गुरु अर्जुन देव जी की जीवन परिचय 2023 | Guru Arjan Dev Ji Biography in Hindi (जीवन,शिक्षा,प्रसिद्धि ग्रंथ,रचनाएं,संगीत)

By | November 3, 2023
Follow Us: Google News

Guru Arjan Dev Ji Biography In Hindi: गुरु अर्जुन देव जी सिख धर्म के पांचवे गुरु थे | उन्होंने सिख धर्म को पूरी दुनिया में प्रसार किया था इसके अलावा वह हमेशा मानवता की भलाई के लिए लगातार काम करते थे | गुरु अर्जुन देव सिख धर्म के पहले ऐसे गुरु थे जिन्होंने सिख धर्म की रक्षा के लिए अपने प्राण निछावर कर दिए थे यही वजह है कि 16 जून को शहीद दिवस गुरु अर्जुन देव की याद में मनाया जाता है ऐसे में आप भी Guru Arjan Dev Ji History के निजी जीवन के बारे में जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल में हम आपको Guru Arjan Dev Biography In Hindi से संबंधित चीजों के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी देंगे इसलिए आप हमारे साथ आर्टिकल पर बनी रहे-

गुरु अर्जुन देव जीवन परिचय | Guru Arjan Dev Biography in Hindi

पूरा नामगुरु अर्जुन देव
जन्मतिथि15 अप्रैल 1563
जन्म स्थानगोइंदवाल , मुगल साम्राज्य (वर्तमान में तरनतारन जिला, पंजाब, भारत
पिता का नामगुरु राम दास
माता का नामबीवी भानी
पत्नी का नाममाता गंगा
बच्चो का नामगुरु हरगोबिंद साहिब
प्रसिद्धि1. स्वर्ण मंदिर का निर्माण2. तरणतारन साहिब शहर की स्थापना करवाई3. सिख धर्म के पांचवे गुरु
नानागुरु अमर दास
संपादनगुरु ग्रंथ साहिब
सिख धर्म के कितने नंबर के गुरुपांचवे गुरु
मृत्यु कब हुआ30 मई 1606, लाहौर,

Also read: गुरु अर्जुन देव शहीदी दिवस 2023

अर्जुन देव जी की शिक्षा-दीक्षा | Guru Arjan Dev Education

अर्जुन देव ने अपनी शिक्षा दीक्षा गुरु अमर दास गुरु बाबा बुद्ध जी महाराज की देखरेख में प्राप्त किया उन्होंने अपने गुरु अमरदास से गुरुमुखी शिक्षा प्राप्त की और गोइंदवाल साहिब धर्मशाला से, उन्होंने देवनागरी कि शिक्षा उन्होंने प्राप्त किया अर्जुन देव ने संस्कृत में पंडित बेनी महाराज से और और अपने चाचा मोहरी, गणित से शिक्षा प्राप्त की। इसके अलावा, उन्होंने अपने चाचा मोहन से “ध्यान” की विधि भी सीखी।

See also  (कांग्रेस अध्यक्ष) मल्लिकार्जुन खड़गे का जीवन परिचय | Mallikarjun Kharge Biography in Hindi

गुरु अर्जुन देव जी का गृहस्थ जीवन | Guru Arjan Dev Life

अर्जुन देव जी का विवाह 1579 ईसवी में  16 वर्ष की आयु में जालंधर जिले के मौ साहिब गांव में कृष्णचंद की बेटी माता “गंगा जी” के साथ संपन्न हुआ था।  उनका एक बेटा भी था जिसका नाम हरगोविंद सिंह था जो आगे चलकर सिख धर्म का छठवां गुरु बना |

Also read: World Mother’s Day in Hindi 2023

अर्जुन देव की बाला और कृष्णा पंडित को सीख | गुरु अर्जुन देव जी जीवनी

एक समय बाला और किस पंडित सुंदर कथा का पाठ कर कर सभी लोगों को खुश किया करते थे और उनकी कथा को सुनकर लोगों के मन की शांति मिलती थी लेकिन उनका मन हमेशा एहसान करता था जिसके कारण आए दिन गुरु अर्जुन देव के दरबार में प्रार्थना लेकर आए कि उन्हें मन की शांति प्राप्त नहीं हो रही है इसके लिए कुछ उपाय बताएं तब अर्जुन देव ने उनसे कहा कि आप लोग सुंदर पाठ पैसों की लालच के लिए करते हैं ऐसे मैं आपको कभी भी मन की शांति प्राप्त नहीं होगी इसलिए आपको लालच का त्याग करना चाहिए और निस्वार्थ भाव से सुंदरकांड का पाठ करें तभी जाकर आपको मन की शांति प्राप्त होगी तभी जाकर ईश्वर आपके साथ हमेशा रहेंगे |

Also read: अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं 2023

अर्जुन देव की रचनाएं : गुरुबानियो को इकट्ठा कर गुरु ग्रंथ साहिब बनाया

 जब गुरु अर्जुन देव अपने आसन पर बैठे थे तो उनके मन में विचार आया है कि सभी गुरुओं की वाणी को जोड़कर एक ग्रंथ बनाया जाए और उन्होंने इस पर काम भी शुरू कर दिया लेकिन इसे बनाने के लिए उन्हें नानकबानी जरूरत थी जो उनके मामा मोहन जी के पास थी ऐसे में उसे प्राप्त करने के लिए उन्होंने अपने भाई गुरुदास को सबसे पहले भेजा इसके बाद भाई भाई बुढ्ढा को उनके पास नानकबानी की प्रति लेने भेजा लेकिन दोनो ही खाली हाथ वापस आ गए इसके बाद गुरु अर्जुन देव स्वयं अपने मामा के पास नानकबानी लेने के लिए गए लेकिन उनके मामा ने उन्हें डांट फटकार कर भगाने का सोचा लेकिन गुरु अर्जन देव जी की जिद, धैर्य और विनम्रता देखकर मोहनजी ने उनको नानकबानी देने का निर्णय लिया। उसके बाद अर्जुन देव ने सभी गुरुओं की वाणी और आंध्र मुकेश संतो के भजन को एक जगह इकट्ठा कर कर गुरु ग्रंथ साहिबा का संपादन किया और उसे दरबार में स्थापित करवा दिया |

See also  Tarek Fatah Biography in Hindi | तारेक फतेह का संपूर्ण जीवन परिचय -(प्रगतिशील लेखक, पत्रकार, टीवी एंकर और एक सेक्युलर उदारवादी कार्यकर्ता)

Also read: राजा राममोहन राय की जयंती 2023

गुरु अर्जन देव जी की अमर बलिदान गाथा | Guru Arjan Dev Biography

गुरु अर्जुन देव के अमर बलिदान कथा के बारे में अगर हम चर्चा करें तो हम आपको बता दें कि गुरु अर्जुन देव लगातार मानवता के हित के लिए काम करते रहे इसी बीच दिल्ली के बादशाह अकबर ने अपना उत्तराधिकारी खुसरो को बनाने का  सोचा जो उनका होता था क्योंकि जागीर शराबी और जुआ खेलने का शौकीन था जब जागीर को यह बात मालूम चली तो उसने अपने बेटे को मरवाने की बात सोची ऐसे में उसके बेटे की मदद गुरु अर्जुन देव ने किया था |

जब इस बात का पता जहांगीर को मालूम हुआ तो उसने अर्जु देव को कैद कर दिया और उन्हें कई प्रकार की यातनाएं दी इसके अलावा उसने गुरु अर्जुन देव से कहा कि  मुस्लिमों के विरोध में लिखी बातों को आदि ग्रंथ से हटाने को मना किया तो गुरु देव ने हटाने से मना कर दिया। ऐसा कहा जाता है कि गुरु अर्जुन देव को तवे पर बैठाकर उनके सिर के ऊपर गर्म रेत डाली गई और जब वे मूर्छित हो गए तो उनके शव को रावी नदी में बहा दिया गया। दूसरी किवदंती ये भी है की उनको नदी में डुबोकर ही मार दिया गया।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *