संविधान दिवस पर निबंध हिंदी में | Essay on Constitution Day in Hindi

By | नवम्बर 5, 2022
Samvidhan Diwas Par Nibandh

संविधान दिवस पर निबंध:- 26 नवंबर को भारत में संविधान दिवस मनाया जाता है, क्योंकि इसी दिन भारतीय संविधान का निर्माण किया गया था I लेकिन भारतीय संविधान को 26 जनवरी 1950 को ही देश में लागू किया गया था I जैसा कि आप लोग जानते हैं कि जब  15 अगस्त 1947 को देश आजाद हुआ तो देश के सामने सबसे बड़ी समस्या थी कि देश का संचालन कैसे किया जाए और कैसे देश में कानून व्यवस्था स्थापित की जाए I इसके लिए देश में संविधान बनाने की मांग उठी और उस समय के सभी नेताओं ने इस मांग को समझते हुए संविधान सभा का गठन किया इसके बाद भी भारतीय संविधान का निर्माण हुआ I

ऐसे में अगर आप पर संविधान दिवस पर एक निबंध लिखना चाहते हैं, लेकिन आपको समझ में नहीं आ रहा है कि आप संविधान दिवस पर एक बेहतरीन निबंध कैसे लिखेंगे तो हम आपसे निवेदन करेंगे कि हमारे साथ आर्टिकल पर बने रहें चलिए शुरू करते हैं-

संविधान दिवस पर निबंध | Essay on Constitution Day in Hindi

आर्टिकल का प्रकारनिबंध
आर्टिकल का नामसंविधान दिवस
साल2022
कब मनाया जाएगा26 नवंबर 2022
बनाने की घोषणा कब की गई15 अक्टूबर 2018 को
संविधान दिवस क्यों मनाया जाता हैभारत का संविधान बनकर तैयार हुआ था

Samvidhan Diwas Par Nibandh in Hindi

भारतीय संविधान का इतिहास:- भारतीय संविधान दिवस के इतिहास के बारे में चर्चा करें तो हम आपको बता दें कि पहली बार संविधान दिवस 2015 मनाया गया था और इस बात की घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा किया गया था I तभी से 26 नवंबर भारत में संविधान दिवस के रूप में मनाया जाने लगा I भारत के संविधान को बनाने में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की महत्वपूर्ण भूमिका थी I उनके द्वारा ही संविधान को निर्मित किया गया था यही कारण है कि उन्हें भारतीय संविधान का जनक कहा जाता है I

संविधान दिवस का महत्व | राष्ट्रिय संविधान दिवस पर निबंध

संविधान सभा द्वारा भारतीय संविधान को अपनाने के उपलक्ष्य में संविधान दिवस मनाया जाता है। संविधान प्रत्येक भारतीय के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसके द्वारा हमें अनेकों प्रकार के मौलिक अधिकार मिले हैं और उन अधिकार के माध्यम से आप अपनी बात आसानी से दूसरे व्यक्ति के सामने रख सकते हैं और देश के विकास में आपको किस प्रकार की भूमिका निभाना है उसकी भी कार्य संरचना संविधान में वर्णित है I

READ   जन समर्थ पोर्टल पर लोन के लिए कैसे आवेदन करें | Jansamrth Portal पर रजिस्ट्रेशन कैसे करें | @jansamarth.in

इसके अलावा संविधान दिवस मनाकर, लोगों और बच्चों को न केवल संविधान के महत्व का एहसास होता है, कि आप इसके माध्यम से डॉक्टर भीमराव अंबेडकर को भी याद करते हैं जिन्होंने संविधान का निर्माण किया था अगर हम आसान शब्दों में कहे तो देश की आत्मा संविधान हैं और संविधान के माध्यम से ही देश का संचालन हो रहा है इसलिए संविधान का हमारे जीवन में विशेष महत्व है I

संविधान दिवस क्यों मनाया जाता है?

26 नवंबर, 1949 को, संविधान सभा ने आधिकारिक रूप से भारत के संविधान को अपनाया था। इस मसौदा समिति के अध्यक्ष श्री बी. आर. अम्बेडकर द्वारा 25 नवंबर 1949 इसे डॉ राजेंद्र प्रसाद के सामने प्रस्तुत किया उसके बाद ही संविधान को आधिकारिक तौर पर मान्यता मिली और फिर इसे 26 जनवरी 1950 को भारत में लागू किया गया इसलिए 26 नवंबर को भारत में संविधान दिवस मनाया जाता है I

भारत का संविधान दिवस – पृष्ठभूमि

भारत में संविधान दिवस मनाने का विचार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन में आया उन्होंने इस बात की घोषणा डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के 125 वें जन्मदिन के जयंती पर किया क्योंकि डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ही संविधान के निर्माता थे I इसके लिए अक्टूबर महीने में अंबेडकर स्मारक के लिए पत्थर दिखाने का काम मुंबई में शुरू किया गया और उस काम के पूरा होते हुए प्रधानमंत्री ने घोषणा की कि भारत में अब से 26 नवंबर को संविधान दिवस मनाया जाएगा I इसके लिए सरकार ने एक आधिकारिक राज्य पत्र भी जारी किया जो इस बात की पुष्टि करता है कि या दिवस भारत सरकार के द्वारा मान्यता प्राप्त है और इसे 26 नवंबर को ही मनाया जाएगा I

पहला राष्ट्रीय संविधान दिवस समारोह

पहला राष्ट्रीय संविधान दिवस 2015 में मनाया गया था इस दिन सभी सरकारी कार्यालय और स्कूलों में विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किए गए थे I विशेष तौर पर स्कूलों में सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से छोटे बच्चों को संविधान के महत्व और उसके समाहित चीजों के बारे में जानकारी दी गई I ताकि बच्चों को भी मालूम चल सके कि भारतीय संविधान का महत्व क्या है और भारतीय संविधान किस प्रकार भारत के उन्नति के लिए महत्वपूर्ण है?, क्योंकि छोटे बच्चे भारत का भविष्य हैं  I  भारत का भविष्य उनके हाथों में सुरक्षित अगर रखना है तूने भारतीय संविधान के हर एक प्रारूप और पहलुओं के बारे में जानकारी देनी होगी तभी जाकर हमारा देश संविधान के अनुकूल काम कर पाएगा और उन्नति के पथ पर अग्रसर हो पाएगा I

READ  ई-श्रम कार्ड रजिस्ट्रेशन कैसे करें? | e Shram Card Registration Online @eshram.gov.in

संविधान दिवस पर निबंध कैसे लिखे

संविधान दिवस पर निबंध कैसे लिखें इसके लिए आपको सबसे पहले समझना होगा कि भारतीय संविधान की विशेषता महत्व और संविधान कब लागू किया गया है I इसे कैसे मनाया जाता है? इन सभी चीजों को आप सम्मिलित कर कर एक बेहतरीन निबंध लिख सकते हैं और निबंध की शुरुआत आपको सबसे पहले इस बात से करनी होगी कि भारतीय संविधान का निर्माण कब किया गया था और किसके माध्यम से किया गया था I  उसके बाद जो भी आवश्यक जानकारी है उसका विवरण आप देंगे तब जाकर आप का निबंध पूरा होगा I

संविधान दिवस पर निबंध 500 शब्दों में

भारत का संविधान:– भारत की आत्मा है इसके द्वारा ही देश का संचालन हो रहा है और भारत में जितने भी सरकारी संस्थान हैं उनमें जो भी शक्तियां संभावित है उनको विशेष अधिकार संविधान के माध्यम से ही दिया गया है इसके अलावा संविधान में भारतीय नागरिकों के के लिए विशेष प्रकार के अधिकार और कर्तव्य वर्णित किया गया है I जिसके द्वारा भारत का प्रत्येक नागरिक एक समान है | जब 15 अगस्त, 1947 को अंग्रेजों ने भारत छोड़ दिया, तब देश के उस समय के राजनेताओं ने इस बात को अनुभव किया कि देश को संचालन करने के लिए संविधान की जरूरत पड़ेगी I

इसके लिए उन्हें संविधान सभा का गठन किया I जिसका अध्यक्ष उन्होंने भीमराव अंबेडकर को बनाया और उन्होंने संविधान का निर्माण किया I इसके बाद 26 जनवरी 1950 को संविधान को देश में लागू किया गया जबकि संविधान बनाने का समय 26 नवंबर 1949 था I

भारतीय संविधान दिवस कब मनाया जाता है?

26 नवंबर, 2015 को संविधान दिवस के रूप में मनाए जाने की घोषणा देश के प्रधानमंत्री ने डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के जन्म जयंती के अवसर पर किया था उन्होंने कहा था कि भारतीय संविधान को बनाने में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर का अद्वितीय योगदान है इसलिए हमें उनके योगदान को याद करने के लिए इस दिन को  संविधान दिवस के रुप में मनाया जाना चाहिए

READ  PM Kisan 12th Kist | पीएम किसान योजना की 12वीं किस्त जल्द होगी जारी

संविधान दिवस कैसे मनाया जाता है?

यद्यपि यह पूरे देश में सरकारी कार्यालयों में व्यापक रूप से मनाया जाता है लेकिन सबसे अहम बात है कि संविधान दिवस कोई राष्ट्रीय अवकाश का दिन नहीं है ना इस दिन कोई सरकारी कार्यालय या स्कूल बंद रहते हैं, लेकिन फिर भी स्कूलों में संविधान दिवस काफी हर्षोल्लास और धूमधाम के साथ मनाया जाता है, क्योंकि इस दिन हमारा संविधान बनकर तैयार हुआ था और विशेष तौर पर छोटे बच्चों के संविधान के बारे में अवगत करवाना हम सभी का कर्तव्य है,क्योंकि छोटे बच्चे आने वाले दिनों में भारत का भविष्य है और भारत के भविष्य का निर्माण अगर आपको अच्छी तरह से करना है

तो हमें बाल अवस्था से छोटे बच्चों को संविधान के प्रति निष्ठावान और इमानदार बनाना होगा तभी जाकर हमारा देश उन्नति के पथ पर तेजी के साथ आगे बढ़ेगा और हम एक महाशक्ति बन पाएंगे I सरकारी कार्यालयों में, स्मरणोत्सव कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, इस दिन अधिकारियों  के प्रति ईमानदार और निष्ठावान रहेंगे उसकी प्रतिज्ञा लेते हैं I

Important of Indian Constitution

भारत का संविधान दुनिया का सबसे लंबा लिखित संविधान यह लोकतंत्र के तीन स्तंभों – विधानमंडल, न्यायपालिका और कार्यपालिका के कामकाज के लिए दिशानिर्देश जारी करता है उनके अनुसार यह सभी कार्य करते हैं I

यह भारत के नागरिकों के मौलिक अधिकारों और विशेषाधिकारों को भी सुनिश्चित करता है। जब भारत के लोग संविधान दिवस मनाते हैं, तो उन्हें संविधान और उसके महत्व के बारे में बेहतर तरीके से जानकारी होनी चाहिए तभी जाकर उन्हें मालूम चल पाएगा कि उनका संविधान बनने में किन-किन लोगों ने योगदान दिया था छोटे बच्चे को संविधान के बारे में व्यापक जानकारी देना हर एक सरकार और देश के नागरिक का कर्तव्य क्योंकि छोटे बच्चों के हाथ में ही भारत का भविष्य है और भारत की गरिमा और अखंडता को बनाए रखने की पूरी जिम्मेदारी उनके कंधों पर है I इसलिए अगर उनके अंदर संविधान बचाए रखने के गुण विकसित होंगे  I तभी जाकर हमारा देश समृद्ध और विकसित होगा I

FAQ’s संविधान दिवस पर निबंध

Q: संविधान दिवस मनाने की घोषणा कब की गई?

Ans: संविधान दिवस मनाने की घोषणा 11 अक्टूबर 2015 को की गई I

Q: संविधान दिवस को और किस नाम से जाना जाता है?

Ans: संविधान दिवस को कानून दिवस के रूप में भी जाना जाता है ?

Q: भारत का संविधान कब बनकर तैयार हुआ?

Q: भारत का संविधान 26 नवंबर 1949 को बनकर तैयार हुआ I

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *