डॉ.वर्गीज कुरियन का जीवन परिचय | Dr. Verghese Kurien Biography in Hindi | जानें (प्रारंभिक जीवन, शिक्षा, परिवार, इतिहास व मृत्यु)

By | November 25, 2023
Follow Us: Google News

Dr. Verghese Kurien Biography in Hindi: वर्गीज कुरियन को श्वेत क्रांति का जनक कहा जाता है। भारत में जिस समय दूध की कमी थी उस समय उन्होंने भारत में दूध के उत्पादन को बढ़ाने में उनकी भूमिका अहम थी। उन्होंने भारत में दूध उत्पादन को बढ़ाने के लिए ‘ऑपरेशन फ्लड का संचालन किया था। आज भारत दुनिया में दूध उत्पादन के क्षेत्र में पहले नंबर पर हैं। पूरी दुनिया में दूध उत्पादन में भारत की भागीदारी 24 फ़ीसदी हैं। भारत यदि दुनिया में दूध उत्पादन के क्षेत्र में आगे बढ़ पाया है उसके पीछे वर्गीज कुरियन का हाथ हैं।

अमूल कंपनी (Amul) की स्थापना करने में वर्गीज कुरियन की भूमिका काफी महत्वपूर्ण हैं। डॉ कुरियन को रेमन मैगसेसे, पद्मश्री, पद्म भूषण और पद्म विभूषण जैसे पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है।  ऐसे में हर एक भारतीयों के मन में डॉक्टर वर्गीज कुरियन के निजी जीवन के बारे में जानने उत्सुकता तेजी के साथ बढ़ रही है कि कौन थे डॉ वर्गीज कुरियन? | Who Was Verghese Kurien। उनके प्रारंभिक जीवन परिवार शिक्षा ‘Verghese Kurien Death इत्यादि के बारे में अगर आप नहीं जानते हैं तो आज के आर्टिकल में हम आपको Verghese Kurien Jeevan Parichay के बारे में आपको विस्तार पूर्व जानकारी प्रदान करेंगे आर्टिकल पर बने रहिएगा:-

Dr. Verghese Kurien Biography in Hindi- Overview

पूरा नामडॉ. वर्गीज कुरियन
जन्म स्थान (Birthplace)Kozhikode, Kerala, India
जन्म तारीख ( Birthday)Indian
मृत्यु तिथि (Died)9 September, 2012
मृत्यु का स्थान( Place of Death)Nadiad, Gujarat, India
मृत्यु कितनी उम्र में हुई( Death years)90 years
(Education) शिक्षाUniversity of Madras; Michigan State University
व्यवसाय (Profession)Social Entrepreneur
कौन-कौन से कंपनी स्थापित( Foundation company)Amul, National Dairy Development Board (NDDB), Institute of Rural Management, Anand (IRMA)
Secured Position ( कौन-कौन से पद पर थे)General Manager & later Chairman of NDDB and IRMA
Famous known as (किस रूप में प्रसिद्ध है)Milkman of India; Father of the White Revolution of India
Spouse (पत्नी का नाम)Molly Kurien
Daughter (बेटी) Nirmala

डॉ वर्गीज कुरियन कौन थे | Who Was Verghese Kurien

Verghese Kurien Kon The: वर्गीज़ कुरियन 1965 से 1998 तक राष्‍ट्रीय डेरी विकास बोर्ड के संस्‍थापक अध्‍यक्ष थे । उन्हें भारत का श्वेत क्रांति जनक कहा जाता है। उनके द्वारा भारत में दूध उत्पादन में वृद्धि कीगई थी,  जिसके फलस्वरुप भारत दुनिया का अधिक दूध उत्पादन करने वाला देश बन गया था। डॉ वर्गीज कुरिन भारत क श्वेत क्रांति का जनक भी कहा जाता है। उन्होंने जिस प्रकार भारत में दूध के उत्पादन में  वृद्धि लाने का काम ड वर्गीज कुरियन के द्वारा किया गया था, जिसके कारण 1970 के दशक में भारत में रहने वाले सभी लोगों को प्राप्त मात्रा में दूध की प्राप्ति हुई। क्योंकि उसे समय दूध का उत्पादन काफी कम और जनसंख्या अधिक थी उसे समस्या का निवारण डॉ वर्गीज कुरियन के द्वारा ही संभव हो पाया था।

See also  भारत की महिला (इसरो वैज्ञानिक) नंदिनी हरिनाथ का जीवन परिचय | Chandrayaan-3 Nandini Harinath Biography in Hindi (Education, Family, Awards Career, Salary)

डॉ वर्गीज कुरियन का प्रारंभिक जीवन | | Verghese Kurien Early Life

मिल्क मैन ऑफ इंडिया’ के नाम से मशहूर डॉ. कुरियन का जन्म केरल के कोझिकोड में हुआ था। उनके पिता सिविल सर्जन थे। बचपन से ही उनका रुख इंजीनियरिंग के क्षेत्र में ज्यादा था। उन्होंने अपने बाल अवस्था में देखा था कि’  भारत में दूध की कितनी कमी हैं। इसलिए उन्होंने बचपन में ही तय कर लिया था कि’ वह बड़े होकर Dairy क्षेत्र में में कई प्रकार के नए अन्वेषण और खोज करेंगे, ताकि भारत में दूध के उत्पादन को बढ़ाया जा सकें |

इन्हे भी पढ़ें:- राष्ट्रीय दुग्ध दिवस कब व क्यों मनाया जाता है, जाने महत्व थीम और इतिहास

डॉ वर्गीज कुरियन का परिवार | Dr. Verghese Kurien Family

पिताडॉ. पीके कुरियन
माताअज्ञात है
भाई बहन का नामअज्ञात है
पत्नी का नामMolly Kurien
बच्चों का नामNirmala

डॉ वर्गीज कुरियन की शिक्षा | Dr. Verghese Kurien Education

Dr. Verghese Kurien Education

उन्होंने अपने प्रारंभिक शिक्षा अपने गांव के स्कूल से पूरी की। उसके बाद  चेन्नई के लोयला कॉलेज से 1940 में विज्ञान में स्नातक किया और चेन्नई के ही जीसी इंजीनियरिंग कॉलेज से इंजीनियरिंग डिग्री उन्होंने प्राप्त की और कुछ समय तक उन्होंने जमशेदपुर स्थित टिस्को में काम किया। बाद में उन्होंने डेयरी इंजीनियरिंग में  पढ़ाई करने के लिए इंडियन गवर्नमेंट के द्वारा  छात्रवृत्ति दी गई जिसके फल स्वरुप इंपीरियल इंस्टीट्यूट ऑफ एनिमल हजबेंड्री एंड डेयरिंग में उन्होंने अपना प्रशिक्षण पूरा किया।  इसके बाद मिशीगन स्टेट यूनिवर्सिटी से 1948 में मैकेनिकल इंजीनियरिंग डिग्री प्राप्त किया जिसमें डेयरी इंजीनियरिंग  सब्जेक्ट के रूप में शामिल था।

इन्हे भी पढ़ें:- कार्तिक पूर्णिमा कब व क्यों मनाई जाती है, जाने पूजन विधि, शुभ मुहूर्त

डॉ वर्गीज कुरियन से जुड़ा इतिहास | Dr. Verghese Kurien History

डॉक्टर वर्गीज कुरियन का जन्म 26 नवंबर 1921 केरल के कोझीकोड में एक अमीर इसी परिवार में हुआ था। उनके घर की आर्थिक स्थिति काफी अच्छी थी। इसलिए उनका बचपन काफी अच्छी तरह से व्यतीत हुआ।  लेकिन उन्होंने इस बात को महसूस किया कि भारत में दूध उत्पादन की भारी कमी हैं। इसके पीछे के वजह है’ कि दूध के क्षेत्र में नए-नए अन्वेषण और तकनीक की कमी। जिसके बाद उन्होंने फैसला किया कि’ वह बड़े होकर Dairy के क्षेत्र में ऐसी तकनीक विकसित करेंगे, जिससे भारत में दूध के उत्पादन में वृद्धि हो सकें इसके लिए Dairy के क्षेत्र में इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त करने के बाद उन्होंने भारत में ऑपरेशन फ्लड  योजना का शुभारंभ किया। जिसके चलते भारत के दूध उत्पादन में बेहतर वृद्धि देखी गई। सन 1998 में भारत ने अमेरिका को पछाड़कर दुनिया में अधिक दूध उत्पादन करने की सूची में पहला नंबर प्राप्त किया। जो हर एक भारतीयों के लिए गौरव का दिन था।

See also  निर्मला सीतारमण का जीवन परिचय | Nirmala Sitharaman Biography in Hindi

जिसके कारण भारत में उनकी पहचान श्वेत क्रांति के जनक के रूप में हुई उन्होंने लगभग 30 संस्थाओं कि स्थापना की, जिसमें AMUL, GCMMF, IRMA, NDDB जैसे संस्था शामिल हैं। 1965 में  डॉक्टर वर्गीज कुरियन को लाल बहादुर शास्त्री के द्वारा राष्ट्रीय दूध विकास बोर्ड का अध्यक्ष भी बनाया गया था।

डॉ. वर्गीज कुरियन को क्या कहा जाता है?

मिल्कमैन ऑफ इंडिया’ के नाम से जाना जाता है? भारत आज दुनिया का अधिक दूध उत्पादन करने वाला देश बन पाया है तो उसके पीछे डॉक्टर वर्गीज कुरियन का सबसे बड़ा योगदान हैं। भारत में 1970 के दशक में दूध उत्पादन में भारी कमी थी। देश की जनसंख्या के अनुरोध दूध उत्पादन नहीं होने की वजह से देश में दूध की भारी कमी थी।  इसको ध्यान में रखते हुए भारत में डॉक्टर वर्गीज कोरियन के द्वारा ऑपरेशन फ्लड की शुरुआत की गई, ताकि दूध का उत्पादन बढ़ाया जा सकें। उनके द्वारा विकसित इस योजना के कारण भारत में दूध का उत्पादन देखते देखते भारत दुनिया का अधिक दूध उत्पादन करने वाला शीर्ष देश बन गया। आपको जानकर काफी हैरानी होगी कि’ दूध की नदियां बहने वाला व्यक्ति डॉक्टर वर्गीज कोरियन दूध नहीं पीते थे। जिसका खुलासा उन्होंने स्वयं एक इंटरव्यू के दौरान किया था।

डॉ. वर्गीज कुरियन की मृत्यु | Dr. Verghese Kurien Death

पद्म विभूषण, पद्मश्री और पद्म भूषण ‘रेमन मैग्सेसे पुरस्कार अमेरिका के अंतर्राष्ट्रीय व्यक्ति का वर्ष का  पुरस्कार से सम्मानित डॉ वर्गीज कुरियन की मृत्यु 2012 में हो गई थी। उनकी याद में ही भारत में मिल्क-डे 26 नवंबर को मनाया जाता हैं।

डॉ. वर्गीस कुरियन के बारे में अज्ञात तथ्य (Unknown Facts of Verghese Kurien)

  • वर्गीज कुरियन का जन्म 26 नवंबर, 1921 को कालीकट में एक सीरियाई ईसाई परिवार में हुआ था।
  • वर्गीज कुरियन ने भौतिकी में स्नातक की उपाधि प्राप्त की और आगे मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की उपाधि प्राप्त की। फिर, वह मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग में मास्टर करने के लिए मिशिगन चले गए थे
  • कुरियन ने गुजरात में भारत सरकार की प्रायोगिक क्रीमरी के लिए काम किया। उन्होंने आनंद में काम किया जहां उन्होंने अपने अधिकांश प्रयोग किये
  • वर्गीस कुरियन ने भारत में सबसे बड़ी दूध उत्पादक कंपनियों में से एक अमूल की स्थापना की। कुरियन अमूल के अध्यक्ष और संस्थापक थे
  • कुरियन के मित्र एच. एम. दलाया ने भैंस के दूध से दूध पाउडर और गाढ़ा दूध बनाने की प्रक्रिया का आविष्कार किया
  • कुरियन के नेतृत्व में कई कंपनियां शुरू हुईं
  • पूर्व प्रधान मंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने अमूल के कार्य मॉडल और पैटर्न के आधार पर राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड (एनडीडीबी) बनाया।
  • वर्गीस कुरियन ने एनडीडीबी के अध्यक्ष के रूप में पदभार संभाला |
  • एनडीडीबी ने 1970 में ऑपरेशन फ्लड लॉन्च किया जिसे दुनिया के सबसे बड़े डेयरी विकास कार्यक्रम के रूप में जाना जाता था |
  • श्याम बेनेगल ने मंथन नामक एक फिल्म बनाई जो भारत में दूध आंदोलन और इसके पीछे के व्यक्ति वर्गीस कुरियन पर आधारित थी।
  • 1963 में कुरियन को रेमन मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित किया गया
  • 1965 में, वर्गीज़ कुरियन को भारत सरकार द्वारा पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया था,
  • 1966 में, उन्हें पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।
  • 1986 में कुरियन को कृषि रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया
  • 1989 में संयुक्त राज्य अमेरिका के विश्व खाद्य पुरस्कार ने उन्हें विश्व खाद्य पुरस्कार से सम्मानित किया
  • 1991 में, मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी के कुरियन को विशिष्ट पूर्व छात्र पुरस्कार दिया गया था
  • 1993 में वर्ल्ड डेयरी एक्सपो ने उन्हें इंटरनेशनल पर्सन ऑफ द ईयर अवॉर्ड से सम्मानित किया
  • बाद में, 1999 में कुरियन को भारत सरकार द्वारा पद्म विभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया
  • 9 सितंबर को, वर्गीस कुरियन का 90 वर्ष की आयु में गुजरात में देहांत हो गया था।
See also  हजरत अली का जन्मदिन 2023 | Hazrat Ali Birthday

निष्कर्ष (Conclusion)

उम्मीद करता हूं कि हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल आपको पसंद आया होगा आर्टिकल संबंधित आपका कोई भी सुझाव या प्रश्न है तो आप हमारे कमेंट सेक्शन में जाकर पूछ सकते हैं। उसका उत्तर हम आपको जरूर देंगे तब तक के लिए धन्यवाद और मिलते हैं अगले आर्टिकल में..!!

FAQ’s: Verghese Kurien Biography in Hindi

Q. भारत में श्वेत क्रांति के जनक कौन हैं?

Ans. डॉ. वर्गीस कुरियन भारत में श्वेत क्रांति के जनक हैं। उन्होंने भारत में डेयरी क्षेत्र को मजबूत करने के लिए ऑपरेशन फ्लड  शुरू किया था जिसके कारण भारत के दूध उत्पादन में वृद्धि हुई थी।

Q.डॉ. वर्गीस कुरियन द्वारा शुरू किए गए भारतीय ब्रांड का नाम बताइए?

Ans. डॉ. वर्गीस कुरियन ने 14 दिसंबर 1946 को अमूल की शुरुआत की थी। शुरुआत में इसकी शुरुआत दो सहकारी डेयरी समितियों और केवल 247 लीटर दूध से हुई थी।

Q. .डॉ. वर्गीस कुरियन की मृत्यु कितने साल की उम्र में हुई?

Ans. .डॉ. वर्गीस कुरियन की मृत्यु 90 साल की उम्र में हुई था।

Q. .डॉ. वर्गीस कुरियन के जीवन पर आधारित फिल्म का क्या नाम है?

Ans. मशहूर निर्माता निर्देशक बेनेगल.के द्वारा के उनके जीवन पर आधारित फिल्म मंथन बनाई गई थी जो बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट साबित हुई थी।

Q.श्वेत क्रांति का जनक भारत में किसे कहा जाता है?

Ans. श्वेत क्रांति का जनक भारत में वर्गीस कुरियन को कहा जाता हैं।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *