New year Poem in Hindi | न्यू ईयर पर कविता हिंदी में

By | दिसम्बर 30, 2022
New year Poem in Hindi

New Year Poem in Hindi:-  जैसा कि आप लोग जानते हैं कि 2022 का साल समाप्ति की ओर है और अब हम सभी लोग बेसब्री से नए साल 2023 का इंतजार कर रहे हैं ताकि 2023 में अपने दोस्तों और परिवार के साथ नया साल मनाया जा सके ऐसे में अगर आप भी न्यू ईयर के ऊपर कविता लिखना चाहते हैं लेकिन आपको समझ में नहीं आ रहा है कि आप किस प्रकार एक बेहतरीन कविता नए साल के ऊपर लिख सकते हैं अगर आप इसके बारे में जानने के इच्छुक हैं तो हम आपसे निवेदन करेंगे कि हमारे आर्टिकल पर आखिर तक बने रहिए चलिए शुरू करते हैं-

New Year Poem in Hindi 2023

Happy New year 2023Similar Content Link
नव वर्ष हार्दिक शुभकामनाएं सन्देशक्लिक करें
Happy New Year Wishes for Family and Friendsक्लिक करें
 हैप्पी न्यू ईयर व्हाट्सएप स्टेटसक्लिक करें
हैप्पी न्यू ईयर कोट्स हिंदी मेंक्लिक करें
हैप्पी न्यू ईयर शायरी हिंदीक्लिक करें
नव वर्ष सुविचार हिंदी मेंक्लिक करें
न्यू ईयर पर कविता हिंदी मेंक्लिक करें
31 दिसंबर पर शायरीक्लिक करें

New Year Poem

नए वर्ष में नई पहल हो।
कठिन ज़िंदगी और सरल हो।।
अनसुलझी जो रही पहेली।
अब शायद उसका भी हल हो।।
जो चलता है वक्त देखकर।
आगे जाकर वही सफल हो।।
नए वर्ष का उगता सूरज।
सबके लिए सुनहरा पल हो।।
समय हमारा साथ सदा दे।
कुछ ऐसी आगे हलचल हो।।
सुख के चौक पुरें हर द्वारे।
सुखमय आँगन का हर पल हो।।

आरंभ का अंत हो जाना नया साल है!
गिनती का नंबर बदल जाना नया साल है !
वर्तमान का इतिहास बन जाना नया साल है !
उदये होते हुये सूरज का ढल जाना नया साल है !
खिल के फूल का डाल से उतर जाना नया साल है !
दे के जनम मां का आंचल ममता से भर जाना नया साल है !
एक दर्द भूल कर सुख को पेहचान जाना नया साल है !

सुनहरे सपनों की झंकार, लाया है नववर्ष
खुशियों के अनमोल उपहार लाया है नववर्ष
आपकी राहों में फूलों को बिखराकर लाया है नववर्ष
महकी हुई बहारों की ख़ुशबू लाया है नववर्ष
अपने साथ नयेपन का तूफान लाया है नववर्ष
स्नेह और आत्मीयता से आया है नववर्ष
सबके दिलों पर छाया है नववर्ष
आपको मुबारक हो दिल की गराईयों से नववर्ष।

New Year Kavita in Hindi

सुनहरे पलों की झंकार,
ले कर आया नया साल।
रंग बिरंगे फूलों की खुशबू,
ले कर आया नया साल।
उमंगों का अनमोल उपहार,
ले कर आया नया साल।
उम्मीदों का नया सवेरा,
ले कर आया नया साल

नए साल में नई पहल हो,
कठिन जिंदगी और सरल हो,
जो चलता है वक्त देख कर,
आगे जा कर वही सफल ही,
नए वर्ष का उगता सूरज,
सबके लिए सुनहरा पल हो,
समय हमारा सदा साथ दे,
आगे कुछ ऐसी हलचल हो,
अनसुलझी रह गई जो पहेली,
उसका भी अब हल हो,
नए साल में नई पहल हो,
कठिन जिंदगी और सरल हो

New Year Poem in Hindi

अभिनंदन नववर्ष तुम्हारा
है उल्लासित फिर जग सारा
नई डगर है नया सवेरा, खुशियों से भरा नज़ारा
अभिनंदन नववर्ष तुम्हारा ….
ओस सुबह की है फिर चमकी, बिखरा करके छ्टा निराली
चेहरे दमके बगियाँ महकी, घर घर होली और दीवाली
फिर खिलकर फूल सतरंगे, हो प्रतिबिंबित तब सरिता में
प्रकृति को क्या खूब सँवारा…..
अभिनंदन नववर्ष तुम्हारा ….
हो उत्साहित गोरन्वित हम, लिए सोच में वही नयापन
निकल पड़े कुछ कर पाने को, नई दिशाएँ दर्शाने को
कर पाऊँ हर सपने को सच, जो तुम थामो हाथ हमारा ….
अभिनंदन नववर्ष तुम्हारा ….

नव वर्ष के आगमन पर
प्रेम गीत गाएं
सहज सरल मन से
सब को गले लगाए
उंच नीच भेद भाव के
अंतर को मिटाएं
नव वर्ष के आगमन पर
प्रेम गीत गाएं
शिक्षा का उजियारा हम
घर घर पहुंचाएं
पर्यावरण की चिंता करे
पेड़ फिर लगाए
नव वर्ष के आगमन पर
प्रेम गीत गाएं
स्वच्छता अभियान को
समझें समझाएं
योग प्राणायाम कर स्वस्थ
हम हो जाएं
नव वर्ष के आगमन पर
प्रेम गीत गाएं
देश प्रेम का जज्बा सभी
जन मन में लाएं
माँ भारती के चरणों में
शीश सब झुकाएं
नव वर्ष के आगमन पर
प्रेम गीत गाएं

Happy New Year Poem in Hindi

नए साल के नए अवसर पर
अपने मन से सारे भेदभाव मिटाएं,
रिश्तों में मिठास लाकर
थोड़े नए रिश्ते बनाएं,
दिल की कठोरता को दूर कर
कोमलता की चादर ओढाएं,
मन को चांद की भांति सुंदर बनाकर
हर जीव के प्रति दया भाव जगाएं।

नव वर्ष का नया अवसर है
मन की उदासियों को दूर कर
खुशियों के फूल खिलाएं,
असफलताओं को छोड़ पीछे
नए लक्ष्यों को अपने मन में जगाएं,
बीत गया जो बुरा वक्त
उसे भूल कर नहीं सपनों को सजाएं,
दुआ करता हूं भगवान से
इस नए साल पर आप अपने
हर लक्ष्य को पूरा कर पाएं।

असफलता की चुनौती को स्वीकार करो,
नींद चैन को त्याग कर खुद को
आगे बढ़ने के लिए तैयार करो,
आती है कोई मुश्किल तो
अपनी कड़ी मेहनत से वार करो,
संघर्ष का मैदान मत छोड़ो तुम
नये वर्ष में नई जय-जयकार करो।
कोशिशों की गाड़ी से कभी ना उतरो
सदा बने रहो अपनी मंजिल के मुसाफिर,
आपकी लगन और परिश्रम के आगे
हर मुश्किल हार जाएगी,
मेहनत को बनाओ अपना ब्रह्मास्त्र
हर सफलता आपकी झोली में आ जाएगी।
नए साल 2023 की मुबारक हो!

कड़ी मेहनत और लगन से
पूरा करो अपना हर काम,
सफलता के पथ पर
आपका भी होगा नाम।
नए वर्ष का नव अवसर है
लक्ष्य की तरफ उठाओ अपने कदम,
हार जीत की बाजी में
जी जान से लगाओ से लगाओ अपना दम,
मुश्किलों की जंजीरों को तोड़ कर
हौसलों से आगे बढ़ा हुआ हुआ अपने कदम।

Poem on New Year

नया साल है तो
नया बनाए अपना हर सवेरा,
रिश्तो को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाएं
इस दुनिया में कुछ नहीं है मेरा,
न ही कुछ है तेरा।
दिलों को एक-दूसरे से जोड़कर
बढ़ाएं अपनेपन का एहसास,
नई साल में नई सोच और
नई उमंग से रखें नया विश्वास,
इंसानियत का पाठ कभी ना भूलें
सदा मर्यादा को रखें अपने पास,
बिना शर्त और समर्पण के
दुनिया के हर बंधन को बनाएं खास।
चाहे कैसी भी आ जाए मजबूरी,
आधुनिकता की आंधी में
अपनों से ना बनाएं दूरी,
प्रेम की परिभाषा को रखें
सदा दिल के पास,
हर रिश्ता मधुर होगा
हर रिश्ता होगा खास,
नए साल के नए अवसर नए अवसर पर
बढ़ाएं अपनों से ही एहसास। Happy New Year 2023

अगर जीवन को बनाना है
खुशियों की झोपड़ी,
तो पहले सुधारनी होगी अपनी खोपड़ी,
नया साल है तो नया माइंडसेट बना कर
मन में बांधनी होगी लक्ष्यों की लड़ी,
जीवन की मुसीबतों को झेलना होगा
तभी सफलता होगी तेरे सामने खड़ी,
दुआ करता हूं भगवान से
नए वर्ष में में जीवन में हो
खुशियों की नई झड़ी।

मन में है कोई कमजोरी
तो दो उसे हौसलों का सहारा,
वाहनों को बनाना छोड़ दो वरना
जीवन बर्बाद हो जाएगा सारा,
नए साल में नए अवसरों की
नई उम्मीदों से बढ़ाओ अपना पारा,
कोशिशों का रंग दिखेगा एक दिन
संसार में मुकाम होगा आपका न्यारा,
मेहनत को फीकी मत रखना
नए जोश के साथ नए साल को
बनाना और ज्यादा प्यारा।

नए साल पर कविता

नन्हे नन्हे पांव से
आ रहा है
नव वर्ष
अतीत की स्मृतियां
वर्तमान का सुख
और
भविष्य की उज्जवल
कामनाओं के संग
सुनहरे अर्श का
सुनहरा स्पर्श करवा रहा है
नव वर्ष
हो हर्ष – सर्वत्र उत्कर्ष
नव तरंगों से नव उमंगों से
नव युग में नव आधार धर
नव श्रृंगार कर रहा है नव वर्ष

आया नया साल
झिलमिल सितारे ले के
आया नया साल
सुबह सवेरे स्वर्ण पथ पे
आया नया साल

उज्जवल भविष्य की
स्वर्णिम कामनाएं
सपने साकार करने
नए साल का, नया सवेरा,
जब, अंबर से धरती पर उतरे,
तब शांति, प्रेम की पंखुड़ियां,
धरती के कण-कण पर बिखरे,
चिड़ियों के कलरव गान के संग,
मानवता की शुरू कहानी हो,
फिर न किसी का लहू बहे,
ना किसी आंख में पानी हो,
शबनम की सतरंगी बूंदे,
बरसे घर-घर द्वार,
मिटे गरीबी भुखमरी,
नफरत की दीवार,
ठंडी-ठंडी पवन खोल दे,
समरसता के द्वार,
सत्य, अहिंसा और प्रेम,
सीखे सारा संसार,
नव वर्ष की मंगल कामनायें।

READ  बालिका दिवस पर शायरी | Balika Diwas Shayari in Hindi 
इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *