Mahila Kisan Drone Kendra : पीएम ने दी महिलाओं को बड़ी सौगात, महिला ड्रोन केंद्र की हुई शुरुआत

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते गुरुवार देश भर में जन औषधि केंद्रों की संख्या बढ़ाने के लिए एक कार्यक्रम शुरू किया, इसके साथ ही उन्होंने पीएम महिला किसान ड्रोन केंद्रों का भी उद्घाटन किया।
By | December 2, 2023
Follow Us: Google News

Mahila Kisan Drone Kendra: प्रधानमंत्री द्वारा प्रधानमंत्री महिला किसान ड्रोन केंद्र का शुभारंभ किया गया। केंद्र महिला स्वयं सहायता समूह (एसएचजी) को ड्रोन प्रदान करेगा ताकि वे इस तकनीक का उपयोग आजीविका सहायता के लिए कर सकें। इसके तहत अगले तीन वर्षों के दौरान महिला एसएचजी को कम से कम 15,000 ड्रोन उपलब्ध कराए जाएंगे। महिलाओं को ड्रोन उड़ाने और उपयोग करने के लिए आवश्यक प्रशिक्षण भी प्रदान किया जाएगा। पीएम द्वारा कहा गया है कि यह पहल कृषि में प्रौद्योगिकी के उपयोग को प्रोत्साहित करेगी। हम आपको बता दे कि कृषि विभाग की एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, केंद्र सरकार ने 2024-25 से 2025-26 की अवधि के लिए 1261 करोड़ रुपये के वित्त पोषण के साथ कम से कम 15,000 महिला स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) को ड्रोन प्रदान करने के लिए एक केंद्रीय क्षेत्र योजना को मंजूरी दे दी है। मंत्रालय सरकार उन क्षेत्रों के समूहों की पहचान करेगी जहां ड्रोन का उपयोग आर्थिक रूप से संभव है और ऐसे समूहों से एसएचजी को किसानों को ड्रोन उपलब्ध कराने के लिए चुना जाएगा।

Mahila Kisan Drone Kendra Scheme | महिला किसान ड्रोन केंद्र योजना क्या पेशकश करती है?

इस योजना के जरिए कृषि और किसान कल्याण विभाग (डीए एंड एफडब्ल्यू), ग्रामीण विकास विभाग (डीओआरडी) और उर्वरक विभाग (डीओएफ), महिला एसएचजी और प्रमुख उर्वरक कंपनियों (एलएफसी) से सुविधाओं और संसाधनों को एकत्रित करेगी। इसके बाद एसएचजी मुख्य रूप से नैनो उर्वरक और कीटनाशक अनुप्रयोगों के लिए किसानों को आपूर्ति की गई ड्रोन सेवाएं किराए पर देंगे

See also  Diwali Firecrackers Ban 2023 | दिवाली से पहले सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, पूरे देश में लगा पटाखों पर प्रतिबंध

एसएचजी का एक सदस्य जो अच्छी तरह से योग्य पाया गया है और वह 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र का है तो उसे 15-दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए चुना जाएगा, जिसमें पांच दिवसीय अनिवार्य ड्रोन पायलट प्रशिक्षण और 10-दिवसीय प्रशिक्षण दिया जाएगा। एसएचजी के अन्य सदस्य, जो इलेक्ट्रिकल और मैकेनिकल कार्यों में रुचि रखते हैं, उन्हें राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन (एसआरएलएम) और एलएफसी के तहत ड्रोन तकनीशियन और सहायक के रूप में प्रशिक्षित करने के लिए चुना जाएगा। ये प्रशिक्षण ड्रोन की आपूर्ति के साथ एक पैकेज के रूप में प्रदान कि जाएगी। योजना में वादा किया गया है कि एसएचजी प्रति वर्ष कम से कम एक लाख रुपये की अतिरिक्त आय अर्जित करने में सक्षम होंगे।

यह भी पढ़ें :

1.राजस्थान में पशु किसान क्रेडिट कार्ड कैसे बनवाएं
2.अमृत जलधारा योजना | 50000 का अनुदान, जल्द आवेदन करें | NSFDC BEAM
3.मत्स्य पालक ले सकेंगे 3 लाख तक लोन | जाने कैसे करें आवेदन
4.यूपी किसान कर्ज माफी योजना 2023
5.किसान कर्ज माफी लिस्ट में अपना नाम कैसे देखें
इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं।
Category: News

About Shalu Saini

Hi, I am Shalu Saini a copywriter and content creator with a passion for telling stories that grab readers attention. With a background in journalism and over four years of writing experience, I am specialize in crafting unique and compelling stories.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *