30 जनवरी शहीद दिवस पर निबंध | 30 January Shahid Diwas Essay in Hindi

30 January Shahid Diwas Essay

30 January Shahid Diwas Essay:- जिसे शहीद दिवस के रूप में जाना जाता है हर साल 30 जनवरी के दिन मनाया जाता है। भारत में 30 जनवरी को राष्ट्रीय अवकाश भी होता है। दरअसल, 30 जनवरी 1948 को महात्मा गांधी की हत्या हुई थी, जिसके बाद से ही हर साल उनकी पुण्यतिथि को शहीद दिवस के रुप में मनाया जाता है। मोहनदास करमचंद गांधी जिनका जन्म 2 अक्टूबर, 1869 को हुआ था वहीं उनकी मृत्यु 30 जनवरी,1948 को हुई थी। महात्मा गांधी देश के सबसे प्रभावशाली नेताओं में से एक थे, जिन्होंने अहिंसा और सत्याग्रह को अपने एकमात्र हथियार के रूप में देश की स्वतंत्रता के लिए लड़ाई लड़ी थी। इस लेख में हम आपको 30 जनवरी को मनाएं जाने वाली शहीद दिवस के बारे में निबंध के रुप में जानकारी प्रस्तुत करेंगें।

इस लेख को हमने विभिन्न बिंदूओं को आधार पर तैयार किया है जैसे कि शहीद दिवस पर निबंध,Shahid Diwas Par Nibandh, शहीद दिवस पर निबंध हिंदी में , 30 जनवरी शहीद दिवस पर निबंध। एक बेहतरीन निबंध पढ़ने के लिए इस लेख को अंत तक पढ़े।

Shahid Diwas Par Nibandh 

टॉपिकशहीद दिवस
लेख प्रकारनिबंध
साल2023
कब है शहीद दिवस30 जनवरी
किसकी याद में मनाया जाता है शहीद दिवसमहात्मा गांधी की
महात्मा गांधी की मृत्यु30 जनवरी 1948
महात्मा गांधी की मृत्यु कैसे हुईगोली मार के हत्या
महात्मा गांधी को किसने मारानाथुराम गोडसे
नथुराम गोडसे की मृत्युनवंबर 1949
नथुराम गोडसे मृत्यु कारणफांसी

महात्मा गांधी का योगदान

सामाजिक और राजनीतिक सुधार में गांधी की सार्वजनिक भूमिका का परिमाण ऐसा था कि, उनके विचारों और आंदोलनों पर अमेरिकी और यूरोपीय समाचार पत्रों, पत्रिकाओं, पुस्तकों और रेडियो में चर्चा की गई थी। उनके काम को दुनिया भर के शीर्ष राजनेताओं और राजनेताओं द्वारा उत्सुकता से फॉलो किया गया था।गांधी पर्यावरणीय स्थिरता के अग्रदूतों में से एक थे। सर्वोत्कृष्ट गांधीवादी प्रश्न- “एक व्यक्ति को कितना उपभोग करना चाहिए?” आज भी सच है। स्थिरता का उनका मॉडल हमारे तेजी से बढ़ते और आबादी वाले राष्ट्र में प्रासंगिक बना हुआ है। औद्योगिक विकास की ज्यादतियों के खिलाफ अभियान चलाकर और इसके परिणामस्वरूप नवीकरणीय ऊर्जा और छोटे पैमाने पर सिंचाई प्रणालियों को बढ़ावा देकर, गांधी बाद में एक जोरदार पर्यावरण आंदोलन बनने के पीछे प्रेरणा शक्ति थे।अहिंसा या अहिंसा का दर्शन गांधी का पर्याय बन गया है।

See also  राशन की दुकान पर गैस सिलेंडर योजना 2023 | अब राशन की दुकान से मिलेगा गैस सिलेंडर | जानिए क्या हैं नई योजना

अहिंसा का उनका अभ्यास अन्य धर्मों के प्रति सम्मान और भाईचारे की भावना का विस्तार था। गांधी ने अन्याय और सत्तावादी शासन का जोरदार विरोध किया, लेकिन बिना किसी हथियार या हिंसक कार्यों के। राज्य शक्ति के मनमाने उपयोग के लिए उनका शांतिपूर्ण और मौखिक लेकिन अहिंसक विरोध आज गांधीवादी विरासत की प्राथमिक अभिव्यक्ति है।गांधी ने देश भर में महिलाओं के उत्थान में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। सबसे उल्लेखनीय सेवा, अहमदाबाद में स्व-नियोजित महिला संघ है जो उत्पादक सहकारी समितियों में एक मिलियन से अधिक महिलाओं को संगठित करने, उन्हें बाल और मातृ स्वास्थ्य देखभाल प्रदान करने और आर्थिक आत्मनिर्भरता को प्रोत्साहित करने के लिए एक सहकारी बैंक प्रदान करने के लिए जिम्मेदार है।

30 January Shahid Diwas Essay in Hindi PDF

30 जनवरी शहीद दिवस पर निबंध हिंदी में 

  • इस दिन प्रधानमंत्री और अन्य राजनीतिक हस्तियां राजघाट (एम.के.गांधी के श्मशान घाट) पर पुष्पांजलि अर्पित करती हैं।
  • देश भर में, लोग एम. के. गांधी के निधन के लिए दो मिनट की मौन प्रार्थना करते हैं।
  • सशस्त्र बलों के जवानों द्वारा मालाओं से पुष्पांजलि अर्पित की जाती है।
  • स्कूलों और कॉलेजों में भाषण, वाद-विवाद, प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिताएं आदि कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।
  • सार्वजनिक हस्तियों द्वारा महात्मा गांधी के जीवन पर अपने भाषण पर विचार-विमर्श किया जाता है।
  • टॉक शो और इसी तरह के विभिन्न शो समाचार चैनलों द्वारा आयोजित किए जाते हैं।
  • सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर, लोग संदेशों या चित्रात्मक तरीके से अपनी श्रद्धांजलि देते हैं।
  • साबरमती आश्रम में प्रार्थनाओं की झलक और अन्य कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।
  • राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर आधारित फिल्में और वृत्तचित्र टेलीविजन पर प्रसारित किए जाते हैं।
  • लोग देश भर में उनकी विचारधाराओं की याद दिलाते हैं।
See also  प्रधानमंत्री मुद्रा योजना 2023 | Pradhan Mantri Mudra Yojana | PMMY @mudra.org.in

गांधी जी की मृत्यु कैसे हुई थी?

30 जनवरी 1948 को महात्मा गांधी शाम 5 बजे के करीब दिल्ली के बिड़ला हाउस से बाहर चले गए थे। अपना अंतिम उपवास पूरा करने के चलते कमजोर गांधी को उनकी पोतियां एक प्रार्थना सभा में ले गईं थी, जहां उनके हजारों समर्थक उनका इंतजार कर रहे थे। वहां नाथूराम विनायक गोडसे उनका इंतजार कर रहा था। गोडसे का मानना था कि गांधी जी ने मुस्लिम समर्थक रुख अपनाकर अपने साथी हिंदुओं को धोखा दिया था। इसलिए वह बेरेटा ऑटोमेटिक पिस्टल लेकर दिल्ली आया और गांधी जी को मारने की योजना बनाई। लेकिन ऐसा करने से पहले गोडसे ने अभिवादन के एक मॉक शो में गांधी को नमन भी किया था। जब वह खड़े हुए थे तब उन्होंने तीन गोलियां चलाईं जो कि गांधी जी के सीने और पेट में लगीं थी।अपनी हत्या से पहले, गांधी जी ने हिंदूओं को अभिवादन करते हुए अपने हाथ उठाए थे।

फिर, जब गोलियां लगीं, तो वह जमीन पर गिर गए, गांधी जी की पोतियां उनके किनारों पर थीं।गांधी की मौत के बाद मची अफरा-तफरी में गोडसे ने खुद को गोली मारने की कोशिश की थी। लेकिन जब गुस्साई गांधी समर्थकों की भीड़ ने चिल्ला कि ‘उन्हें मार डालो, उन्हें मार डालो’, तब अधिकारियों ने गोडसे को जब्त कर लिया और उन्हे गिरफ्तार कर लिया गया। गांधी जी को मारने के एक साल के भीतर ही आदालत ने गांधी जी के हत्यारे को  मौत की सजा सुनाई थी। सन 1949 नवंबर को गोडसे को फांसी दी गई थी।

See also  निष्ठा प्रशिक्षण योजना 3.0 क्या है | Nishtha Training Yojana Registration 2023

FAQ’s 30 January Shahid Diwas Essay

Q.भारत में शहीद दिवस कब कब मनाया जाता है?

Ans.शहीद दिवस भारत में 23 मार्च, 30 जनवरी, 19 मई, 21 अक्टूबर, 17 नवंबर, 19 नवंबर और 24 नवंबर को मनाया जाता है। यह दिन 30 जनवरी को राष्ट्रीय स्तर पर और अन्य उल्लिखित तिथियों पर राज्य-स्तर पर मनाया जाता है।

Q. भारत में 30 जनवरी को शहीद दिवस के रूप में क्यों मनाया जाता है?

Ans. राष्ट्रपिता मोहनदास करमचंद गांधी की हत्या को याद करने के लिए हर साल 30 जनवरी को शहीद दिवस के रूप में मनाया जाता है। 


Q. महात्मा गांधी की हत्या किसने और कब की थी ?

Ans. राष्ट्रपिता मोहनदास करमचंद गांधी की हत्या 30 जनवरी 1948 को नाथूराम विनायक गोडसे ने की थी।

Q. महात्मा गांधी का पूरा नाम क्या है और उनका जन्म कब और कहां हुआ था?

Ans. महात्मा गांधी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी है और उनका जन्म 2 अक्टूबर 1869 में पोरबंदर में हुआ था।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja