ads

About Sparrow in Hindi | गौरैया चिड़िया पर निबंध हिंदी में | World Sparrow Day Essay PDF

प्रत्येक वर्ष 20 मार्च को विश्व गौरैया दिवस के रूप में मनाया जाता है। गौरैया पक्षी घर में चहल-पहल को मुख्य किरदार के रूप में निभाता है। गौरैया चिड़िया पर निबंध में इससे जुडी सभी जानकारी उपलब्ध करवाई जा रही है।
By | मार्च 10, 2023

About Sparrow in Hindi:- गौरैया बहुत ही सुंदर पक्षी है, यहीं कारण है यो कई बार गौरैया चिड़िया पर निबंध लिखने के लिए विद्यार्थियों को कहा जाता है। अगर आप भी Gauraiya Chidiya Par Nibandh कि तलाश कर रहे है, तो ये लेख आपके बहुत काम आएगा, क्योंकि इस लेख के जरिए हम आपके सामने गौरैया चिड़िया पर निबंध पेश कर रहे है। गौरतलब है कि गौरैया छोटी लेकिन आकर्षक पक्षी हैं। यह पक्षी भारत समेत पूरी दुनिया में पाया जाता है। गौरैया बहुत फुर्तीली चिड़ियाओं में से एक है। गौरैया कई प्रजातियां में पाई जाती हैं। गौरैया के पंख छोटे होते हैं। वहीं इसकी चोंच पीली और पैरों का रंग भूरा होता है। ऐसे ही कई और बहतरीन फैक्ट्स के साथ हमने निबंध आपके लिए तैयार किया है।

इस लेख को कई आधार पर तैयार किया गया है। इस लेख में आपको Essay on Sparrow in Hindi मिलेगा जिसमें गौरैया चिड़ियां से जुडे कई त्थ्यों के बारें में पता लगेगा। वहीं विश्व गौरैया दिवस पर निबंध हम देंगे, जिसमें कई पॉइन्ट्स जोड़े गए है जो गौरैया चिड़िया के निबंध में चार चांद लगाते है। वहीं हमने गौरैया चिड़िया पर निबंध PDF भी आपके लिए उपलब्ध कराई है जिससे आप आसानी से डाउनलोड़ कर सकते है और बाद में कभी भी पढ़ सकते है। वहीं गौरैया चिड़िया (पक्षी) के बारें में 10 लाइन भी हमने निबंध के तौर पर तैयार कि है, जिससे पहली कक्षा से लेकर तीसरी कक्षा के विद्यार्थी यूज कर सकते है।

विश्व गौरैया दिवस क्यों मनाया जाता है। 

About Sparrow in Hindi

टॉपिकगौरैया चिड़िया पर निबंध (About Sparrow in Hindi)
लेख प्रकारनिबंध
साल2023
विश्व गौरैया चिड़िया दिवस20 मार्च
पहली बार कब मनाया गया था2010
गौरैया का महत्वपर्यावरण संतुलन 
गौरैया की आयु4-7 साल
गौरैया की रफ्तार24 मील प्रति घंटा
गौरैया की मृत्यु का कारणपर्यावरण प्रदूषण

Essay on Sparrow in Hindi

लगभग दस-पंद्रह वर्ष पहले गौरैया आम तौर पर ही नजर आ जाती थी, छोटी-बड़ी विभागीय दुकानों के सामने, भवनों, पेड़ों पर, इधर-उधर, हर जगह, मंदिरों, ठंडे स्थानों आदि में गौरैया आसानी से देखी जा सकती थी, लेकिन आज गौरेया दुर्लभ भी नहीं हैं।वर्तमान पीढ़ी को गौरैया दिखाना वास्तव में बहुत मुश्किल है और हमें किताबों में चित्रों पर निर्भर रहना पड़ता है ताकि उन्हें यह पता चल सके कि गौरैया वास्तव में कैसी दिखती हैं।

आज से समय में गौरेया तेजी से लुप्त होती नस्ल बन गई है,जो कुछ साल पहले ऐसा नहीं था।वे शहरों की मौजूदा परिस्थितियों के अनुकूल हो सकते थे और इधर-उधर उछलते-कूदते देखे जा सकते थे, लेकिन शहर बड़े कंक्रीट के जंगलों में बदल जाने के कारण, गौरैया के पास खुद के लिए बहुत कम या कोई जगह नहीं बची है, इसलिए उनकी संख्या में कमी आई है और वह भी बहुत कम संख्या में रह गए हैं।

गौरैया सभी मौसम में लचीली होती हैं। इनकी उम्र 4 से 7 साल होती है। ये पक्षी आमतौर पर लगभग 24 मील प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ते हैं। गौरैया ज्यादातर झुंड में उड़ना पसंद करती हैं। ये पक्षी पहाड़ी इलाकों में कम ही देखने को मिलते हैं। अफसोस की बात है कि पर्यावरण प्रदूषण और अन्य कारणों से गौरैया की प्रजातियां मर रही हैं और नतीजा यह हुआ कि यह खूबसूरत पक्षी धीरे-धीरे लुप्त होने लगा।

About Sparrow in Hindi

घरेलू गौरैया उन पहले पक्षियों में से एक है जिन्हें हम में से अधिकांश अपने बचपन के दिनों से याद करते हैं। वे आस-पड़ोस के लगभग हर घर की कॉलोनियों में रहते थी, साथ ही बस बे और रेलवे स्टेशनों जैसे सार्वजनिक स्थानों पर, खाद्यान्न और छोटे-छोटे कीड़ों पर जीवित रहते थे। हम में से कई लोगों के लिए घरेलू गौरैया कई अद्भुत यादें ताजा करती हैं। दुर्भाग्य से, ये पक्षी तेजी से विलुप्त हो रहे हैं, और उनकी आबादी तेजी से घट रही है।

READ  Essay on Christmas Day in Hindi | क्रिसमस डे पर निबंध हिंदी में

घरेलू गौरैया के बारे में जागरूकता बढ़ाने और उनकी रक्षा करने के लिए हर साल 20 मार्च को विश्व गौरैया दिवस मनाया जाता है। पहला विश्व गौरैया दिवस 2010 में आयोजित किया गया था। द नेचर फॉरएवर सोसाइटी ऑफ इंडिया और इको-एसआईएस एक्शन फाउंडेशन ऑफ फ्रांस विश्व गौरैया दिवस के लिए विचार लेकर आए थे। इसके संरक्षण के बारे में प्रचार करने के लिए घरेलू गौरैया के लिए एक दिन समर्पित करने का विचार था।

World Sparrow Day Essay

द नेचर फॉरएवर सोसाइटी ने विश्व गौरैया दिवस के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए एक समर्पित वेबसाइट भी बनाई है। इस वेबसाइट में दुनिया भर से गौरैयों की विभिन्न प्रजातियों के बारे में छवियों और सूचनाओं का एक बड़ा संग्रह है।यह दिन गौरैया की दुर्दशा के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है, जो विलुप्त होने के कगार पर है। विश्व गौरैया दिवस का उद्देश्य उन व्यक्तियों को एक साथ लाना है जो गौरैया के लिए जुनून रखते हैं और उनकी सुंदरता की सराहना करते हैं और उनको बचाने के लिए हर जरुरी प्रयास करना चाहते हैं।

घरेलू गौरैया हमारे घर के आंगन में, कमरो में एक आम दृश्य हुआ करती थी और उन्हें देखना काफी आसान था। हालांकि, जैसा कि हमने हाल के वर्षों में प्रकृति और जैव विविधता के साथ संपर्क खो दिया है, शहर में घरेलू चिड़ियों को ढूंढना अधिक कठिन हो गया है।विश्व गौरैया दिवस का उद्देश्य केवल एक दिन के आयोजन का सम्मान करना ही नहीं है बल्कि इसे गौरैया संरक्षण और शहरी जैव विविधता के महत्व पर जोर देने के लिए एक मंच के रूप में उपयोग करना है।

गौरैया चिड़िया पर निबंध | Essay on Sparrow in Hindi

इस पॉइन्ट के जरिए हम आपके सामने Gauraiya Chidiya Par Nibandh पेश करेंगे, जो कि आपको Text Format तो मिलेंगे ही, इसके साथ ही हम आपके लिए गौरैया चिड़िया पर निबंध PDF फाइल भी लोड करेंगे, जिससे आप डाउनलोड कर सकते है और बाद में जब मन चाहे उसे पढ़ सकते है। साथ ही अपने बच्चों के प्रोजेक्ट के लिए भी यूज कर सकते है। गौरैया चिड़िया पर निबंध कुछ इस प्रकार है

प्रस्तावना

गौरैया पक्षियों के पैसरीन परिवार की सदस्य हैं, जिन्हें आमतौर पर “सोंगबर्ड्स” या “पर्चिंग बर्ड” कहा जाता है। गौरैया आकार में अपेक्षाकृत छोटी होती हैं। कुछ कीड़े खाते हैं लेकिन वे मुख्य रूप से बीज खाने वाले पक्षी होते हैं और उनके शंकु के आकार के बिल उन्हें बीजों को भूनने में विशेषज्ञ बनाते हैं। वे अपनी पीठ और पंखों के साथ धारियों के साथ भूरे रंग के होते हैं। अक्सर उन्हें अलग करने का सबसे अच्छा तरीका उनके सिर और चेहरे पर रंग पैटर्न होता है।

गौरैया कई अलग-अलग आवासों जैसे कि दलदलों, घास के मैदानों, जंगलों, चरागाहों और हर चीज के बीच में पाई जा सकती हैं। गौरैया की 40 से अधिक प्रजातियां हैं जो उत्तरी अमेरिका में रहती हैं। कुछ काफी प्रचुर मात्रा में हैं जबकि अन्य केवल बहुत विशिष्ट क्षेत्रों में ही पाए जा सकते हैं। गौरैया तेजी से हो विलुप्त हो रही है, जिसके मद्देनजर हर साल 20 मार्च के दिन विश्व गौरैया दिवस मनाया जाता है, जिसके उद्देश्य गौरैया पक्षी को संरक्षण देना है और इन्हें विलुप्त होने से बचाना है।

READ  समय का सदुपयोग पर निबंध | Essay On Samay Ka Sadupyog in Hindi (कक्षा 1 से 10 के लिए निबंध)

गौरेया चिड़िया के प्रकार

गौरैया चिड़िया बहुत ही सुंदर पक्षी है जो इंसानों के लिए प्रकृति का खुबसूरत तोहफा है, लेकिन बढ़ते हुए पर्यावरण प्रदूषण को चलते और अन्य कई कारणो के वजह से गौरैया चिड़िया धीरे धीरे विलुप्त हो रही है। क्या आप जानते है कि गौरैया पक्षी के कई प्रकार है। नीचे हम आपको गौरैया के प्रकार के बारे में बताएंगे, जो आपको इस हर गौरैया पक्षी को एक दूसरे से विभिन्न करना सिखाएंगी। गौरैया पक्षी की विभिन्नता उनके बनावती ढंग के चलते उन्हें एक दूसरे से अलग बनाती है, जो कि कुछ इस प्रकार हैं।

वेस्पर स्पैरो: 

वेस्पर स्पैरो की एक लंबी पूंछ और अपेक्षाकृत बड़ा शरीर होता है और यह निवास स्थान में परिवर्तन के लिए तुरंत प्रतिक्रिया देने के लिए जाना जाता है। यह मुख्य रूप से संयुक्त राज्य अमेरिका के अधिकांश उत्तरी भाग और कनाडा के कुछ हिस्सों में पाया जाता है।

ट्री स्पैरो: 

यूरेशियन ट्री स्पैरो एक दुर्लभ प्रकार की गौरैया है और इसे आमतौर पर खेतों और जंगलों जैसे क्षेत्रों में देखा जा सकता है। हालाँकि, प्रदूषण, अधिक जनसंख्या, आदि जैसे बढ़ते पर्यावरणीय खतरों के कारण शहरी क्षेत्रों में इसे ढूंढना दुर्भाग्य से और भी कठिन है।

सफेद सिर वाली गौरैया: 

इस पक्षी का मूल उत्तरी अमेरिका में है और हालांकि सफेद सिर वाली गौरैया संख्या में बहुत अधिक हैं, फिर भी उनकी आबादी तेजी से घट रही है।

सॉन्ग स्पैरो: 

सॉंग स्पैरो को उत्तरी अमेरिका में पाई जाने वाली अन्य प्रकार की गौरैया की तुलना में सबसे आसानी से अनुकूलनीय और बहुतायत से पाई जाने वाली प्रजातियों में से एक माना जाता है।

लोमड़ी गौरैया: 

यह गौरैया दूर के क्षेत्रों जैसे उत्तर और पश्चिमी पहाड़ों में घोंसले बनाने के लिए जानी जाती है। एक लोमड़ी गौरैया एक गीत-गौरैया से थोड़ी बड़ी होती है और इसे अक्सर या तो केवल सर्दियों के आगंतुक या बस एक प्रवासी के रूप में जाना जाता है।

गौरेया चिड़िया का महत्व

आपने अपने बगीचे में पक्षियों कि मधुर आवाज और सुंदरता का आनंद लिया होगा, लेकिन आप जो नहीं जानते होंगे वह यह है कि हमारे बगीचों और लॉन में सबसे आम छोटी चिड़िया जो हम अक्सर देखते हैं वह गौरैया है। अन्य पक्षी जो हमारे बगीचों और लॉन में घोंसला बनाते हैं, वे अक्सर गौरैया होती हैं। गौरैया अपनी चहचहाहट से प्रकृति की सुंदरता में इजाफा करती हैं, जिससे वे कई लोगों के लिए एक स्वागत योग्य दृश्य या प्रकृति का हिस्सा बन जाती हैं। गौरैया पौधों को बढ़ने में भी मदद करती हैं क्योंकि जब वे पौधों से खाती हैं, तो वे अपने गोबर में बीजों को पारित करती हैं जो पौधे को बड़े होने में मदद करता है। एक नया विशिष्ट प्रकार की घास जो प्राकृतिक रूप से उगाई जाती है, मवेशियों और अन्य जानवरों द्वारा भोजन के रूप में उपयोग की जा सकती है। 

Importance of Sparrow Bird

जब ये जानवर इन घासों पर चरते हैं, तो यह न केवल गायों की मदद करता है बल्कि पशुओं के पालन-पोषण का एक नियमित चक्र भी सुनिश्चित करता है। गौरैया पर्यावरण के लिए बहुत फायदेमंद होती हैं क्योंकि ये घरों में रखे फीडर से दानों को खाकर उन्हें आकर्षित करने के लिए बीजों के फैलाव में मदद करती हैं। वास्तव में, वैज्ञानिकों ने पाया है कि गौरैया केवल फीडर पर होने की तुलना में 15 गुना अधिक दूर तक बीज फैला सकती हैं।इस तरह, वे बगीचों और लॉन के आसपास नए आवासों को फैलाने में मदद करते हैं जहाँ ये पक्षी निवास करते हैं। इसका मतलब है कि पारिस्थितिकी तंत्र उनके अस्तित्व के साथ बेहतर सुधार करता है जिससे हम सभी को लाभ होता है। लेकिन यह प्रजाति पूरे पर्यावरण के लिए खतरा बनकर संकटग्रस्त हो गई है।

READ  विश्व बालश्रम निषेध दिवस पर निबंध | World Day Against Child Labour Essay in Hindi

गौरैया का विलुप्त होना

वर्तमान में देखा गया है कि प्रदूषण और वनों की कटाई आदि के कारण तापमान में वृद्धि हुई है। इसलिए गौरैया भोजन और घोंसलों की तलाश में शहरों से पलायन कर रही हैं। हालांकि, ग्रामीण इलाकों में भी उन्हें चैन नहीं मिल पाता, क्योंकि गांव भी आबादी वाले होते हैं। इस पक्षी की आबादी के जीवन के लिए खतरे के बारे में लोगों को और अधिक जागरूक करने के लिए हर साल गौरैया दिवस मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का उद्देश्य लोगों में इस प्यारी चिड़िया के जीवन को बचाने के प्रति जागरुकता बढ़ाना है। गौरैया को बचाने के लिए बिहार में इस चिड़िया को राज्य पक्षी घोषित किया गया है ताकि हर कोई इस पर ध्यान दे सके और इसकी रक्षा के लिए गंभीर कदम उठा सके।

अगर समय रहते इन खूबसूरत पक्षियों के संरक्षण के लिए सही उपाय नहीं किए गए तो वह दिन दूर नहीं जब ये विलुप्त हो जाएंगे। पक्षी वैज्ञानिकों के अनुसार लोगों को अपने घरों में गौरैया को याद करने के लिए कुछ ऐसी जगह उपलब्ध करानी चाहिए जहां वे आसानी से अपना घोंसला बना सकें, अपने अंडे दे सकें और अपने बच्चों को हमलावर पक्षियों, बिल्लियों, कुत्तों, सांपों और लोमड़ियों से सुरक्षित रख सकें। हमें उनके जीवन की रक्षा के लिए कुछ उपाय करने का संकल्प लेना चाहिए।

उपसंहार

गौरैया सबसे खूबसूरत पक्षियों में से एक हैं। प्रदूषण और अन्य कारणों से ये पक्षी विलुप्त होने के कगार पर हैं। पक्षी विज्ञानी के अनुसार लोगों को अपने आश्रय के लिए अपने घरों में कुछ ऐसी जगह उपलब्ध करानी चाहिए, जहां वे आसानी से अपना घोंसला बना सकें और अपने अंडे दे सकें। ताकि इन आक्रामक पक्षियों को बचाया जा सके। ये कुछ बुनियादी कदम हैं जो इन पक्षियों को शिकारी पक्षियों से बचाने के लिए उठाए जाने चाहिए।

गौरैया चिड़िया पर निबंध PDF

गौरैया पक्षी के बारे में आपके समक्ष महत्वपूर्ण जानकारी साझा की गई है। इस जानकारी को PDF फॉर्मेट में उपलब्ध करवाया जा रहा है। दिए गए PDF Download लिंक पर क्लिक करें। 

गौरैया चिड़िया (पक्षी) के बारें में 10 लाइन 

  • गौरैया ग्रे रंग की छोटी चिड़िया है।
  • आपके पड़ोस में गौरैया के झुंड देखे जा सकते हैं।
  • वे कीड़े, बीज, फल आदि खाते हैं और परागकण की भूमिका निभाते हैं।
  • गौरैया अपना घोंसला पेड़ों, इमारतों, झाड़ियों आदि पर बनाती है।
  • मादा गौरैया अपने अंडे घोसले में देती है और उन्हें सेती है।
  • मादा गौरैया का आकार नर गौरैया से छोटा होता है।
  • हर साल 20 मार्च को विश्व गौरैया दिवस मनाया जाता हैं।
  • बुरहानी फाउंडेशन के सहयोग से द नेचर फॉरएवर सोसाइटी द्वारा भारत में एसओएस सेव अवर स्पैरो प्रोग्राम।
  • घरेलू गौरैया दिल्ली का राजकीय पक्षी है।
  • गौरैया जैव विविधता के संरक्षण के लिए महत्वपूर्ण हैं।

 FAQ’s About Sparrow in Hindi

Q. विश्व गौरैया दिवस की शुरुआत कब हुई ?

Ans.गौरैया दिवस दुनिया भर में 20 मार्च के दिन मनाया जाता है और सन 2010 में इसको मनाने की शुरुआत हुई थी

Q. गौरैया पक्षी के विलुप्त होने का कारण क्या है ?

Ans.गैरैया पक्षी के विलुप्त होने का करण बढ़ता पर्यावरण प्रदूषण और डिफोरेस्टेशन है।

Q. गौरैया पक्षी कितने साल तक जीवित रह सकती है ?

Ans.गौरैया पक्षी 4 से 7 साल तक जीवित रह सकती है।

Q. गैराया पक्षी कौन से राज्या की राजकीय पक्षी है ?

Ans.गौरैया पक्षी दिल्ली की राजकीय पक्षी है।

Q. गौरैया पक्षी की रफ्तार कितनी है ?

Ans.गौरैया पक्षी की रफ्तार 24 मील प्रति घंटा है जो कि आपदा के समय 30-31 मील प्रति घंटा में तब्दील हो सकती है।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *