(Wipro) अजीम प्रेमजी का जीवन परिचय | Azim Premji Biography in Hindi, Foundation, Education, Family, Net Worth

By | जनवरी 9, 2023
Azim Premji Biography

Azim Premji Biography in Hindi:- अजीम हाशिम प्रेमजी एक भारतीय बिजनेस टाइकून (Indian Business Tycoon) हैं, जो विप्रो लिमिटेड (Wipro Limited) के अध्यक्ष हैं, जो एक बहुराष्ट्रीय आईटी कंसल्टिंग और सिस्टम इंटीग्रेशन सर्विसेज कंपनी(Multinational IT Consulting and Systems Integration Services Company) है, वर्तमान में जो दुनिया की सबसे बड़ी आईटी सेवा कंपनी(IT Services Company) में से एक है। प्रेमजी, जिन्होंने लगभग आधी सदी पहले कंपनी के head  के रूप में कंपनी का पदभार संभाला था, उन्होंने दशकों के विस्तार और विविधीकरण (diversification ) के माध्यम से Wipro का नेतृत्व किया ताकि,इसे India की सबसे बड़ी सार्वजनिक रूप से business करने वाली कंपनियों में से एक बनाया जा सके । एक सफल व्यवसायी के बेटे के रूप में जन्मे Azim Premji का बचपन संपन्न रहा।

अपनी स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद वह engineering की पढाई करने के लिए Stanford University गए। ऐसी ही अन्य जानकारियों से हमारा ये लेख भरा हुआ है। हम इस लेख में आपको अजीम प्रेमजी की जीवनी प्रस्तुत करेंगे। इस लेख में हमने Azim Premji Biography in Hindi, अजीम प्रेमजी का जीवन परिचय ,Azim Premji wikipedia

Azim Premji Foundation ,अजीम प्रेमजी का प्रारम्भिक जीवन ,अजीम प्रेमजी की शिक्षा ,अजीम प्रेमजी का परिवार ,azim premji religion क्या है ,अजीम प्रेमजी ने Wipro Business की शुरुआत कब की ,अजीम,प्रेमजी की कुल सम्पति | azim premji Net Worth,Wipro Company Turnover ,अजीम प्रेमजी के दान | azim premji donations,सोशल मीडिया लिंक्स के बारे में बताएंगे।

रितेश अग्रवाल का जीवन परिचय (OYO Rooms)

अमन गुप्ता का जीवन परिचय

पीयूष बंसल का जीवन परिचय

Azim Premji Biography in Hindi

टॉपिकअजीम प्रेमजी का जीवन परिचय
लेख प्रकारजीवनी
साल2023
अजीम प्रेम जी जन्म24 जुलाई, 1945 
अजीम प्रेम जी जन्मस्थानमुंबई
विप्रो की स्थापना1945 
विप्रो के फाउंडरमुहम्मद हाशिम प्रेमजी
अजीम प्रेम फाउंडेशन स्थापना9th मार्च 2001
अजीम प्रेम मूल रुप से कहां के रहने वाले हैकच्छ (गुजरात)

अजीम प्रेमजी का प्रारम्भिक जीवन | Azim Premji Biography in Hindi

Azim Hashim Premji, विप्रो लिमिटेड के संस्थापक, अध्यक्ष, एक Indian Business Tycoon, निवेशक, इंजीनियर और परोपकारी हैं। उन्हें भारतीय IT industry के किंग के रूप में भी जाना जाता है। चार दशकों तक Azim Premjiके मार्गदर्शन में, Wipro software industry में वैश्विक लीडर्स में से एक है। Azim Hashim Premji का जन्म 24 जुलाई, 1945 को Mumbai (तब बॉम्बे) में एक मुस्लिम परिवार में हुआ था। उनके पिता मोहम्मद हाशिम प्रेमजी(Mohammad Hashim Premji) को बर्मा के चावल के राजा(King of Rice of Burma) के रूप में जाना जाता था। Pakistan के संस्थापक मुहम्मद अली जिन्ना ( Founder Muhammad Ali Jinnah) ने प्रेमजी के पिता को पाकिस्तान में रहने के लिए आमंत्रित भी किया था, जिसे अस्वीकार कर भारत में रहने का फैसला किया गया।

साल 1945 में, अजीम प्रेमजी के पिता, मुहम्मद हाशिम प्रेमजी ने Maharashtra के अमलनेर में वेस्टर्न इंडियन वेजीटेबल प्रोडक्ट्स लिमिटेड (Western Indian Vegetable Products Limited) की स्थापना की। कंपनी ने सूरजमुखी वनस्पति (खाना पकाने का तेल (Sunflower vegetation oil)) और एक कपड़े धोने के साबुन 787 (खाना पकाने के तेल का एक उपोत्पाद) का निर्माण किया।  अजीम प्रेमजी स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी, अमेरिका(Stanford University, USA) से Electrical Engineering में ग्रेजुएट हैं। प्रेमजी ने यासमीन से शादी की और दंपति के दो बेटे रिशद प्रेमजी और तारिक प्रेमजी हैं। वर्तमान में, बड़े बेटे रिशद Wipro Limited के अध्यक्ष हैं। 

READ  मिताली राज का जीवन परिचय, संघर्ष कहानी, कैसे हुई क्रिकेट की शुरुआत

Azim Premji Wikipedia

पूरा नाम अजीम हाशिम प्रेमजी
जन्म24 जुलाई 1945 
जन्मस्थानमुंबई 
पिता नाममुहम्मद हाशिम प्रेमजी
शिक्षा सेंट मैरी स्कूल, सेंट जेवियर्स कॉलेज, मुंबई, स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय
राष्ट्रीयता भारतीय
पत्नी यासमीन प्रेमजी
बच्चेरिशद और तारिक
नेट वर्थ 620 करोड़ अमरीकी डालर
राशिसिंह
धर्मइस्लाम
जातिशिया
उपनाम बिल गेट्स ऑफ़ इंडिया
पुरस्कार पद्म भूषण, सीएनएन-आईबीएन इंडियन ऑफ द ईयर आउटस्टैंडिंगउपलब्धि, आईईटी फैराडे पदक

अजीम प्रेमजी की शिक्षा | Education of Azim Premji

स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद अजीम प्रेमजी Stanford University से engineering की पढ़ाई करने के लिए अमेरिका चले गए। हालांकि, 1966 में graduate होने से कुछ समय पहले उनके पिता की अकास्मित रूप से मृत्यु हो गई और उन्हें व्यवसाय का नियंत्रण लेने के लिए घर लौटना पड़ा (बता दें कि अपनी छोड़ी हुई engineering की पढ़ाई उन्होंने साल 2000 में पूरी कर ली थी) इसके बाद 21 साल की उम्र में ही Azim Premji ने 1966 में अपने पिता के व्यवसाय को संभाला । उस समय कंपनी मुख्य रूप से Hydrogenated oil manufacturing में काम करती थी।

नियंत्रण संभालने के तुरंत बाद, प्रेमजी ने diversification के अवसरों की तलाश शुरू कर दी और परिष्कृत तेलों से परे व्यवसाय का विस्तार करने का प्रयास किया। जल्द ही कंपनी ने अपने पोर्टफोलियो में बेकरी वसा, प्रसाधन सामग्री, प्रकाश बल्ब, बाल देखभाल उत्पाद और हाइड्रोलिक सिलेंडर शामिल करने के लिए विविधता लाई। चूंकि कंपनी अब केवल सब्जी उत्पादों के साथ काम नहीं करती थी, प्रेमजी ने 1977 में इसका नाम बदलकर “Wipro” कर दिया। 

Azim Premji Education

1979 में, भारत सरकार ने कंप्यूटर फर्म IBM को देश से निष्कासित कर दिया। प्रेमजी ने इसे उभरते कंप्यूटर Hardware and Software Market  में दोहन करने के लिए एक शानदार अवसर के रूप में देखा और Wipro को Computer Business में transferred करना शुरू कर दिया।1980 के दशक में कंपनी ने कंप्यूटर क्षेत्र में कई अन्य व्यवसायों के साथ सहयोग किया, जिसमें एक अमेरिकी कंपनी सेंटिनल कंप्यूटर कॉर्पोरेशन भी शामिल थी, साझेदारी बनाने के लिए और विप्रो को कंप्यूटर हार्डवेयर के सफल निर्माता के रूप में तैनात किया। आखिरकार कंपनी ने सॉफ्टवेयर बाजार में भी प्रवेश किया।गुणवत्ता के उच्चतम मानकों को प्राप्त करने की खोज से प्रेरित, प्रेमजी ने यह सुनिश्चित किया कि उनकी कंपनी ने सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में सर्वश्रेष्ठ लोगों को काम पर रखा जाए और उन्हें अपने कौशल को और बेहतर बनाने के लिए विश्व स्तरीय Training दी जाए।

इससे Wipro को अमेरिकी कंपनियों की तुलना में काफी कम लागत पर उच्च गुणवत्ता वाले Software विकसित करने में मदद मिलेगी, जिससे विप्रो को सफलतापूर्वक अमेरिका में कस्टम सॉफ्टवेयर निर्यात करने में मदद मिली। जिसके बाद कंपनी को अपार सफलता मिली और विप्रो का मूल्य 1990 के दशक के अंत तक ऊंचाइयों पर पहुंच गया। कंपनी की बढ़ती संपत्ति ने Premji को दुनिया के सबसे अमीर व्यवसायियों में से एक बना दिया। ‘बिजनेस वीक’ ने Wipro को दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती कंपनियों में से एक बनाने के लिए सबसे महान उद्यमियों में से एक होने के लिए उनकी Azim Premji  की सराहना की।

अजीम प्रेमजी का परिवार

Azim Premji  का जन्म 24 जुलाई 1945 को Mumbai में हुआ था। वह एक गुजराती मुस्लिम (Gujarati Muslim) हैं और उनका परिवार मूल रूप से कच्छ का रहने वाला है। उनके पिता Mohammed Hashem Premji अपने समय में एक प्रसिद्ध व्यापारी थे और उन्हें ‘बर्मा के चावल राजा’ के रूप में भी जाना जाता था। जब India का विभाजन हुआ था, तो पाकिस्तान के संस्थापक मुहम्मद अली जिन्ना ने प्रेमजी के पिता को वहां रहने के लिए आमंत्रित किया था। हालांकि, मोहम्मद प्रेमजी ने इस अनुरोध को अस्वीकार कर दिया था।अजीम प्रेमजी की शादी यास्मीन प्रेमजी(Yasmeen Premji) से हुई है और उनके दो बेटे हैं – तारिक और रिशद। रिशद वर्तमान में विप्रो की आईटी व्यावसायिक गतिविधियों के लिए मुख्य रणनीति अधिकारी(Chief Strategy Officer) के रूप में काम कर रहे हैं।

READ  नमिता थापर का जीवन परिचय | Namita Thapar Biography in Hindi

azim premji religion क्या है 

Azim Premji का जन्म 24 जुलाई, 1945 को Bombay(अब मुंबई), भारत में एक निजारी इस्माइली शिया मुस्लिम परिवार में हुआ था।वह एक Gujarati Muslim हैं और उनका परिवार मूल रूप से Kachchका रहने वाला है। उनके पिता मोहम्मद हाशम प्रेमजी अपने समय में एक प्रसिद्ध व्यापारी थे और उन्हें ‘बर्मा के चावल राजा’ के रूप में भी जाना जाता था

अजीम प्रेमजी ने Wipro Business की शुरुआत कब की 

Wipro Limited की स्थापना वर्ष 1945 में कर्नाटक में Muhammad Hashim Premji द्वारा की गई थी, जो कंपनी के प्रमोटर और अध्यक्ष हैं। कंपनी ने एक खाद्य तेल उत्पादक(edible oil producers) के रूप में शुरुआत की और फिर खुद को फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स एंड आईटी सर्विसेज एंड प्रोडक्ट्स बिजनेस में अग्रणी खिलाड़ी में बदल दिया। वर्ष 1994-95 के दौरान कंपनी ने अपनी पांच विनिर्माण और विकास सुविधाओं के लिए आईएसओ 9001 प्रमाणन(ISO 9001 certification) हासिल किया।फरवरी 2001 में कंपनी बैंगलोर में तीन प्रमुख सॉफ्टवेयर विकास और प्रौद्योगिकी केंद्रों में पर्यावरण प्रबंधन प्रणाली (Environmental Management Systems) के लिए अंतर्राष्ट्रीय मानकों का अनुपालन करने के लिए आईएसओ: 14001 प्रमाणन(ISO: 14001 Certification) के लिए प्रमाणित होने वाली भारत की पहली सॉफ्टवेयर प्रौद्योगिकी और सेवा कंपनी बन गई।

अजीम प्रेमजी की कुल सम्पति | Azim Premji Net Worth

Azim Premji भारत के सबसे धनी लोगों में से एक हैं, जो शायद, अपने धन और व्यावसायिक कौशल के बजाय अपने परोपकार के लिए जाने जाते हैं। जुलाई 2022 तक, Forbes ने बताया कि प्रेमजी की कुल संपत्ति $ 8.6 बिलियन थी। जो साल 2023 की शुरुआत में बढ़कर  $ 9.1 बिलियन  बताई जा रही है।वह अपनी संपत्ति विप्रो लिमिटेड (डब्ल्यूआईटी) के ownership से प्राप्त करते हैं, जो एक सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) कंपनी है जो आईटी सेवाओं के भारत के चौथे सबसे बड़े आउटसोर्सर के रूप में रैंक करती है।अजीम प्रेमजी को उनके परोपकार के लिए याद किया जाएगा। वह पहले ही गिविंग प्लेज(Giving Pledge) के हिस्से के रूप में अपनी संपत्ति का 21 बिलियन डॉलर दे चुके हैं, जो दुनिया के सबसे धनी व्यक्तियों द्वारा धर्मार्थ कार्यों के लिए अपनी संपत्ति का अधिकांश हिस्सा दान करने की प्रतिबद्धता है। प्रेमजी यह प्रतिज्ञा लेने वाले पहले भारतीय थे।

Wipro Company Turnover 

Wipro Limited  का fiscal year 2022 में 795 अरब भारतीय रुपये से अधिक का Renue था। वित्त वर्ष 2015 से राजस्व में लगातार वृद्धि हुई थी। 98 प्रतिशत से अधिक Revenue मौजूदा ग्राहकों से उत्पन्न हुआ था। डिजिटल और साइबर सुरक्षा(Digital and Cyber Security ) के क्षेत्रों से राजस्व साल-दर-साल तुलना में बड़े पैमाने पर बढ़ा।वहीं साल 2021 में कंपनी का  622.4 अरब भारतीय रुपये से अधिक था।

READ  Chanakya Niti | चाणक्य नीति चाणक्य नीति की 10 बातें | सुविचार, अनमोल वचन, कोट्स

Azim Premji Foundation

अजीम प्रेमजी फाउंडेशन एक Non Profit organization न है, जो साल 2000 से ग्रामीण सरकारी स्कूलों में primary education system के साथ काम कर रहा है। Foundation ने देश भर में educational quality में सुधार के लिए अगल अगल कार्यक्रमों को लागू किया है। लेकिन साल 2010 तक यह स्पष्ट हो गया था कि “परियोजना” मोड पर काम करना काफी नहीं होगा और किसी भी गहरे बदलाव के लिए कई दशकों तक लगातार प्रयास करना ही पड़ता है।जो यह केवल “संस्थानों” की स्थापना करने पर ही प्राप्त किया जा सकता है। जो स्थानीय संदर्भ में निहित हैं और local government structures के साथ सहयोग कर सकते हैं। इस प्रकार क्षेत्रीय स्थानों में जिला संस्थान स्थापित करने का विचार आया।

जिसके बाद फाउंडेशन ने बाड़मेर, बेंगलुरु, धमतरी, कलबुर्गी, सिरोही, टोंक, उत्तरकाशी और उधम सिंह नगर और यादगीर में प्रदर्शन स्कूल भी स्थापित किए हैं, ताकि स्थानीय समुदाय को Quality free education प्रदान की जा सके।आज, 1700+ कर्मचारियों के साथ फाउंडेशन 6 राज्यों और 1 केंद्र शासित प्रदेश तक पहुंच चुकि है (कर्नाटक, राजस्थान, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, तेलंगाना और पुडुचेरी) वहीं 48 से ज्यादा जिलों में फील्ड संस्थान हैं।

अजीम प्रेमजी के दान | Azim Premji Donations

  •  साल 2022 में Azim Prem ji ने 484 करोड़ रुपए का वार्षिक दान किया है
  • Software exporter Wipro के अजीम प्रेमजी ने Fiscal Year 2021 में भारतीय परोपकारियों में अपना शीर्ष स्थान बनाए रखने के लिए 9,713 करोड़ रुपये यानि की दिन का 27 करोड़ रुपये का दान दिया।
  • Coronavirus की इस महामारी के बीच भारत भी इससे प्रभावित हुआ है और इसके प्रकोप ने सभी के दैनिक जीवन में तबाही मच दी। हालांकि, ध्यान रखने के लिए बहुत सी चीजें हैं जैसे कि सही चिकित्सा उपकरण, सुविधाएं, डॉक्टर, अस्पताल, जागरूकता और यह सुनिश्चित करना कि वंचित किसी भी कीमत पर उपेक्षित न हों। 
  • Azim Premji ने इससे पहले वर्ष 2019 में विप्रो के 34% शेयरों का स्वामित्व अजीम प्रेमजी ट्रस्ट(Azim Premji Trust) और अजीम प्रेमजी फिलैनथ्रॉपिस्ट इनिशिएटिव्स(Azim Premji Philanthropist Initiatives) को दान कर दिया था। इसकी लागत 52,750 करोड़ रुपये थी और अगर डॉलर में गणना की जाए तो यह 7.5 अरब डॉलर थी।

सोशल मीडिया लिंक्स | Azim Premji Social Media Links

Social Media PlatformsLinks
FacebookClick Here
LinkedInClick Here
InstagramClick Here
TwitterClick Here

FAQ’s Azim Premji Biography in Hindi

Q. अजीम प्रेम जी का जन्म कब और कहा हुआ ?

Ans. अजीम प्रेम जी का जन्म 24 जुलाई 1945 में मुंबई में हुआ था।

Q. अजीम प्रेम जी के पिता का नाम क्या था और वह किस नाम से फेमस थे ?

Ans. अजीम प्रेम जी के पिता का मोहम्मद हाशिम प्रेमजी और उन्हें  बर्मा के चावल के राजा के रुप में जाना जाता था।

Q. अजीम प्रेम जी ने क्या पढ़ाई की है ?

Ans. अजीम प्रेम जी ने स्कूली पढ़ाई मुंबई में की थी , वहीं वह स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे थे, जिससे उन्हे बीच में ही छोड़ना पड़ा।

Q. अजीम प्रेम जी ने स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग की पढ़ाई बीच में ही क्यो छोड़ दी ?

Ans. अजीम प्रेम जी के पिता की अचानकर मृत्यु होने के कारण उन्हें स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग की पढ़ाई बीच में ही छोड़नी पड़ी।

Q. अजीम प्रेम जी की पत्नी का नाम क्या है ?

Ans. अजीम प्रेमजी की शादी यासमीन प्रेम जी के साथ हो गई थी।

Q. अजीम प्रेम जी के कितने बच्चे है और उनके नाम क्या है?

Ans. अजीम प्रेम जी के दो बच्चे है दोनों ही लड़के है, बेटों का नाम तारिक और रिशद है, राशिद वर्तमान में विप्रो की आईटी व्यावसायिक गतिविधियों के लिए मुख्य रणनीति अधिकारी(Chief Strategy Officer) के रूप में काम कर रहे हैं।

Q. अजीम प्रेम जी ने साल 2022 में कितने रुपए का दान किया है ?

Ans. साल 2022 में अजीम प्रेम जी ने 484 करोड़ रुपए का वार्षिक दान किया है।

Q. अजीम प्रेम जी ने साल 2021 में कितना दान किया ?

Ans. अजीम प्रेम जी ने साल 2021 में  9,713 करोड़ रुपये यानि की दिन का 27 करोड़ रुपये का दान दिया।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *