National Safe Motherhood Day 2023: Date, History, Significance, Theme | राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस कब व क्यों मनाया जाता है

National Safe Motherhood Day

National Safe Motherhood Day गर्भावस्था, प्रसव और प्रसवोत्तर सेवाओं के दौरान देखभाल की पर्याप्त पहुंच की ओर ध्यान बढ़ाने के लिए व्हाइट रिबन एलायंस (डब्ल्यूआरएआई)  द्वारा शुरु की गई एक पहल है। राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस हर साल 11 अप्रैल को कस्तूरबा गांधी जयंती के रूप में मनाया जाता है।कस्तूरबा गांधी देश के राष्ट्र पिता मोहन दास करम चंद गांधी की पत्नी थी। दरअसल, ज्यादातर मामलों में मातृ मृत्यु को रोका जा सकता है। यदि महिलाओं की स्वास्थ्य सेवा तक पहुंच है, तो वे समस्याओं के उत्पन्न होने से पहले ही उनसे बच सकती हैं या उनका उपचार कर सकती हैं। गर्भवती महिलाओं के साथ-साथ जिन महिलाओं ने बच्चे को जन्म दिया है, उन्हें चिकित्सा उपचार की आवश्यकता के बारे में जागरूक करने के उद्देश्य से भी इस दिन को मनाया जाता है। बच्चा होना जितना खुशियों से भरा होता है और उतनी ही इसके साथ चुनौतियां सामने आती है। जो भी महिला गर्भ धारण की हुई है उसके लिए हर समय आरामदायक हो इसका जितना हो सके हमें प्रयास करना चाहिए। सभी जरूरी दिवस के जैेसे राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस भी हर साल थीम के साथ मनाया जाता है जिसके इर्द गिर्ध पूरा कार्यक्रम और आयोजन केंद्रित होता है। साल 2023 की राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस की थीम क्या होगी , इसके बारे में आगे लेख में बताया गया है। वहीं राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस क्या है, इसका महत्व क्या है, राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस उद्देश्य क्या है इन सभी सवालों के जबाव इस लेख में उपलब्ध कराएं गए है, इस लेख को पूरा पढ़े और राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस के बारे में डिटेल में जानें।

 

National Safe Motherhood Day 2023

टॉपिक राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस 2023
लेख प्रकार आर्टिकल
साल 2023
राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस 11 अप्रैल
वार मंगलवार
कहां मनाया जाता है भारत में
अवर्ती हर साल
मातृ मृत्यु अनुपात को कम मातृ मृत्यु अनुपात को कम करना
कस्तूरबा बाई गांधी जयंती  11 अप्रैल

Also Read: Hanuman jayanti 2023 date tithi shubh muhurat and puja vidhi

राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस क्या है? | National Safe Motherhood Day 

राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस हर साल 11 अप्रैल को मनाया जाता है। भारत में गर्भावस्था में देखभाल और प्रसव के दौरान कुशल देखभाल और जन्म के बाद पहले कुछ हफ्तों के महत्व को महत्व दिया जाता है। राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस का मुख्य उद्देश्य बेहतर चिकित्सा देखभाल प्रदान करना है। क्योंकि मातृ मृत्यु अनुपात को कम करने के लिए जो कि गर्भावस्था या प्रसव संबंधी जटिलताओं के कारण होता है, उसे रोकना है। 11 अप्रैल को राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस घोषित करने वाला भारत पहला देश था। प्रसव पूर्व और प्रसवोत्तर देखभाल और महिलाओं की आवश्यकताओं के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए यह दिन मनाया जाता है। National Safe Motherhood Day पहली बार (WRAI) व्हाइट रिबन एलायंस द्वारा प्रस्तावित किया गया था। 11 अप्रैल को कस्तूरबा गांधी के जन्मदिन के अवसर को भारत सरकार द्वारा 2003 में WRAI द्वारा प्रस्तावित राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस के रूप में नामित किया गया था। जिसके बाद से हर साल 11 अप्रैल को राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस मनाया जाने लगा। हम आपको बता दें कि 2018 के सबसे हालिया आंकड़ों से पता चलता है कि भारत में हर साल 26 हजार मातृ मृत्यु होती है। इसलिए उचित शिक्षा और जागरूकता के परिणामस्वरूप मातृ मृत्यु में कमी आई है,जिससे स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली को बढ़ावा मिला है।

See also  50+सुभाष चन्द्र बोस के अनमोल वचन | Subhash Chandra Bose Quotes in Hindi

राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस 2023 | National Safe Motherhood Day 2023

National Safe Motherhood Day हर साल 11 अप्रैल को मनाया जाता है। यह व्हाइट रिबन एलायंस इंडिया (WRAI) की एक पहल है। यह दिन महिलाओं की प्रसवपूर्व और प्रसवोत्तर देखभाल और आवश्यकताओं के बारे में जागरूकता पैदा करने और बढ़ाने के लिए मनाया जाता है। भारत दुनिया का पहला ऐसा देश है जिसने सामाजिक रूप से राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस घोषित किया है। White Ribbon Alliance (डब्ल्यूआरएआई) ने गर्भावस्था, प्रसव और सेवाओं के बाद देखभाल के लिए पर्याप्त पहुंच के महत्व के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देने के लिए एक अभियान शुरू किया है। मातृत्व सबसे अच्छी और सबसे खतरनाक चीज है दोनों ही है,जो बहुत सारी जिम्मेदारी के साथ आता है, इसलिए गर्भ धारण करने वाली माताओं का ध्यान रखना ना सिर्फ सरकार बल्कि समाज के हर एक व्यक्ति की जिम्मेदारी है। यह दिन महिलाओं में एनीमिया को कम करने, संस्थागत प्रसव, बेहतर पूर्व और प्रसवोत्तर स्वास्थ्य देखभाल जैसे बिंदूओं पर भी ध्यान केंद्रित होता है जो महिलाओं और गर्भधारण की गई माताओं के के लिए आवश्यक हैं।

Also read: World Health Day 2023 | विश्व स्वास्थ्य दिवस कब व क्यों मनाया जाता है

National Safe Motherhood Day Theme: थीम

हर साल डब्ल्यूआरएआई(WRAI) के सदस्य एक थीम का चयन करते हैं और गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए मातृत्व सुविधाओं और उचित स्वास्थ्य देखभाल के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए कार्यक्रम, आयोजन और गतिविधियों का आयोजन किया जाता है, जो कि तय की गई थीम पर ही केंद्रीत होता है। WRAI द्वारा आयोजित इन गतिविधियों का लक्ष्य जागरूकता बढ़ाना है कि प्रत्येक महिला को गर्भावस्था और प्रसव के दौरान जीने और जीवित रहने का अधिकार है। साल 2023 को मनाएं जाने वाला National Safe Motherhood Day भी एक थीम के साथ मनाया जाएगा, जिसको सरकार द्वारा अभी घोषित नहीं किया गया हैं।

See also  Swami Vivekananda Quotes in Hindi | इस विवेकानंद जयंती पर पढ़े स्वामी विवेकानंद कोट्स हिंदी में

National Safe Motherhood Day Objectives: उद्देश्य

 National Safe Motherhood Day मनाने का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि प्रत्येक महिला को जीवन का अधिकार है और वह गर्भावस्था और प्रसव के दौरान जीवित रहने में सक्षम है। यह दिन बाल विवाह को रोकने के महत्व के बारे में जागरूकता को भी बढ़ावा देता है, क्योंकि बाल विवाह मातृ मृत्यु का एक अप्रत्यक्ष कारण हो सकता है। प्रत्येक महिला को गर्भावस्था और प्रसव के दौरान और बाद में पर्याप्त पोषण और उचित स्वास्थ्य सेवाओं का अधिकार है। सुरक्षित मातृत्व का मतलब यह सुनिश्चित करना है कि सभी महिलाओं को गर्भावस्था और प्रसव के दौरान सुरक्षित और स्वस्थ रहने के लिए आवश्यक देखभाल मिले। WRAI के अनुसार, “गर्भावस्था और प्रसव के दौरान और बाद में अच्छी गुणवत्ता वाला पोषण, उचित स्वास्थ्य सेवाएं लेना हर महिला का अधिकार है”। यह बाल विवाह को समाप्त करने का भी आह्वान करता है क्योंकि यह मातृ मृत्यु का एक अप्रत्यक्ष कारण हो सकता है।

Importance of National Safe Motherhood Day: महत्व

World health organization के आंकड़ों के अनुसार, गर्भावस्था और प्रसव से संबंधित परिहार्य कारणों से प्रतिदिन लगभग 800 से ज्यादा महिलाओं की मृत्यु होती है। र्राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस का उद्देश्य “सुरक्षित मातृत्व” सुनिश्चित करने के लिए सभी गर्भवती माताओं के लिए उच्च गुणवत्ता वाली देखभाल के बारे में जागरूकता प्रदान करना है। इसमें अन्य लक्ष्यों के साथ-साथ माताओं के लिए प्रसव पूर्व और प्रसवोत्तर स्वास्थ्य देखभाल सुविधाएं, प्रसव के दौरान समय पर प्रबंधन और उपचार और कुशल स्वास्थ्य पेशेवरों द्वारा जन्म सहायता शामिल हैं। गरीब देशों में मातृ मृत्यु दर 99 प्रतिशत तक पहुंच सकती है। क्योंकि प्रसव से पहले, उसके दौरान और उसके बाद पेशेवर उपचार महिलाओं और नवजात शिशुओं के जीवन को बचा सकता है, अधिकारियों ने निर्धारित किया कि मृत्यु दर को रोकने के लिए महिलाओं को शिक्षित करने के लिए एक कार्यक्रम आवश्यक था। इस दिवस को मनाने का लक्ष्य मातृ मृत्यु दर को प्रति 100,000 जीवित जन्मों पर 70 से कम करने के सतत विकास लक्ष्यों को पूरा करने के लिए जागरूकता पैदा करना और सभी को एक साथ लाना है।

See also  राष्ट्रीय बॉयफ्रेंड दिवस कब, क्यों और कैसें मनाया जाता है? National Boyfriend Day 2023 | जाने इतिहास, महत्व और शायरी व हार्दिक शुभकामनाएं सन्देश (Quotes Photos)

Also read: Rajasthan Diwas 2023 | राजस्थान दिवस कब व क्यों मनाया जाता है। 

National Safe Motherhood Day FAQ

Q. हर साल राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस कब मनाया जाता है ?

Ans. हर साल 11 अप्रैल को राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस मनाया जाता है।

Q. राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस मनाने के पीछे का कारण?

Ans. राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस मनाने के पीछे का कारण है कि गर्भावस्था और प्रसव में सभी महिलाओं की सुरक्षा और स्वास्थ्य सुनिश्चित करना। 

Q. राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस कब से मनाया जा रहा है ?

Ans. साल 2003 से हर साल राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस  मनाया जा रहा है।

Q. राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस कहा मनाया जाता है ?

Ans. राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस हर साल 11 अप्रैल को भारत में मनाया जाता हैं।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja