मई दिवस 2023 पर भाषण | Download Labour Day Speech in PDF | मजदूर दिवस पर 10 लाइनें

मई दिवस 2023 पर भाषण: मजदूरों की प्रतिबद्धता और समर्पण को सम्मान देने के लिए दुनिया भर में हर जगह मजदूर दिवस 1 मई को मनाया जाता है। यह प्रत्येक वर्ष पहली मई में आयोजित किया जाता है, वहीं कुछ देशों में उत्सव की विभिन्न लंबी अवधि होती है। मजदूर दिवस को वैसे तो दुनिया भर में मई दिवस के नाम से भी मनाया जाता है। इस दिन को सरकारी या निजी क्षेत्रों में काम करने के मामले में दुनिया के सभी मजदूरों और विशेषज्ञों के लिए छुट्टी के रूप में घोषित किया गया है। जैसा कि हम सब जानते हैं कि श्रमिक एक विकासशील अर्थव्यवस्था के प्रमुख खंड हैं, वहीं श्रमिक नीचे झुक जाते हैं जैसे कि उनके संगठनों के लिए कोई कल नहीं है और इसी वजह से देश विकसित होता है और बनाता है।मजदूर दिवस दुनिया भर में विभिन्न देशों में मनाया जाने वाला एक अंतर्राष्ट्रीय दिवस है।यह भारत में 1 मई को संगठनों, कारखानों, साइटों, कंपनियों आदि में मजदूरों की कड़ी मेहनत की याद में मनाया जाता है। 

विभिन्न एनजीओ, एनपीओ, सरकारी या निजी प्रतिष्ठान, कल्याण संघ आदि हैं जो मजदूरों के लाभ के लिए काम करते हैं और आज हम इस लेख के जरिए आपके सामने मजदूर दिवस पर भाषण प्रस्तुत कर रहे है, क्योंकि कई बार इस दिन पर आपके सामने ऐसा मौका भी आ सकता है जब आपको मजदूर दिवस पर भाषण देने की आवश्यकता पड़ सकती है। हमने यहां मजदूर दिवस भाषण पर विभिन्न सैंपल शेयर किए हैं, जिनका उपयोग आप अवसर के आधार पर अपना भाषण तैयार करने के लिए कर सकते हैं।इन भाषणों में इस्तमाल की गई भाषा बहुत सरल और सीधी है लेकिन बहुत प्रभावीशाली है। इसमें आपको मजदूर/श्रम/ श्रमिक दिवस पर भाषण | Long and Short Speech on Labour Day in Hindi,श्रमिक दिवस पर स्पीच | Short Speech on Labour Day in Hindi (300 शब्द),अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस पर भाषण | Long Speech on May Day in Hindi (600 शब्द),मई दिवस पर भाषण PDF | Download May Day Speech in PDF तरह के भाषण पेश किए गए हैं।

Also Read: मजदूर/श्रम/ श्रमिक दिवस पर निबंध

श्रमिक दिवस पर स्पीच | Short Speech on Labour Day in Hindi (300 शब्द)

आदरणीय प्रधानाचार्य, शिक्षकों और मेरे प्यारे दोस्तों।

आप सभी को बहुत-बहुत सुप्रभात। मुझे बहुत खुशी है कि हम सभी आज मजदूर दिवस मनाने के लिए एकत्रित हुए हैं। मैं आज मजदूर दिवस पर भाषण देने जा रहा हूं।मजदूर दिवस या मई दिवस श्रमिकों को समर्पित है।मजदूर दिवस जो हर साल 1 मई को मनाया जाता है, उसे मई दिवस या अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस के रूप में भी जाना जाता है।भारत में इसे अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस या कामगार दिवस के रूप में जाना जाता है। यह 19वीं शताब्दी में संयुक्त राज्य अमेरिका के श्रमिक संघ आंदोलन से उत्पन्न हुआ है। यह वह आंदोलन था जो  विशेष रूप से प्रति दिन आठ घंटे काम करने की वकालत करता है। 19वीं सदी के अंत में लोगों के काम करने की स्थिति बहुत खराब थी क्योंकि उन्हें प्रतिदिन 12-16 घंटे काम करना पड़ता था, जिसके लिए उन्हें ज्यादा मजदूरी भी नहीं दी जाती थी।वहीं काम करने की स्थिति बहुत ही असुरक्षित और गंभीर थी।

सन 1886 में 1 मई को पूरे अमेरिका में विभिन्न श्रमिक संघ हड़ताल पर चले गए थे। उन्होंने एक दिन में आठ घंटे काम की मांग की थी। कुछ दिनों के बाद वहाँ खून-खराबा हुआ और बहुत से लोग घायल हो गए क्योंकि एक क्रांतिकारी ने बाजार में बम फेंका दिया था। 5 साल बाद इस दिन को एक सामाजिक संगठन द्वारा अवकाश के रूप में मान्यता दे दी गई थी।यह दिवस दुनिया भर में श्रमिकों के योगदान और उनकी सामाजिक और आर्थिक उपलब्धियों को श्रद्धांजलि देने के लिए मनाया जाता है। यह उनके लिए एक दिन है कि वे जो काम करते हैं और ऐसा करने में अपना योगदान देते हैं, उनके लिए सम्मान महसूस कर सकें। यह उन्हें प्रेरित करने और उन्हें यह बताने के लिए है कि उनकी जरूरतें और अधिकार फोकस में हैं।

See also  Agrasen Jayanti 2022 | महाराजा अग्रसेन जयंती कब हैं, कैसे व क्यों मनाई जाती हैं

मुझे लगता है कि हमें कार्यकर्ता के प्रयासों और समाज में उनके योगदान की सराहना करनी चाहिए। हम सभी जानते हैं कि वे न्यूनतम वेतन के लिए वास्तव में कड़ी मेहनत करते हैं। हमें उनकी मेहनत को प्रोत्साहित करना चाहिए।

मुझे भाषण देने का अवसार देने के लिए धन्यवाद, आपका दिन शुभ हो।

Also Read: आयुष्मान भारत नई लाभार्थी सूची में अपना नाम कैसे देखें

अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस पर भाषण | Long Speech on May Day in Hindi (600 शब्द)

सबको सुप्रभात!

इस मंच का मुझे हिस्सा बनने का सोभाग्य प्राप्त हुआ इसके लिए मैं धन्यवाद देना चाहता हूं। इस मंच के जरिए आज मैं आपके सामने मजदूर दिवस के उपलक्ष्य में चर्चा करना चाहता हूं और अपने विचार सबके सामने रखना चाहता हूं। जैसे कि हम सब जानते है कि आज मजदूर दिवस है और इसे मई दिवस के नाम से भी जाना जाता है। हर साल इस दिन को 1 मई को दुनिया भर में बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। यह जो हमारा संगठन वह एक निजी कल्याण संगठन है जो राज्य सरकार के साथ मिलकर श्रमिकों के हित के लिए काम करता है। दरअसल, यह कहना गलत नहीं होगा कि  हम मूल रूप से उन श्रमिकों के उद्धार के लिए कार्य करते हैं जो निच्ले तबके के हैं। वहीं इस सभा में कुछ बड़े जाने माने उद्योगपति भी आज हमारे बीच उपस्थित हैं जो इस आंदोलन का पूरा समर्थन करते हैं। दोस्तों जब भी हम श्रम शब्द सुनते हैं तो जो हमारे दिमाग में आता है वह है कठिन या कड़ी मेहनत या शारीरिक श्रम करते हुए लोगों कि कल्पना करते हैं। हम यहां बड़े और प्रमुख संगठनों के लिए काम करने वाले लेबर के कुछ महत्वपूर्ण अधिकारों पर आपका ध्यान केंद्रित करने के लिए एस साथ आए  हुए हैं।

गौरतलब है कि ऐतिहासिक रूप से लेबर डे की शुरुआत अमेरिका में हुई थी। यह शुरुआत एक बिल पास को करने के लिए की गई थी, जिसमें इस बात की वकालत की गई थी मजदूरों 8 घंटे काम ही करें।  जिसके बाद इस बिल को स्वीकार कर लिया गया था और सन 1886 के बाद से मजदूरों और कर्मचारियों की उनकी कड़ी मेहनत का सम्मान करने के लिए हर साल 1 मई को लेबर डे मनाने की शुरुआत हुई थी। सच कहे तो बिना श्रम के कोई भी कंपनी न तो कभी फल-फूल सकती है और न ही अपना विकास कर सकती है और ना ही कायम रह सकती है। लेकिन जब हम लेबर कहते हैं तो हमारा तात्पर्य कंपनी के लिए काम करने वाले हर एक और हर किसी कर्मचारी से से भी होता है। वहीं कंपनियों को 8 घंटे के काम के अलावा यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि मजदूरों या कर्मचारियों के साथ नस्ल, जाति, पंथ, लिंग, विकलांगता आदि के आधार पर कभी भी भेदभाव नहीं किया जाए और उन्हे प्रतिस्पर्धी वेतन या वेतन का भुगतान भी जरुर किया जाना चाहिए। इसके अलावा प्रत्येक श्रमिक पहले एक इंसान है और इस प्रकार उनकी स्थिति या नौकरी की जिम्मेदारियों के बावजूद उन्हें महत्व दिया जाना भी जरुरी है और उन्हें पूरा महत्व दिया जाना चाहिए।

See also  हिंदी दिवस पर भाषण | Hindi Diwas Speech in Hindi | 10 Lines, Poem

यह कहना गलत नहीं होगा कि मजदूर हमारी भारतीय अर्थव्यवस्था और औद्योगिक प्रगति की सबसे बड़ी शक्ति हैं। मजदूरों का देश की राजनिति पर भी एक बड़ा प्रभाव पड़ता है क्योंकि कुछ श्रमिक मुद्दों ने  ना जाने कितनी भी कई राजनीतिक दलों को चुनाव जीतने में सहायता की है। मजदूर कारखानों को चलाने, सड़कों, इमारतों आदि का निर्माण करने, तेल के लिए ड्रिल करने आदि में मदद करते हैं।आज के मजदूर अब ज्ञानी और शिक्षित लोग हैं जो अपने अधिकारों को अच्छे से जानते हैं  इन्हें आसानी से दबाया नहीं जा सकता है। वहीं कुछ ऐसी बड़ी कंपनियां भी होती है जो जो दूर-दराज के इलाकों या गांवों से मजदूरों का लेकर आती हैं। ये लोग भोले भाले होते हैं। वहीं इनकी आर्थिक स्थिति होने के कारण वह किसी भी शर्त पर काम करने को तैयार हो जाते हैं। हमारे संगठन के सदस्य उन क्षेत्रों में घूमा करते हैं और उनके सामने आने वाले मुद्दों को ध्यान से सुनते हैं और राज्य सरकार से उसी के बारे में चर्चा करते  हैं और साथ ही उनकी बेहतरी की दिशा में काम करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं।इसके साथ ही हमने कई गाँवों में ऐसे स्कूल भी खोले हैं, जहां बच्चों से लेकर बड़े लोगों को शिक्षा प्रदान की जाती हैं।

हम आपको बता दें कि हमारा यह संगठन बाल श्रम के विरोध में भी काम करता है। हमारे द्वारा कई खानों और कारखानों की पहचान की गई है जो अपनी उत्पादन इकाई में बच्चों को रोजगार देकर उनसे काम करवाते हैं। इस मुद्दे को बीते साल एक गैर सरकारी संगठन द्वारा उजागर किया गया था और जिसपर हमारो द्वारा तुरंत इस मुद्दे को उठाया गया और उन सभी बच्चों को ऐसी इकाइयों से मुक्त कराया गया था। आज के समय में उन बच्चों को हमारे द्वारा शिक्षा भी प्रदान की जा रही हैं और उनके माता-पिता को कला और शिल्प के क्षेत्र में प्रशिक्षण भी प्रदान किया जा रहा हैं जिससे वे अपनी आजीविका कमा सकें और अपना घर चला सकें।मैं सभी उद्योगपतियों, सरकार, निजी और सरकारी दोनों फर्मों, आम लोगों सहित सभी से यह अपील करना चाहूंगा कि अगर हमें अपने समाज से बुराई को खत्म करना है तो हमे एक दूसरे का हाथ मिला कर काम करना पड़ेगा, और हमे निचले तबके के लोगों का समर्थन करना होगा ताकि वे भी एक सम्मानजनक जीवन जी सकें।

धन्यवाद!

मई दिवस पर भाषण PDF | Download May Day Speech in PDF

इस पॉइन्ट में हम आपको लिए मई दिवस पर भाषण  PDF में उपलब्ध करा रहे है जो आप डाउनलोड कर सकते है। वहीं डाउनलोड किए गए इस कॉपी को हमेशा अपने पास रख सकते है। इसके साथ ही यह जो डाउनलोड किया गया भाषण है इसको आप दोबारा कभी भी पढ़ सकते है और जरुरत आने पर किसी भाषण प्रतियोगिता में भी यूज कर सकते हैं।

See also  26 जनवरी स्टेटस हिंदी में | Republic Day Status in Hindi, WhatsApp Status

मई दिवस पर भाषण PDF Download

मजदूर दिवस भाषण पर 10 लाइनें

  • मजदूर दिवस देश के विकास में श्रमिकों की कड़ी मेहनत और प्रतिबद्धताओं की प्रशंसा करने के लिए मनाया जाता है।
  • श्रमिकों की कड़ी मेहनत और यांत्रिक इकाइयों और अन्य विवेकपूर्ण क्षेत्रों के वैध संचालन के प्रति समर्पण के लिए श्रम दिवस की प्रशंसा की जाती है।
  • मजदूर दिवस की शुरुआत उन कार्य प्रमुखों को श्रद्धांजलि देने के साथ होती है जिन्होंने श्रमिकों के विशेषाधिकारों के लिए संघर्ष किया है।
  • मजदूर दिवस पर आम जनता और देश को एकजुटता दिखाने के लिए परेड की जाती है।
  • कार्यकर्ताओं के बीच एकजुटता और लड़ाई की भावना को आगे बढ़ाने के लिए वरिष्ठ कार्य अग्रदूतों द्वारा भाषण दिए जाते हैं।
  • अब सरकार ने भी कर्मचारियों को कार्यालय देना शुरू कर दिया है और सरकारी सहायता के काम पूरे कर लिए हैं।
  • श्रमिकों के पास क्लिनिक उनके बच्चों के लिए ट्यूशन, उचित कार्य समय और अवसरों के साथ रहने की व्यवस्था का कार्यालय भी है।
  • सरकार ने भी उनके बेहतर भविष्य के लिए सुरक्षा, धन संबंधी और लाभ प्रशासन देना शुरू कर दिया है।
  • प्रशासन की ओर से अलग-अलग वेतन की तरह ही उनके मुआवजे का विस्तार किया गया है और नियमित परामर्श बैठकें उन्हें दी जाती हैं।
  • एक अलग कार्यालय है जिसे ‘श्रम सेवा’ कहा जाता है जो सभी श्रमिकों से संबंधित है और उनकी शिकायतों का समाधान करता है।

Also Read: आधार कार्ड में फोटो ऑफलाइन कैसे अपडेट करें

FAQ’s मई दिवस 2023 पर भाषण

Q. 1 मई मजदूर दिवस क्यों है?

Ans. सन 1886 में 1 मई को पूरे अमेरिका में विभिन्न श्रमिक संघ हड़ताल पर चले गए थे, वहीं उन्होंने एक दिन में आठ घंटे काम की मांग की थी। वे 12-15 घंटे के बजाय 8 घंटे काम की मांग करते हैं। हेमार्केट हत्याकांड के रूप में जानी जाने वाली पुलिस कार्रवाई में कई लोग मारे गए, जिसके पांच साल बाद 1 मई के दिन मजदूर दिवस मनाने की शुरुआत हुई।

Q. मजदूर दिवस किसने बनाया?

Ans.हैमिल्टन में नौ घंटे के कार्यदिवस के लिए विकास शुरू करने वाले मजदूरों द्वारा प्रेरित, टोरंटो प्रिंटर ने हड़ताल करने के लिए कदम उठाए अगर उनके अनुरोध को पूरा नहीं किया गया। अपने प्रबंधकों द्वारा बार-बार अनदेखी किए जाने के बाद, मजदूरों ने एक मजबूत कदम उठाया और 25 मार्च, 1872 को वे सड़कों पर उतर आए थे।जिसके बाद से मजूदर दिवस मनाने की शुरुआत हुई।

Q. पहला मजदूर दिवस कब था?

Ans.मंगलवार 5 सितंबर,1882 को न्यूयॉर्क में पहला मजदूर दिवस मनाया गया।

Q. मई प्रथम दिवस किन देशों में मनाया जाता है?

Ans.द्वितीय अंतर्राष्ट्रीय के बाद से, मई दिवस विभिन्न साम्यवादी, समाजवादी और विद्रोही गुटों द्वारा प्रदर्शन के लिए अभिसरण का एक बिंदु रहा है। मई दिवस समाजवादी देशों में सबसे महत्वपूर्ण अवसरों में से एक है, जैसे कि चीन, उत्तर कोरिया, क्यूबा और पिछले सोवियत संघ के राष्ट्र।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja