ads

बैसाखी 2023 कब है? क्‍या है बैसाखी के पर्व का इतिहास, महत्‍व , मनाने का तरीका और शुभकामना संदेश

By | April 10, 2023
Follow Us: Google News

Baisakhi 2023 : हर साल 13 अप्रैल को पूरे भारत और भारत के बाहरा बैसाखी का त्योहार मनाया जाता है। सिख अपने प्यारे स्वभाव के लिए काफी लोकप्रिय हैं, बैसाखी का पर्व सिखों को बहुत ही महत्वपूर्ण त्योहार है। बैसाखी का त्योहार सिर्फ सिखों द्वारा ही नहीं बल्कि विभिन्न समुदायों द्वारा विभिन्न कारणों से मनाया जाता है, इसके बावजूद त्योहार के पीछे मुख्य मकसद वही रहता खुशहाली बांटना। इस त्यौहार के मूल विचार में प्रार्थना करना, सामाजिककरण करना और अच्छे भोजन का आनंद लेना शामिल है। लोग इस दिन काफी हर्षित और उत्साहित नजर आते हैं। बैसाखी में सद्भाव, शांति और प्रेम फैलाने और समुदाय के भीतर और समुदाय के बाहर सामाजिककरण करने का समर्पण है। वैसे भी हमारा एक कृषि प्रधान देश है। भारत की अर्थव्यवस्था काफी हद तक किसानों पर निर्भर करती है। बैसाखी देश के किसानों का त्योहार है। यह एक ऐसा त्योहार है जो पहली रबी फसल या गर्मियों की फसल की कटाई का प्रतीक है। इस दिन “जट्टा आई बैसाखी” की ध्वनि आकाश में गूँजती है। इस लेख में हम आपको बैसाखी के बारे में विस्तार से बताने जा रहे है।

बैसाखी 2023 कब है? Baisakhi 2023

Baisakhi 2023: शुक्रवार, 14 अप्रैल 2023 को मनाई जाएगी। त्योहार का शुभ मुहूर्त मेष संक्रांति से पहले दोपहर 3:12 बजे शुरू हो जाएहा।बैसाखी शब्द हिंदू कैलेंडर के वैशाख महीने से आया है। हिंदू कैलेंडर में दूसरा महीना चैत्र के महीने से शुरू होता है और फाल्गुन या फागुन के साथ खत्म होता है। यह तब है जब भारत के उत्तरी भाग में किसानों ने सीजन की फसलों की कटाई कर ली है और अगले सीजन की बुवाई के लिए तैयार हो रहे हैं। बैसाखी का समय आमतौर पर फसल के मौसम के अंत का प्रतीक होता है और यह किसानों के लिए जबरदस्त खुशी और उत्सव का अवसर होता है।  बैसाखी का उत्सव पंजाब और हरियाणा राज्यों में केंद्रित हैं, जहां यह बहुत सारे रंगों, उत्तेजक भोजन, संगीत और नृत्य के साथ मनाया जाता है। वैसाखी को भारतीय राज्य पंजाब में एक सार्वजनिक अवकाश के रूप में मनाया जाता है, जहाँ इसे फसल के त्योहार के रूप में मनाया जाता है। बैसाखी को विविध नामों से जाना जाता है,जैसे कि पश्चिम बंगाल में पोहेला बोइशाख, असम में बोहाग बिहू, तमिलनाडु में पुथंडु, उत्तराखंड में बिहू , आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में उगादी, केरल में पूरम विशु और ओडिशा में महा विशुव संक्रांति।

Key Highlights of Baisakhi or Vaisakhi Festival

टॉपिक बैसाखी 2023 कब है
लेख प्रकार आर्टिकल
साल 2023
बैसाखी 2023 कब है 14 अप्रैल
दिन शुक्रवार
किसके द्वारा मनाया जाता है सिखों
कहां मनाया जाता है भारत और दुनिया भर के सिखों द्वारा
अवर्ति हर साल
बैसाखी मनाने का कारण सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक का जन्म
गुरु नानक का जन्म कब  हुआ था 1469

क्‍या है बैसाखी के पर्व का इतिहास 

सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक का जन्म 1469 में बैसाखी के दिन हुआ था। सिख इस अवसर को गुरुद्वारों में जाकर और प्रार्थना करके मनाते हैं।1699 की बैसाखी की बात कि जाएं तो वैशाखी के इतिहास में सबसे महत्वपूर्ण घटना 1699 में गुरु गोबिंद सिंह द्वारा खालसा पंथ की स्थापना है। इस दिन, गुरु गोबिंद सिंह ने आनंदपुर साहिब में हजारों सिखों को एक साथ बुलाया और स्वयंसेवकों से उनके लिए अपनी जान देने के लिए कहा। पांच बहादुर सिख आगे बढ़े, जिन्हें पंज प्यारे के नाम से जाना जाता है और गुरु गोबिंद सिंह ने उन्हें अमृत, अमृत देकर खालसा पंथ में शामिल किया।

See also  World AIDS Day 2023 | विश्व एड्स दिवस कब व क्यों मनाया जाता है? जाने इतिहास, महत्व और थीम (History, Significance, Theme)

बैसाखी से जुड़ी एक और महत्वपूर्ण घटना वह है कि जलियांवाला बाग हत्याकांड है, जो 13 अप्रैल 1919 को हुई थी। ब्रिटिश सैनिकों ने निहत्थे भारतीयों की एक शांतिपूर्ण सभा पर गोलियां चलाईं, जो अमृतसर के जलियांवाला बाग में इसे मनाने के लिए एकत्र हुए थे, जिसमें सैकड़ों लोग मारे गए थे। इस घटना ने  लोग में आक्रोश फैलाया और भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन को और मजबूत किया।

बैसाखी भी एक कृषि त्योहार है जो पंजाब में फसल के मौसम की शुरुआत का प्रतीक है। किसान अच्छी फसल के लिए ईश्वर को धन्यवाद देकर और समृद्ध नए साल की प्रार्थना करके इस अवसर को मनाते हैं।कुल मिलाकर, वैसाखी का इतिहास सिख धर्म, संस्कृति और इतिहास से बहुत करीब से जुड़ा हुआ है। यह सिख समुदाय की समृद्ध विरासत को प्रतिबिंबित करने और समाज में उनके योगदान का जश्न मनाने का समय है।

बैसाखी पर्व का महत्त्व (Importance of Baisakhi festival)

बैसाखी या वैसाखी का अवकाश इतना महत्वपूर्ण होने के कई कारण हैं। हम इस पॉइन्ट में आपको बैसाखी पर्व के कई तरह से महत्व के बारे में बताएंगे, जो कि इस प्रकार हैं, अगर धार्मिक महत्व की बात कि जाएं तो सिखों के लिए बैसाखी का त्योहार महान आध्यात्मिक महत्व रखता है। यह दसवें सिख गुरु, गुरु गोबिंद सिंह द्वारा खालसा पंथ की 1699 स्थापना की याद दिलाता है। इसी तरह सिख नववर्ष की शुरुआत होती है। भक्त इस अवसर को गुरुद्वारों में पूजा के लिए इकट्ठा होते बै, जप करने, गीत गाने और कीर्तन खेलने के लिए मनाते हैं।

वहीं इसका सांस्कृतिक महत्व यह है कि बैसाखी का फसल उत्सव एक नए कृषि वर्ष की शुरुआत का जश्न मनाता है। पंजाबी काश्तकारों के लिए बैसाखी का दिन उत्सव का दिन है। नतीजतन, वे भगवान से प्रार्थना करते हैं और भरपूर फसल के लिए धन्यवाद देते हैं। यह पर्व पंजाब के लंबे इतिहास और विविध सांस्कृतिक परंपराओं का सम्मान करने का भी समय है।इस त्योहार के उत्सव के लिए पारंपरिक पंजाबी पोशाक पहनी जाती है और भांगड़ा और गिद्दा जैसे जातीय नृत्य इस कार्यक्रम की खुशी दिखाने के लिए किए जाते हैं।अगर हम ऐतिहासिक महत्व के बारे में बताएं तो बैसाखी का महत्व बहुत पुराना है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह भारतीय प्रायद्वीप के विकास में एक बिल्कुल नए युग की शुरुआत करता है। आनंदपुर साहिब एक सिख सम्मेलन का स्थान था जिसे गुरु गोबिंद सिंह ने 1699 में बुलाया था। वहाँ, उन्होंने पहले पाँच खालसा पंथ को एक साथ लाए। सिख समुदाय को एक धार्मिक और धर्मनिरपेक्ष समूह के रूप में विकसित करने में यह एक मील का पत्थर सबित हुआ था।

सामाजिक महत्व के बारे में बताएं तो बैसाखी एकता और सामाजिक शांति के आदर्शों का सम्मान करने वाला त्योहार है। लंगर की प्रथा, जिसमें विभिन्न समूहों के सदस्य खाने के लिए एक साथ आते हैं, परस्पर सम्मान और सहयोग के मूल्यों का प्रतीक है। ऐसा करना सभी के बीच सद्भाव और दया को बढ़ावा देती है, चाहे उनकी पृष्ठभूमि या विश्वास प्रणाली कुछ भी हो।बैसाखी का गहरा अर्थ है क्योंकि यह फसल के मौसम को प्रतिबिंबित करने और किसानों द्वारा की गई कड़ी मेहनत की सराहना करने का समय है। यह परिवार और दोस्तों के साथ जश्न मनाने, स्वादिष्ट खाना खाने, पंजाबी बीट्स पर डांस करने और प्यार और सकारात्मकता फैलाने का समय है। तो, अपनी हार्दिक बैसाखी की शुभकामनाएं और उद्धरण भेजें, और इस जीवंत त्योहार को जोश और उत्साह के साथ मनाएं!

और पढ़ें: लाडली बहना योजना रजिस्ट्रेशन,आवेदन के बाद कैसे चेक करें

बैसाखी मनाने का तरीका (how to celebrate baisakhi)

जिस तरह से वैसाखी मनाया जाता है वह क्षेत्र और समुदाय के आधार पर अलग-अलग होता है, लेकिन यहां कुछ सामान्य तरीके हैं जिनमें इसे मनाया जाता है जैसे कि सिख जुलूस निकाला जाता है, जिसमें सिख समुदायों द्वारा  गुरुद्वारों से जुलूस निकालते हैं, जो भजन और प्रार्थना के गायन के निकाला जाता है। इसके बाद लंगर नामक सामुदायिक भोजन होता है, जो सभी के लिए खुला होता है और शाकाहारी भोजन परोसा जाता है।वहीं हार्वेस्ट समारोह में पंजाब और उत्तरी भारत के अन्य हिस्सों में, यह अवसर फसल के मौसम की शुरुआत का प्रतीक है। लोग रंग-बिरंगे पारंपरिक कपड़े पहनकर नाचते, गाते और सजते-संवरते हुए जश्न मनाते हैं। वे विशेष खाद्य पदार्थ भी तैयार करते हैं और खाते हैं, जैसे कि सरसों का साग (सरसों का साग) और मक्की की रोटी (मकई की रोटी)कहा जाता हैं।

See also  150+ Happy Holi Status in Hindi (Holi WhatsApp Status) हैप्पी होली स्टेटस हिंदी में

मेले का आयोजन भी इस पर्व का केंद्र होता है, कुछ स्थानों पर वैशाखी मेले आयोजित किए जाते हैं, जिनमें सांस्कृतिक गतिविधियाँ, खेल और खाने के स्टॉल शामिल होते हैं। लोग जश्न मनाने और मौज-मस्ती करने के लिए एक साथ आते हैं। सामुदायिक सेवा भी इस पर्व पर किए जाते है जिसमें सिख समुदायों मे, वैसाखी सेवा (निःस्वार्थ सेवा) के लिए भी एक दिन है। लोग सामुदायिक सेवा गतिविधियों में भाग लेते हैं जैसे सड़कों की सफाई, जरूरतमंदों को भोजन वितरित करना और मुफ्त चिकित्सा जांच की पेशकश करना।अखंड पथ केे तहत सिख घरों और गुरुद्वारों में सिख पवित्र ग्रंथ, गुरु ग्रंथ साहिब का एक अखंड पथ (निरंतर पठन) वैशाखी तक आयोजित किया जाता है। पढ़ने में आमतौर पर तीन दिन लगते हैं और वैशाखी के दिन समाप्त होते हैं।वैसाखी एक खुशी का अवसर है जिसे बहुत उत्साह और सामुदायिक भावना के साथ मनाया जाता है।

बैसाखी पर्व पंजाब में कैसे मनाया जाता है? (How is Baisakhi Festival Celebrated in Punjab)

बैसाखी एक फसल उत्सव है और इसे बहुत ही उत्साह और रंग के साथ मनाया जाता है। इस पूरे चरण में भारत के विभिन्न हिस्सों में रबी की फसलें काटे जाने के लायक हो जाती है, जो आशावाद और गतिशीलता से भरी होती हैं। पंजाब, हरियाणा और पश्चिम बंगाल इन राज्यों में से हैं जो इसे सबसे ज्यादा इस पर्व को मनाते हैं।इस दिन किसान अपना जीवन माँ प्रकृति को समर्पित करते हैं और प्रचुर मात्रा में फसल के लिए उनकी प्रशंसा करते हैं। वे आगामी वर्ष में देश की भलाई और स्थिरता की भी कामना करते हैं।सिख परिवार बैसाखी पर सुबह की विशेष प्रार्थना में हिस्सा लेने के लिए गुरुद्वारों में जाते हैं। प्रार्थना के बाद, सभी भक्तों को कड़ा प्रसाद नामक मिठाई दी जाती है। इस दिन विशेष लंगर का आयोजन किया जाता है।इस दिन, प्रसिद्ध सिख ग्रंथ साहिब, गुरु ग्रंथ साहिब को एक समारोह में साथ लाया जाता है। समारोह के दौरान कई बैंड खेलते हैं, नृत्य करते हैं और आध्यात्मिक नारे और शोक व्यक्त करते हैं। लोग इस दिन पारंपरिक नृत्य के दो तत्वों भांगड़ा और गिद्दा में व्यस्त रहते हैं।पुरुष और महिलाएं चमकीले रंगों में कपड़े पहनते हैं। पुरुष अपने सिर के शीर्ष पर बड़े अनुयायी अलंकरणों के साथ पारंपरिक पगड़ी पहनते हैं। कुर्ते, एक डिज़ाइन किए गए ब्लेज़र के साथ एक विस्तृत कमरकोट, अक्सर उनके द्वारा पहना जाता है। कुर्ते के नीचे एक लुंगी, कमर के चारों ओर लपेटा हुआ कपड़े का एक बड़ा टुकड़ा पहना जाता था। महिलाओं द्वारा सलवार सूट और स्कार्फ पहना जाता है।आमतौर पर इस दिन पुरी, गज्जर का हलवा, पनीर टिक्का, मोतीछोर लड्डू, मक्की दी रोटी, चिकन बिरयानी और अन्य पारंपरिक भारतीय और पंजाबी व्यंजन परोसे जाते हैं।

See also  100+ रक्षाबंधन पर शायरी | Rakhi Shayari in Hindi 2023 | Raksha Bandhan Shayari Images For Brother &Sister

Baisakhi 2023 : शुभकामना संदेश (Greeting Message)


तुस्सी हंसदे ओ सानू हंसान वास्‍ते

तुस्सी रोन्ने ओ सानूं रुआण वास्ते

इक वार रुस के ते विखाओ सोणेयो

मर जावांगे तुहाणूं मनान वास्ते

बैसाखी दा दिण है खुशियां मणान वास्ते

Happy Baisakhi

 

बैसाखी का खुशहाल मौका है,

ठंडी हवा का झोंका है,

पर तेरे बिन अधूरा है सब,

लौट आओ हमने खुशियों को रोका है!! Happy Baisakhi

 

खुशबू तेरी यारी दी साणूं महका जांदी है

तेरी हर इक किती होयी गल साणूं बहका जांदी है

साह तां बहुत देर लगांदे ने आण जाण विच

हर साह तो पहले तेरी याद आ जांदी है

हैप्पी बैसाखी डियर !

 

नाच ले, गा ले हमारे साथ,

आई है बैसाखी खुशियों के साथ,

मस्ती में झूम और खीर-पूरी खा,

और ना कर तू दुनिया की परवाह।

Happy Baisakhi 2023 !

 

सुबह-सुबह उठ के हो जाओ फ्रेश,

पहन लो आज सबसे अच्छा कोई ड्रेस,

दोस्तों के साथ अब चलो घूमने,

बैसाखी की दो शुभकामनाएं जो आए सामने,

बैसाखी की लख लख बधाई

 

वैशाखी के हर्षोल्लास के अवसर को हर्षोल्लास के साथ मनाएं।

आपको और आपके परिवार को मौज-मस्ती से भरी वैशाखी

और आगे आने वाले साल की शुभकामनाएं। हैप्पी वैशाखी!

 

सुनहरी धूप बरसात के बाद

थोड़ी सी खुशी हर बात के बाद

उसी तरह हो मुबारक आप को

ये नयी सुबह कल रात के बाद

हैप्पी बैसाखी


कामना है कि आपका जीवन गुरु के स्वर्णिम आशीर्वाद से भरा रहे।

आप और आपके परिवार पर उनकी कृपा सदैव बनी रहे।

 

सुबह से शाम तक वाहे गुरु की कृपा,

ऐसे ही गुजरे हर एक दिन,

न कभी हो किसी से गिला-शिकवा,

एक पल न गुजरे खुशियों बिन।

बैसाखी की बहुत बधाई!

 

सुबह से शाम तक वाहेगुरू की कृपा,
ऐसे ही गुजरे हर एक दिन,
न कभी हो किसी से गिला-शिकवा,
एक पल न गुजरे खुशियों बिन। – बैसाखी की शुभकामनाएं

FAQ’s: बैसाखी 2023 कब है? Baisakhi 2023

Q.बैसाखी किस राज्य में मनाई जाती है?
Ans.भारतीय राज्य पंजाब और कई अन्य क्षेत्र हर साल बैसाखी मनाते हैं।

Q.बैसाखी उत्सव सबसे पहले कब मनाया गया था?
Ans. बैसाखी उत्सव के बारे में मिथकों के अनुसार यह पहली बार 1699 में मनाया गया था।

Q.बैसाखी क्यों मनाई जाती है?
Ans. बैसाखी वसंत की शुरुआत में मनाया जाने वाला एक भारतीय उत्सव है।

Q.भारत में वैसाखी उत्सव मनाने के लिए सर्वश्रेष्ठ स्थान कौन कौन से हैं?
Ans.भारत में वैसाखी उत्सव मनाने के लिए सर्वश्रेष्ठ स्थान है-पंजाब,हरयाणा.केरल,तमिलनाडु,पश्चिम बंगाल।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *