स्वामी विवेकानंद का जीवन परिचय | Swami Vivekananda Biography in Hindi (पृष्ठभूमि, इतिहास और मृत्यु)

Swami Vivekananda Biography

Swami Vivekananda Biography in Hindi-स्वामी विवेकानन्द एक ऐसा नाम है जिसे किसी भी प्रकार के परिचय की आवश्यकता नहीं है। वह एक प्रभावशाली व्यक्तित्व हैं जिन्होने पश्चिमी दुनिया को हिंदू धर्म के बारे में व्यापक जानकारी उपलब्ध करवाई थी। उन्होंने 1893 में शिकागो की धर्म संसद में हिंदू धर्म का प्रतिनिधित्व किया जहां पर उनके द्वारा दिया गया भाषण विश्व प्रसिद्ध हुआ था।स्वामी विवेकानन्द की जयंती के उपलक्ष्य में 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है। स्वामी विवेकानन्द ने विश्व के कल्याण के लिए 1 मई 1897 को रामकृष्ण मिशन स्थापना की थी, जिसकी शाखाएं दुनिया के कई देशों में हैं। स्वामी विवेकानंद के बारे में गुरुदेव रविंद्र ठाकुर ने कहा था यदि भारत को आप करीब से जाना चाहते हैं’ तो आप विवेकानंद के जीवन को पढ़िए। उनमें आपको सभी चीज केवल सकारात्मक ही मिलेंगे नकात्मक कुछ भी नहीं मिलेगा।

ऐसे में विवेकानंद के जीवन परिचय के बारे में जानने की  जिज्ञासा हर एक व्यक्ति  के मन में आ रही है इसलिए आज के लेख में स्वामी विवेकानन्द विकिपीडिया हिंदी में,स्वामी विवेकानन्द हिंदी में | Swami vivekananda in Hindi, स्वामी विवेकानन्द का परिचय | introduction of swami vivekananda, स्वामी विवेकानन्द का जीवन | life of swami Vivekananda, स्वामी विवेकानन्द का बचपन | Childhood of Swami Vivekananda, स्वामी विवेकानन्द शिक्षा | Swami Vivekanandaeducation,स्वामी विवेकानन्द इतिहास | Swami Vivekananda History, स्वामी विवेकानन्द पत्नी | Swami vivekananda Wife, स्वामी विवेकानन्द संगठनों की स्थापना | vivekananda organizations founded,books written by swami Vivekananda, स्वामी विवेकानन्द की मृत्यु संबंधित जानकारी प्रदान करेंगे इसलिए आप लोग इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े।                    

स्वामी विवेकानंद का जन्म (Swami Vivekanand Birth)

स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekananda) का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता में हुआ था । उनके पिता का नाम श्री विश्वनाथ दत्त था। उनके पिता हाईकोर्ट (High Court) के एक प्रसिध्द वकील (Lawyer) थे। नरेंद्र के पिता पाश्चात्य सभ्यता में विश्वास रखते थे। वे अपने पुत्र नरेंद्र को भी अंग्रेजी पढ़ाकर पाश्चात्य सभ्यता (western) के ढर्रे पर चलाना चाहते थे। नरेंद्र की माता भुवनेश्वरी देवी जी धार्मिक विचारों की महिला थीं। उनका ज्यादातर समय भगवान शिवजी की आराधना में ही बीतता था। नरेंद्र बचपन से ही तीव्र बुध्दि के थे और उनके अंदर परमात्मा को पाने की लालसा काफी प्रबल थी। इसी वजह से वे पहले ‘ब्रह्रा समाज’ (Brahmo Samaj) में गए, लेकिन वहां उनके चित्त को संतोष नहीं हुआ। वे वेदांत और योग को पश्चिम संस्कृति में प्रचलित करने के लिए जरूरी योगदान देना चाहते थे। 

स्वामी विवेकानन्द विकिपीडिया हिंदी में | Swami Vivekananda wikipedia in Hindi

नामस्वामी विवेकानन्द 
जन्म का नामनरेंद्रनाथ दत्त
जन्म12 जनवरी 1863
जन्म स्थानपश्चिम बंगाल, कोलकाता
गृहनगरपश्चिम बंगाल, कोलकाता
राष्ट्रीयताभारतीय
धर्महिंदू
विद्यालयवेदान्त योग
गुरुरामकृष्ण परमहंस
शिष्यस्वामी सदानंद
किसके लिए जाने जाते हैंशिकागो में धर्म संसद में भाषण
मृत्यु तिथि4 जुलाई 1902
मृत्यु स्थानकोलकाता के पास बेलूर मठ
संस्थापकरामकृष्ण मिशन, रामकृष्ण मठ
मृत्यु की आयु39 वर्ष

दैवयोग से विश्वनाथ दत्त की मृत्यु हो गई। घर का भार नरेंद्र पर आ गया। घर की स्थिति बहुत खराब थी। बहुत गरीब होने के बाबजूद भी नरेंद्र बड़े ही अतिथि-सेवी थे। स्वयं भूखे रहकर अतिथि को भोजन कराते, स्वयं बाहर वर्षा में रात भर भीगते-ठिठुरते पड़े रहते थे और अतिथि को अपने बिस्तर पर सुला देते थे। स्वामी विवेकानंद अपना जीवन गुरुदेव श्रीरामकृष्ण को समर्पित कर चुके थे। गुरुदेव के शरीर त्याग के दिनों में अपने घर और कुटुम्ब की नाजुक हालत की चिंता किए बिना, खुद भोजन की बिना चिंता के गुरू की सेवा में सतत संलग्न रहे। गुरुदेव का शरीर अत्यन्त रुग्ण हो गया था।

Also Read: राष्ट्रीय युवा दिवस कब मनाया जाता है, कारण, थीम जाने

स्वामी विवेकानंद की जीवनी | Swami Vivekananda Jivani

विवेकानंद बड़े स्वप्न द्रष्टा थे। उन्होंने एक नए समाज की कल्पना की थी। ऐसा समाज जिसमें धर्म या जाति के आधार पर मनुष्य-मनुष्य में कोई भेद नहीं रहे। विवेकानंद जी को युवकों से बड़ी आशा थी। आज के युवकों के लिए ही इस ओजस्वी सन्यासी का यह जीवन वृत्त लेखक उनके समकालीन समाज एवं ऐतिहासिक पृष्ठभूमि के संदर्भ में उपस्थित करने का प्रयत्न किया है यह भी प्रयास रहा है कि इसमें विवेकानंद के सामाजिक दर्शन एवं उनके मानवीय रूप का प्रकाश पड़े। 

बचपन से ही नरेंद्र अत्यंत कुशाग्र बुध्दि के और नटखट थे। परिवार में आध्यात्मिक माहौल होने से उनके अंदर बचपन से ही आध्यात्म (spiritual) का बीज पड़ चुका था। उनके मन में बचपन से ही ईश्वर को जानने और उसे प्राप्त करने की लालसा दिखाई देने लगी थी। वे कभी-कभी ऐसे प्रश्न पूछते कि माता-पिता और कथावाचक पंडित जी भी चक्कर में पड़ जाते थे। 

Also Read: स्वामी विवेकानंद का भाषण

स्वामी विवेकानन्द हिंदी में | Swami Vivekananda in Hindi

स्वामी विवेकानन्द हमारे देश के एक महान धार्मिक सुधारक थे। उनका जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता में हुआ था। उनके बचपन का नाम नरेंद्रनाथ दत्ता था। उनके पिता बिस्वनाथ दत्ता एक प्रसिद्ध वकील थे और उनकी माँ भुवनेश्वरी देवी एक धर्मपरायण महिला थीं। वह बहुत बुद्धिमान और असाधारण थे। आध्यात्मिक विचारों में उनकी गहरी रुचि थी। उन्होंने मेट्रोपॉलिटन इंस्टीट्यूशन से प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण की। 1884 में  स्वामी विवेकानंद ने स्कॉटिश चर्च कॉलेज से दर्शनशास्त्र में ऑनर्स के साथ बीए की पढ़ाई को पूरा किया था। श्री रामकृष्ण परमहंस से मिलना उनके जीवन का टर्निंग प्वाइंट साबित हुआ वह रामकृष्ण के शिष्य बन गए और पैदल ही पूरे भारत का भ्रमण किया था।  स्वामी विवेकानंद पश्चिमी देशों में भारतीय हिंदू धर्म दर्शन का प्रचार और प्रसार भी किया था।

उन्होंने जाति व्यवस्था और छुआछूत का डटकर विरोध किया। 1893 में शिकागो में धार्मिक सम्मेलन में भाग लिया और दुनिया भर में मानवता का संदेश दिया। गरीबों को सामाजिक सेवा प्रदान करने के लिए उन्होंने 1897 में बेलूर मठ और रामकृष्ण मिशन की स्थापना की। उन्होंने भारत में विभिन्न स्थानों पर कई अस्पताल, पुस्तकालय, स्कूल भी स्थापित किए। स्वामी विवेकानन्द की शिक्षाओं ने न केवल भारत बल्कि पूरे विश्व के युवाओं को प्रेरित किया। स्वामी विवेकानन्द की जयंती भारत में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाई जाती है।  स्वामीजी ने 4 जुलाई 1902 को 39 वर्ष की आयु में अंतिम सांस ली।  आज स्वामी विवेकानंद वाले इस संसार में नहीं है लेकिन उनकी स्मृति सदैव हमारे दिलों में जीवंत रहेगी

See also  क्रिकेटर मोहम्मद शमी का जीवन परिचय | Indian Cricketer Mohammed Shami Biography in Hindi (Early Life, Education, Cricket Career, Auction Price, Record, &Net Worth)

स्वामी विवेकानंद के गुरु का नाम

स्वामी जी के गुरू का नाम रामकृष्ण परमहंस (Ramkrishna Paramhans) था । एक बार किसी ने गुरुदेव की सेवा में निष्क्रियता दिखायी और घृणा से नाक-भौं सिकोड़ी। यह देखकर स्वामी जी क्रोधित हो गए थे। उस गुरू भाई को पाठ पढाते हुए स्वामी जी गुरू की प्रत्येक वस्तु से प्रेम दर्शाते हुए उनके बिस्तर के पास रक्त, कफ आदि से भरी थूकदानी उठाकर फेंकते थे। गुरू के प्रति ऐसी अनन्य भक्ति और निष्ठा के प्रताप से ही वे स्वयं के अस्तित्व को गुरूदेव के स्वरूप में विलीन कर सके।   

 स्वामी विवेकानंद क्यों प्रसिद्ध है?

25 वर्ष की आयु में नरेंद्र ने गेरुआ वस्त्र धारण कर लिए। इसके बाद उन्होंने पैदल ही पूरे भारतवर्ष की यात्रा की । सन् 1893 में शिकागो में विश्व धर्म परिषद हो रही थी। स्वामी विवेकानंद उसमें भारत के प्रतिनिधि बनकर पहुंचे। यूरोप और अमेरिका के लोग उस समय पराधीन भारतवासियों को बहुत हीन दृष्टि से देखते थे। वहां लोगों ने बहुत कोशिश की कि स्वामी को परिषद में बोलने का मौका नहीं मिले। 

एक अमेरिकन प्रोफेसर के प्रयास से उन्हें थोड़ा समय मिला, किंतु उनके विचार सुनकर सभी विद्वान चौंक गए। अमेरिका में उनका बहुत स्वागत सत्कार हुआ। वहां स्वामी जी के भक्तों का एक बड़ा समुदाय हो गया। वे अमेरिका में तीन साल तक रहे और लोगों को तत्वज्ञान की अद्भुत ज्योति प्रदान करते रहे। उनकी बोलने की शैली और ज्ञान को देखते हुए वहां के मीडिया ने उन्हें ‘साइक्लॉनिक हिंदू नाम’ दिया। 

स्वामी विवेकानंद इतने घंटे करते थे ध्यान (Meditation)

स्वामी जी रोज ब्रम्ह मुहूर्त में उठकर तीन घंटे ध्यान करते थे। इसके बाद वे अन्य रोजना के काम में व्यस्त होते और यात्रा पर निकलते । इसके बाद वे दोपहर और शाम को भी घंटों तक ध्यान में रहते थे। रात के वक्त उन्होंने तीन-चार घंटे तक ध्यान किया है। “आध्यात्म-विद्या और भारतीय दर्शन के बगैर विश्व अनाथ हो जाएगा।” वे वेदांत के विख्यात और प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरू थे। 

स्वामी विवेकानंद के सिध्दांत

स्वामी जी ने भारत में ब्रम्हा समाज, रामकृष्ण मिशन और मठों की स्थापना करके लोगों को आध्यात्म से जोड़ा। उनका एक ही सिध्दांत था कि भारत देश के युवा इस देश को काफी आगे ले जाएं। उन्होंने कहा था कि अगर मुझे सौ युवा मिल जाएं, जो पूरी तरह समर्पित हों तो वे भारत की तस्वीर बदल देंगे। शिक्षा ऐसी हो जिससे बालक का शारीरिक, मानसिक और आत्मिक विकास हो सके। शिक्षा से बच्चे के चरित्र का निर्माण और वह आत्मनिर्भर बने। उन्होंने कहा था कि धार्मिक शिक्षा, पुस्तकों द्वारा ना देकर आचरण और संस्कारों द्वारा देनी चाहिए।

स्वामी विवेकानन्द का बचपन | Childhood of Swami Vivekananda

स्वामी विवेकानन्द का जन्म सन 1863 में 12 जनवरी के दिन हुआ था। उनका जन्म कोलकाता के बंगाली कायस्थ परिवार में हुआ था। स्वामी विवेकानन्द को बचपन में इनकी माता भुवनेश्वरी देवी ने इनका नाम वीरेश्वर रखा था जो बाद में इनका नाम को बदलकर नरेंद्र नाथ दत्त रख दिया गया था। जिन्हें प्यार से नरेन भी पुकारा जाता था। उनकी माता धार्मिक प्रवृत्ति की एक विद्वान महिला थी। ऐसे में स्वाभाविक था कि उनके घर में ही अपने मां के द्वारा हिंदू धर्म और संस्कृति को करीब से समझने का मौका मिला। स्वामी विवेकानंद जी पर उनकी मां का इतना प्रभाव पड़ा कि वह घर में ही भगवान के भक्ति और ध्यान में खो जाया करते थे। स्वामी विवेकानंद जी को बचपन से ही ईश्वर के बारे में जानने की काफी इच्छा थी। स्वामी विवेकानंद जी अन्य बच्चों से बिल्कुल ही अलग थे। छोटी उम्र में ही, वह अलग-अलग religion जैसे हिंदू-मुस्लिम और अमीर-गरीब में भेदभाव करने के लिए सवाल उठाते थे।जब स्वामी विवेकानन्द छोटे थे तो उन्हें दो तरह के सपने आए थे, एक बहुत पढ़ा लिखा आदमी है जिसके पास काफी धन संपत्ति है समाज में उसका नाम काफी प्रचलित है। एक सुंदर घर है और परिवार बच्चे हैं।जबकि दूसरे तरफ एक साधु है जो एक जगह से दूसरे जगह यात्रा करते रहता है उन्हें साधारण जीवन पसंद है पैसा एवं दूसरी सुख सुविधा देने वाली चीज उन्हें खुश नहीं करती है।

स्वामी विवेकानंद जी का इच्छा ताकि वह भगवान को जाने और उनके पास चले जाए। स्वामी विवेकानंद जी जानते थे कि इनमें से वह कुछ भी नहीं बन सकते हैं। इसलिए उन्होंने साधु का रूप धारण कर लिया।

Also Read: स्वामी विवेकानंद के विचार

स्वामी विवेकानन्द शिक्षा | Swami Vivekananda Education

  • स्वामी विवेकानन्द  को 1871 में ईश्वर चंद विद्यासागर के मेट्रोपॉलिटन इंस्टीट्यूट में भर्ती कराया गया था।
  • 1877 में जब स्वामी विवेकानन्द तीसरी कक्षा में थे तभी उनकी पढ़ाई बाधित हो गयी, दरअसल उनके परिवार को किसी कारणवश अचानक रायपुर जाना पड़ा।
  • 1879 में, अपने परिवार के कलकत्ता लौटने के बाद, वह प्रेसीडेंसी कॉलेज की प्रवेश परीक्षा में प्रथम श्रेणी प्राप्त करने वाले पहले छात्र बने।
  • वह दर्शन, धर्म, इतिहास, सामाजिक विज्ञान, कला और साहित्य जैसे विभिन्न विषयों के जिज्ञासु पाठक थे। उन्हें वेद, उपनिषद, भगवत गीता, रामायण, महाभारत और पुराण जैसे हिंदू धर्मग्रंथों में भी गहरी रुचि थी। नरेंद्र भारतीय पारंपरिक संगीत के विशेषज्ञ थे और हमेशा शारीरिक योग, खेल और सभी गतिविधियों में भाग लेते थे।
  • 1881 में उन्होंने ललित कला परीक्षा उत्तीर्ण की;1884 में उन्होंने कला से स्नातक की डिग्री पूरी की।
  • इसके बाद उन्होंने 1884 में अच्छी योग्यता के साथ बीए की परीक्षा पास की और फिर उन्होंने कानून की पढ़ाई की।
  • 1884 का समय, जो स्वामी विवेकानन्द के लिए बेहद दुखद था, क्योंकि इसी समय उन्होंने अपने पिता को खोया था। पिता की मृत्यु के बाद उनके ऊपर अपने 9 भाई-बहनों की जिम्मेदारी आ गयी, लेकिन वे घबराये नहीं और अपने दृढ़ निश्चय पर अटल रहने वाले विवेकानन्द ने यह जिम्मेदारी बखूबी निभाई।
  • 1889 में नरेंद्र का परिवार कोलकाता लौट आया। बचपन से ही विवेकानन्द कुशाग्र बुद्धि के थे, जिसके कारण उन्हें एक बार फिर स्कूल में प्रवेश मिल गया। दूरदर्शी समझ और कठोरता के कारण उन्होंने 3 साल का कोर्स एक साल में पूरा कर लिया।
See also  लुई ब्रेल का जीवन परिचय | Louis Braille Biography in Hindi (लुई ब्रेल कहानी, आविष्कार, 10 पंक्तियाँ)

स्वामी विवेकानन्द पत्नी | Swami Vivekananda Wife

स्वामी विवेकानन्द एक ब्रह्मचारी सन्यासी थे। क्योंकि जब यह  विदेश दौरे पर थे और भिन्न-भिन्न जगहों पर अपना व्‍याख्‍यान देने का कार्य करते थे इसी बीच के भाषण को सुनकर एक महिला काफी प्रभावित हुई और महिला उनके आप पास आकर उनसे बोली की मैं आपसे शादी करना चाहती हूं ताकि उसे भी उनकी तरह प्रतिभाशाली पुत्र प्राप्त हो। तब स्वामी विवेकानंद जी इनके बातों को सुनकर उन्हें कहा कि मैं एक संन्यासी हूं इस वजह से मैं शादी के बंधन में बंध नहीं सकता हूं। लेकिन मैं आपका पुत्र बनना स्वीकार कर सकता हूं ऐसा करने से नहीं मेरा सन्यास टूटेगा और आपको पुत्र की प्राप्ति हो जाएगा। महिला इनके बातों को सुनकर स्वामी जी के चरणों में गिर पड़ी और बोली आप महान है। आप ईश्वर के ही एक रूप है जो किसी भी परिस्थिति में विचलित नहीं होते हैं।

स्वामी विवेकानन्द संगठनों की स्थापना | Swami vivekananda Organizations Founded

मई 1897 को स्वामी विवेकानन्द कलकत्ता लौट आए और उन्होंने रामकृष्ण मिशन की स्थापना की, जिसका मुख्य उद्देश्य नए भारत का निर्माण करने के लिए अस्पताल, स्कूल, कॉलेज और स्वच्छता की ओर बढ़ना था।

साहित्य, दर्शन और इतिहास के रचयिता स्वामी विवेकानन्द ने अपनी प्रतिभा का लोहा सभी को मनवाया और अब वे युवाओं के लिए आदर्श बन गये।

1898 में स्वामी जी ने बेलूर मठ की स्थापना की – Belur Math जिसने भारतीय जीवन दर्शन को एक नया आयाम दिया।

इसके अलावा स्वामी विवेकानन्द जी ने दो अन्य मठों की स्थापना एवं स्थापना की।

स्वामी विवेकानन्द संगठनों की स्थापना | Books Written by Swami Vivekananda

पवित्र और दिव्य आत्मा स्वामी विवेकानन्द को किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है। वैश्विक गांव उन्हें एक हिंदू संत, एक योग गुरु, एक दार्शनिक, एक शिक्षक, एक लेखक और एक असाधारण वक्ता के रूप में जानता है। स्वामी विवेकानन्द की पुस्तकों की सूची नीचे दी गई है:-

  1. ज्ञान योग: ज्ञान का योग 
  2. कर्म योग: क्रिया का योग 
  3. राजयोग: आंतरिक प्रकृति पर विजय 
  4. माई मास्टर 
  5. स्वामी विवेकानन्द स्वयं पर कोई उत्पाद नहीं मिला।
  6. स्वामी विवेकानन्द की शिक्षाएँ 
  7. ध्यान और उसकी विधियाँ 
  8. द मास्टर एज़ आई सॉ हिम: द लाइफ़ ऑफ़ द स्वामी विवेकानन्द
  9. विवेकानन्द 

स्वामी विवेकानन्द इतिहास | Swami Vivekananda History

महापुरुष स्वामी विवेकानन्द का जन्म 12 जनवरी, 1863 को हुआ था। असाधारण प्रतिभा के धनी व्यक्ति का जन्म कोलकाता में हुआ था और उन्होंने अपनी जन्मभूमि को पवित्र बनाया था। उनका असली नाम नरेंद्रनाथ दत्त था, लेकिन बचपन में वे सभी को नरेंद्र के नाम से ही बुलाते थे।स्वामी विवेकानन्द के पिता का नाम विश्वनाथ दत्त था, जो उस समय कलकत्ता उच्च न्यायालय के प्रतिष्ठित और सफल वकील थे जिनकी वकालत के साथ-साथ अंग्रेजी और फ़ारसी भाषाओं पर भी उनकी अच्छी पकड़ के चर्चे खूब होते थे।

विवेकानन्द की माता का नाम भुवनेश्वरी देवी था, जो धार्मिक विचारों वाली महिला थीं, वह भी बहुत प्रतिभाशाली महिला थीं, जिन्होंने रामायण और महाभारत जैसे धार्मिक ग्रंथों का महान ज्ञान प्राप्त किया था। साथ ही वह एक प्रतिभाशाली और बुद्धिमान महिला थीं जिन्हें अंग्रेजी भाषा की भी अच्छी समझ थी।वहीं स्वामी विवेकानन्द पर उनकी माँ का इतना गहरा प्रभाव था कि वह घर में ही ध्यान में लीन रहते थे और इसके साथ ही उन्होंने अपनी माँ से ही शिक्षा भी प्राप्त की थी। इसके साथ ही स्वामी विवेकानन्द पर उनके माता-पिता के गुणों का गहरा प्रभाव पड़ा और उन्हें अपने जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा अपने घर से ही मिली।

स्वामी विवेकानन्द के माता और पिता के अच्छे संस्कारों और अच्छी परवरिश के कारण स्वामीजी के जीवन को एक अच्छा आकार और उच्च स्तर की सोच मिली।ऐसा कहा जाता है कि नरेंद्रनाथ बचपन से ही बहुत बुद्धिमान और बुद्धिमान व्यक्ति थे, वह अपनी प्रतिभा के इतने धनी थे कि एक बार जो व्यक्ति उनकी आंखों के सामने से गुजर जाता था वह उन्हें कभी नहीं भूलता था और दोबारा उन्हें वह काम नहीं करना पड़ता था। दोबारा। मुझे पढ़ने की जरूरत ही नहीं पड़ी

युवा दिनों से ही उनकी रुचि अध्यात्म के क्षेत्र में थी, वे हमेशा शिव, राम और सीता जैसे भगवान के चित्रों के सामने ध्यान का अभ्यास करते थे। ऋषि-मुनियों और सन्यासियों की कहानियाँ उन्हें सदैव प्रेरणा देती हैं। आगे चलकर यही नरेन्द्र नाथ पूरे विश्व में ध्यान, अध्यात्म, राष्ट्रवाद, हिन्दू धर्म और संस्कृति के वाहक बने और स्वामी विवेकानन्द के नाम से प्रसिद्ध हुए।

स्वामी विवेकानन्द का परिचय | introduction of Swami Vivekananda

स्वामी विवेकानन्द का परिचय निम्न वाक्य द्वारा प्रस्तुत कर रहे हैं जिसे आप लोग ध्यानपूर्वक पढ़े:-

  • स्वामी विवेकानन्द जी का जन्म कोलकाता के कायस्‍थ परिवार में हुआ था। इनका बचपन का नाम नरेंद्रनाथ दत्त था।
  • इनके पिता का नाम विश्वनाथ दत्ता जो एक पेशे से कोलकाता हाई कोर्ट के वकील थे और उनकी माता का नाम भुवनेश्वरी देवी था जो धार्मिक विचारधारा वाली महिला थी।
  • स्वामी विवेकानन्द जी 1871 में 8 साल के उम्र में स्कूल गए थे। 1879 में प्रेसीडेंसी कॉलेज के प्रवेश परीक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त किए थे।
  • स्वामी विवेकानंद जी केवल 25 साल की उम्र में सांसारिक मोह माया को त्याग कर संयासी बन गए।
  • स्वामी विवेकानंद जी का मुलाकात रामकृष्ण परमहंस से 1881 में कोलकाता के दक्षिणेश्वर मंदिर में हुआ था।
  • स्वामी विवेकानन्द जब रामकृष्ण परमहंस मिले तो एक सवाल किया था जो कई लोगों से कर चुके थे, क्या आपने भगवान को देखा है रामकृष्ण परमहंस ने जवाब दिया कि हमने देखा है ‘मैं भगवान को उतना ही साफ देख रहा हूं जितना तुम्हें’फर्क सिर्फ इतना है कि उन्हें में तुमसे ज्यादा गहराई से महसूस कर सकता हूं।
  • अमेरिका में हुई धर्म संसद में जब स्वामी विवेकानन्द जी अमेरिका के भाइयों और बहनों संबोधन से भाषण शुरू किया तो 2 मिनट तक आर्ट इंस्टीट्यूट ऑफ शिकागो में तालियां बजती रही।
  • स्वामी विवेकानन्द 1 मई 1897 में कोलकाता में रामकृष्ण मिशन की स्थापना किए थे। और गंगा नदी के किनारे बेलूर में रामकृष्ण मठ की स्थापना 9 दिसंबर 1898 में किए थे।
  • स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन के तारीख यानी 12 जनवरी को भारत में प्रत्येक वर्ष राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है।
  • स्वामी विवेकानन्द केवल 39 साल की उम्र में 4 जुलाई 1902 को बेलूर स्थित रामकृष्‍ण मठ में ध्‍यानमग्‍न अवस्‍था में महासमाध‍ि धारण कर प्राण त्‍याग द‍िए।
See also  श्रेयस अय्यर (क्रिकेटर) जीवन परिचय | Shreyas Iyer Biography in Hindi (जीवन, शिक्षा, परिवार, क्रिकेट करियर, रिकॉर्ड, पुरुस्कार व सम्मान)

स्वामी विवेकानन्द का जीवन | Life of Swami Vivekananda

स्वामी विवेकानन्द का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता एक कायस्थ परिवार में हुए था। इनके पिता जी का नाम विश्वनाथ दत्त को कलकत्ता हाई कोर्ट के प्रसिद्ध वकील थे और मां का नाम भुनेश्वरी देवी जो एक धार्मिक विचार की महिला थी, और हिंदू धर्म के प्रति कफि आस्था रखती थी। नरेंद्र को 9 भाई बहन थे। दादा जी का नाम दुर्गाचरण दत्त फारसी और संस्कृत के विद्वान वक्ति थे। वे भी अपने घर परिवार को छोड़कर साधु बन गए। स्वामी विवेकानन्द जी का बचपन का नाम नरेंद्र दत्त था प्यार से लोग उन्हें नरेंद्र बुलाया करते थे। ये बचपन से अत्यंत कुशाग्र और बुद्धिमान के साथ बहुत नटखट भी थे। बचपन में अपने सहपाठियों के साथ मिलकर काफी शरारत किया करते थे, कभी-कभी मौका मिलने पर अधियापको से भी सरारत करने से नहीं चूकते थे।घर में नियमित रूप से पूजा पाठ होता रहता और साथ ही रामायण, गीता, महाभारत जैसे पुरानो की पढ़ होते रहता था। इस कारण से उन्हें बचपन से ही ईश्वर के प्रति जानने की इच्छा उनके मन में जागृत होने लगा। भगवान को जानने की उत्सुकता में माता पिता कुछ ऐसे सवाल पूछ देते की जानने के लिऐ उन्हे ब्रहमणो के यहा जाना पढ़ता था। 1984 में उनके पिता की मृत्यु के बाद  पिता जी साथ छूट गया और परिवार की सारी दायित्व उन्ही पर आ गया।

 स्वामी विवेकानंद के 9 अनमोल वचन

  • जब तक तुम अपने आप में विश्वास नहीं करोगे, तब तक भगवान में विश्वास नहीं कर सकते। 
  •  हम जो भी हैं हमारी सोच हमें बनाती है, इसलिए सावधानी से सोचें, शब्द व्दितीय हैं पर सोच                          रहती है और दूर तक यात्रा करती है। 
  • उठो, जागो और तब तक मत रुको जब तक अपना लक्ष्य प्राप्त ना कर सको। 
  •  हम जितना बाहर आते हैं और जितना दूसरों का भला करते हैं, हमारा दिल उतना ही शुध्द होता है और उसमें उतना ही भगवान का निवास होता है। 
  • सच हजारों तरीके से कहा जा सकता है, तब भी उसका हर एक रूप सच ही है। 
  • संसार एक बहुत बड़ी व्यायामशाला है, जहां हम खुद को शक्तिशाली बनाने आते हैं।
  • बाहरी स्वभाव आंतरिक स्वभाव का बड़ा रूप है।
  • भगवान को अपने प्रिय की तरह पूजना चाहिए। 
  • ब्रम्हांड की सारी शक्तियां हमारी हैं। हम ही अपनी आंखों पर हाथ रखकर रोते हैं कि अंधकार है।

स्वामी विवेकानन्द की मृत्यु | Swami Vivekananda Death

4 जुलाई 1902 को, स्वामी विवेकानन्द की मृत्यु उस समय हो गई जब वे अन्य दिनों की तरह अपना जीवन व्यतीत कर रहे थे, अपने अनुयायियों को शिक्षा दे रहे थे और वैदिक विद्वानों के साथ शिक्षाओं पर चर्चा कर रहे थे। ध्यान करने और अंतिम सांस लेने के लिए रामकृष्ण मठ में अपने कमरे में गए, यह मठ उन्होंने अपने गुरु के सम्मान में बनाया था। उनके अनुयायियों का मानना ​​था कि मृत्यु का कारण उनके मस्तिष्क में रक्त वाहिका का टूटना था, जो तब होता है जब कोई व्यक्ति निर्वाण प्राप्त करता है, जो आध्यात्मिक ज्ञान का उच्चतम रूप है जब 7 वां चक्र यानी मुकुट चक्र जो सिर पर स्थित होता है, खुलता है और फिर लाभ प्राप्त करता है। ध्यान करते समय महा समाधि। उनकी मृत्यु का समय रात्रि 9:20 बजे था। उनका अंतिम संस्कार उनके गुरु के सामने गंगा के तट पर चंदन की चिता पर किया गया।

Conclusion:

उम्मीद करता हूं कि हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल Swami Vivekanand ka Jivan Parichay आप लोगों को काफी पसंद आया होगा ऐसे में आप हमारे आर्टिकल संबंधित कोई प्रश्न एवं सुझाव है तो आप तो हमारे कमेंट बॉक्स में आकर अपने प्रश्नों को पूछ सकते हैं हम आपके प्रश्नों का जवाब जरूर देंगे।

FAQ’s Swami Vivekananda Biography in Hindi

Q. स्वामी विवेकानंद की उनके गुरू से पहली भेंट कब हुई थी ?

Ans.  नवंबर 1881 में स्वामी विवेकानंद की उनके गुरू से पहली भेंट हुई थी

Q. स्वामी विवेकानंद ने प्रथम सार्वजनिक व्याख्यान कहां दिया था ?

Ans.  सिकंदराबाद में स्वामी विवेकानंद ने प्रथम सार्वजनिक व्याख्यान दिया था । 

Q. स्वामी विवेकानंद ने विश्व धर्म सम्मेलन शिकागों में पहला भाषण कब दिया ?

Ans.  11 सितंबर 1893 में स्वामी विवेकानंद ने विश्व धर्म सम्मेलन शिकागों में पहला भाषण दिया 

Q. स्वामी विवेकानंद के माता-पिता का नाम क्या था ?

Ans.  माता का नाम भुवनेश्वरी देवी और पिता का नाम विश्वनाथ दत्त था।

Q.स्वामी विवेकानन्द किस लिये प्रसिद्ध थे?

Ans.स्वामी विवेकानन्द (1863-1902) द्वारा 1893 विश्व धर्म संसद के दौरान दिया गया सबसे प्रसिद्ध भाषण, जिसमें उन्होंने अमेरिका में हिंदू धर्म का परिचय दिया और धार्मिक सहिष्णुता और उग्रवाद को समाप्त करने की अपील की, यही बात उन्हें  प्रसिद्ध बनती हैं।

Q.विवेकानन्द ने भारत के लिए क्या किया?

Ans.विवेकानन्द ने धर्मार्थ, सामाजिक और शैक्षिक प्रयासों को आगे बढ़ाने के लिए भारत में रामकृष्ण मिशन की स्थापना की, साथ ही रामकृष्ण मठ की स्थापना की, जो भिक्षुओं और आम भक्तों को आध्यात्मिक शिक्षा प्रदान करता है।

Q विवेकानंद का नारा क्या है?

Ans. स्वामी विवेकानन्द का एक नारा है ‘उठो, जागो और तब तक मत रुको जब तक लक्ष्य प्राप्त न हो जाये।

Q. विवेकानन्द की मृत्यु किससे हुई?

Ans.4 जुलाई, 1902 को स्वामी विवेकानन्द का अचानक निधन हो गया, जब वे ध्यान में थे।  उनके मस्तिष्क में रक्त वाहिका का टूटना मृत्यु का संभावित कारण बताया गया था।

Q.स्वामी विवेकानन्द के गुरु कौन थे?

Ans. रामकृष्ण परमहंस स्वामी विवेकानन्द के गुरु थे।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja