Rajasthan Diwas 2023 | राजस्थान दिवस कब व क्यों मनाया जाता है। 

Rajasthan Diwas

राजस्थान दिवस हर साल 30 मार्च को उस दिन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है जिस दिन राजस्थान राज्य अस्तित्व में आया था। Rajasthan Diwas 2023 राजस्थान के लोगों की वीरता, दृढ़ इच्छाशक्ति और बलिदान को याद करता है। राजस्थान जिसे पहले राजपुताना (Rajputana) के नाम से जाना जाता था, राजस्थान 30 मार्च, 1949 को अस्तित्व में आया था। राज्य में ज्यादातर राजपूतों की भूमि शामिल है, जिसमें पूर्ववर्ती उन्नीस रियासतें, दो प्रमुख जहाज और अजमेर-मेरवाड़ा का ब्रिटिश जिला शामिल है। क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का सबसे बड़ा राज्य राजस्थान भी पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के साथ सीमा साझा करता है।

इस लेख में आपको Rajasthan Sthapna Diwas 2023 से जुड़ी कई महत्वपूर्ण पहलुओं की जानकारी मिलने वाली है। वहीं राजस्थान स्थापना दिवस क्या है? इस बात को भी हम समझाएंगे। कई लोगों के मन में ये सवाल उठता है कि राजस्थान की स्थापना किसने की थी, इसका जवाब भी आपको इस लेख के जरिए मिल जाएगा। राजस्थान दिवस कब मनाया जाता है? इस बिंदू को आधार बनाकर भी इस लेख को लिखा गया है।

30 मार्च को राजस्थान दिवस क्यों मनाया जाता हैं? अब सवाल ये है कि 30 मार्च को ही राजस्थान दिवस मनाने के पीछे का कारण क्या है। इस लेख में राजस्थान का इतिहास के बारे में भी आपको जानकारी मिलेगी। इस लेख को पूरा पढ़े और विस्तार से राजस्थान के बारे में जाने। तो तैयार हो जाएं शब्दों के जरिए राजस्थान की सैर के लिए ।

राजस्थान दिवस पर निबंध हिंदी PDF

Rajasthan Diwas 2023

टॉपिक राजस्थान दिवस 2023 
लेख प्रकार आर्टिकल
साल 2023
राजस्थान दिवस 2023 30 मार्च
वार गुरुवार
स्थापना 1949
यूनेस्को साइट 8
राजधानी जयपुर
मुख्य मंत्री अशोक गहलोत
राजनैतिक पार्टी कांग्रेस
फेमस नृत्य घूमर
फेमस व्यंजन दाल बाटी चूरमा
पिंक सिटी किसे कहा जाता है जयपुर

राजस्थान स्थापना दिवस क्या है? | Rajasthan Sthapna Diwas

राजस्थान दिवस या राजस्थान स्थापना दिवस 30 मार्च को मनाया जाता है क्योंकि इस दिन राजपुताना को भारत के डोमिनियन में विलय कर दिया गया था। राजस्थान अपनी कला और समृद्ध संस्कृति के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्ध है, यह अपनी पोशाक, खान-पान, भाषा और वहां की हर चीज के लिए खास है, इसके साथ ही यह एक बेहतरीन पर्यटन स्थल है। राजस्थान मिठाई का पर्याय है क्योंकि इसमें ग्रेट इंडियन डेजर्ट है जिसे ‘थार’ के नाम से जाना जाता है। राजस्थान भारत की राष्ट्रीय विरासत को संरक्षित और समृद्ध करने में महत्व रखता है।

राजस्थान, जिसे ‘राजाओं की भूमि’ या ‘राज्य की भूमि’ के रूप में जाना जाता है। इसके साथ ही विरासत की प्रचुरता है और यह अन्वेषण करने के लिए इसके शहर अपने नाम से ही फेमस है। राज्य में जीवंत और रंगीन शहर, दूरस्थ मिठाई और जीवन का एक देहाती तरीका आज भी देखने को मिलता है। राजस्थान का शाही राज्य जिसे हम आज देखते हैं, सात चरणों में बना है और भारतीय गणराज्य का सबसे बड़ा राज्य बन गया है। इसमें आठ यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल हैं और इसके शानदार महल, हलचल भरे शहर और स्वदेशी बस्तियां राज्य की रीढ़ हैं।

राजस्थान की स्थापना किसने की थी 

Rajasthan Ki Sthapna किसने की थी इसको लेकर कई लोगों के मन में सवाल उठता है। कई लोगों का कहना है कि इसकी स्थापना अकबर ने की थी, वहीं कई लोग मानते है कि राउ जोधा ने इसकी स्थापना लगभग 1400 वर्ष में की गई थी। लेकिन इस बात कि पुष्ठी आज तक नहीं हो पाई है कि इसकी स्थापना किसने और किसके द्वारा की गई थी।

See also  राष्ट्रीय बॉयफ्रेंड दिवस कब, क्यों और कैसें मनाया जाता है? National Boyfriend Day 2023 | जाने इतिहास, महत्व और शायरी व हार्दिक शुभकामनाएं सन्देश (Quotes Photos)

राजस्थान दिवस कब मनाया जाता है? | Rajasthan Diwas Kab Manata Jata Hai

हर साल 30 मार्च को Rajasthan Sthapna Diwas राजस्थान राज्य के गठन को चिह्नित करने के लिए राज्य भर में मनाया जाता है। इस दिन जयपुर, जोधपुर, बीकानेर और जैसलमेर के राज्यों को एक साथ मिलाकर एक राज्य बनाया गया था। राजस्थान में पूर्ववर्ती उन्नीस रियासतें, दो प्रमुख और अजमेर-मेरवाड़ा का ब्रिटिश जिला शामिल है। जैसलमेर, मारवाड़ (जोधपुर), अलवर और धुआंधार (जयपुर), बीकानेर और मेवाड़ (चित्तौड़गढ़) जैसी राजपूत रियासतें है। भरतपुर और ढोलपुर जाट रियासतें थीं, जबकि टोंक पठानों के अधीन एक रियासत थी।

30 मार्च को राजस्थान दिवस क्यों मनाया जाता हैं? 

30 मार्च 1949 को राज्य का गठन तब हुआ जब राजपुताना का नाम जैसा कि ब्रिटिश क्राउन द्वारा अपनाया गया था भारत के डोमिनियन में विलय कर दिया गया था। जयपुर सबसे बड़ा शहर होने के नाते, राज्य की राजधानी घोषित किया गया था। इस दिन 1949 में चार राज्य, अर्थात् जोधपुर, जयपुर, बीकानेर और जैसलमेर, संयुक्त राज्य राजस्थान में शामिल हो गए और इस क्षेत्र को वृहत राजस्थान के रूप में जाना जाने लगा। तब से Rajasthan Diwas मनाया जाने लगा है। राजस्थान का गठन सात चरण में हुआ था, ये गठन के सात चरण (1948-1956) इस प्रकार हैं:

  • मत्स्य संघ जो कि अलवर, भरतपुर, धौलपुर, करौली के मिला कर हुआ था, यह गठन 17 मार्च 1948 में हुआ था।
  • राजस्थान संघ गठन जो कि  बांसवाड़ा, बूंदी, डूंगरपुर, झालावाड़, किशनगढ़, कोटा, प्रतापगढ़, शाहपुरा, टोंक को मिला कर हुआ था, जो कि  25 मार्च 1948 में हुआ था।
  • वहीं 18 अप्रैल 1948 में संयुक्त राज्य राजस्थान उदयपुर भी राजस्थान के अन्य संघ के साथ शामिल हो गया था।
  • ग्रेटर राजस्था न जो कि बीकानेर, जयपुर, जैसलमेर और जोधपुर भी राजस्थान के संयुक्त राज्य 30 मार्च 1949 के साथ शामिल हो गए थे। 
  • यूनाइटेड स्टेट ऑफ ग्रेटर राजस्थान मत्स्य संघ का भी ग्रेटर राजस्थान में विलय 15 मई 1949 को हुआ था।
  • वहीं 26 जनवरी 1950 को संयुक्त राजस्थान संयुक्त राजस्थान की 18 रियासतों का आबू और देलवाड़ा को छोड़कर रियासत सिरोही में विलय हो गया था। 
  • राज्य पुनर्गठन अधिनियम, 1956 के तहत 1 नवंबर 1956 को राजस्थान का पुनर्गठन अजमेर के पूर्ववर्ती भाग ‘सी’ राज्य, आबू रोड तालुका, रियासत राज्य सिरोही का पूर्व भाग जो पूर्व बॉम्बे, राज्य और पूर्व मध्य के सुनेल टप्पा क्षेत्र में विलय कर दिया गया था। भरत का राजस्थान में विलय हो गया और झालावाड़ जिले के सिरोंज उप-जिले को मध्य प्रदेश में स्थानांतरित कर दिया गया। 

राजस्थान का इतिहास | History of Rajasthan

प्राचीन काल

पुरातात्विक निष्कर्षों से पता चलता है कि राजस्थान की शाही भूमि कई हजार वर्षों से पुरानी है। सटीक होने के लिए इसे सिंधु घाटी सभ्यता में देखा जा सकता है। हड़प्पा काल के लोग सबसे पहले सरस्वती नदी के तटबंध पर बसे थे, जो राजस्थान में अरावली पर्वत श्रृंखला से उत्पन्न हुई थी। हालाँकि, इस क्षेत्र को गंभीर जलवायु परिवर्तन का सामना करना पड़ा और बाढ़ की चपेट में आ गया जिसके कारण इसका परित्याग हो गया। काफी समय तक यह मानव बस्तियों के बिना बना रहा, जब तक कि भील और मीणा जैसे आदिवासी समुदाय इस क्षेत्र में बस नहीं गए। इसके अलावा माना जाता है कि आर्य लगभग 2,000 ईसा पूर्व में इस क्षेत्र में बस गए थे, इसके बाद मौर्य वंश 321-184 ईसा पूर्व के दौरान आया था।

See also  Vishva Hindi Diwas 2023 | विश्व हिंदी दिवस कब मनाया जाता है। अंतराष्ट्रीय हिंदी दिवस थीम 2023

हालाँकि, राज्य की सामरिक स्थिति और इसके माध्यम से बहने वाली कई प्राचीन नदियों, जैसे सरस्वती और दृषद्वती के कारण, राज्य ने हूणों, अर्जुन, यौधेय और शक क्षत्रपों जैसे कई साम्राज्यों के हित को हड़प लिया। गुप्त वंश ने चौथी शताब्दी में राज्य पर विजय प्राप्त की और झालावाड़ क्षेत्र में कई बौद्ध मंदिरों और गुफाओं का निर्माण किया गया। छठी शताब्दी में गुप्तों का प्रभाव और नियंत्रण कम होने लगा। 700 CE में गुर्जर-प्रतिहारों ने गुप्तों को केंद्रीय शक्ति के रूप में अपने अधिकार में ले लिया।

मध्यकाल

9वीं शताब्दी में राजस्थान के इतिहास में सबसे संपन्न युग राजपूत वंश ने राज्य पर अधिकार कर लिया था। राजपूत योद्धा हुआ करते थे और उनके शासन में राज्य का कई गुना विकास हुआ था। यदि आप राजस्थान की सड़कों पर टहलते हैं तो आपको राजसी ऐतिहासिक संरचनाएं दिखाई देंगी, जिनमें राजपूत वंश द्वारा निर्मित किले, महल और मंदिर शामिल हैं। लेकिन राजपूतो में एकता खत्म होने के चलते सदियों से राजपूत साम्राज्य 21 राजवंशों और 36 शाही कुलों में विभाजित हो गया था। 10वीं शताब्दी में चौहानों ने राजस्थान पर अधिकार कर लिया, लेकिन वे अधिक समय तक इस पर शासन नहीं कर सके। 1192 सीई में मुस्लिम सल्तनत ने चौहान वंश के पृथ्वीराज चौहान को हराया और राज्य के कुछ हिस्सों पर विजय प्राप्त कर ली। अंततः 1200 ई. तक मुस्लिम शासकों ने स्वयं को राजस्थान के कई भागों में स्थापित कर लिया।

13वीं शताब्दी की शुरुआत में सबसे शक्तिशाली सीट मेवाड़ थी, जो अभी भी राजपूतों के शासन के अधीन थी। लगभग हर राजा की नजर मेवाड़ पर थी। यह मुगल सम्राट अकबर था, जिसने कई राजपूत शासकों के करीब आना शुरू किया  उसने आमेर के महाराजा की बेटी जोधा बाई से शादी भी की। विवाह के बाद कई राजपूत शासकों ने अकबर के साथ गठबंधन किया, जिससे राज्य पर उसका ना सिर्फ नियंत्रण बल्कि बल भी काफी ज्यादा मजबूत हो गया था। राजपूत वंश और मुगल साम्राज्य का प्रभाव आज भी राज्य के ऐतिहासिक और स्थापत्य परिदृश्य में शुमार हैं।

राजस्थान के वीर सपूत

वहीं कुछ राजपूत शासक ऐसे भी थे जैसे राव चंद्रशेखर राठौर (मारवाड़), राणा उदय सिंह (मेवाड़) और महाराणा प्रताप (मेवाड़) जो अकबर के खिलाफ थे और उसे राजस्थान की धरती से निकाल फैकना चाहते थे और वह कभी भी उसके सामने नहीं झुके। परिणास्वरुप वे अकबर के साथ लगातार युद्ध करते रहे। सन 1526 में अकबर और उदयसिंह के बीच युद्ध हुआ, जिसमें अकबर ने मेवाड़ की राजधानी चित्तौड़गढ़ पर अधिकार कर लिया। हार के बाद राजपूत कबीले की महिलाओं ने अपने सम्मान की रक्षा के लिए आत्मदाह कर लिया। लगभग पूरा राजपुताना (जिसे अब ‘राजस्थान’ कहा जाता है) अकबर के नियंत्रण में आ गया।

सन 1576 में अकबर और महाराणा प्रताप के बीच हल्दीघाटी का युद्ध हुआ, जिसमें महाराणा प्रताप गंभीर रूप से घायल हो गए और कई वर्षों तक वैराग्य में रहे। इस बीच अकबर ने उदयपुर, कुम्भलगढ़, छप्पन, गोगुन्दा और कई अन्य क्षेत्रों पर कब्जा कर लिया। आखिरकार 1582 में देवर की लड़ाई के दौरान, राणा प्रताप ने लड़ाई लड़ी और मेवाड़ और राजस्थान के अधिकांश हिस्से को मुगलों से मुक्त कराया। यह वह युग था जिसने कई राजपूत और मुगल शासकों की वीरता और बलिदान को देखा था। कुछ सबसे प्रमुख लोगों में राणा उदय सिंह, पृथ्वीराज चौहान, महाराणा प्रताप, राणा कुंभा, राणा सांगा और अकबर का नाम शामिल हैं।

See also  100+ हैप्पी वैलेंटाइन डे स्टेटस | Happy Valentines Day Status in Hindi, Valentine's Day WhatsApp SMS, Status

मराठा साम्राज्य का उदय और ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी का उदय

18वीं शताब्दी की शुरुआत में मराठा साम्राज्य ने सत्ता हासिल करना शुरू किया। पुणे के पेशवा बाजी राव प्रथम के शासन में मराठा साम्राज्य राजस्थान के उत्तर में फैला और राजपूतों के साथ एकजुट हो गया। अधिकांश राजपूत शासित राज्य मराठा साम्राज्य के नियंत्रण में थे और फलते-फूलते रहे। हालांकि 18वीं शताब्दी के अंत में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के आने के साथ मराठों की सत्ता में गिरावट आई। अधिकांश राजपूत राज्यों ने ईस्ट इंडिया कंपनी के साथ हाथ मिला लिया, जिसके परिणामस्वरूप एक स्वतंत्र राज्य के रूप में राजस्थान जो कि तब ‘राजपुताना’ के रूप में जाना जाता था, उसका गठन हुआ। ‘राजस्थान’ नाम ईस्ट इंडिया कंपनी के एक कर्मचारी जेम्स टॉड द्वारा लोकप्रिय किया गया था, जो राज्य की सुंदरता और ऐश्वर्य से मुग्ध था।

राजस्थान आज

वहीं अगर आज के राजाओं के स्थान की बात की जाए तो राजस्थान का शाही राज्य जिसे हम आज देखते हैं, सात चरणों में बना और भारतीय गणराज्य का सबसे बड़ा राज्य बन गया। इसमें आठ यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल हैं और इसके शानदार महल, हलचल भरे शहर और स्वदेशी बस्तियां राज्य की रीढ़ हैं। यहां घूमने देश विदेश से पार्यटक आए दिन आते हैं और यह भारत के पार्यटन स्थल जो दुनिया भर में फेमस है उनमें से एक हैं।

राजस्थान अपने रंग, तीज त्योहार, खान पान और पर्यटन स्थलों के लिए बहुत ज्यादा पसंद किया जाता है, यहीं कारण है जो राजस्थान डिस्टिनेशन वेडिंग का हम बना हुआ है चाहें फिल्मी जगत के सितारें हो या फिर राजनेता या फिर उद्योगपति राजस्थान में शादी समारोह करना पसंद करते हैं। राजस्थान के चितौडगढ़ का किला ना सिर्फ राजस्थान और देश का बल्कि ऐशिया का सबसे बड़ा किला हैं। वहीं अगर क्षेत्रफल के हिसाब से राजस्थान देश का सबसे बड़ा राज्य हैं।

Rajasthan Diwas Quotes in Hindi

 राजस्थान दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं देने के लिए और राजस्थान दिवस को मनाने के लिए आप कोर्ट हिंदी में यहां पर देख सकते हैं यह कोर्स आप अपने मोबाइल फोन के थ्रू व्हाट्सएप के स्टेटस में लगा सकते हैं आप अपने फेसबुक या अन्य सोशल मीडिया पर शेयर कर सकते हैं अपने मित्रों परिचितों और अपने राजस्थानी भाइयों को इस उत्सव में शामिल होने के लिए राजस्थान दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं दे सकते हैं तो देखिए राजस्थान दिवस कोट्स इन हिंदी

सोने री धरती जठै
चांदी रो आसमान
रंगरंगीलो रस भरियो
म्हारो प्यारो राजस्थान।
राजस्थान दिवस की हार्दिक बधाई

 

वीरों ने अपने खून से

राजस्थानी माटी का किया बंदन है,

इसको माथे पर लगा लो

यह माटी नहीं चंदन है.

राजस्थान स्थापना दिवस की शुभकामनाएं

जिसका हर कण-कण करता वीरा रा गुणगान,
शीश नवावा उण माटी ने जय जय राजस्थान।

 

 

FAQ’s Rajasthan Diwas 2023

Q. हर साल राजस्थान दिवस कब मनाया जाता है?

Ans. राजस्थान दिवस हर साल 30 मार्च को राज्य के गठन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।

Q. राजस्थान की राजधानी क्या है?

Ans. राजस्थान की राजधानी जयपुर है।

Q.राजस्थान की कौन सी सिटी ब्लू सिटी के नाम से जानी जाती है?

Ans. राजस्थान की राजधानी जयपुर ब्लू सिटी के नाम से जानी जाती है।

Q.साल 2023 में कौन सा राजस्थान दिवस मनाया जाएगा?

Ans. साल 23 में 74 वां राजस्थान दिवस मनाया जाएगा।

Q.राजस्थान का इतिहार कितने साल पुराना है?

Ans. राजस्थान का इतिहास लगभग 5 हजार साल पुराना है।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja