पढ़ें: धनतेरस और नरक चतुर्दशी क्यों मनाई जाती है?

धनतेरस पूजा विधि (Dhanteras Pooja Vidhi)

  • धनतेरस के संध्या पर  शाम के समय उत्तर दिशा में कुबेर, धन्वंतरि भगवान और माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है I
  • सबसे पहले आप घी का दीपक भी जलाएंगे I इसके बाद आपको भगवान कुबेर और धन्वंतरी भगवान को सफेद और पीले मिठाई  चढ़ाने चाहिए
  • उसके बाद आप भगवान कुबेर संबंधित “ॐ ह्रीं कुबेराय नमः मंत्र का उच्चारण करना चाहिए ताकि आपके ऊपर भगवान कुबेर की कृपा बनी रहे I
  •  इसके बाद आपको भगवान धन्वंतरी संबंधित मंत्र धन्वन्तरि स्तोत्र” का उच्चारण करें I ऐसी मान्यता है कि अगर आप ऐसा करते हैं तो आप हमेशा स्वस्थ रहेंगे I
  • इसके बाद माता लक्ष्मी और भगवान गणेश जी की पूजा शुरू की जाती है माता लक्ष्मी को घी का दीपक और मिठाइयां फूल अर्पित करेंगे  I
  • इसके अलावा अगर आप इस दिन घर में भगवान यम के नाम पर अगर आप दीपक जलाएंगे और उस दीपक को लकड़ी के तख्ते पर रखकर रोली से स्वास्तिक का निशान बनाएंगे I
  • इसके बाद मिट्टी या आटे के चौमुखी दीपक उस पर रख देंगे दीपक पर तिलक लगाएंगे और उसके ऊपर फूल और चावल चढ़ाएंगे
  • इसके बाद परिवार के सभी लोगों को तिलक लगाएंगे और फिर आप उस दीपक को घर के मुख्य द्वार पर दक्षिण दिशा की तरफ रख देंगे I
  •  अगर आप ऐसा करते हैं तो आपके घर में अगर कोई अकाल मृत्यु जैसा संकट टल जाएगा

FAQ’s Dhanteras 2023

Q: धनतेरस का त्यौहार 2023 में कब है?

Ans: धनतेरस का त्यौहार 2023 में 10 नवंबर को है |

See also  Ganesh Chaturthi 2023 | गणेश चतुर्थी कब है? जानें पूजा, मुहूर्त, विधि, व्रत कथा

Q: धनतेरस का त्यौहार क्यों मनाया जाता है?

Ans: जैसा कि आप लोग जानते हैं कि समुद्र मंथन के समय भगवान धनतेरस अपने हाथ में कलश लेकर प्रकट हुए थे जिसके बाद से ही धनतेरस मनाने की परंपरा शुरू हुई |

Q; धनतेरस पर कौन सी चीजें खरीदना शुभ मानी जाती हैं?

Ans: धनतेरस पर सोना चांदी और बर्तन खरीदना काफी शुभ माना जाता है I

Q: 2023 में धनतेरस पूजा की शुभ मुहूर्त क्या है?

Ans. 10 नवंबर दोपहर 2 बजकर 35 मिनट से लेकर 11 नवंबर 2023 को सुबह 6 बजकर 40 मिनट तक खरीदारी का शुभ मुहूर्त बन रहा है।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja