Indian Army Day 2024: कब और क्यों मनाया जाता है भारतीय सेना दिवस, जाने इसका इतिहास

Indian Army Day 2024

Indian Army Day 2024: 15 जनवरी (15 january) भारत के लिए एक महत्वपूर्ण दिन है। इस दिन को हर साल भारतीय सेना दिवस (Indian Army Day) के रूप में मनाया जाता है। 15 जनवरी सीमा की रक्षा करने वाले और भारत का गौरव बढ़ाने वाले सैनिकों के सम्मान का दिन है। इस साल भारत का 76वां सेना दिवस (Sena Diwas) मनाया जा रहा है. 15 जनवरी को नई दिल्ली और सभी सेना मुख्यालयों में सैन्य परेड, सैन्य प्रदर्शनियाँ और अन्य कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इस अवसर पर देश सेना के साहस, उनकी वीरता और उनके बलिदान को याद करता है। 

भारतीय सेना दुनिया की सबसे शक्तिशाली सेनाओं में से एक है, जो संयुक्त राज्य अमेरिका, रूस और चीन जैसी महाशक्तियों से प्रतिस्पर्धा करती है। भारतीय सेना का आदर्श वाक्य है ‘स्वयं से पहले सेवा’। इसका मिशन राष्ट्रीय सुरक्षा और एकता सुनिश्चित करना है। इसके अलावा, उस पर देश को बाहरी और आंतरिक आक्रमण से बचाने और देश में शांति और सुरक्षा बनाए रखने का कर्तव्य भी सौंपा गया है। हमने यहां भारतीय सेना दिवस (Indian army Day), भारतीय सेना दिवस के इतिहास (Indian Army Day History) और भारतीय सेना दिवस के महत्व (Indian Army Day History) के बारे में अधिक जानकारी साझा की है।

Also Read: Also Read: भारतीय सेना पे स्लिप 2023 Hamraaz App पर डाउनलोड करें

Indian Army Day 2024-Overview

टॉपिक Indian Army Day : देखें भारतीय सेना दिवस Photo 
लेख प्रकारइनफॉर्मेटिव आर्टिकल
भाषाहिंदी
साल2024
दिन भारतीय सेना दिवस 2024
तारीख 15 जनवरी 2024
स्थान लखनऊ, उत्तर प्रदेश
भारतीय सेना दिवस 2024 थीम“राष्ट्र की सेवा में” 

भारतीय सेना दिवस 2024

भारतीय सेना अग्रिम पंक्ति के योद्धा हैं जो दुश्मनों के हमले से देश की रक्षा के लिए सीमाओं पर लड़ते हुए अपने जीवन का बलिदान देते हैं। भारतीय सेना दिवस (Indian Army Day) हर साल 15 जनवरी को मनाया जाता है। यह दिन ब्रिटिश सेना (british sena) पर भारतीय सेना की जीत की याद में मनाया जाता है। 15 जनवरी 1949 को फील्ड मार्शल के.एम. करिअप्पा भारतीय सेना (Indian Army) के पहले कमांडर-इन-चीफ बने और उन्होंने ब्रिटिश कमांडर-इन-चीफ जनरल फ्रांसिस बुचर से अधिकार ले लिया। इस साल हम 76वां सेना दिवस मना रहे हैं। भारतीय सेना दिवस 2024 पर अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए बने रहें।

भारतीय सेना दिवस क्या है? What is Indian Army Day

भारतीय सेना दिवस (Indian Army Day) भारतीय सेना की निस्वार्थ सेवा, भाईचारे के मूल्यों और देश के प्रति अटूट प्रेम का जश्न मनाने के लिए मनाया जाता है। यह दिन हर साल 15 जनवरी को मनाया जाता है। सेना दिवस का उत्सव व्यापक है और इसमें सेना मुख्यालय और राजधानी शहर में परेड, शो और अन्य मानद कार्यक्रम शामिल हैं।

See also  National Mathematics Day 2022 | गणित दिवस कब है, कैसे और क्यों मनाया जाता है?

भारतीय सेना दिवस क्यों मनाया जाता है? Why Indian Army Day Celebrated

लगभग 200 वर्षों तक ब्रिटिश शासन की गुलामी के बाद भारत को 15 अगस्त 1947 को आजादी मिली। भारतीय स्वतंत्रता के समय, देश सांप्रदायिक दंगों का सामना कर रहा था, शरणार्थी पाकिस्तान से आ रहे थे और कुछ लोग पाकिस्तान की ओर पलायन कर रहे थे। इस प्रकार के अराजक माहौल के कारण कई प्रशासनिक समस्याएँ उत्पन्न होने लगीं जब स्थिति को नियंत्रित करने के लिए सेना को आगे आना पड़ा ताकि विभाजन के दौरान शांति सुनिश्चित की जा सके। भारत की आजादी के समय भारतीय सेना की कमान ब्रिटिश जनरल सर फ्रांसिस बुचर के हाथों में थी। अतः देश का पूर्ण नियंत्रण भारतीयों के हाथों में सौंपने का यही सही समय था; इसलिए फील्ड मार्शल के.एम. करिअप्पा (Field Marshal K.M. Cariappa) 15 जनवरी 1949 को स्वतंत्र भारत के पहले भारतीय सेना प्रमुख बने।

चूँकि यह अवसर भारतीय सेना के लिए बहुत उल्लेखनीय था, इसलिए इस भव्य दिन को भारत में हर वर्ष सेना दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया और तब से यह परंपरा चली आ रही है। इसलिए 15 जनवरी को भारतीय नागरिक के हाथों में सेना की सत्ता के हस्तांतरण को देश में सेना दिवस के रूप में मनाया जाता है।

यह हर साल सभी सेना कमान मुख्यालयों और राष्ट्रीय राजधानी में कई अन्य सैन्य शो सहित सेना परेड आयोजित करके मनाया जाता है।

Also Read: 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है? (जानें इतिहास और पीछे की कहानी)

भारतीय सेना दिवस कब मनाया जाता है? When Indian Army Day is Celebrated

इस वर्ष थल सेना दिवस (Sena Diwas) 15 जनवरी को मनाया जाता है। इस बार उत्तर प्रदेश के लखनऊ में मनाया जाएगा। इस विशेष अवसर पर, अधिकारी उच्च गणमान्य व्यक्तियों की उपस्थिति में परेड करते हैं और इसकी सलामी भारतीय सेना प्रमुख द्वारा ली जाती है। इस वर्ष सलामी भारतीय सेना के वर्तमान कमांडर-इन-चीफ जनरल मनोज पांडे लेंगे।

भारतीय सेना दिवस का इतिहास | Indian Army Day History

हर साल 15 जनवरी को मनाया जाने वाला भारतीय सेना दिवस (Indian Army Day), भारत के सैन्य इतिहास में एक महत्वपूर्ण क्षण है। यह 1949 में भारतीय सेना की पहली भारतीय टुकड़ी के कमीशनिंग की याद दिलाता है, जो देश के रक्षा परिदृश्य में एक महत्वपूर्ण बदलाव का प्रतीक है। भारतीय सेना दिवस की जड़ें स्वतंत्रता-पूर्व युग में देखी जा सकती हैं। 1941 में, भारतीय सेना की पहली भारतीय टुकड़ी, जिसे उस समय रॉयल इंडियन आर्मी के नाम से जाना जाता था, को कमीशन किया गया था। इसने सशस्त्र बलों के भारतीयकरण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम उठाया, जिससे रक्षा में भारत की आत्मनिर्भरता का मार्ग प्रशस्त हुआ।

See also  National Girl Child Day 2024 | राष्ट्रीय बालिका दिवस कब, क्यों, कैसे मनाया जाता है? इतिहास, महत्व और थीम

15 जनवरी 1949 को जनरल (बाद में फील्ड मार्शल) के.एम. करिअप्पा ने जनरल सर फ्रांसिस रॉय बुचर की जगह भारतीय सेना के पहले भारतीय कमांडर-इन-चीफ के रूप में पदभार संभाला। यह ऐतिहासिक घटना भारतीय सेना के ब्रिटिश कमान से भारतीय नेतृत्व में परिवर्तन का प्रतीक है, जो स्वशासन और राष्ट्रीय गौरव के एक नए युग का प्रतीक है। इस महत्वपूर्ण अवसर की मान्यता में, भारत सरकार ने 15 जनवरी को भारतीय सेना दिवस के रूप में घोषित किया। तब से, राष्ट्र की सुरक्षा के लिए भारतीय सेना की वीरता, बलिदान और अटूट प्रतिबद्धता को श्रद्धांजलि देते हुए, इस दिन को पूरे देश में बहुत श्रद्धा और उत्साह के साथ मनाया जाता है।

भारतीय सेना दिवस का महत्व | Indian Army Day Significance

यह दिन सभी सेना कमान मुख्यालयों में मनाया जाता है। तैयारियां चल रही हैं, लेकिन वैश्विक महामारी के कारण यह दिन कड़े प्रोटोकॉल के बीच मनाया जाएगा। इस दिन भारतीय सेना के उन जवानों को सम्मानित किया जाता है, जिन्होंने निस्वार्थ भाव से देश की सेवा की और भाईचारे की सबसे बड़ी मिसाल कायम की। उन सभी वीर सेनानियों को सलाम जिन्होंने मातृभूमि की रक्षा और राष्ट्र की अखंडता को बनाए रखने के लिए अपना सब कुछ न्यौछावर कर दिया।

भारतीय सेना दिवस 2024 थीम (Indian Army Day Theme 2024)

भारतीय सेना दिवस 2024 (Indian Army Day 2024) का विषय “राष्ट्र की सेवा में” है। यह विषय भारतीय सेना के अस्तित्व के मूल सार को समाहित करता है – अटूट प्रतिबद्धता, समर्पण और व्यावसायिकता के साथ राष्ट्र की सेवा करना। यह देश की सुरक्षा और उसके मूल्यों को बनाए रखने के लिए भारतीय सेना के जवानों द्वारा किए गए निस्वार्थ बलिदान पर प्रकाश डालता है।

यह विषय भारतीय सेना के आदर्श वाक्य, “स्वयं से पहले सेवा” से मेल खाता है, जो व्यक्तिगत हितों पर राष्ट्रीय सेवा की प्रधानता पर जोर देता है। यह देश की संप्रभुता, क्षेत्रीय अखंडता और अपने नागरिकों की भलाई की रक्षा के लिए भारतीय सेना की अटूट प्रतिबद्धता को रेखांकित करता है।

भारतीय सेना दिवस पर कोट्स | Indian Army Day Quotes

“केवल सबसे अच्छे दोस्त और सबसे बुरे दुश्मन ही हमसे मिलने आते हैं” – भारतीय सेना

“हम जीतने के लिए लड़ते हैं और नॉकआउट से जीतते हैं क्योंकि युद्ध में कोई उपविजेता नहीं होता” -जनरल जेजे सिंह

“अगर कोई आदमी कहता है कि वह मरने से नहीं डरता, तो वह या तो झूठ बोल रहा है या गोरखा है” – फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ

“बर्फ में डूबा हुआ, चुप रहना। जब बिगुल बजेगा, तो वे उठेंगे और फिर से मार्च करेंगे” – सियाचिन बेस कैंप में सम्मान की पुस्तक।

“इतिहास में कोई भी वास्तविक परिवर्तन चर्चाओं से कभी हासिल नहीं हुआ।” -सुभाष चंद्र बोस

“हम संयोग से जीते हैं, हम पसंद से प्यार करते हैं, हम पेशे से हत्या करते हैं।” – अधिकारी प्रशिक्षण अकादमी, चेन्नई

“मुझे अफसोस है कि मेरे पास अपने देश के लिए देने के लिए केवल एक ही जीवन है।” -प्रेम रामचंदानी

भारतीय सेना के जवान बुद्धिमत्ता, बहादुरी और धैर्य के प्रतीक हैं। सेना में शामिल होने के कई फायदे हैं और उनमें से एक है बेजोड़ प्रतिष्ठा। हमारी सेना सभी सैन्य पहलुओं में विश्व में चौथे स्थान पर है। भारतीय सेना हमारे देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देती है, यही उनका हर तरह से सम्मान करने का सबसे बड़ा कारण है। इसलिए उनका सम्मान करने के लिए हम हर साल भारतीय सेना दिवस मनाते हैं। 

See also  अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक दिवस 2023| International Olympic Day in Hindi | Quotes by Olympic Players

FAQ’s: Indian Army Day 2024 Celebrated

Q. भारतीय सेना दिवस कब मनाया जाता है?

भारतीय सेना दिवस हर साल 15 जनवरी को मनाया जाता है। यह दिन निडर होकर राष्ट्र की रक्षा करने में भारतीय सेना के निस्वार्थ प्रयासों का जश्न मनाने के लिए मनाया जाता है। भारतीय सेना का मिशन देश को बाहरी हमलों और आंतरिक खतरों से बचाना और देश की सीमाओं की रक्षा करना है।

Q. भारतीय सेना दिवस क्यों मनाया जाता है?

उस घटना को याद करने के लिए हर साल 15 जनवरी को भारतीय सेना दिवस मनाया जाता है जब जनरल केएम करियप्पा स्वतंत्र भारत के पहले भारतीय कमांडर-इन-चीफ बने थे। उन्होंने 1949 में अंतिम ब्रिटिश कमांडर-इन-चीफ जनरल सर एफआरआर बुचर से भारतीय सेना का नियंत्रण अपने हाथ में ले लिया।

Q. भारत में भारतीय सेना दिवस कब घोषित किया गया?

भारतीय सेना दिवस 15 जनवरी 1949 को घोषित किया गया था और इस दिन का पहला उत्सव उसी दिन हुआ था। इस दिन भारतीय सेना ने पहले आर्मी स्टाफ सदस्य लेफ्टिनेंट केएम करियप्पा का स्वागत किया था।

Q. भारतीय सेना दिवस कैसे मनाया जाता है?

भारतीय सेना दिवस पर, कई उत्सव कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इस दिन होने वाली कुछ घटनाओं में शामिल हैं –

  • भारतीय सेना दिवस ऐसे कार्यक्रमों की मेजबानी करके मनाया जाता है जिसमें बहादुर सैनिकों को पदक और ट्रॉफियां प्रदान की जाती हैं।
  • परेड दिल्ली छावनी के करिअप्पा परेड मैदान में आयोजित की जाती है।
  • सभी सेना मुख्यालय भारतीय सेना दिवस मनाते हैं।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja