Essay on mera gaon। मेरा गांव पर निबंध

Essay on mera gaon।मेरा गांव पर निबंध

हरसाल मैं गर्मी की छुट्टियों में अपने गांव जाता हु, छुट्टी पड़ने से पहले ही मैं गांव जाने की तैयारी शुरू कर देता हु क्योंकि मुझे गांव बहुत ही प्यारा लगता है। वहा जाने पर बहुत ही आराम और शांति मिलती है। मेरे गांव में बहुत सारे पेड़, फूल, और हमारे गांव से होते हुए गंगा नदी भी बहती है। शाम के समय में गंगा नदी के तट पर बहुत ही सुंदर हवा चलती है, जो मेरे मन को बहुत ही आनंदित करती है। मैं शहर जाने पर इसको बहुत याद करता हु। मेरा गांव | mera gaon एक ऐसी जगह है, जहा पर शुद्ध वातावरण और शांति पाई जाती है। 

आज के इस आर्टिकल में हम आपको Mera gaon पर कुछ बाते बताएंगे जिसमें हम आपको गांव पर 10 लाइन और गांव का महत्व, गांव में होने वाली असुविधा सभी के बारे में बताएंगे। गांव के बारे में अच्छे से जानने के लिए पूरा अवश्य पढ़े।

10 lines about my village। 10 लाइन Mera gaon के बारे निबंध

  • मेरा गांव(Mera gaon) एक बहुत ही अच्छा गांव है और उसका नाम विजयपुर है।
  • मेरा गांव उत्तर प्रदेश के कौशांबी जिले में स्थित है।
  • मेरे गांव में बहुत ही शांति और शुद्ध वातावरण है।
  • मेरे गांव में बिजली, पानी, सड़क, प्राथमिक विद्यालय, बगीचा की भी व्यस्था है।
  • मेरे गांव का अधिकांश निवासी जागरूक और पढ़ा लिखा है।
  • मेरे गांव में चारो तरफ बगीचे है, जिसके कारण हरियाली ही हरियाली दिखाई देती है।
  • मेरे गांव के कुछ लोग खेती और खुद का धंधा करते है।
  • मेरे गांव के प्रधान गांव के विकास पर बहुत ही ध्यान देते है, और कोई भी सरकारी सुविधा आने पर सबको जागरूक करते है।
  • मेरे गांव में कुल 5 हजार लोग रहते है।
  • मेरे गांव से शहर की दूरी बहुत ही कम है, जब भी हमें आवश्यकता होती है तो आसानी से हम शहर पहुंच जाते है।

Some tips about village development गांव के विकास की कुछ टिप्स

हमारे भारत देश की आत्मा गांव में निवास करती है, हमारे देश की संस्कृति भी झलकती है। अगर हमारे गांव का विकास होगा तो हमारा देश का भी समुचित विकास होगा। इसलिए हमें गांव के विकास पर ध्यान देना चाहिए।

  • किसानों के लिए अच्छे प्रकार के बीज और खाद की व्यवस्था होनी चाहिए । साथ में मंडी की व्यवस्था होनी चाहिए ताकि उन्हें उनके अनाज उत्पादन पर उचित मूल्य मिल सके। 
  • यहां पर सड़कों और नालियों को बनाना चाहिए।
  • परिवहन की अच्छी सुविधा उपलब्ध करानी चाहिए।
  • युवाओं के लिए खेलकूद मैदान और खेलकूद का सामान उपलब्ध कराना चाहिए।
  • स्वास्थ्य उपचार केंद्र बनाने चाहिए और वहां पर डॉक्टर व दवा की उपलब्धता करनी चाहिए।
See also  स्वतंत्रता दिवस पर निबंध 2023 | Essay On Swatantrata Diwas in Hindi | 10 Lines, Download PDF

Also Read : गाय पर निबंध। Essay On Cow In Hindi Gaay Par Nibandh In Hindi

Importance of gaav in our life। हमारे जीवन में गांव का महत्व

आजकल आदमी पूरा दिन अपने काम काज में व्यस्त रहता है, उसे दोस्तो संबंधियों के साथ बैठने का समय ही नहीं मिलता है। लेकिन ऐसा सिर्फ हमारे शहरों में होता है हमारे गांव(Mera gaon) में तो आज भी लोग सबके साथ बैठके बाते करते है, घूमते है और अपना पूरा समय मस्ती से बिताते है। आज हम आपको गांव में रहने के फायदे बताएंगे।

  • गांव की संस्कृति – शहर के लोगो की जीवन शैली दिन प्रतिदिन बदलती जा रही है, लेकिन हमारे गांव में आज भी पारंपरिक पोशाक पहने जाते है। पहले के जैसे ही शादी विवाह की रस्में, पूजा सब कुछ पहले से जैसे चला आ रहा है उसी तरीके से किया जाता है। हमारे गांव में आज भी हमारे देश की संस्कृति दिखाई देती है।
  • गांव का वातावरण – आज के समय में जहा शहर पूरी तरह प्रदूषण से भरा है, वहा हमारे गांव में आज भी शुद्ध वातावरण पाया जाता है, गांव में ढेर सारे बगीचे होते है, जिसके वजह से गांव के लोगो को शुद्ध फल, शुद्ध वायु अनुकूलित वातावरण मिल पाता है। 
  • गांव की अर्थव्यवस्था – गांव में रहने वाले लोगों की आय का मुख्य आधार कृषि होता है। कृषि हमारी भारतीय अर्थव्यवस्था में भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। कुछ गांव तो हमारे शहर से सटे हुए होते हैं और कुछ गांव हमारे शहरों से बहुत दूर होते हैं। जो गांव शहरों से लगे हुए होते हैं वह फल, सब्जी , दूध, पोल्ट्री फार्म इत्यादि का उत्पादन करके शहरों में बेचकर उचित मूल्य पा जाते है। वही जो गांव दूर होते हैं उनके निवासी मौसमी फसलों का उत्पादन करके जैसे कि गेहूं, ज्वार, बाजरा का उत्पादन करते है। 

Differences in village। गांव मे आए हुए अन्तर

पहले हमारे गांव में सिर्फ कच्चे मकान और झोपड़ियां दिखाई देती थी लेकिन आज बदलते समय के साथ गांव में भी पक्के घर बनाए जा रहे हैं, बड़े-बड़े मकान बनाए जा रहे हैं। कुछ लोग प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सुंदर और अच्छे घर रहने के लिए पा गए हैं। गांव में ग्राम प्रधान समय-समय पर पेड़ पौधे लगवाते रहते हैं जिससे वहां पेड़ों की संख्या में हमेशा वृद्धि हो रही है। 2014 मैं प्रधानमंत्री मोदी जी के द्वारा चलाए गए स्वच्छ भारत अभियान के बाद गांव का नजारा और ही बदल गया। जहां पहले कूड़ा कचरा बिखरा होता था आज हर जगह कूड़ेदान की व्यवस्था कर दी गई है। गांव के निवासी ज्यादा पढ़े लिखे ना होने के बावजूद भी साफ-सफाई में अपना पूरा योगदान देते हैं।

See also  Jallianwala Bagh History in Hindi | जलियांवाला बाग हत्याकांड कब और कहां हुआ

Benefits of village life। गांव में रहने के फायदे

भारत का एक ऐसा क्षेत्र जहां लोग रहते हैं और उसके चारों तरफ कृषि होती है, उसे ही गांव कहते है। जो लोग गांव में रह चुके होते हैं या कभी वहां जाकर देख होते हैं तो उनके सामने गांव(Mera gaon) का नाम लेने पर ही वह गांव का हरियाली दृश्य आने लगता है। आज हम आपको गांव में रहने वालों के फायदे के बारे में बताएंगे।

शुद्ध और पौष्टिक भोजन 

गांव के अधिकांश लोग कृषि पर निर्भर होते हैं और वे कई प्रकार की फसलों का उत्पादन करते हैं जिसके कारण गांव में रहने वाले लोगों को शुद्ध अन्न मिल पाता है, और गांव में कई बगीचे होते हैं जिनसे उन्हें शुद्ध फल की भी प्राप्ति हो जाती है इन सभी कर्ण की वजह से हमारे गांव में शुद्ध और पौष्टिक भोजन मिलना आसान होता है। जो हमारे जीवन को उत्तम बनता है क्योंकि बिना अच्छे स्वास्थ्य के हम अपने जीवन में कुछ भी हासिल नहीं कर सकते हैं।

अनुकूलित वातावरण

गांव में ढेर सारे पेड़ पौधे होते हैं और समय-समय पर ग्राम प्रधान के द्वारा भी पेड़ पौधे लगाए जाते हैं जिसके कारण गांव में शुद्ध और शीतल हवा मिलती है जो हमारे मन को बहुत ही आनंदित करती है। गर्मियों के दिनों में गांव में रसीले फल भी आसानी से मिल जाते हैं और शाम को ठंडी-ठंडी हवाएं शरीर पर हुई पसीने को सूखने के साथ-साथ मन को बहुत ही आनंदित करती हैं। सभी को यह शुद्ध और अनुकूलित वातावरण बहुत ही पसंद आता है।

सदा जीवन और भाईचारा

गांव के लोग सादा जीवन जीना पसंद करते हैं वह पहले की चली आ रही परंपराओं को मानते हैं। गांव में रहने वाले बच्चे भी बहुत ही सीधे होते हैं और वह बचपन से ही अपने गांव के रहने वाले लोगों से सीखते हैं कि हमें आपस में भाईचारे के साथ रहना चाहिए एक दूसरे का काम में हाथ बटाना चाहिए। गांव में जिसके पास खेत नहीं होते हैं वह जमींदारों के खेत में काम करके अपना जीवन व्यतीत करते हैं। किसी के भी घर पर दुख या सुख आने की स्थिति में गांव के सभी लोग उनका साथ देते हैं खुशी में जश्न मनाते हैं और वही दुख में उन्हें आर्थिक और मानसिक सहयोग देते है।

See also  अन्तर्राष्ट्रीय नर्स दिवस पर निबंध/भाषण 2023 |  International Nurses Day Speech/Essay in Hindi

Problem of village life।गांव में रहने के नुकसान

आज हमारा देश भारत विकास कर रहा है, दिन प्रतिदिन नई-नई टेक्नोलॉजी विकसित हो रही है। नई नई यूनिवर्सिटी बनाई जा रही है। लेकिन अफसोस आज भी हमारे गांव में कुछ कमियां है। आज हम उन कमियों पर चर्चा करेंगे।

  • सही विकास न हो पाना

समय बदल जाने के बाद भी आज भी हमारे गांव में अच्छी अस्पताल, सुख सुविधा नहीं होती है, जिसके लिए आदमी दिन प्रतिदिन शहर की तरफ भाग रहे हैं। गांव में किसी को बड़ी बीमारी हो जाने पर समय पर इलाज नहीं हो पा रहा है, उनकी मृत्यु हो जा रही है। कुछ जगहों पर सड़कों और नालियों का विकास नहीं हो पाया है। जिसके कारण जल जमाव और बीमारियो का जन्म होता है। यह गांव की बहुत बड़ी कमी है।

गांव में प्राथमिक विद्यालय, इंटर कॉलेज तो होते हैं लेकिन जब बात आती है उच्च शिक्षा की तो हमारा गांव आज भी उसमें बहुत पीछे है, हमारे गांव में कोई भी उच्च संस्थान नहीं होते उसके लिए बच्चों को शहर की ओर भागना पड़ता है। आज के समय में उच्च शिक्षा आदमी की पहली आवश्यकताहै।

  • परिवहन की सुविधा न होना

भारत का इतना विकास होने के बावजूद भी आज भी हमारे कुछ गांव में सड़के नहीं है, जहां जाने के लिए परिवहन का कोई भी साधन मौजूद नहीं है। गांव में एक जगह से दूसरे जगह जाने के लिए कोई भी बहुत ही काम साधन उपलब्ध होते हैं जो कि समय-समय पर मिलते हैं ऐसे में जाने के लिए या तो आपका खुद का साधन होना चाहिए या आपको उसे समय का इंतजार करना पड़ेगा।

निष्कर्ष

उम्मीद है कि आपके मन में उठे गांव से जुड़े सभी प्रश्नों का जवाब मिल गया होगा अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों को भी शेयर करें।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja