Surdas Jayanti 2023 | सूरदास जयंती 2023 तिथि, महत्व, समय और ऐतिहासिक तथ्य

महान कवि और संगीतकार सूरदास के जन्म के उपलक्ष्य में इस वर्ष 25 अप्रैल को सूरदास जयंती मनाई जाएगी। संत अपनी कविताओं और गीतों के लिए काफी मश्हूर थे। इसके साथ ही वह अपनी भगवान कृष्ण की प्रति भक्ति को लेकर भी याद किए जाते है। वह सदैव उनकी स्तुति किया करते थे। श्री कृष्ण के भक्त और सूरदास के प्रशंसक वैशाख माह के  शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को सूरदास जयंती मनाते हैं। इस साल सूरदास जयंती 25 अप्रैल को मनाई जाएगी। श्री कृष्ण के सबसे बड़े भक्तों में सूरदास का नाम विशेष उल्लेख मिलता है। सूरदास, जो जन्म से ही नेत्रहीन थे, उन्होंने अपने इष्ट देवता की प्रशंसा में हजारों कविताओं/गीतों की रचना की थी। इसके साथ ही उनकी रचनाएं आज की पीढ़ी को भी प्रेरणा देती हैं। ऐसे ही कई तथ्यों के साथ हमने इस लेख को तैयार किया है जो इस लेख को पूर्ण करता है। कई बिंदूओं के साथ तैयार किया गया यह लेख हमने सूरदास जी के बारे में कई बातें बताता है। इस लेख में जो बिंदूएं हमने तैयार किए है वह है सूरदास जयंती कब है? Surdas Jayanti 2023 Date,हम सूरदास जयंती क्यों मनाते हैं? सूरदास जयंती 2023 कब है, सूरदास जयंती कैसे मनाई जाती है?,सूरदास जयंती 2023 : महत्व, Surdas Jayanti 2023 Wishes, Quotes Hindi,Surdas Jayanti 2023 Wishes Hindi,Surdas Jayanti 2023 Quotes Hindi,सूरदास जयन्ती की शुभकामनाएं फोटो ग्रीटिंग। अगर सूरदास जयंती के बारे में सभी जानकारी पाना चाहतें है तो इस लेख को पूरा पढ़ना ना भूलें।

सूरदास जयंती कब है? Surdas Jayanti 2023 Date

साल 2023 में सूरदास जयंती 25 अप्रैल को मनाई जाएगी।सूरदास जयंती गौरवशाली आत्मा सूरदास के जन्मदिन के उपलक्ष्य में मनाई जाती है। सूरदास जी जिन्हें अंधा माना जाता है लेकिन उन्हें उनके काम के लिए महिमामंडित किया गया था। सूरदास शब्द का अर्थ “सुरों का सेवक” है। वह अपने साहित्यिक कौशल के लिए जाने जाते हैं और वह अपनी कविताओं और गीत के लिए प्रसिद्ध हैं। कवि ने वात्सल्य रस को अपना योगदान दिया था। वह भगवान कृष्ण के बहुत बड़े भक्त थे। बचपन से ही उन्हें भगवान कृष्ण के लिए कविता, गायन और लेखन में गहरी रुचि थी। वे मुख्यतः ब्रज भाषा में लिखते थे जिसे वृन्दावन की मूल भाषा माना जाता है।संत सूरदास (1478-1581 सीई) एक महान कवि और संगीतकार थे। सूरदास जन्म से अंधे थे और इस वजह से उन्हें उनके परिवार द्वारा उपेक्षित किया गया था। परिणामस्वरूप, उन्होंने छह साल की छोटी उम्र में ही अपना घर छोड़ दिया और बहुत कम उम्र में ही भगवान कृष्ण की स्तुति करने लगे।

See also  Comprehensive Guide to Maintaining Healthy Teeth and Gums: Tips and Insights

हम सूरदास जयंती क्यों मनाते हैं?

सूरदास अपने साहित्यिक कार्यों के व्यापक काम के लिए काफी प्रसिद्ध हुए। उनके गीतों और कविताओं को व्यापक रूप से लोगों द्वारा सराहा गया था।। वह भगवान कृष्ण के प्रबल अनुयायी थे और उन्होंने अपना जीवन अपने कृष्णा के लिए लेखन और गायन के लिए समर्पित कर दिया था। उनके गीत कृष्ण के जीवन के विभिन्न चरणों पर आधारित थे। संगीत और कविता के क्षेत्र में व्यक्तियों और प्रतिष्ठानों ने कविता और हिंदू धार्मिक संगीत में उनके अविश्वसनीय योगदान के लिए सूरदास जयंती पर महान कवि को श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है।

सूरदास जयंती कैसे मनाई जाती है?

सूरदास जयंती मुख्य रूप से उत्तरी भारत में मनाई जाती है। इस दिन भगवान श्री कृष्ण की पूजा की जाती है और सूरदास के साथ-साथ इस दिन भगवान कृष्ण के लिए व्रत भी रखा जाता है।इस दिन ब्राह्मणों को भी भोजन कराने की परंपरा है। संगीत और कविता में रुचि रखने वाले लोग इस जयंती को बड़ी पूजा और भक्ति के साथ मनाते हैं। लोग उनके द्वारा लिखित पांडुलिपियों का जाप करते हैं और महान संत को याद करने के लिए इस दिन भजन और कीर्तन भी आयोजित किए जाते हैं। सूरदास जयंती वृंदावन और ब्रज में बहुत ही धूमधाम से मनाई जाती है। इस दिन को मनाने के लिए विभिन्न संगीत कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है, इस दिन कविता प्रतियोगिताओं के साथ-साथ वृंदावन में सूरदास जयंती के दिन कुछ विशेष कार्यक्रमों का भी आयोजन किया जाता है। सूरदास जयंती के इस पावन अवसर पर ब्रज उत्साह और उमंग से भर जाता है और हर साल जोश और उत्साह के साथ मनाया जाता है। इस दिन के लिए विभिन्न प्रकार की संगीत प्रतियोगिताएं और संगीतमय रातें भी निर्धारित की जाती हैं।

सूरदास जयंती 2023 : महत्व

सूरदास को सूर सागर की लोकप्रिय रचना के लिए जाना जाता है। सूरसागर भगवान कृष्ण और राधा के प्रेमियों के रूप में वर्णन करते हैं। इसमें भगवान कृष्ण के लिए राधा और गोपी की लालसा भी शामिल है जब वह मौजूद नहीं थे। इसमें उनकी व्यक्तिगत भक्ति भी शामिल है, जो रामायण और महाभारत के प्रसंगों में भी दिखाई देती है। उनकी कविताएँ और गीत ब्रजभाषा में लिखे गए थे जो हिंदी भाषा की साहित्यिक बोलियों में से एक है। ऐसा कहा जाता है कि उन्होंने वल्लभ आचार्य की शिक्षाओं से अपनी प्रेरणा ली है, जिनसे वे 1510 में मिले थे। सूरदास के बारे में कई कहानियाँ हैं लेकिन सबसे प्रमुख उनके जन्म से अंधे होने की हैं। सूरदास जी भारत वर्ष के बहुत बड़े लेखक और कृष्ण भक्त है, यहीं कारण है जो हर साल सूरदास जी की जयंती बड़ी धूमधाम से मनाई जाती है।

See also  गांधी जयंती पर निबंध | Essay On Gandhi Jayanti in Hindi, 10 लाइन (कक्षा 3 से 10 के लिए)

Also Read : परशुराम जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं, बधाई संदेश

Surdas Jayanti 2023 Wishes, Quotes Hindi

सूरदास हमें सिखाते हैं कि जब भक्ति हृदय से होती है

तो हमें आँखें नहीं चाहिए, बस एक प्रकार का हृदय पर्याप्त है

हैप्पी सूरदास जयंती

 

कृष्ण भक्त भक्ति और वात्सल्य रस के कवि संत सूरदास जयंती की,

आप सभी को शुभकामनाएं। हरि की महिमा का गान कर आइए उन्हें नमन करें।

HAPPY Surdas Jayanti.

 

मैया मोहि दाऊ बहुत खिझायौ

मोसौं कहत मोल कौ लीन्हौ, तू जसुमति कब जायौ?

surdas jayanti ki hardik shubhkamnaye

 

मथुरा-आगरा के बीच रुनकता गांव में हुआ था,

संत सूरदास का जन्म,

उनको गुरु वल्लभाचार्य से मिली थी पुष्टिमार्ग की दीक्षा।

HAPPY Surdas Jayanti.

 

” रे मन कृष्ण नाम कहि लीजै गुरु के बचन अटल करि मानहिं, साधु समागम कीजै कृष्ण नाम रस बह्यो जात है, तृषावंत है पीजै सूरदास हरिसरन ताकिए, जन्म सफल करी लीजै…।” .  ☀–

Surdas Jayanti 2023 Wishes Hindi

बुझत स्याम कौन तू गोरी, कहां रहति काकी है

बेटी देखी नही कहूं ब्रज खोरी

काहे को हम ब्रजतन आवति खेलति रहहि आपनी पौरी

सुनत रहति स्त्रवननि नंद ढोटा करत फिरत माखन दधि चोरी

तुम्हरो कहा चोरी हम लैहैं खेलन चलौ संग मिलि जोरी

सूरदास प्रभु रसिक सिरोमनि बातनि भूरइ राधिका भोरी

हैप्पी सूरदास जयंती

 

एक व्यक्ति ने अपना सारा जीवन भगवान कृष्ण के लिए गाते हुए,

भगवान कृष्ण की स्तुति करने और भगवान कृष्ण के लिए,

सुंदर कविताओं का निर्माण करने में लगा दिया,

ऐसे महान व्यक्ति को मत भूलना। सूरदास जयंती की शुभकामनाएं।

HAPPY Surdas Jayanti.

 

”  चरण कमल बंदो हरी राइ। जाकी कृपा पंगु गिरी लांघें अँधे को सब कुछ दरसाई। बहिरो सुनै मूक पुनि बोले रंक चले सर छत्र धराई। सूरदास स्वामी करुणामय बार- बार बंदौ तेहि पाई….।” .  ☀– संत महाकवि सूरदास जी की जयंती पर उन्हें विनम्र नमन

 

दूरि देखति जसुमति यह लीला हरष आनंद बढ़ावत

सुर स्याम के बाल चरित नित नितही देखत भावत

हैप्पी सूरदास जयंती

 

आंखों के सामने भगवान हमारे पास नहीं आएंगे,

लेकिन जब आपकी भक्ति सच्ची होगी,

तो आप अपने चारों ओर भगवान को महसूस करेंगे,

सूरदास जयंती की शुभकामनाएं।

HAPPY Surdas Jayanti.

Surdas Jayanti 2023 Quotes Hindi

मुखहिं बजावत बेनु धनि यह बृंदावन की रेनु

नंदकिसोर चरावत गैयां मुखहिं बजावत बेनु

मनमोहन को ध्यान धरै जिय अति सुख पावत चैन

चलत कहां मन बस पुरातन जहां कछु लेन न देनु

इहां रहहु जहं जूठन पावहु ब्रज बासिनि के ऐनु

सूरदास ह्यां की सरवरि नहिं कल्पबृच्छ सुरधेनु

संत शिरोमणि सूरदास जी की जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं 

 

अगर हम भगवान से प्यार कर रहे हैं,

तो हम दुनिया की अच्छाई से प्यार कर सकते हैं- कवि संत सूरदास।

HAPPY Surdas Jayanti.

 

चरन कमल बंदौ हरि राई। जाकी कृपा पंगु गिरि लंघै

आंधर कों सब कछु दरसाई

बहिरो सुनै, मूक पुनि बोलै, रंक चले सिर छत्र धराई

सूरदास स्वामी करुनामय, बार-बार बंदौं तेहि पाई 

संत सूरदास जी की जयंती पर आप सभी मित्रों को अनंत शुभकामनाएं

 

सूरदास हमें सिखाते हैं कि जब भक्ति हृदय से होती है,

तो हमें आँखें नहीं चाहिए,

बस एक प्रकार का हृदय पर्याप्त है,

हैप्पी सूरदास जयंती।

HAPPY Surdas Jayanti.

 

सभी को सूरदास जयंती मुबारक हो, आशा है कि आप दुनिया में रहने वाले अन्य सभी प्राणियों के लिए प्यार और दया बनाए रखेंगे।..महाकवि सूरदास जी की जयंती पर उन्हें  शत्-शत् नमन

सूरदास जयन्ती की शुभकामनाएं फोटो ग्रीटिंग

हमारे निर्धन के धन राम

चोर न लेत, घटत नहि कबहूॅ, आवत गढैं काम

जल नहिं बूडत, अगिनि न दाहत है ऐसौ हरि नाम

बैकुंठनाम सकल सुख-दाता, सूरदास-सुख-धाम

हैप्पी सूरदास जयंती

 

तुलसीदास जी और सूरदास जी समक्ष थे,

ओर तुलसीदास जी को भगवान राम का भक्ति कवि माना जाता था,

और सूरदास जी को कृष्ण भक्त कवि माना जाता था,

सूरदास जी के लेखन में भक्ति की लहर नजर आती थी।

HAPPY Surdas Jayanti.

 

चरण कमल बंदो हरी राइ

जाकी कृपा पंगु गिरी लांघें 

अँधे को सब कुछ दरसाई

बहिरो सुनै मूक पुनि बोले रंक चले सर छत्र धराई

सूरदास स्वामी करुणामय बार- बार बंदौ तेहि पाई

संत सूरदास जयंती की शुभकामनाएँ

 

सूरदास जी की काव्य भाषा में काफी भाषाओ का प्रयोग मिलता है,

उन्होंने कई भाषाओ में लेखन का कार्य किया,

जिसमे प्रमुख रूप से अनुप्रास, यमक, श्लेष, उपमा,

उत्प्रेक्षा तथा रूपक अलंकारो का प्रयोग अधिक मिलता है।

HAPPY Surdas Jayanti.

 

हरष आनंद बढ़ावत हरि अपनैं आंगन कछु गावत

तनक तनक चरनन सों नाच मन हीं मनहिं रिझावत

हैप्पी सूरदास जयंती

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja