30 जनवरी शहीद दिवस 2023 | 30 January Shahid Diwas

By | दिसम्बर 10, 2022
Shaheed Diwas

Shahid Diwas 30 January 2023:- जैसा कि आप लोग जानते हैं कि प्रत्येक साल जनवरी महीने में 30 जनवरी शहीद दिवस के रूप में मनाया जाता है इस दिन महात्मा गांधी को नाथूराम गोडसे ने गोली मारी थी जिसके पास रूप गांधी जी की मृत्यु हो गई थी I यही वजह है कि 30 जनवरी को भारत में शहीद दिवस के रूप में मनाया जाता है क्योंकि एक दिन बापू हमें छोड़कर दुनिया से चले गए थे I इसलिए देश भर में गांधी जी की पुण्यतिथि को शहीद दिवस के रूप में भी मनाया जाता है I अब आप लोगों के मन में सवाल आएगा कि गांधी जी की पुण्यतिथि क्या है और 30 जनवरी को शहीद दिवस क्यों मनाया जाता है अगर आप इन सब के बारे में कुछ भी नहीं जानते हैं तो हमारे साथ आर्टिकल पर आखिर तक बने रहे हैं चलिए शुरू करते हैं-

राष्ट्रीय बालिका दिवस कब, क्यों, कैसे मनाया जाता है?

किसान दिवस कब और कैसे मनाया जाता है

राष्ट्रीय एकता दिवस कब व क्यों मनाया जाता हैं?

30 जनवरी शहीद दिवस 2023 (30 January Shaheed Diwas 2023)

आर्टिकल का प्रकारमहत्वपूर्ण दिवस
आर्टिकल का दाम30 जनवरी शहीद दिवस (Shahid Diwas)
साल2023
कब मनाया जाएगा30 जनवरी को
कहां मनाया जाएगापूरे भारत में
क्यों मनाया जाएगाइस दिन गांधी जी ने देश के लिए शहादत दी थी

गांधी जी की पुण्यतिथि

गांधी जी की पुण्यतिथि 30 जनवरी है क्योंकि गांधी जी को 30 जनवरी 1948 को प्रार्थना सभा में नाथूराम गोडसे द्वारा गोली मारी गई थी जिसके कारण गांधी जी की मृत्यु हो गई जिसके कारण 30 जनवरी को गांधी जी की पुण्यतिथि भारत में मनाई जाती है I इस दिन भारत के राष्ट्रपति उपराष्ट्रपति प्रधानमंत्री और सभी गणमान्य मंत्री और नेता गांधी जी के स्मारक स्थल पर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं I जैसा की आप लोगों को मालूम है गांधीजी को भारत का राष्ट्रपिता कहा जाता है I इसके अलावा इस दिन गांधी जी को याद करते हुए 2 मिनट का मौन भी रखा जाता है I

READ  वेलेंटाइन डे पर क्या गिफ्ट्स देना चाहिए? | Valentine's Day Gifts 2023

30 जनवरी को शहीद दिवस क्यों मनाया जाता है?

भारत में 30 जनवरी शहीद दिवस के रूप में मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन गांधी जी को नाथूराम गोडसे के द्वारा गोली मारी गई थी यही वजह है कि 30 जनवरी को भारत में शहीद दिवस के रूप में मनाया जाता है ताकि हम लोग गांधीजी के विचारधारा और उनके दिखाए गए पद चिन्हों पर हम चल सके गांधीजी भारतीय राजनीति में एक ऐसे राजनेता थे जिन्होंने अपना पूरा जीवन देश के लिए समर्पित कर दिया देश की आजादी में उनका योगदान अतुल्य है जिसकी व्याख्यान शब्दों के माध्यम से नहीं कर सकते हैं I जैसा की आप लोगों को मालूम ही होगा कि जब देश आजाद हुआ तो उस समय देश में शांति और भाईचारा स्थापित करने में गांधीजी का सबसे बड़ा योगदान रहा था I ऐसे में जब 1948 में गांधीजी एक प्रार्थना सभा में जा रहे थे तभी नाथूराम गोडसे ने गांधी जी को गोली मारी और उसी समय गांधी जी के मुंह से हे राम शब्द निकला और उन्होंने अपना शरीर त्याग दिया

जिसके बाद पूरे देश भर में गांधीजी की शोक की लहर दौड़ गई और सभी लोग गम में डूब गए क्योंकि भारत के सिर से राष्ट्रपिता का हाथ उठ गया था और गांधीजी को सभी लोगों ने आखरी विदाई दी जिसके बाद से ही 30 जनवरी को देशभर में शहीद दिवस मनाने की घोषणा की गई I जो आज तक कायम है I इसके अलावा भारत में शहीद दिवस 23 मार्च को भी मनाया जाता है क्योंकि एक दिन भगत सिंह सुखदेव राजगुरु को फांसी दी गई थी इसलिए 23 मार्च भी भारत में शहीद दिवस के रूप में मनाया जाता है I

READ  न्यू ईयर ग्रीटिंग कार्ड शायरी | New Year Greeting Card Shayari in Hindi

शहीद दिवस कैसे मनाया जाता है?

शहीद दिवस भारत में काफी उत्साह पूर्वक मनाया जाता है इस दिन देश के प्रधानमंत्री राष्ट्रपति उपराष्ट्रपति राज्यपाल और जितनी भी गणमान्य नेता और मंत्री हैं वह बापू के स्मारक स्थल राजघाट पर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं इसके अलावा उस दिन गांधी जी का प्रमुख भजन रघुपति राजा राम का गायन का आयोजन किया जाता है ताकि लोगों के बीच भाईचारा और आपसी सौहार्द स्थापित किया जा सके I गांधीजी के शहीद दिवस के माध्यम से हमें प्रेरणा भी मिलती है कि किस प्रकार हम अपने देश के विकास में अपनी भूमिका का निर्वाह कर सकते हैं  I

शहीद दिवस पर सुविचार

दे सलामी इस तिरंगे को जिस से तेरी शान हैं,
सर हमेशा ऊँचा रखना इसका जब तक दिल में जान हैं।

इतनी सी बात हवाओं को बताये रखना,
रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना,
लहूँ देकर की है जिसकी हिफाजत हमने,
ऐसे तिरंगे को हमेशा अपने दिल में बसाये रखना

Shaheed Diwas 2023

जब तुम शहीद हुए थे
तो ना जाने कैसे तुम्हारी माँ सोई होगी
एक बात तो तय है
तुम्हे लगने वाली गोली भी सौ बार रोई होगी

फौजियों के लिए शहीद दिवस पर शायरी
मेरी जिंदगी में सरहद की कोई शाम आए
काश मेरी जिंदगी मेरे वतन के काम आए
ना खौफ है मौत का ना आरजू है जन्नत की
ख्वाईश बस इतनी सी है जब भी
जिक्र हो शहीदों का तो मेरा भी नाम आए

Shahid Diwas

अपनी आज़ादी को हम हरगिज
भुला नहीं सकते
सर कटा सकते है लेकिन सर झुका सकते नहीं
देश के शहीदों को शत् शत् नमन
भारत माता की जय

वतन वालों वतन ना बेच देना
ये धरती ये चमन ना बेच देना
शहीदों ने जान दी है वतन के वास्ते
शहीदों के कफन ना बेच देना

ना पूछो जमाने को
क्या हमारी कहानी है
हमारी पहचान तो सिर्फ ये है
की हम सिर्फ हिन्दुस्तानी है

लिख रहा हूँ मैं अंजाम जिसका कल आगाज आएगा
मेरे लहू का हर कतरा इंकलाब लाएगा
मैं रहू या ना रहूँ पर एक वादा है तुमसे मेरा
की मेरे बाद वतन पे मरने वालो का सैलाब आएगा

वतन की मोहब्बत में खुद को तपाये बैठे है,
मरेंगे वतन के लिए शर्त मौत से लगाये बैठे हैं।
देश के शहीदो को नमन
वो इश्क का आलम भी गजब रहा होगा
राझाँ जिसमे भगतसिंह और हीर जिसमे आज़ादी रही होगी

FAQ’s Shahid Diwas 2023

Q. 30 जनवरी को शहीद दिवस क्यों मनाया जाता है?

Ans. 30 जनवरी 1948 को गांधी जी को नाथूराम गोडसे ने गोली मारकर हत्या कर दी थी जिसके बाद देशभर में 30 जनवरी शहीद दिवस के रुप में मनाया जाता है ताकि हम गाने जी को सच्ची श्रद्धांजलि अर्पित कर सकते हैं I

READ  अंतर्राष्ट्रीय मानव बंधुत्व दिवस 2023 (International Human Fraternity Day) बंधुत्व दिवस थीम 2023

Q. गांधी जी की पुण्यतिथि कब है?

Ans. 30 जनवरी गांधी जी की पुण्यतिथि है I

Q. गांधी जी की मृत्यु कब हुई?

Ans. 30 जनवरी 1948 को गांधी जी की मृत्यु हुई I

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *