Martyrs Day 2024 | 30 जनवरी शहीद दिवस क्यों मनाया जाता है? महात्मा गांधी पुण्यतिथि 2024 (History & Significance)

Gandhi Punyatithi

30 January Shahid Diwas:- भारत देश हमेशा से ही वीरों की भूमि रहा है। इस देश में कई वीर सपूतों ने जन्म लिया है, और अपनी शहादत से इस देश की मिट्टी को पवित्र किया है। भारत में हर साल उन वीर शहीदों की याद में शहीद दिवस (Martyrs Day) मनाया जाता है। भारत में विभिन्न तारिखों पर शहीद दिवस (Martyrs Day) मनाने की परंपरा रही है। इनमें से प्रमुख तिथियां हैं, 23 मार्च जो कि भगत सिंह, राजगुरू, और सुखदेव से जुड़ी हुई हैं और दूसरी है 30 जनवरी। यह तिथि (Mahatma Gandhi) महात्मा गांधी जी से संबंधित है। 24 नवंबर को भी शहीद दिवस मनाया जाता है, जो कि गुरू तेग बहादुर जी से संबंधित है। शहीद दिवस की तारीख अलग-अलग हो सकती हैं, लेकिन शहीद दिवस की भावना एक ही रहती है।

हम भारतवासी अपने उन जाबांज क्रांतिकारियों को याद कर उनके लिए श्रध्दा सुमन अर्पित करने के लिए ही यह दिवस मनाते हैं। शहीद दिवस (Martyrs Day) वाले दिन जगह-जगह पर देशभक्ति कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इस दिन शहीदों से जुड़ी प्रस्तुतियां और भाषण दिए जाते हैं। इस दिन कई तरह की प्रतियोगिताएं जैसे कि कविता वाचन,निबंध लेखन, चित्रकला प्रतियोगिता आदि का आयोजन किया जाता है। इस लेख को हमने कई बिंदूओं के आधार पर तैयार किया है जैसे कि शहीद दिवस क्यों मनाया जाता है? शहीद दिवस कब है, Shahid Diwas 2023, शहीद दिवस किसकी याद में मनाया जाता हैं? 30 जनवरी को क्या हुआ था, शहीद दिवस कब से मनाया जा रहा है आदि। शहीद दिवस के बारे में सारी जानकारी के लिए इस लेख को पूरा पढ़े।

See also  Sushan Diwas 2022 | सुशासन दिवस कब मनाया जाता है, इतिहास व महत्व जाने

30 January Shahid Diwas 2024- Overview

टॉपिकशहीद दिवस क्यों मनाया जाता है
साल2024
लेख प्रकारआर्टिकल
दिवसशहीद दिवस (महात्मा गांधी पुण्यतिथि)
तिथि30 जनवरी
किसकी याद मेंमहात्मा गांधी जी
क्या हुआ थाहत्या
किसने मारानाथूराम गोडसे ने
तारीख30 जनवरी 1948
आवृत्तिप्रतिवर्ष
स्तरराष्ट्रीय स्तर

Also Read: गांधी जयंती पर निबंध हिंदी में

शहीद दिवस कब है? (Martyrs Day 2024)

महात्मा गांधी पुण्यतिथि 2024:- लोग अक्सर शहीद दिवस (Shaheed Diwas) को लेकर असमंजस में रहते हैं, कि यह किस दिन मनाया जाता है। दरअसल यह बड़े लेवल पर साल में दो बार अलग-अलग तारीखों पर मनाया जाता है। इसके अलावा कुछ और वजहों से भी एक-दो दिन और इसे मनाया जाता है। इसी वजह से लोगों में कंफ्यूजन की स्थिति रहती है। शहीद दिवस वाले दिन प्रमुख रूप से स्वतंत्रता सेनानियों को याद कर उन्हें श्रध्दांजलि दी जाती है। सबसे पहले भारत में 30 जनवरी को महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की याद में शहीद दिवस मनाया जाता है। इसके बाद 23 मार्च को भगत सिंह (Bhagat Singh), सुखदेव (Sukhdev) और राजगुरू (Rajguru) को श्रध्दांजलि देने के लिए शहीद दिवस का आयोजन किया जाता है। इसी दिन इन तीनों को फांसी की सजा दी गई थी। पंजाब सरकार (Government of Punjab) ने इसी शहीद दिवस पर अवकाश की घोषणा की है। 

भारत में शहीद दिवस अलग-अलग महापुरुषों की याज मे कई तारीखों पर मनाया जाता है। कुछ तिथि इस प्रकार हैं. 

  • 13 जुलाई को जम्मू-कश्मीर के महाराजा हरिसिंह (Maharaja Hari Singh) के निकट दर्शन करने पर शाही सैनिकों ने 22 लोगों की हत्या कर दी थी, इनकी याद में भी शहीद दिवस मनाया जाता है। 
  • 17 नवंबर को लाला लाजपत राय (Lala Lajpat Rai) की पुण्यतिथि के रूप में भी शहीद दिवस मनाया जाता है। इस दिन ओडिशा में शहीद दिवस मनाने की परंपरा है। 
  • 19 नवंबर को रानी लक्ष्मी बाई (Rani Lakshmi Bai) का जन्म हुआ था, इसलिए झांसी के लोग इस दिन शहीद दिवस मनाते हैं। 
  • 21 अक्टूबर के दिन साल 1959 में केंद्रीय पुलिस बल (Central Police Force) के जवान लद्दाख में चीनी सेना के एक एंबुश में शहीद हुए थे। इस वजह से पुलिस की ओर से भी इस दिन शहीद दिवस मनाया जाता है। 
See also  शहीद दिवस कब है? | 23 मार्च शहीद दिवस क्यों मनाया जाता हैं | 23 March Shaheed Diwas 2023

30 जनवरी शहीद दिवस किसकी याद में मनाया जाता हैं?

30 जनवरी 1948 को एक ऐसा हुआ, जिसने पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया था। यह घटना थी राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी की हत्या की, जिसने सभी को सुन्न कर दिया था। इस दिन नाथूराम गोडसे ने बिड़ला हाउस में गांधी जी के सीने में तीन गोलियां मारीं, जिससे गांधी जी की मौत हो गई थी। कुछ देर बाद नाथूराम गोड़से (Nathuram Godse) को गिरफ्तार कर लिया गया, तो सुनवाई के दौरान उसने गांधी जी पर दोष लगाया कि देश के विभाजन में उन्हीं का हाथ था। इस घटना ने सभी को झकझोर कर रख दिया था। इसी की याद में 30 जनवरी को शहीद दिवस के रूप में मनाया जाता है और गांधी जी को श्रध्दांजलि दी जाती है। 

30 जनवरी को क्या हुआ था? (30 January)

30 जनवरी 1948 की शाम 4 बजे का वक्त था। उस दिन गांधीजी ने सरदार पटेल (Sardar Patel) को बातचीत के लिए बुलाया था। पटेल अपनी बेटी मणिबेन (Maniben) के साथ तय वक्त पर गांधी जी से मिलने पहुंच गए थे। गांधी जी प्रार्थना सभा के बाद भी पटेल से वार्तालाप करना चाहते थे, इसलिए उन्हें वहीं रुकने के लिए कहा गया था। लेकिन प्रकृति को कुछ और ही मंजूर था। पटेल के साथ बैठक के बाद प्रार्थना के लिए जाते समय गोडसे ने गांधी जी पर एक के बाद एक गोलियां चला दीं। इससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई। 

शहीद दिवस कब से मनाया जा रहा है? Shahid Diwas Kab Hai?

शाम के समय नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) ने पहले गाथीजी के पैर छुए और इसके बाद तीन गोलियां उनके सीने में उतार दी थीं। जब गांधी जी की मृत्यु हुई तब उनकी उम्र 78 साल की थी। उन्हीं की याद में गांधीजी के अनुआयियों ने इस दिन को शहीद दिवस के रूप में चुना था। बापू की हत्या की एफआईआर भी उसी दिन यानी 30 जनवरी को दिल्ली के तुगलक रोड थाने में दर्ज की गई।FIR की कॉपी उर्दू में लिखी गई थी, जिसमें पूरी वारदात के बारे में बताया गया था। आज भी वह कॉपी संभालकर रखी गई है। 

See also  Indian Coast Guard Day 2023 (ICG) भारतीय तटरक्षक दिवस कब व क्यों मनाया जाता हैं?

FAQ’s 30 January Shahid Diwas 2024

Q. शहीद दिवस कब मनाया जाता है?

Ans. 30 जनवरी को हर साल भारत में शहीद दिवस मनाया जाता है। 

Q. 30 जनवरी को शहीद दिवस किसकी याद में मनाया जाता है?

Ans. महात्मा गांधी की याद में हर साल 30 जनवरी को शहीद दिवस मनाया जाता है।

Q. महात्मा गांधी की हत्या किसने की थी?

Ans. नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी की हत्या की थी। 

Q. शहीद दिवस क्यों मनाया जाता है?

Ans. महात्मा गांधी की हत्या को याद करने के लिए।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja