महाप्रभु वल्लभाचार्य की जयंती 2023 पर उत्सव, समारोह और अनुष्ठान | Vallabhacharya Jayanti Wishes Quotes in Hindi

श्री वल्लभाचार्य की जयंती 2023 में कब है ? –  16 अप्रैल को vallabhacharya jayanti 2023 बड़े उत्साह के साथ भारत में मनाई जाएगी। क्या आप जानते है महाप्रभु वल्लभाचार्य का जीवन दर्शन के बारे में, क्या आपको पता है वल्लभाचार्य जयंती का महत्व, समारोह और अनुष्ठान के बारे में, अगर नहीं तो हमारे इस लेख को पूरा पढ़े, जो महा प्रभु वल्लभाचार्य को समर्पित हैं। हम आपको बता दें कि श्री वल्लभाचार्य (1479-1531 C.E.) एक भक्तिवादी दार्शनिक थे, जिन्होंने भारत में पुष्टि संप्रदाय की स्थापना की थी। श्री वल्लभाचार्य भगवान कृष्ण के बहुत बड़े भक्त थे और उन्होंने भगवान कृष्ण के श्रीनाथजी रूप की पूजा की थी। उन्हें महाप्रभु वल्लभाचार्य के नाम से भी जाना जाता है। वल्लभाचार्य का जन्म काशी(वाराणसी) में 1479 ई. में हुआ था और वे एक तेलुगु ब्राह्मण परिवार से ताल्लुक रखते थे। उत्तर भारत में प्रचलित पूर्णिमांत चंद्र कैलेंडर के हिसाब से उनका जन्म वैशाख महीने के कृष्ण पक्ष की एकादशी को हुआ था। ऐसे ही कई जानकारी से परिपूर्ण है हमारा लेख जो आपको जरूर पढ़ना चाहिए क्योंकि इसे हमने कई बिंदूओं के आधार पर तैयार किया है जैसे Vallabhacharya Jayanti 2023: महाप्रभु वल्लभाचार्य की जयंती,महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती का महत्व,महाप्रभु वल्लभाचार्य का जीवन,वल्लाभाचार्य का दर्शन,महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती पर समारोह और अनुष्ठान, Vallabhacharya Jayanti Wishes Quotes in Hindi, महाप्रभु वल्लभाचार्य Messages in Hindi।

Vallabhacharya Jayanti 2023 : महाप्रभु वल्लभाचार्य की जयंती

टॉपिक vallabhacharya jayanti 2023
लेख प्रकार आर्टिकल
साल 2023
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती 2023 16 अप्रैल
महाप्रभु वल्लभाचार्य जन्म सन 1479
तिथि बैसाख माह कृष्ण पक्ष एकादशी
जन्म स्थान वाराणसी
माता पिता नाम इल्लम्मागारू और लक्ष्मण भट्ट 
महाप्रभु वल्लभाचार्य कि पत्नी  महालक्ष्मी जी
संतान दो पुत्र
मृत्यु सन 1531

Read More: अक्षय तृतीया पर सोना खरीदने का शुभ मुहूर्त 

महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती का महत्व

भारत में महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती का महत्व बहुत ज्यादा है, लोग इस जयंती को किसी त्योहार से कम नहीं मानते है। इस दिन लोग मंदिरों में जाकर श्रीनाथ जी के विशेष पूजा करते है। दरअसल, वल्लभाचार्य जयंती से जुड़ी किंवदंती में बताया गया है कि भारत के उत्तर-पश्चिम भाग की ओर बढ़ते समय महाप्रभु वल्लभाचार्य को गोवर्धन पर्वत के पास एक रहस्यमयी घटना दिखी। उन्होंने पहाड़ के एक विशिष्ट स्थान पर एक गाय को दूध बहाते देखा। जब श्री वल्लभाचार्य ने उस स्थान की खुदाई शुरू की और भगवान कृष्ण की मूर्ति की खोज की तो ऐसा माना जाता है कि भगवान कृष्ण श्रीनाथजी के रूप में प्रकट हुए और महाप्रभु वल्लभाचार्य को गर्मजोशी से अपने गले लगाया। उस दिन से श्री वल्लभाचार्य के अनुयायी बड़ी भक्ति के साथ बाला या भगवान कृष्ण की किशोर छवि की पूजा करते हैं।

यह दिन इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि वरुथिनी एकादशी तमिल कैलेंडर के अनुसार वल्लभाचार्य जयंती के साथ मेल खाती है। यह त्योहार मुख्य रूप से गुजरात, महाराष्ट्र, चेन्नई, उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु के कुछ हिस्सों में मनाया जाता है। इसके अलावा, इस दिन कोई विशेष अनुष्ठान नहीं किया जाता है। भक्त उपवास करें या न करें, लेकिन वे प्रार्थना जरुर करते हैं और पवित्र मंत्रों का जाप भी इस दिन भक्तों द्वारा किया जाता हैं। लोग भगवान कृष्ण और श्री वल्लभाचार्य के प्रति सच्ची श्रद्धा और विश्वास के साथ इस दिन को मनाते हैं। श्री वल्लभाचार्य ने मध्य युग में दार्शनिक विचारों की पराकाष्ठा का प्रतिनिधित्व किया था। उनके द्वारा स्थापित संप्रदाय भगवान कृष्ण की भक्ति के अपने पहलुओं में अद्वितीय है और कई परंपराओं और त्योहारों से समृद्ध है। इसलिए, श्री वल्लभाचार्यजी के न केवल भारत में बल्कि दुनिया भर में कई भक्त अनुयायी हैं।

See also  शिक्षक दिवस पर निबंध | Essay On Teachers Day in Hindi | PDF Download, 10 Lines

महाप्रभु वल्लभाचार्य का जीवन

हम अगर महाप्रभु वल्लभाचार्य के जीवन के बारे में बात करें तो उनका जन्म 1479 ई के बैसाख महीने के कृष्ण पक्ष के ग्यारहवें दिन यानि की एकादशी में भारत में चंपारण्य नामक वन में हुआ था जिसे आज के समय में वाराणसी कहा जाता है वहां एक तेलुगू परिवार में हुआ था। वहीं अगर उनके परिवार की बात कि जाए तो उनके पिता का नाम लक्ष्मण भट्ट और माता का नाम श्री इल्लम्मागारू था। वह ब्राह्मण के वेल्लानतेय समुदाय में जन्मे थे, जिसे अभी तक भारत का एक पवित्र और सुशिक्षित समुदाय माना जाता है, उनका गोत्र भारद्वाज और सूत्र आपस्तंब था। उनके पूर्वज कृष्ण यजुर्वेद की तैत्तिरीय शाखा का अध्ययन कर रहे थे। वल्लभाचार्य जी के दो बेटे थे, बड़े का नाम श्री गोपीनाथजी और छोटे का नाम श्री विठ्ठलनाथजी (जिन्हें श्री गुसाईजी के नाम से जाना जाता है) ।उन्होंने मात्र 11 वर्ष की आयु में ही वेद, पुराण, स्मृति, तंत्र आदि सभी धर्मग्रंथों का अध्ययन कर अपनी असाधारण प्रतिभा का परिचय दिया था। बचपन में ही वे अनेक वाद-विवादों में भाग लिया करते थे और सभी विरोधियों को परास्त कर देते थे। उन्होंने कहा कि विद्वतापूर्ण दृष्टिकोण से उनके माता-पिता को हमेशा उन पर गर्व महसूस होता है।

उन्होंने अपने दो पुत्रों श्री गोपीनाथजी और श्री विठ्ठलनाथजी को प्रशिक्षित किया ताकि वह पुष्टि भक्ति संप्रदाय के सभी पहलुओं में सक्षम आचार्य बन सकें। उन्होंने अपने दोनों पुत्रों में सब प्रकार से अपना महात्म्य स्थापित किया था।एक विशेषज्ञ जौहरी एक गहना को कसौटी पर लगाकर खरीदता है, इसी तरह गुरु बिना परीक्षा लिए किसी को अपना शिष्य नहीं बनाते थे। भगवान ने केवल पुष्टि-प्राणियों के उत्थान के लिए पुष्टि-भक्ति का मार्ग प्रकट करने के लिए श्री वल्लभाचार्य को नियुक्त किया था। अतः पुष्टि का भक्ति मार्ग केवल पुष्टि-प्राणियों के लिए है, यह संपूर्ण ब्रह्मांड के लोगों के लिए धर्म नहीं है। श्री वल्लभाचार्य, उम्मीदवार की परीक्षा लेने के बाद ही दीक्षा देते थे ताकि एक गैर-पुष्टी इस पथ में प्रवेश न कर सके। दीक्षा देने के बाद श्री वल्लभाचार्य ने अपने किसी भी शिष्य को अपने भाग्य पर नहीं छोड़ा। वह अपने घर पर रहते थे और उन्हे सब कुछ सिखाते थे जब तक कि उसे सिद्धांतों और पुष्टि-भक्ति के मार्ग का उचित ज्ञान न हो। यदि कोई भी व्यक्ति उनके यहाँ दीक्षा लेने आता था तो वे उसका स्वागत करते थे और उसे सभी सिद्धांतों और पूजा पद्धति आदि के बारे में सिखाते थे।

See also  शून्य भेदभाव दिवस 2023 कब है ? जानिए इतिहास, महत्व, थीम के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

कुछ शिष्य आजीवन श्री वल्लभाचार्य के साथ रहे। श्री वल्लभाचार्य अपने शिष्यों पर नजर रखते थे ताकि वे दूसरों की निन्दा न करें या भगवान से संबंधित चर्चा में न पड़ें। उस प्रयोजन के लिए वह नियमित रूप से रात में दो या तीन बार अपने शिष्यों को देखने जाते थे। उनका चरित्र हमें बताता है कि एक गुरु को अपने शिष्यों के लिए उतना ही सावधान रहना चाहिए जितना कि माता-पिता अपने नन्हें मासूम बच्चों की सलामती के लिए हर पल चिंतित रहते हैं।गौरतलब है कि सन 1587 में रथयात्रा के दिन 52 साल की उम्र उन्होंने गंगा नदी में प्रवेश किया और प्रकाश का एक उज्ज्वल बंडल सूर्य में विलीन हो गया और दुनिया से गायब हो गए। इस तरह उन्होंने इस दुनिया से विदा ले ली।

वल्लाभाचार्य का दर्शन

वल्लभाचार्य को भारतीय इतिहास के सबसे प्रभावशाली दार्शनिकों में से एक माना जाता है। वे एक विपुल लेखक थे, लेकिन वे एक असाधारण शिक्षक भी थे। उन्होंने श्री वैष्णववाद संप्रदाय की स्थापना की, जो विष्णु और कृष्ण की पूजा को बढ़ावा देता है। श्री वल्लभाचार्य लेखन और शिक्षाओं ने सदियों के विभाजन के बाद भारत को एकजुट करने में मदद की। वल्लभाचार्य ने पूरे भारत को एक झंडे के नीचे एकजुट करने और हिंदू धर्म को पुनर्जीवित करने के लिए एक मिशन की स्थापना की थी। उन्होंने अपने दर्शन का प्रचार और शिक्षण करते हुए पूरे देश की यात्रा की थी। वह कई अलग-अलग समूहों के लोगों को एकजुट करने और एक ठोस हिंदू समुदाय बनाने में सक्षम थे।

वल्लभाचार्य की विरासत आज भी जारी है और उन्हें भारतीय इतिहास में सबसे प्रभावशाली शख्सियतों में से एक माना जाता है। शुद्धाद्वैत वेदांत वल्लभाचार्य द्वारा प्रतिपादित वेदांत का एक स्कूल है। यह शुद्ध अद्वैतवाद के सिद्धांत पर जोर देता है जो मानता है कि ब्रह्म की एकमात्र वास्तविकता है और बाकी सब कुछ असत्य है। इस दर्शन के अनुसार, ब्राह्मण सभी गुणों और भेदों से रहित है और स्वयं या आत्मा के समान है। वल्लभाचार्य शुद्धाद्वैत वेदांत दर्शन को प्रतिपादित करने के लिए सबसे प्रसिद्ध हैं, जो ईश्वर और ब्रह्मांड की एकता पर जोर देता है। उन्होंने कई प्रसिद्ध रचनाएँ भी लिखीं, जिनमें ब्रह्म-सूत्र-भाष्य, अनुभाष्य और गीता-भाष्य शामिल हैं। वल्लभाचार्य की शिक्षाओं को पहचाना जाना जारी है और इसने दुनिया भर में कई अनुयायियों को प्रेरित किया है।

वल्लभाचार्य को सिद्ध योग प्रदीपिका पर उनके कार्यों के लिए जाना जाता है, जो सिद्ध योग के अभ्यास पर एक व्यापक पाठ है। इसके अतिरिक्त, महाप्रभु वल्लभाचार्य को गुणों और चार वर्गों की अवधारणा को विकसित करने का श्रेय दिया जाता है।उनकी अन्य रचनाओं में योगसूत्र, हठ योग पर एक उत्कृष्ट पाठ, और महाभारत पर्व, संस्कृत भाषा में एक प्रमुख महाकाव्य कविता शामिल हैं।

Read More: Essay on BR Ambedkar Jayanti in Hindi

महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती पर समारोह और अनुष्ठान

  • इस दिन मंदिरों और धार्मिक भवनों पर फूल चढ़ाए जाते हैं।
  • सुबह-सुबह भक्त भगवान कृष्ण का अभिषेक करते हैं और फिर उनकी अच्छे से पूजा करने के बाद उनकी आरती की जाती हैं।
  • भगवान कृष्ण का भक्ति गीत पुजारियों और भक्तों द्वारा गाया जाता है।
  • रथ पर भगवान कृष्ण का चित्र रखा जाता है।
  • वल्लभराय के भक्त प्रत्येक घर में झांकी घुमाते हैं।
  • अंत में भगवान कृष्ण के भक्तों के बीच प्रसाद का वितरण किया जाता है।
  • दिन का समापन वल्लभाचार्य के पौराणिक कार्यों की स्मृति और प्रशंसा के साथ होता है।
  • वल्लभाचार्य जयंती को बड़े हर्ष और उत्साह के साथ मनाया जाता है।
See also  Ram Mandir Donation: आपका बटुआ- राममंदिर जैसी संस्था को दान पर टैक्स छूट: 2000 से ज्यादा कैश डोनेशन पर छूट नहीं, दान से ऐसे बचाएं टैक्स

Vallabhacharya Jayanti Wishes Quotes in Hindi

 

“अलौकिक तेज एवं अद्भुत प्रतिभा धनी  स्वामी वल्लभाचार्य जी की जयंती की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं 2023…।” . 

 

वैष्णव संप्रदाय के सबसे लोकप्रिय संतों में से एक स्वामी वल्लभाचार्य जयंती की हार्दिक शुभकामनाये !!

 

“पुष्ती संप्रदाय के संस्थापक संत शिरोमणि स्वामी वल्लभाचार्य जी की जयंती की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं . 2023 …।” .  –

 

अपने जीवन में एक लक्ष्य बनाओऔर तब तक प्रयास करो जब तकवो लक्ष्य हासिल ना हो जायेयही सफलता का मूल मन्त्र हैडॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन पुण्यतिथि पर नमन

 

दूसरो के मालिक बनने वाला बड़ा नहीं कहलता।

बड़ा तो वह होता है जो खुद आत्मा का मलिक बन जाता है

खुद अपने आप पर कबीज हो जाता है

 

सुख, शान्ति एवम समृध्दि की मंगलमयी कामनाओं के साथस्वामी वल्लभाचार्य जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं

अन्या का सब कुछ देखते हो

और बुरैया दिल खोल करते हो,

ये हानिकारक प्रवृत्ति हे

ककी इसे तुम बुराइयों का भंडार भरते हो।

बुरायोसे सावधान

 

हे मानव!

तेरे घरे सोफासेट,

दूरदर्शन के लिए टीवी सेट,

दिखावे के लिए फ्रिज और डिनर सेट ही

घरे सबकुच सेट हे

फ़र्ब मैन टू अपसेट ही

यू वल्लभ आचार्य जयंती की शुभकामनाएं

Also Read: 10th क्लास उत्तीर्ण छात्रों के लिए छात्रवृत्ति 2023-24

FAQ’s  Vallabhacharya Jayanti 2023

Q.महाप्रभु वल्लभाचार्य किसके सबसे बड़े भक्त थे?

Ans.महाप्रभु वल्लभाचार्य भगवान श्री कृष्ण के बहुत बड़े भक्त थे

Q.महाप्रभु वल्लभाचार्य को कृष्ण भगवान से किस रूप में दर्शन दिए थे?

Ans.महाप्रभु वल्लभाचार्य को कृष्ण भगवान से श्रीनाथ जी के रुप में दर्शन देते हुए उन्हें अपने गले से लगाया था।

Q.महाप्रभु वल्लभाचार्य का जन्म कब और कहा हुआ था?

Ans.महाप्रभु वल्लभाचार्य का जन्म सन 1479 में वाराणसी में एक तेलुगू परिवार में हुआ था

Q.महाप्रभु वल्लभाचार्य के पत्नी का क्या नाम था और उनके कितने बच्चे थे?

Ans.महाप्रभु वल्लभाचार्य कि पत्नी का नाम महालक्ष्मी था और उनके दो पुत्र थे।

Q.महाप्रभु वल्लभाचार्य की मृत्यु कब और किस उम्र में हुई थी?

Ans.महाप्रभु वल्लभाचार्य की मृत्यु 1531 में हुई थी जब वह 52 उम्र के थे

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja