ads

Ramadan 2023 : सहरी और इफ्तार का समय (30 March 2023 Sehri And Iftar Time)

By | मार्च 29, 2023
Follow Us: Google News

Ramadan 2023 Sehri And Iftar Time Table 30 March 2023 – रमजान का पाक महीना शुरू हो गया है, इस लेख में हम आपको Ramadan 2023 सहरी और इफ्तार का समय की जानकारी देंगे। जैसे कि हम जानते हैं कि रमजान पूरे 1 महीने के लिए मनाया जाता है और इस माह में रोजा रखा जाता है इसलिए इस लेख के जरिए हम आपको Ramadan 2023 : सहरी और इफ्तार का समय के बारे में जानकारी देंगे। इस लेख में आपको हम रमजान सेहरी और इफ्तार का समय तो बताएंगे ही इसके साथ ही हम आपको शहरी और इफ्तार के बारे में बताएंगे कि क्या है शहरी और क्या है इफ्तार।वही आपको Ramadan 30 March 2023 Time Table Sehri & Iftar के बारे में इस लेख में बताएंगे। जैसे कि हमने आपको शुरुआत में ही बताया था कि रोजा भी रमजान के माह में रखा जाता है तो इस लेख में हम आपको रोजा का टाइम टेबल 2023 भी उपलब्ध कराएंगे। वहीं Date wise सहरी का समय  | इफ्तार का समय आपको इस लेख में उपलब्ध कराया जा रहा है। साथ में रमजान में रखें इन नियमों का पालन भी हम आपको इस लेख के जरिए बताएंगे। वही मुसलमानों में पांच वक्त की नमाज का बहुत ही महत्व होता है तो हम आपको पांच वक्त की नमाज के बारे में भी इस लेख के जरिए बताएंगे। इस लेख को पूरा पढे और रमजान, सहरी, इफ्तार और बाकि सभी जरुरी बातें जानें।

Ramadan 30 March 2023 Time Table Sehri & Iftar

30 मार्च 2023 में रखें जाने वाला रोजा औऱ सहरी के समय के बारे में इस लेख में हम आपको बताएंगे, दरअसल, 30 मार्च को मनाएं जाने वाला रोजा की सहरी का समय भोर 04 बजकर 37 मिनट बजे है, वहीं इफ्तार जो कि शाम के वक्त खाएं जाने वाला भोजन है समय 06 बजकर 27 मिनट हैं।

moon Day Sehar Dhuhr Asr Iftar Isha
1 30, Thu 4:59 AM 12:26 PM 03:51 PM 06:35 PM 08:35 PM

Ramadan 2023 : सहरी और इफ्तार का समय

इस पॉइन्ट में हम आपको रमदान 2023- सहरी और इफ्तार का समय बताएंगे, जिसके जरिए आप जो रमदान में रोजा रखेंगे और अपको हर रोजा के सहरी और इफ्तारी के समय के बारे में पता रहेगा तो आपको सहुलियत रहेंगी। हम नीचे चांद, दिन.सहरी, धुहर,असर, इफ्तार और इशा के समय आपके साथ शेयर किया है और यह एक दो दिन का नहीं बल्कि पूरी महीने का हैं।

READ  रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं व बधाई संदेश 2023| Raksha Bandhan Wishes In Hindi | Rakhi Ki Shubhkamnayen

What is Ramadan in Hindi

क्या है सहरी

ऐसा माना जाता है कि सहरी खाना एक वरदान है। सहरी, या सहरु वह भोजन है जिसे फज्र की नमाज़ से पहले खाया जाता है और इसे महत्वपूर्ण माना जाता है। अधिकांश विश्वासी नल्ली निहारी, शीरमल, पाया सूप, खजूर, मिठाई आदि जैसे व्यंजनों से बने भव्य व्यंजनों का आनंद लेते हैं। यह आमतौर पर चाय या एक गिलास दूध के साथ होता है। हालांकि, फज्र की नमाज के बाद सेहरी नहीं खानी चाहिए। सहरी एक पूर्व-सुबह का भोजन है जब ज्यादातर आपको भूख नहीं लगती है; हालाँकि, अपने पेट को चालाकी से भरना अनिवार्य है ताकि आपके शरीर को दिन भर के लिए ऊर्जा मिले। अपने भोजन को सरल रखना आवश्यक है और याद रखें कि अपने आप को लिप-स्मूदी व्यंजनों से अधिक न भरें। 

क्या है इफ्तार

रोजा रमजान के पवित्र महीने का पालन करने के मुख्य घटकों में से एक है, जो इस्लामी कैलेंडर में नौवां महीना है और रोजा, संयम, प्रार्थना और सेवा के लिए समर्पित है। वास्तव में, रोजा इस्लाम के पांच स्तंभों में से एक है। महीने के दौरान, सभी मुसलमानों (छूट वाले समूहों जैसे बहुत युवा, बुजुर्ग और बीमारों को छोड़कर) को सूर्योदय से सूर्यास्त तक रोजा करना आवश्यक है। यह एक सख्त उपवास है जिसके लिए पालन करने वालों को दिन में कुछ भी नहीं खाने या पानी का एक घूंट पीने की आवश्यकता नहीं होती है, इस इरादे से कि भोजन, पेय और अन्य कार्यों से परहेज आध्यात्मिक रूप से प्रतिबिंबित करने और भगवान के साथ अपने संबंध को गहरा करने का अवसर प्रदान कर सकता है।

इफ्तार, प्रत्येक दिन के उपवास के अंत का प्रतीक है और अक्सर जश्न मनाता है और समुदाय को एक साथ लाता है। रमजान उदारता और दान के लिए एक नई प्रतिबद्धता पर भी जोर देता है और इफ्तार भी उसी से जुड़ा है। दूसरों को अपना उपवास तोड़ने के लिए भोजन उपलब्ध कराना पालन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा माना जाता है; दुनिया भर में कई मुसलमान समुदायों और मस्जिदों के माध्यम से गरीबों और जरूरतमंदों को इफ्तार भोजन उपलब्ध कराने में मदद करते हैं।

READ  Lal Bahadur Shastri Jayanti 2023 | लाल बहादुर शास्त्री का जीवन परिचय, उपलब्धियां, निबंध

Ramadan 2023 Sehri And Iftar Time

moon Day Sehar Dhuhr Asr Iftar Isha
1 23, Thu 05:06 AM 12:28 PM 03:53 PM 06:33 PM 08:33 PM
2 24, Fri      05:05 AM 12:28 PM 03:53 PM 06:33 PM 08:33 PM
3 25, Sat 05:04 AM 12:27 PM 03:52 PM 06:34 PM 08:34 PM
4 26, Sun 05:03 AM 12:27 PM 03:52 PM 06:34 PM 08:34 PM
5 27, Mon 05:02 AM 12:27 PM 03:52 PM 06:34 PM 08:34 PM
6 28, Tue 05:01 AM 12:26 PM 03:52 PM 06:35 PM 08:35 PM
7 29, Wed 05:00 AM 12:26 PM 03:51 PM 06:35 PM 08:35 PM
8 30, Thu 04:59 AM 12:26 PM 03:51 PM 06:35 PM 08:35 PM
9 31, Fri 04:58 AM 12:25 PM 03:51 PM 06:36 PM 08:36 PM
10 01, Sat 04:57 AM 12:25 PM 03:51 PM 06:36 PM 08:36 PM
11 02, Sun 04:56 AM 12:25 PM 03:50 PM 06:36 PM 08:36 PM
12 03, Mon 04:55 AM 12:25 PM 03:50 PM 06:37 PM 08:37 PM
13 04, Tue 04:54 AM 12:24 PM 03:50 PM 06:37 PM 08:37 PM
14 05, Wed 04:53 AM 12:24 PM 03:49 PM 06:37 PM 08:37 PM
15 06, Thu 04:52 AM 12:24 PM 03:49 PM 06:38 PM 08:38 PM
16 07, Fri 04:51 AM 12:23 PM 03:49 PM 06:38 PM 08:38 PM
17 08, Sat 04:50 AM 12:23 PM 03:48 PM 06:38 PM 08:38 PM
18 09, Sun 04:49 AM 12:23 PM 03:48 PM 06:38 PM 08:38 PM
19 10, Mon 04:48 AM 12:23 PM 03:47 PM 06:39 PM 08:39 PM
20 11, Tue 04:47 AM 12:22 PM 03:47 PM 06:39 PM 08:39 PM
21 12, Wed 04:46 AM 12:22 PM 03:47 PM 06:39 PM 08:39 PM
22 13, Thu 04:45 AM 12:22 PM 03:46 PM 06:40 PM 08:40 PM
23 14, Fri 04:44 AM 12:22 PM 03:46 PM 06:40 PM 08:40 PM
24 15, Sat 04:43 AM 12:21 PM 03:46 PM 06:41 PM 08:41 PM
25 16, Sun 04:42 AM 12:21 PM 03:45 PM 06:41 PM 08:41 PM
26 17, Mon 04:41 AM 12:21 PM 03:45 PM 06:41 PM 08:41 PM
27 18, Tue 04:40 AM 12:21 PM 03:44 PM 06:42 PM 08:42 PM
28 19, Wed 04:40 AM 12:20 PM 03:44 PM 06:42 PM 08:42 PM
29 20, Thu 04:39 AM 12:20 PM 03:44 PM 06:42 PM 08:42 PM

पांच वक्त की नमाज

फजर (सुबह की नमाज)

इस नमाज का समय भोर की शुरुआत के साथ शुरू होता है और सूरज उगने तक रहता है। यह 4 रकअत नमाज़ है – 2 रकअत फ़र्ज़ और 2 रकअत सुन्नत। 

READ  Karwa Chauth 2023 | करवा चौथ को चाँद कब दिखेगा? जानिए चंद्रोदय का समय और शुभ संयोग

2. ज़ुहर (दोपहर की नमाज़)

पहली नमाज़ के बाद मुसलमान अपनी दूसरी नमाज़ अदा करते हैं जो ज़ुहर (धुहर) है। वे दोपहर में ज़ुहर की नमाज़ पढ़कर रोज़मर्रा के कामों की शुरुआत करते हैं। इस नमाज़ में सुन्नत की 4 रकअत, 4 रकात फ़र्ज़, फिर 2 रकअत सुन्नत और 2 रकात नफ़्ल शामिल हैं। हदीस स्पष्ट रूप से कहती है कि ज़ुहर के समय स्वर्ग के द्वार खोल दिए जाते हैं।

3. असर (दोपहर की प्रार्थना)

ज़ुहर की नमाज़ के बाद असर की नमाज़ का समय होता है और यह समय दोपहर से शुरू होता है। इस नमाज में 4 रकात फ़र्ज़ की नमाज़ अदा करने से पहले 4 रकात सुन्नत शामिल हैं। 4 रकअत सुन्नत ग़ैर-मुक्तदा है, जिसका अर्थ है कि यदि आप नमाज़ पढ़ते हैं तो यह पुरस्कृत होता है, लेकिन यदि आप इसे छोड़ देते हैं तो कोई पाप नहीं है।

4. मगरिब (शाम की नमाज़)

मग़रिब की नमाज़ का समय सूर्यास्त के तुरंत बाद शुरू होता है लेकिन बाहर अंधेरा होने से पहले और आसमान में लाल रोशनी गायब होने से पहले नमाज की जाती है। इसमें 7 रकअत होती है जिसमें 3 रकअत फर्द, 2 रकअत सुन्नत और 2 रकअत नफ्ल होती है। अगर आप मग़रिब की नमाज़ अदा करने से चूक गए तो अल्लाह आपको इस दुनिया में और आख़िरत में भी सज़ा देगा। अल्लाह तुमसे उसकी सारी नेमतें छीन लेगा। आपकी दुआ पूरी नहीं होती है और मृत्यु के समय अल्लाह उस व्यक्ति को अपमानित करेगा जो उसकी नमाज़ नहीं पढ़ता है।

5. ईशा (रात की प्रार्थना)

दिन की आखिरी नमाज़ ईशा की नमाज़ होती है और इसका समय मग़रिब की नमाज़ के ख़त्म होने से शुरू होता है और आधी रात तक रहता है। इसमें 4 रकात सुन्नत, 4 रकात फर्ज, 2 रकात सुन्नत, 2 रकात नफिल, 3 वित्र और 2 रकात नफ्ल सहित कुल 17 रकात शामिल हैं। यदि आप यह प्रार्थना करते हैं, तो अल्लाह आपको पुरस्कृत करेगा। इसलिए, सुनिश्चित करें कि आप ईशा की नमाज़ कभी न छोड़ें।

Date wise सहरी का समय  | इफ्तार का समय 

29 मार्च को मनाएं जाने वाला रोजा का समय हम आपको इस पॉइन्ट के जरिए बताने जा रहे है। रोजा रखते वक्त सहरी की जाती है औऱ समय पर सहरी करना जरुरी होता है। 29 मार्च को सहरी का समय सुबह 04 बजकर 37 मिनट हैं, वहीं इफ्तार की बात कि जाएं तो उसका समय 06 बजकर 28 मिनट रहेगा। वहीं हम आपको पहले रोजे से लेकर आखिर रोजे तक का सहरी और इफ्तार का समय टेबल के जरिए बताने जा रहे है, जो कि कुछ इस प्रकार हैं।

रोजा तारीख सहरी इफ्तार
1 23 March 2023 04:43 18:25
2 24 March 2023 04:42 18:26
3 25 March 2023 04:40 18:27
4 26 March 2023 04:39 18:28
5 27 March 2023 04:37 18:28
6 28 March 2023 04:36 18:29
7 29 March 2023 04:35 18:30
8 30 March 2023 04:33 18:31
9 31 March 2023 04:32 18:31
10 01 April 2023 04:30 18:32
11 02 April 2023 04:29 18:33
12 03 April 2023 04:27 18:34
13 04 April 2023 04:26 18:34
14 05 April 2023 04:24 18:35
15 06 April 2023 04:23 18:36
16 07 April 2023 04:21 18:37
17 08 April 2023 04:20 18:37
18 09 April 2023 04:18 18:38
19 10 April 2023 04:17 18:39
20 11 April 2023 04:15 18:40
21 12 April 2023 04:14 18:40
22 13 April 2023 04:12 18:41
23 14 April 2023 04:11 18:42
24 15 April 2023 04:09 18:43
25 16 April 2023 04:08 18:43
26 17 April 2023 04:06 18:44
27 18 April 2023 04:05 18:45
28 19 April 2023 04:03 18:46
29 20 April 2023 04:02 18:47
30 21 April 2023 04:00 18:47

रमजान में रखें इन नियमों का पालन 

  • रमजान के पवित्र महीने में कई जातियों और नस्लों के मुसलमान रोजा रखते हैं।
  • उपवास के नियमों के अनुसार, उपवास रखने वाले व्यक्ति सूर्य के उदय और अस्त होने से पहले और बाद में ही खा-पी सकते हैं।
  • आध्यात्मिक पहलुओं के मद्देनजर है कि रमजान के पवित्र महीने के दौरान मुसलमानों को सभी अशुद्धियों और सुखों से दूर रहना चाहिए।
  • उन्हें अपने विचारों को प्रार्थना, आत्मा की शुद्धि, आध्यात्मिकता और करुणा पर केंद्रित करना चाहिए।
  • जो महिलाएं गर्भवती हैं या नर्सिंग हैं, साथ ही जो शारीरिक या मानसिक रूप से अस्वस्थ हैं, उन्हें इस अवधि के दौरान उपवास करने से छूट दी जाती है।
  • युवावस्था से कम उम्र के युवाओं पर उपवास नहीं रखा जाता है।।
  • सूर्योदय से पहले खाया जाने वाला भोजन सहरी कहलाता है, जबकि सूर्यास्त के बाद खाया जाने वाला भोजन इफ्तार कहलाता है।
  • लोग पारंपरिक रूप से तीन खजूर से उपवास तोड़ने की मुहम्मद की प्रथा का सम्मान करने के लिए खजूर से उपवास तोड़ते हैं।
इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *