जलियांवाला बाग हत्याकांड पर निबंध | Jallianwala Bagh Massacre Essay in Hindi

Jallianwala Bagh Massacre Essay in Hindi

Jallianwala Bagh Massacre Essay in Hindi: 13 अप्रैल 2023 को जलियांवाला बाग हत्याकांड की 104 वीं वर्षगाठ है, इस दिन इस कांड में मारे गए शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाती है, इसके साथ ही निबंध, भाषण, पोस्टर, पेंटिंग का प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता हैं। इस लेख में हम आपको लिए जलियांवाला बाग हत्याकांड पर निबंध लेकर आएं है जो आप कक्षा 1,2,3,4,5,6,7,8,910 से लेकर किसी भी बड़ी निबंध प्रतियोगिता में यूज कर सकते हैं।

इस लेख को कई बिंदूओं को आधार पर किया किया गया है, जो आपको बहतरीन निबंध तैयार करने में मदद करेगी। हम आपको बता दें कि जलियांवाला बाग हत्याकांड जिसे अमृतसर नरसंहार के रूप में भी जाना जाता है, 13 अप्रैल, 1919 को पंजाब राज्य के अमृतसर के जलियांवाला बाग में हुआ था। औपनिवेशिक अपराधों और भारत विरोधी नीतियों का विरोध करने के लिए सैकड़ों भारतीय शांतिपूर्ण ढंग से एकत्र हुए थे। इन दर्शकों में महिलाएं और बच्चे भी शामिल थे।अमृतसर के कार्यवाहक सैन्य कमांडर रेजिनाल्ड डायर ने अपनी सेना के साथ पार्क में प्रवेश किया और भीड़ पर गोलियां चलाने का आदेश दिया। भयभीत भीड़ पहले से बंद दरवाजों और छोटे गलियारों की ओर भागी, जो लोग गोलियों से बचने में कामयाब रहे, वे भगदड़ और दम घुटने के शिकार हो गए। यह दिन समकालीन भारत के इतिहास में एक निम्न बिंदु के रूप में चिन्हित किया गया। ऐसे ही कई जानकारी से सराबोर इस लेख को पूरा पढ़े और एक बहतरीन निबंध पाएं।

जलियांवाला बाग हत्याकांड पर निबंध (Jallianwala Bagh Massacre Essay)

जलियांवाला बाग नरसंहार ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन से स्वतंत्रता के लिए भारत के संघर्ष के इतिहास में एक महत्वपूर्ण मोड़ था। इसे भारत के इतिहास की सबसे काली घटनाओं में से एक माना जाता है, जो 13 अप्रैल, 1919 को अमृतसर, पंजाब में घटी थी। यह घटना एक छोटे से सार्वजनिक उद्यान, जलियांवाला बाग में घटी, जहां ब्रिटिश सरकार के खिलाफ शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन हो रहा था। ब्रिटिश सरकार द्वारा गिरफ्तार किए गए दो नेताओं, सत्य पाल और सैफुद्दीन किचलू की रिहाई की मांग के लिए विरोध प्रदर्शन किया गया था। घटना स्थल पर महिलाओं और बच्चों सहित हजारों की संख्या में लोग जमा हुए  थे। विरोध शांतिपूर्ण चल रहा था और लोग निहत्थे थे। हालांकि, क्षेत्र में ब्रिटिश सेना के प्रभारी जनरल रेजिनाल्ड डायर ने अपने सैनिकों को निहत्थे भीड़ पर गोलियां चलाने का आदेश दे दिया था।

सैनिकों ने भीड़ पर अंधाधुंध गोलीबारी शुरू कर दी, जिसमें सैकड़ों निर्दोष नागरिक मारे गए और घायल हुए। करीब 10-15 मिनट तक चली फाररिंग वाली इस घटना ने बाग को मासूमों के खून से रंग दिया। घायलों को मरने के लिए छोड़ दिया गया क्योंकि ब्रिटिश सैनिकों ने घायलों तक चिकित्सा सहायता पहुंचाने से इनकार कर दिया था। जलियांवाला बाग हत्याकांड ने पूरे भारत में आक्रोश और गुस्से को जन्म दे दिया था। इस घटना ने भारत में ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन की क्रूर और अमानवीय प्रकृति को उजागर किया था। इस घटना की महात्मा गांधी सहित कई राजनीतिक नेताओं ने निंदा की थी, जिन्होंने इसे “मानवता के खिलाफ राक्षसी अपराध” कहा था। 

जलियांवाला बाग हत्याकांड ने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। इसने भारत के लोगों को एकजुट किया और ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन से अपनी आजादी के लिए लड़ने के उनके संकल्प को और मजबूत कर दिया था। इस घटना ने अहिंसक सविनय अवज्ञा आंदोलन के लिए एक उत्प्रेरक के रूप में काम किया जिसका नेतृत्व महात्मा गांधी ने किया था।नरसंहार का भारतीय राजनीति और स्वतंत्रता के लिए देश के संघर्ष पर गहरा प्रभाव पड़ा था। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस, जो संवैधानिक सुधारों और क्रमिक स्वतंत्रता की वकालत कर रही थी, उसने अपनी स्थिति बदल ली और ब्रिटिश शासन से पूर्ण स्वतंत्रता की मांग करने लगी। इस घटना ने खिलाफत आंदोलन का गठन भी किया गया था, जिसका उद्देश्य खलीफा की बहाली के लिए मुस्लिम समुदाय के संघर्ष का समर्थन करना था।

See also  Essay On Good Friday In Hindi | गुड फ्राइडे पर निबंध

जलियांवाला बाग नरसंहार भारत के स्वतंत्रता संग्राम के दौरान किए गए अत्याचारों की दर्दनाक याद दिलाता है। इस घटना को भारतीय इतिहास के सबसे काले क्षणों में से एक माना जाता है और यह भारतीयों के बीच मजबूत भावनाओं को जगाता है। 2019 में नरसंहार की 100 वीं वर्षगांठ पर भारत सरकार ने इस अवसर को एक सम्मान समारोह के साथ चिह्नित किया और त्रासदी के पीड़ितों को श्रद्धांजलि दी गई थी। जलियांवाला बाग नरसंहार भारत के स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में एक शर्मनाक और दुखद घटना है। इस घटना ने भारत में ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन की क्रूर और अमानवीय प्रकृति को उजागर किया था। हालाँकि इस आयोजन ने भारत के लोगों के लिए एक एकीकृत शक्ति के रूप में भी काम किया और देश की स्वतंत्रता की यात्रा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। जलियांवाला बाग हत्याकांड की स्मृति हमेशा भारत के स्वतंत्रता संग्राम के दौरान किए गए अत्याचारों की एक दर्दनाक याद बनी रहेगी।

Read More: Jallianwala Bagh History in Hindi | जलियांवाला बाग हत्याकांड कब और कहां हुआ

जलियांवाला बाग हत्याकांड पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए 

जलियांवाला बाग नरसंहार भारतीय इतिहास की एक दुखद घटना थी जो 13 अप्रैल 1919 को पंजाब के अमृतसर शहर में हुई थी। यह ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन से स्वतंत्रता के लिए भारत के संघर्ष का एक महत्वपूर्ण मोड़ था। इस घटना में हजारों पुरुषों, महिलाओं और बच्चों का एक सार्वजनिक उद्यान, जलियांवाला बाग में एक शांतिपूर्ण जमावड़ा देखा गया, जिस पर ब्रिटिश सैनिकों द्वारा क्रूरतापूर्वक गोलीबारी की गई थी। इस घटना ने सैकड़ों निर्दोष लोगों की जान ले ली और भारतीय लोगों के मानस में गहरा घाव छोड़ दिया।

जलियांवाला बाग में सभा ब्रिटिश अधिकारियों द्वारा दो प्रमुख भारतीय नेताओं, सत्य पाल और सैफुद्दीन किचलू की गिरफ्तारी और निर्वासन के विरोध में थी। भीड़ शांतिपूर्ण और निहत्था थी और अधिकांश लोग उस दिन लगाए गए ब्रिटिश कर्फ्यू से अनजान थे। प्रभारी ब्रिटिश अधिकारी जनरल रेजिनाल्ड डायर ने अपने सैनिकों को बिना किसी चेतावनी और बिना दया के निहत्थे भीड़ पर गोलियां चलाने का आदेश दिया। गोलीबारी लगभग दस मिनट तक जारी रही, जिसके परिणामस्वरूप कम से कम 379 लोगों की मौत हो गई, जबकि एक हजार से अधिक घायल हो गए।

जलियांवाला बाग हत्याकांड क्रूरता का एक भयावह कृत्य और मानवाधिकारों का घोर उल्लंघन था। यह भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में एक महत्वपूर्ण मोड़ बन गया, क्योंकि इसने पूरे देश में विरोध और आंदोलन की लहर को जन्म दिया था। इसने ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के खिलाफ एक जन आंदोलन को जन्म दिया, जिसमें सभी क्षेत्रों के लोग भारत के लिए स्वतंत्रता और आजादी की मांग करने के लिए एक साथ आ गए थे।

नरसंहार के कारण महात्मा गांधी के नेतृत्व में असहयोग आंदोलन का गठन हुआ, जिसने स्वतंत्रता के लिए भारत के संघर्ष में एक नए चरण को चिह्नित किया। इस घटना ने भारतीय लोगों को प्रेरित किया और एक सामान्य कारण के लिए विभिन्न समुदायों, धर्मों और जातियों को एक साथ लाया। इसने स्व-शासन की आवश्यकता पर प्रकाश डाला और भारतीय लोगों के अपने अधिकारों और सम्मान के लिए लड़ने के संकल्प को मजबूत किया। जलियांवाला बाग हत्याकांड भारतीय इतिहास की एक दुखद घटना थी जिसने देश और दुनिया को हिलाकर रख दिया था। यह भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में एक महत्वपूर्ण मोड़ था और ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के खिलाफ एक जन आंदोलन के उदय का कारण बना था। यह घटना स्वतंत्रता के लिए उनके संघर्ष में भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा किए गए बलिदानों और एक स्वतंत्र और लोकतांत्रिक भारत को प्राप्त करने के उनके दृढ़ संकल्प की याद दिलाती है।

See also  कारगिल विजय दिवस पर निबंध | Essay On Kargil Vijay Diwas in Hindi (कक्षा 1 से 10 के लिए निबंध)

Read More: Hanuman Jayanti Essay in Hindi | हनुमान जन्मोत्सव पर निबंध

जलियांवाला बाग हत्याकांड पर निबंध कैसे लिखें  

इस पॉइन्ट में आपको बताएंगे कि जलियांवाला बाग हत्याकांड पर निबंध कैसे लिखें, कौन कौन से ऐसे पॉइन्ट है जिन्हें जोड़ने से आपका निबंध पूरा होगा इसके बारे में भी आपको जानकारी दी जा रही है। इस निबंध को कक्षा 6,7,8,910 से लेकर किसी भी बड़ी निबंध प्रतियोगिता के लिए यूज कर वाहवाही लूटी जा सकती हैं। जलियांवाला बाग हत्याकांड पर निबंध कुछ प्रकार हैं-

प्रस्तावना 

जलियांवाला बाग हत्याकांड भारत के स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास का एक काला अध्याय है। यह 13 अप्रैल 1919 को भारत के पंजाब राज्य के अमृतसर शहर में हुआ था। यह घटना जलियाँवाला बाग नामक एक छोटे से बंद सार्वजनिक उद्यान में घटी थी, जहाँ हजारों निहत्थे नागरिक ब्रिटिश औपनिवेशिक सरकार के खिलाफ शांतिपूर्ण विरोध में भाग लेने के लिए एकत्रित हुए थे। हालाँकि, इसके बाद ब्रिटिश सैनिकों द्वारा एक क्रूर और अंधाधुंध हमला किया गया, जिसके परिणामस्वरूप सैकड़ों निर्दोष पुरुषों, महिलाओं और बच्चों की मौत हुई। जलियांवाला बाग हत्याकांड को स्वतंत्रता के लिए भारत के संघर्ष के दौरान की गई हिंसा के सबसे जघन्य कृत्यों में से एक माना जाता है और यह ब्रिटिश शासन के तहत किए गए अत्याचारों की दर्दनाक याद दिलाता है।

जलियांवाला बाग हत्याकांड कब और कहां हुआ

जलियाँवाला बाग हत्याकांड 19 अप्रैल 1919 को पंजाब के अमृतसर में हुआ था जहाँ बहुत से लोग एकत्रित हुए थे।जलियांवाला बाग की घटना पंजाब के अमृतसर में हुई थी। पंजाब के लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण त्योहार बैसाखी का दिन होने के कारण अमृतसर में स्थित जलियांवाला बाग में सभी आयु वर्ग के हजारों लोग एकत्र हुए थे। जनरल डायर ने उसी दिन सभी सार्वजनिक सभाओं पर प्रतिबंध के संबंध में एक नोटिस जारी किया था क्योंकि उसे डर था कि लोग उसके खिलाफ चर्चा करेंगे और उसके खिलाफ एकजुट हो जाएंगे। इस नोटिस को अधिकांश आबादी नहीं जानती थी और इस तरह वे एक सामान्य दिन की तरह अपना त्योहार मनाने चले गए थे। जब जनरल डायर को जलियांवाला बाग में जमा भीड़ के बारे में पता चला तो उसने बिना किसी चेतावनी के बगीचे के एकमात्र गेट को बंद करने और फायरिंग शुरू करने का आदेश दिया। लोग इन सब परिस्थितियों से अंजान थे और जब फायरिंग शुरू हुई तो हर कोई दहशत में था क्योंकि उस जगह से निकलने का कोई और रास्ता नहीं था। जिसके चलते इस नरसंहार में कई लोगों की मृत्यु हो गई और हजारों की संख्या में लोग घायल हो गए थे।

नरसंहार के लिए अग्रणी घटनाएँ

जलियांवाला बाग हत्याकांड 20वीं शताब्दी की शुरुआत में भारत में घटित घटनाओं की एक श्रृंखला का परिणाम था। ब्रिटिश सरकार ने रौलट एक्ट सहित भारतीयों के अधिकारों को प्रतिबंधित करने वाले कई कानूनों की शुरुआत की थी। इस अधिनियम ने ब्रिटिश सरकार को अनिश्चित काल के लिए भारतीय नागरिकों को बिना मुकदमे के गिरफ्तार करने और हिरासत में लेने की अनुमति दी थी। भारतीय इस अधिनियम से नाराज थे और उन्होंने इसके खिलाफ शांतिपूर्वक विरोध करने का फैसला किया।13 अप्रैल 1919 को इस अधिनियम के विरोध में महिलाओं और बच्चों सहित भारतीय नागरिकों का एक बड़ा समूह जलियांवाला बाग में एकत्रित हुआ था। विरोध का नेतृत्व डॉ. सैफुद्दीन किचलू और डॉ. सत्यपाल ने किया, जो दोनों प्रमुख भारतीय नेता थे। हालाँकि, जनरल डायर, जो अमृतसर में ब्रिटिश सैनिकों के प्रभारी थे, उसने विरोध को ब्रिटिश शासन के लिए खतरे के रूप में देखा और अपने सैनिकों को निहत्थे भीड़ पर गोलियां चलाने का आदेश दिया, जिसके चलते कई बिगुनाह लोगों की जान चली गई।

See also  विश्व साक्षरता दिवस पर निबंध | Essay On World Literacy Day in Hindi, Speech, 10 Lines (कक्षा 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10)

रोलेट एक्ट क्या था  

काला कानून के नाम से प्रसिद्ध रोलेट एक्ट को 1919 में भारत की ब्रिटिश सरकार द्वारा लागू किया गया था। इसका उद्देश्य भारत में उठ रहे राष्ट्रीय आंदोलन को कुचलना था। यह कानून सर सिडनी रोलेट की अध्यक्षता वाली राजद्रोह समिति की सलाह के आधार पर बनाया गया था। रौलट एक्ट का आधिकारिक नाम 1919 का अराजक और क्रांतिकारी अपराध अधिनियम था। रोलेट एक्ट ने पुलिस को बिना किसी कारण के किसी भी व्यक्ति को गिरफ्तार करने की शक्ति दी थी। इसका उद्देश्य देश में राष्ट्रवादियों के बढ़ते उभार को नियंत्रित करना था।इस अधिनियम ने सरकार को बिना किसी मुकदमे के दो साल तक ब्रिटिश भारत में रहने वाले आतंकवाद के संदिग्ध व्यक्ति को कैद करने के लिए अधिकृत किया था। इसने संप्रभु सरकारों को सभी क्रांतिकारी गतिविधियों से निपटने की शक्ति भी दी थी। इस काले कानून ने प्रेस पर सख्त शक्ति, वारंट के बिना गिरफ्तारी, मुकदमे के बिना असीमित गिरफ्तारी, और अभियुक्त राजनीतिक कृत्यों के लिए जूरीलेस इन-कैमरा ट्रायल भी प्रदान किया था। अभियुक्तों को आरोप लगाने वालों और मुकदमे में इस्तेमाल किए गए सबूतों को जानने का अधिकार देने से इनकार कर दिया गया था। दोषियों को रिहा होने पर प्रतिभूतियों को जमा करने की आवश्यकता थी और किसी भी राजनीतिक, शैक्षिक, या धार्मिक गतिविधियों में भाग लेने से प्रतिबंधित किया गया था। 

उपसंहार

जलियांवाला बाग हत्याकांड एक दुखद घटना है जिसका भारत के स्वतंत्रता संग्राम पर गहरा प्रभाव पड़ा। इस घटना ने भारत में ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन की क्रूर और अमानवीय प्रकृति को उजागर किया। हालाँकि, इस आयोजन ने भारत के लोगों के लिए एक एकीकृत शक्ति के रूप में भी काम किया और देश की स्वतंत्रता की यात्रा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। जलियांवाला बाग हत्याकांड की स्मृति हमेशा भारत के स्वतंत्रता संग्राम के दौरान किए गए अत्याचारों की एक दर्दनाक याद बनी रहेगी।

जलियांवाला बाग हत्याकांड पर निबंध pdf download 

इस पॉइन्ट के जरिए हम आपको जलियांवाला बाग हत्याकांड पर निबंध pdf download उपलब्ध करा रहें है, जो आप डाउनलोड कर कभी भी पढ़ सकते है औऱ अपने जानने वालों को पढ़ा सकते है।इससे आपके साथ आपको परिजनों के भी ज्ञान में वृद्धि होगी। 

FAQ’s  Jallianwala Bagh Massacre Essay

Q.कब हुआ था जलियांवाला बाग नरसंहार ?

Ans.जलियांवाला बाग नरसंहार 13 अप्रैल 1919 को हुआ था।

Q.जलियांवाला बाग नरसंहार में कितने लोग मारे गए थे?

Ans.जलियांवाला बाग नरसंहार में कम से कम 379 लोग मारे गए थे और एक हजार से अधिक घायल हुए थे।

Q.जलियांवाला बाग हत्याकांड को किसने अंजाम दिया था?

Ans. जलियांवाला बाग हत्याकांड का जिम्मेदारी प्रभारी ब्रिटिश अधिकारी जनरल रेजिनाल्ड डायर जिम्मेदार था। नरसंहार के लिए ब्रिटिश सरकार भी जिम्मेदार थी क्योंकि उन्होंने इस क्षेत्र में कठोर मार्शल लॉ लागू कर दिया था, जिससे भारतीय लोगों में व्यापक असंतोष फैल गया था।

Q.रोलेट एक्ट क्या था?

Ans.रोलेट एक्ट 1919 में भारत में ब्रिटिश सरकार द्वारा पेश किया गया एक कानून था। इस अधिनियम के तहत ब्रिटिश सरकार को अनिश्चित काल के लिए भारतीय नागरिकों को बिना मुकदमे के गिरफ्तार करने और हिरासत में लेने की अनुमति दी थी।

Q. जनरल डायर कौन था?

Ans.जनरल रेजिनाल्ड डायर ब्रिटिश सेना अधिकारी था, जिसने जलियांवाला बाग में एकत्रित निहत्थे भारतीय नागरिकों पर गोलियां चलाने का आदेश दिया था।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja