प्रदूषण पर निबंध | Essay On Pollution in Hindi | Pradushan Par Nibandh, 10 Lines

By | September 11, 2023
Follow Us: Google News

प्रदूषण पर निबंध हिंदी में | Essay on Pollution in Hindi: वर्तमान समय में प्रदूषण से पूरे विश्व के लोग परेशान है एवं इससे होने वाली विभिन्न प्रकार की समस्याओं का सामना करते हैं इन समस्याओं से मुक्ति पाने के लिए विश्व के सभी देश कई सारे उपाय का व्यवस्था कर रहे हैं |

जिससे प्रदूषण पर रोक लगाया जा सके विभिन्न देशों की तरह हमारा देश भी प्रदूषण समस्या से मुक्ति पाने के लिए कई सारे उपाय कर रहे हैं सबसे पहले हम जानेंगे प्रदूषण क्या होता है

साथ ही साथ साथ प्रदूषण के प्रकार  इससे होने वाले प्रभाव एवं इसके रोकथाम से संबंधित जानकारी को इस आर्टिकल में मैं आप लोगों को दूंगा एवं प्रदूषण पर निबंध लिखने की प्रक्रिया के बारे में बताएंगे इसलिए आप लोगों से निवेदन है कि हमारी इस आर्टिकल को पूरा अंत तक पढ़े-

प्रदूषण पर निबंध (300 शब्द) Pradushan Par Nibandh

प्रस्तावना

कुछ वर्ष पहले जब हम लोग अपने किसी परिवार के घर जाते थे तो वहां चारों तरफ हरियाली, एवं पेड़ पौधे एवं चिड़ियों का आवाज करना यह सारी चीज देखने को मिलती थी और मैदाने में एवं बगीचों में हम लोग खेलते थे वर्तमान समय में यह सब सारी चीज देखने को बहुत कम मिलती है

इस तरह के दृश्य अभी के बच्चों के लिए सपना ही हो गया पर्यावरण का निर्माण पेड़ पौधे जीव जंतु, पशु पक्षी, मनुष्य, जल, हवा, भूमि आदि  मिलकर होता है  इन सभी का पर्यावरण में एक महत्वपूर्ण स्थान है

प्रदूषण का प्रभाव

प्रदूषण का पृथ्वी के प्रत्येक वर्ग जीव जंतु मनुष्य एवं हर एक प्राणी पर हानिकारक प्रभाव होता है वातावरण में प्रदूषण होने के कारण मानव शरीर को विभिन्न तरीकों से हानिकारक प्रभाव करता है पर्यावरण में बढ़ती प्रदूषण के कारण मनुष्य का शरीर विभिन्न रोगों का शिकार हो रहा है बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी वर्ग इस प्रदूषण के प्रभाव के  चपेट में है

प्रदूषण के कारण हवा पानी भूमि सभी प्रदूषित हो गए हैं जिसके कारण हम लोगों को स्वच्छ पानी नहीं मिल पाता है और यह दूषित पानी पीने से हमें कई तरह के रोग होते हैं

विभिन्न प्रकार के कल कारखानों से रासायनिक धुएं निकलती है जो हवा के साथ मिल  जाती है और जब हम लोग सांस लेते हैं तब वही हवा हमारे शरीर में हृदय रूपी रोग उत्पन्न करती है

हम लोग के द्वारा जगह-जगह कचरा फेंकी जाती है जिसके कारण मच्छर एवं मक्खियों का जन्म होता है और जिनके काटने से हमें कई प्रकार के रोग होते हैं

निष्कर्ष

अगर हम लोगों को अपने भविष्य के पीढ़ी के जीवन को सुरक्षित करना है तो उन्हें एक स्वच्छ पर्यावरण देना होगा इसके लिए हम लोगों को प्रकृति के द्वारा दिए गए संसाधनों का सही उपयोग करना होगा प्रदूषण पर नियंत्रण करना या हमारे देश के नहीं बल्कि पूरे पृथ्वी हे लोगो की कार्य है ताकि पृथ्वी पर आने वाले पीढ़ी आरामदायक जीवन यापन कर सके |

प्रदूषण पर निबंध (500 शब्द) | Essay on Pollution in Hindi

प्रस्तावना

सौरमंडल में कई प्रकार की ग्रह उपलब्ध होते हैं लेकिन पृथ्वी एक ऐसा ग्रह है जिसमें हवा मिट्टी पानी जैसी प्राकृतिक संसाधन उपलब्ध होते हैं इनका खराब तरीके से उपयोग करने का मतलब अपने जीवन को खतरे में डालने के बराबर है दिन प्रतिदिन प्रदूषण की मात्रा बढ़ती ही जा रही है अर्थात आपको अगर प्रदूषण पर कंट्रोल करना होगा तो सभी मनुष्य को एक साथ मिलकर अपना योगदान देना होगा

प्रदूषण पर्यावरण के कारण

प्रदूषण पर्यावरण के कुछ मुख्य कारण नीचे दिए गए हैं इसको अपने ध्यानपूर्वक पढ़े:-

1- आधुनिकीकरण : वर्तमान समय में दिन प्रतिदिन आधुनिकीकरण बड़ी तेजी के साथ हो रहा है लेकिन इसके नकारात्मक प्रभाव हमारे पर्यावरण पर पड़ रहा है

2- वनों की कटाई : वर्तमान समय में वनों की कटाई बड़ी तेजी के साथ हो रही है इसका मुख्य कारण है जनसंख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है जिसके कारण पेड़ पौधों की कमी दिन पर दिन होती जा रही है और पेड़ पौधे ही पर्यावरण को शुद्ध करते हैं क्योंकि पेड़ के पर्यावरण में मौजूद कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करता है और ऑक्सीजन  को  निकलते  हैं

3- प्राकृतिक कारण : कभी-कभी  पृथ्वी पर प्राकृतिक आपदाएँ होती है जैसे कि मलाशय, बाढ़, भूकंप आदि| इन सभी आपदाओं के कारण प्रदूषण बढ़ता है इन आपदाओं के कारण वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण, भूमि प्रदूषण, आदि होते हैं

See also  विश्व स्वास्थ्य दिवस पर निबंध | World Health Day Essay in Hindi | World Health Day Hindi Essay PDF Download

4- परिवहन विस्तार : वर्तमान समय आप लोग देख रहे होंगे कि परिवहन का विस्तार जल मार्ग वायु मार्ग सड़क मार्ग तीनों मार्गो में भारी मात्रा में हुआ है जिसके कारण इन परिवारों के द्वारा जो धुएं निकलते हैं उन दिनों से हमारा वायु प्रदूषण होता है और यह प्रक्रिया दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है जिसके कारण हम लोग के सामने एक बहुत बड़ा संकट पर्यावरण प्रदूषण उत्पन्न हुआ है

पर्यावरण प्रदूषण को रोकने के उपाय अथवा सुझाव

पर्यावरण प्रदूषण को रोकने के उपाय अथवा सुझाव कुछ इस प्रकार है जिसके द्वारा आप लोग पर्यावरण प्रदूषण को रोकने में कुछ हद तक सफल रहेंगे जो निम्न है:-

●  जंगलों के कटाई पर रोक लगनी चाहिए

●  गंदी बस्तियों पर रोक लगनी चाहिए उचित आवास का व्यवस्था कर देनी चाहिए

●  वृक्षारोपण के लिए लोगों के अंदर जागरूकता पैदा करना होगा

●  पर्यावरण प्रदूषण को रोकने के लिए सरकार द्वारा कई प्रकार के नियम लागू करनी चाहिए

●  पर्यावरण संबंधित शिक्षा स्कूलों में आरंभ करनी चाहिए

● साइकिल को प्राथमिकता देनी चाहिए

● खेतों में  रासायनिक खादो का उपयोग  काम करके जैविक खेती   को बढ़ावा देना चाहिए

पर्यावरण प्रदूषण का भविष्य पर प्रभाव

पर्यावरण प्रदूषण का प्रभाव हमारे जीवन में काफी घातक हो सकते हैं पर्यावरण प्रदूषित होने से हमें सांस लेने में समस्या होगी जिसके लिए हम लोगों को प्रत्येक व्यक्ति को हमेशा अपने साथ ऑक्सीजन किट लेकर घूमना पड़ेगा स्वच्छ पानी पीने के लिए हमें भारी मात्रा में इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी

इसके अलावा मनुष्य का जीवन काल कम हो जाएगा और साथ ही साथ कई खतरनाक बीमारियों का शिकार भी हो जाएंगे हमें अपने जीवन यापन करने के लिए काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा

निष्कर्ष

पर्यावरण में बढ़ता प्रदूषण किसी देश विशेष की समस्या नहीं है बल्कि यह पूरे विश्व की समस्या है वर्तमान समय में नए-नए आधुनिकीकरण के कारण हमें तो आराम एवं आनंददायक महसूस होता है लेकिन दूसरी तरफ इसका प्रभाव काफी खतरनाक है क्योंकि इसके द्वारा हमारा परिवार में प्रदूषण बढ़ते जा रहे हैं इसलिए हम सभी को मिलकर इस पर्यावरण में प्रदूषण को रोकने के लिए उचित कदम उठानी होगी

प्रदूषण पर  हिंदी निबंध (750 शब्द) | Hindi Essay On Pollution

प्रस्तावना

प्रकृति के द्वारा हम लोगों को कई तरह के संसाधन प्राप्त हुए हैं जैसे  इनमें पेड़ पौधे,वायु, जल, नदिया, पहाड़ ,जंगल, पशु पक्षी, जीव जंतु, आदि आते हैं  इन सभी संसाधनों का सुरक्षा करना हम लोगों का यानी मनुष्य का कर्तव्य है हम लोग इन प्राकृतिक संसाधनों के साथ जैसा व्यवहार करेंगे वैसा फल मिलेगा अगर हम लोग इन प्राकृतिक संसाधनों के साथ खराब व्यवहार करेंगे तो प्रदूषण बढ़ेगा और इस पृथ्वी पर निवास कर रहे हैं प्रत्येक वर्ग के लोगों को इसका भुगतान करना पड़ेगा

प्राकृतिक आपदाओं एवं घटनाओं एवं महामारियों के लिए मनुष्य ही जिम्मेदार है क्योंकि यह सारी चीज प्रदूषण के कारण होती है उदाहरण के लिए मैं आप लोगों को कोरोना जैसी महामारी बीमारी का उदाहरण लेते हैं जब हमारे देश में कोरोना का संकट था तब उसे समय हमारे देश की  सभी फैक्ट्री ,कल कारखाने ,यातायात के साधन अर्थात वाहन, बंद थी तब उसे समय हमारे देश का प्रदूषण काफी हद तक कम हो गया था अर्थात हम कह सकते हैं अगर हम प्राकृतिक संसाधनों का सुरक्षा करेंगे तभी प्राकृतिक संसाधन हमारी सुरक्षा करेगी

प्रदूषण क्या है? What is Pollution

प्रदूषण क्या है मैं आप लोगों को सरल भाषा में बताता हूं कि जब हमारे प्राकृतिक संसाधनों में जैसे हवा पानी मिट्टी मैं कुछ खराब तत्व मिलकर उसे दूषित कर देते हैं  और इसका प्रभाव पेड़ पौधे जीव जंतु एवं मनुष्य आदि प्राकृतिक संसाधन  के  स्वास्थ्य पर खराब प्रभाव पड़ता है तो उसी को प्रदूषण कहते हैं प्रदूषण एक गंभीर समस्या मानव जीवन के लिए खड़ी कर सकती है

अर्थात यह हम लोग का कर्तव्य है कि प्राकृतिक संसाधनों का सुरक्षा करना है  हम लोग के द्वारा किए गए जाने अनजाने में प्राकृतिक संसाधनों के साथ छेड़छाड़ को  सुधार करना पड़ेगा ताकि प्रदूषण के समस्या से हमें काफी राहत प्रदान हो पेड़ पौधे को ज्यादा से ज्यादा वृक्षारोपण करना होगा क्योंकि हम लोगों के द्वारा बीते कुछ वर्षों में पेड़ पौधे के कटनी और जंगलों की सफाई ज्यादा हुई है इसी तरह और भी कोई उपाय है जिसके द्वारा हम प्रदूषण को कंट्रोल कर सकते हैं

प्रदूषण के कारण

हमारी पृथ्वी पर प्रदूषण होने के कई कारण होते हैं इन्हीं कारणो  के कारण प्रदूषण जैसी गंभीर समस्या उत्पन्न हुई है यह प्रदूषण होने के कुछ बड़े कारण निम्नलिखित है जैसे:-

See also  Rajasthan Diwas Essay in Hindi | राजस्थान दिवस पर निबंध हिंदी PDF

●  कम वृक्षारोपण

●   जंगल को  तेजी से काटना

●  प्रकृति के साथ छेड़छाड़

●  कल कारखाने ,वाहन एवं मशीनों के कारण

●  कीटनाशक दवाइयां का बढ़ता उपयोग

●  तेजी से बढ़ रहा है शहरीकरण

●  बढ़ती जनसंख्या

● वैज्ञानिक संसाधनों का अधिक उपयोग

●  बढ़ता औद्योगिकरण

 ऊपर दिए गए करण के द्वारा प्रदूषण दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है इसके अलावा भी कई छोटे-छोटे कारण है जो हमारे प्रदूषण को बढ़ाने में अपनी भूमिका निभाते हैं |

इन प्रमुख निबंधों को भी पढ़ें:-

1.जल का महत्व पर निबंध
2.शिक्षा का महत्व पर निबंध
3.शिक्षक दिवस पर निबंध
4.आजादी का अमृत महोत्सव पर निबंध
5.वर्षा ऋतु पर निबंध
6.मेरे सपनों का भारत पर निबंध
7.समय का सदुपयोग पर निबंध

प्रदूषण के प्रकार

प्रदूषण कई प्रकारों में होते हैं इनमें से कुछ प्रकारों के द्वारा बीते कुछ वर्षों में प्रदूषण काफी ज्यादा बढ़ गया है तो लिए मैं आप लोगों को प्रदूषण के प्रकार  के बारे में संक्षेप में निम्न रूप से बता रहा हूं  जो इस प्रकार के हैं:-

वायु प्रदूषण

वायु प्रदूषण को प्रदूषण के प्रकारों में से सबसे खतरनाक प्रकार माना जाता है प्रदूषण का मुख्य कारण हमारे उद्योग धंधे एवं वाहनों के द्वारा जो धुआं निकलता है वह सीधे हवा में में घुल कर हमारे सेहत पर सीधा प्रभाव करता है दिन प्रतिदिन उद्योग धंधे एवं वाहनों ने वायु में प्रदूषण को काफी वृद्धि कर दी है वायु प्रदूषण के कारण लोगों के दिल एवं फेफड़े संबंधित कई प्रकार के रोग उत्पन्न होते हैं

जल प्रदूषण

उद्योग धंधों एवं घरों से जो कचरा निकालते हैं वह नदी एवं पानी के  अन्य श्रोताओं में मिल जाते हैं जिससे जल प्रदूषण हो जाता है पहले हमारी नदियां साफ़-सूत्री एवं पवित्र मानी जाती थी लेकिन वर्तमान समय में इन नदियों में विभिन्न कल कारखानों का गंदा पानी एवं कचरा कूड़ा करकट एवं रासायनिक कचरा प्लास्टिक के पदार्थ पानी में घुल जाना यह जल प्रदूषण को बढ़ावा देता है

भूमि प्रदूषण

जो कचरा कल कारखाने एवं घरेलू माध्यम से निकलते हैं वह पानी में पूरी तरह से घुल नहीं पाते हैं और वह  जमीन के ऊपर फैला रहता है जबकि सरकार के द्वारा इनका पुनः दोबारा उपयोग एवं रीसायकल करने की व्यवस्था की जाती है लेकिन इसमें कोई खास सफलता प्राप्त नहीं होता हैं इस कारण इन चीजों के कारण भूमि प्रदूषण को बढ़ावा मिलता है

इसलिए इस भूमि प्रदूषण के कारण मच्छर मक्खियों विभिन्न प्रकार के कीट पतंग का जन्म होता है जो मनुष्य एवं अन्य जीव जंतुओं के लिए बीमारी का कारण बनता है इस कारण इन चीजों के कारण भूमि प्रदूषण को बढ़ावा मिलता है

ध्वनि प्रदूषण

ध्वनि प्रदूषण का मतलब कल कारखानों में होने वाली तेज आवाज से होता है अर्थात इन कल कारखानों में तरह-तरह के मशीनों की तरह-तरह की आवाज़ के तेजी के साथ  निकलती है जिससे ध्वनि प्रदूषण होता है इसके अलावा भी हमारे रास्ते में जो वाहन चलाते हैं उनके द्वारा जो आवाज निकलती है,  एवं पटाखों के  फूटने से, एवं लाउडस्पीकर के द्वारा जो आवाज निकलती है, इन सब के द्वारा भी ध्वनि प्रदूषण होता है ध्वनि प्रदूषण मनुष्य के दिमाग पर प्रभाव डालता है जिसके कारण मनुष्य मानसिक रूपी रोग से ग्रसित हो जाता है साथ ही साथ सुनने की क्षमता भी काम हो जाती है

प्रदूषण से हानियां

प्रदूषण से कई प्रकार की हानियां होती है जैसे जल अगरअगर प्रदूषित हो जाए तो तो जल प्रदूषण हो जाता है अर्थात इसके जल को पीने से हमें कई प्रकार के रोग हो सकते हैं एवं प्रदूषित हवा हो जाए तो हमें सांस लेने में तकलीफों का सामना करना पड़ेगा एवं अगर भूमि प्रदूषित हो जाए तो  विभिन्न प्रकार के मच्छर एवं मक्खी का जन्म होगा जो हमारे लिए हानिकारक हो सकते हैं क्योंकि इनके काटने से हम लोग बीमार ग्रसित हो सकते हैं ध्वनि प्रदूषण से मनुष्य मानसिक रूप से कमजोर हो जाता है अर्थात उसको मानसिक संबंधित रोग हो जाते हैं साथ ही साथ सुनने की शक्ति भी कम हो जाती है

इसलिए हम लोग को यह कर्तव्य बनता है कि स्वच्छ हवा के लिए ज्यादा से ज्यादा वृक्षारोपण का कार्य किया जाए नदियां तालाब में जिन जानवरों को मारो नहलाते हैं इस पर रोक लगाना चाहिए क्योंकि उनको इन नदी और तालाब में नहाने से पानी प्रदूषित हो जाता है जिस कारण से जल प्रदूषण में बढ़ावा मिल रहा है

See also  गणतंत्र दिवस पर निबंध हिंदी में | Essay On Republic Day in Hindi | PDF Download, 10 Lines

प्रदूषण से बचाव का उपाय

वर्तमान समय में देश के प्रत्येक व्यक्ति प्रदूषण के के संकट से परेशान है प्रदूषण से  कैसे अपने आप को बचाव करें एवं प्रदूषण मुक्त होने के लिए क्या-क्या उपाय करें? यह प्रश्न प्रत्येक व्यक्ति के मन में है तो लिए मैं आप लोगों को प्रदूषण से बचाव का उपाय बताता हूं सबसे पहले हम लोगों को अपनेआप में बदलाव लाना पड़ेगा  प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग उतना ही करें जितना हमें जरूरत हो ताकि हमारे भविष्य की पीढ़ी के लिए यह संसाधन उपलब्ध हो 

हम लोगों को प्राकृतिक संसाधनों का सुरक्षा करना यह भावना अपने मन में रखना होगा हम लोग को ज्यादा से ज्यादा वृक्ष रोपण करना होगा,  अपने आसपास सफाई रखनी होगी, मशीनों का कम इस्तेमाल करके, प्लास्टिक से बने बैग  का इस्तेमाल न करना, अपने आसपास के नदियों तालाबों का सफाई रखना, और कचरा  को  जमीन पर जहां तहां ना फेंकना यह सारी चीज कर कर हम प्रदूषण से मुक्त हो सकते हैं

निष्कर्ष

इस आर्टिकल के ऊपर जो बातें लिखी गई है उसको पढ़कर हम लोग इस निष्कर्ष पर पहुंचते हैं कि पर्यावरण को प्रदूषण होने से बचाने के लिए हम लोगों को साथ मिलकर कार्य करना होगा हम लोगों से प्रत्येक व्यक्ति अगर छोटे से छोटे कार्य प्रदूषण रोकने के लिए करेंगे तो समाज में एक नया परिवर्तन लाया जा सकता है |

प्रदूषण पर निबंध PDF Download | Download Pollution Hindi Essay in PDF

प्रदूषण पर पर निबंध कैसे लिखें इसकी जानकारी में आप लोगों को पीडीएफ फाइल के रूप में उपलब्ध करवा रहे हैं जिसको आप लोग अपने मोबाइल में PDF डाउनलोड करके आसानी पूर्वक देख सकते हैं |

PDF Download:

प्रदूषण पर 5 Lines | Pollution Essay in Hindi 5 lines

●  प्रदूषित हवा और पानी इंसानों और जानवरों में कई  प्रकार के बीमारियों का बीमारियों का निर्माण करता है

●  प्रदूषण बहुत ही कम समय में पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है

●  उर्वरकों और कीटनाशकों दवाइयां के ज्यादा उपयोग से मृदा प्रदूषण होता है और मिट्टी बंजर हो जाती है।

●   वर्तमान समय में बढ़ रहे आधुनिकीकरण की कारण के उनकी मात्रा अधिक बढ़ गई है

●  कूड़ा कचरा  को जहां तहां फेंक देने से प्रकृति दूषित होती जा रही है |

प्रदूषण पर निबंध हिंदी में 100 शब्दों | Pollution Essay in hindi

प्रदूषण के प्रकार

प्रदूषण हमारे पृथ्वी के प्राकृतिक संसाधन को नष्ट करने वाले तत्व है प्रदूषण मनुष्य के  दैनिक जीवन को काफी कभी प्रभावित करता है साथी साथ पृथ्वी पर निवास करें सभी जीव जंतुओं के जीवन यापन पर भी काफी प्रभाव डालता है प्रदूषण को हम लोग कई रूपों में देख सकते हैं अर्थात इसको कई रूप में बांट सकते हैं जैसे वायु प्रदूषण जल प्रदूषण ध्वनि प्रदूषण भूमि प्रदूषण आदि है

प्रदूषण से कैसे बचे

प्रदूषण से बचने के लिए हमें कई सारे उपाय करने होंगे जैसे कि पता है वायु प्रदूषण से हम लोगों को सांस लेने की समस्या उत्पन्न हो रही है अर्थात सांस संबंधित बीमारियां हो जाती है हम लोगों को अपने आसपास साफ सफाई रखनी होगी, एवं ज्यादा से ज्यादा वृक्ष रोपण करना होगा ,इसके साथ ही साथ वाहनों का इस्तेमाल कम करना होगा, एवं मशीनों का इस्तेमाल भी, काम करना होगा अपने आसपास के नदियां तालाबों को साफ़ सफाई रखना होगा, और ज्यादा तेज से जो आवाज निकलती है उसे पर नियंत्रण करना होगा एवं सरकार जो नियम बनाएगी उसे नियम का पालन करना होगा

प्रदूषण पर निबंध 10 Lines | Pradushan Par Nibandh 10 Lines

●  प्रदूषण पूरी दुनिया के लिए सबसे गंभीर  समस्या है।

●  प्रदूषण के इतनी तेजी के बढ़ने का मुख्य कारण मनुष्य है

●  प्रदूषण सभी  जीव जंतु के लिए हमेशा  हानिकारक होता है

●  प्रदूषण कारण कैंसर हृदय संबंधित रोग चमड़ा रोग दमा, आदि जैसी गंभीर बीमारियां होती है

●  वृक्षारोपण करना ,एवं जल संसाधनों को स्वच्छ रखना, प्लास्टिक उपयोग का प्रतिबंध लगाना, प्रदेशों के प्रदूषण को कम कम करने की उपाय हैं

●  घरेलू एवं कल कारखानों के कचरे को नदी में  बहाने से नदी का पानी दूषित हो जाता है

●  प्लास्टिक का ज्यादा उपयोग से प्लास्टिक प्रदूषण का जन्म हुआ है

●  प्रदूषण के मुख्य प्रकार वायु प्रदूषण जल प्रदूषण ध्वनि प्रदूषण भूमि प्रदूषण है

● प्रदूषण से संबंधित बीमारियों के कारण प्रत्येक वर्ष लाखों लोगों की जान चली जाती है

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *