Essay On Beti Bachao Beti Padhao in Hindi | बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध (Nibandh)

Essay On Beti Bachao Beti Padhao in Hindi

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध: Essay On Beti Bachao Beti Padhao in Hindi: भारत में बालिकाओं की सुरक्षा और शिक्षा सबसे संवेदनशील मुद्दों में से एक बन गया है। देश के कुछ हिस्सों में लड़कियों की स्थिति चिंताजनक और निराशाजनक है। दुखद सच्चाई यह है कि इस आधुनिक युग में भी देश के कुछ हिस्सों में लड़कियों के साथ असमानता और दुर्व्यवहार किया जाता है। उन्होंने बोलने का अधिकार और शिक्षा का अधिकार जैसे अपने बुनियादी अधिकार त्याग दिये। कुछ परिवार माँ के गर्भ में ही लड़कियों का गर्भपात करा देते हैं क्योंकि उन्हें परिवार के लिए बोझ माना जाता है। लड़कियाँ शारीरिक और यौन उत्पीड़न, शोषण और दहेज जैसे कई मुद्दों से पीड़ित रही हैं। देश के नेताओं ने बालिकाओं की सुरक्षा और उन्हें शिक्षित करने की आवश्यकता पर बल दिया है। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ एक ऐसा मुद्दा है जिसको लेकर कई बार निबंध लिखने के लिए बोला जाता है चाहें वह स्कूल हो या किसी तरह की निबंध लेखन प्रतियोगिता। 

हम इस लेख में आपके लिए बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध लेकर आएं है जो आप कक्षा 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10,11,12 से  लेकर किसी भी तरह के बड़े से बड़े निबंध प्रतियोगिता में यूज कर सकते हैं। इस लेख में आपको  बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ 150 words मिल  जाएंगे। इसके साथ ही आपको बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ  100 words और बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ  पर निबंध 300 शब्द मिल जाएगा जो आप छोटी कक्षाओं के लिए यूज कर सकते हैं। वहीं बड़ी कक्षाओं के लिए हमारे इस लेख में आपके लिए  बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओपर निबंध 500 शब्द और बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओपर निबंध 600 शब्द में भी निबंध उपलब्ध हैं। वहीं बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध 200 शब्द,बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध class 7,बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध class 6 आपको मिल जाएगा। आइयें पढ़ते है बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध (Essay On Beti Bachao Beti Padhao in Hindi) बहतरीन निबंध।

बेटी बचाओ पर छोटे तथा बड़े निबंध (Essay On Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi)

हम इस लेख में आपके लिए बेटी बचाओ पर छोटे तथा बड़े निबंध लेकर आएं है। आप अपनी जरुरत के हिसाब से हमारे इन लेख को उपयोग कर सकते हैं। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ (अर्थात् बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ) भारत सरकार द्वारा 2015 के जनवरी महीने में शुरू की गई एक योजना है। इस योजना को शुरू करने का उद्देश्य जागरूकता पैदा करने के साथ-साथ कल्याण की दक्षता में सुधार करना था। भारतीय समाज में महिलाओं और बालिकाओं के लिए सेवाएँ। इस योजना को शुरू करने के लिए आवश्यक प्रारंभिक पूंजी 100 करोड़ रुपये थी। इसका शुभारंभ बहुत आवश्यक था क्योंकि 2001 की जनगणना के आंकड़ों के अनुसार, हमारे देश में 0-6 वर्ष आयु वर्ग का बाल लिंग अनुपात 927 लड़कियां/1000 लड़के था। 2011 में लिंगानुपात 918 लड़कियों/1000 लड़कों में भारी गिरावट देखी गई। 2012 में यूनिसेफ द्वारा दुनिया भर के 195 देशों में भारत को 41वें स्थान पर रखा गया था, इसलिए महिलाओं की सुरक्षा के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए लड़कियों के लिए योजना बहुत जरूरी थी। भारत। यह योजना लोगों से कन्या भ्रूण हत्या को खत्म करने का आह्वान भी करती है।

इस तारीख को होगा चंद्रयान-3 मिशन लांच, जानें बजट, उद्देश्य और पूरी जानकारी

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध (300 शब्द) (Beti Bachao Beti Padhao Nibandh)

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ बालिका जागरूकता को बढ़ावा देने वाली प्रसिद्ध कल्याणकारी पहलों में से एक है। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ एक कहावत है जिसका अर्थ है “बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ।” ऐसा एक भी दिन नहीं जाता जब हम लड़कियों के साथ हो रहे बलात्कार, अपहरण और हत्या की खबरें ना सुनते हों। यह एक बहुत ही गंभीर मुद्दा है जिस पर तुरंत ध्यान देना बहुत जरूरी है। ऐसे कई कारण हैं जिनकी वजह से हमें लड़कियों को बचाने पर ध्यान देना चाहिए। सबसे पहले, लड़कियों में समाज में बदलाव लाने की क्षमता है। शिक्षित लड़कियाँ अपने बच्चों को शिक्षित करने और गरीबी के चक्र को तोड़ने की अधिक संभावना रखती हैं।

See also  विश्व स्वास्थ्य दिवस पर निबंध | World Health Day Essay in Hindi | World Health Day Hindi Essay PDF Download

महिलाओं के लिए बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ पहल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू की गई थी। लक्ष्य पूरे भारत में लड़कियों की सुरक्षा और शिक्षा करना है। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का उद्देश्य बालिका लिंग अनुपात में गिरावट को उलटना है। यह योजना लिंगभेद, बालिका असुरक्षा, कन्या भ्रूण हत्या और लड़कियों के प्रति अन्य हानिकारक प्रथाओं को रोकती है। परिणामस्वरूप, यह देश में महिलाओं की स्थिति को ऊपर उठाने के प्रयास में महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देगा। जब महिलाओं को अधिक प्रभाव दिया जाता है तो हर जगह प्रगति होती है, विशेषकर परिवार और समाज में। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम लड़कियों के प्रति लोगों के नकारात्मक दृष्टिकोण को सुधारने का एक तरीका है।

दूसरे, जब एक लड़की शिक्षित होती है, तो उसकी बचपन में शादी होने या घरेलू हिंसा से पीड़ित होने की संभावना कम होती है। अंत में, एक शिक्षित लड़की अपने देश के विकास में योगदान दे सकती है। इन कारणों के बावजूद, लड़कियों को अक्सर उपेक्षित किया जाता है और उनके अधिकारों का सम्मान नहीं किया जाता है। कई देशों में लड़कियों को लड़कों के समान अवसर नहीं दिए जाते और उन्हें कम उम्र में शादी करने के लिए मजबूर किया जाता है। हमें बालिकाओं को बचाने और उनका उज्ज्वल भविष्य सुनिश्चित करने के लिए और अधिक प्रयास करने की आवश्यकता है। हम लड़कियों को शिक्षा के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाकर शुरुआत कर सकते हैं।

ये भी पढ़े :

SR. No.Important Essay in Hindi
1.विश्व जनसंख्या दिवस पर निबंध
2.वन महोत्सव दिवस 2023 पर निबंध
3.विश्व बालश्रम निषेध दिवस पर निबंध
4.अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2023 पर निबंध

Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi | बेटी बचाओ पर निबंध (600 शब्द)

प्रस्तावना

22 जनवरी 2015 को बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना, महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय और मानव संसाधन विकास मंत्रालय की एक सहकारी योजना के रूप में बालिकाओं को शक्ति देने के समन्वित और अभिसरण प्रयासों के तहत शुरू की गई थी। सबसे पहले इस योजना का उन 100 जिलों में शुरु किया गया जिसमें बालिका लिंगानुपात कम था। वहीं साल 2016 में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ योजना का ब्रांड एंबेसडर ओलंपिक कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक को बनाया गया था। वहीं भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि बेटा और बेटी एक समान हैं। बीबीबीपी योजना अपनी बात पर खरी है। इस योजना का उद्देश्य महिलाओं के कल्याण के लिए सेवाओं की दक्षता में सुधार करना और महिलाओं के अधिकारों के बारे में जागरूकता बढ़ाना है। केंद्र सरकार का ध्यान लगभग 100 जिलों में कम महिला लिंगानुपात पर है। जब महिलाएं शिक्षित और जागरूक होती हैं, तो इससे महिलाओं का सशक्तिकरण होता है

See also  Essay on Tiger । बाघ पर निबंध

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का उद्देश्य

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का मुख्य उद्देश्य बेटी के जन्म पर जश्न मनाना है, जिससे  पुराने और रूढ़िवादी विचारों के परिणामस्वरूप लड़कियों के हितों के उल्लंघन को रोका जा सके। यह योजना लड़कियों की शिक्षा और कल्याण के लिए निचे दिए गए उद्देश्यों के कारण शुरू की गई थी:-

  • लड़ियों के साथ भेदभाव और लिंग परीक्षण की प्रथा पर रोक लगना

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के तहत मुख्य रूप से महिला और पुरुष लिंग अनुपात के मद्देनजर केंद्रित किया गया है और लिंग भेदभाव की रोकथाम की दिशा में प्रमुख कदम उठाए जा रहे हैं।

  • लड़कियों के अस्तित्व और सुरक्षा को सुनिश्चित करना

हमारे देश में आप आए दिन अखबारों में यह खबर पढ़ सकते हैं कि एक कन्या भ्रूण, एक अजन्मी बच्ची, कूड़ेदान में, अखबार में लिपटी हुई या रेलवे स्टेशन आदि के पास मृत पाई गई। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना एक योजना है हर बच्चे की सुरक्षा की दिशा में बड़ा कदम।

  • शिक्षा एवं अन्य क्षेत्रों में लड़कियों की भागीदारी सुनिश्चित करना

बेहतर भारत को मजबूत करने और बनाने के उद्देश्य से बेटियों को बचाएं और उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करें। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के अनुसार, इस देश में प्रत्येक लड़की को शिक्षित किया जाना चाहिए और अपने भविष्य को बेहतर बनाने के लिए हर क्षेत्र में उच्च ज्ञान प्राप्त करना चाहिए।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ को लागू करने में कठिनाइयाँ

बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ योजना को गति पकड़ने में दिक्कत हो रही है। यह निम्नलिखित तथ्यों के कारण है।

  • कन्या भ्रूण हत्या, सती, बाल विवाह और घरेलू दुर्व्यवहार जैसे सामाजिक दुर्व्यवहार और रूढ़िवादी अनुष्ठान इस योजना के उचित कार्यान्वयन में बाधा डालते हैं।
  • हालाँकि, सरकारी मशीनरी और पुलिस को महिला अत्याचारों की भयावहता को गंभीरता से लेना होगा। इससे बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का प्रभावी कार्यान्वयन भी कमजोर हो गया है।
  • लोगों में जागरूकता फैलाने वाले कई अभियानों के अलावा लोगों की मानसिकता रूढ़िवादी बनी हुई है।
  • योजना के उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए नागरिक निकाय के समर्थन की आवश्यकता है।
  • बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के सफल कार्यान्वयन और प्रभाव में दहेज प्रथा मुख्य बाधा है

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का महत्व

2011 की जनगणना में पाया गया कि हरियाणा, उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, दिल्ली और पंजाब जैसे राज्यों में प्रति 1000 लड़कों पर लड़कियों की संख्या घट रही है। आगे की जांच से पता चला कि यह गिरावट की प्रवृत्ति मुख्य रूप से इन राज्यों में की जाने वाली कन्या भ्रूण हत्या की प्रथा के कारण थी। कन्या भ्रूण हत्या एक सामाजिक वर्जना के कारण कन्या भ्रूण का समय से पहले गर्भपात करने की प्रथा है जो लड़कियों को परिवार के लिए बोझ मानती है। इन राज्यों में दहेज प्रथा की प्रचलित प्रथा भी कुछ हद तक कन्या भ्रूण हत्या के लिए जिम्मेदार थी। समाज कन्या के जन्म को परिवार पर वित्तीय बोझ के रूप में मान रहा था और इसलिए परिवार गर्भावस्था से पहले भ्रूण का निर्धारण करने और यदि बच्चा लड़की था तो उसके गर्भपात के लिए चिकित्सा पेशेवरों के साथ साजिश रच रहे थे।अल्ट्रासाउंड तकनीक में प्रगति ने भ्रूण के लिंग का निर्धारण करना आसान बना दिया है। कन्या भ्रूण हत्या की इस प्रथा को खत्म करने के लिए और यह सुनिश्चित करने के लिए कि प्रत्येक लड़की को लड़कों के समान पोषण और शिक्षा के अवसर मिले, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना शुरू की गई थी। उत्तर प्रदेश की प्रमुख योजनाएं के बारे में यहां जाने

See also  कंप्यूटर पर निबंध (300, 500, 10000 शब्द) Short & Long Essay on computer in hindi

उपसंहार

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना भारत में बालिकाओं से जुड़े मुद्दों के समाधान के लिए भारत सरकार की एक पहल है। योजना के तहत यह पहल फल देने लगी है क्योंकि लोगों में जागरूकता का स्तर बढ़ रहा है। इसलिए, लोगों को अब समाज में बालिका उत्थान के लिए गंभीरता से काम करना होगा। इस योजना की सफलता से देश की आर्थिक वृद्धि में जबरदस्त इजाफा होगा। यह इस तथ्य के कारण है कि भारत अपनी आबादी के एक बड़े हिस्से को उपेक्षित नहीं रख सकता। भले ही सरकार ने यह क्रांतिकारी कदम उठाया है, लेकिन एक समाज के रूप में हमें अभी भी बालिकाओं के सशक्तिकरण पर काम करने की जरूरत है। इस मुद्दे के बारे में जागरूकता फैलाना समय की मांग है और यह मूल स्तर यानी गांवों और दूरदराज के इलाकों तक किया जाना चाहिए।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध Download PDF

इस पॉइन्ट में हम आपको बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध Download PDF उपलब्ध करा रहे है जो आप डाउनलोड कर सकते है और कभी भी खुद भी पढ़ सकते है और अपने बच्चों या परिजनों को पढ़ा सकते हैं।

Speech On Beti Bachao Beti Padhao (10 Lines)

  1. बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ गर्भपात के बढ़ते मामलों, गिरते बाल लिंग अनुपात और परिवार के सदस्यों और समाज द्वारा महिलाओं को दिए जाने वाले उपचार के कारण भारत के तीन सरकारी मंत्रियों द्वारा शुरू की गई एक पहल है।
  2. इस अभियान की शुरुआत वर्ष 2015 में भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा हरियाणा में की गई थी।
  3. यह महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय और मानव संसाधन विकास मंत्रालय का संयुक्त प्रयास था।
  4. यह अभियान सबसे पहले 100 करोड़ के बजट के साथ शुरू हुआ और भारत के सबसे कम बाल लिंग अनुपात वाले 100 जिलों को कवर किया गया।
  5. यह आंदोलन अपने दूसरे चरण के दौरान 61 जिलों तक फैल गया।
  6. योजना के तहत हर लड़की का अपना बैंक खाता होगा और ये खाते कर-मुक्त होंगे।
  7. आंदोलन शुरू करने का एक प्रमुख कारण बालिकाओं की गिरती दर को स्थिर करना है।
  8. यह रूढ़िवादी मानसिकता को चुनौती देने वाला और साथ ही लड़कियों के उत्सव को बढ़ावा देने वाला एक आंदोलन है।
  9. बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ समाज में महिलाओं को सशक्त बनाने का एक आंदोलन है।
  10. आंदोलन ने विकास को बढ़ावा दिया है और विभिन्न क्षेत्रों में महिलाओं के लिए अवसर खोले हैं और उन्हें फलने-फूलने का मौका दिया है।

हम आशा करते है कि हमारे द्वारा लिखा गए छोटे और बड़े निबंध आपको पसंद आएं होंगे। जैसे कि हमने आपको निबंध के शुरुआत में बताया था कि इस निबंध में आपको बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ  150 words,बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ  100 words,बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ  पर निबंध 300 शब्द,बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ  पर निबंध 500 शब्द,बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ  पर निबंध 200 शब्द,बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ  पर निबंध class 7,बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ  पर निबंध class 6 मिल जाएंगे। आगे भी हम ऐसे कई विषय पर आपके लिए निबंध लेकर आते रहेंगे।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja