विज्ञान दिवस पर निबंध हिंदी में | Essay On Science Day in Hindi (Download PDF)

Essay On Science Day in Hindi

Science Day Essay in Hindi: राष्ट्रीय विज्ञान दिवस ( National Science day) हर साल 28 फरवरी को मनाया जाता है। यह दिन प्रसिद्ध भारतीय भौतिक विज्ञानी सर सीवी रमन की ‘रमन प्रभाव’ की खोज का जश्न मनाने का दिन है। इसके अलावा, विज्ञान दिवस एक ऐसा दिन हैं। जहां लोग विज्ञान और हमारे जीवन पर इसके प्रभाव के बारे में जान सकते हैं। विज्ञान दिवस पर, विज्ञान को बढ़ावा देने और लोगों को व्यावहारिक प्रयोगों में भाग लेने का अवसर देने के लिए दुनिया भर में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। पहली बार विज्ञान दिवस 1987 में मनाया गया था। विज्ञान दिवस पूरे देश में स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में मनाया जाता है। राष्ट्रीय विज्ञान दिवस अनुसंधान संस्थानों, मेडिकल कॉलेजों और विज्ञान संस्थानों में भी मनाया जाता है।

ऐसे में यदि आप एक छात्र हैं और विज्ञान दिवस के ऊपर एक बेहतरीन निबंध लिखना चाहते हैं लेकिन आपको समझ में नहीं आ रहा है कि आप Science Day Essay in Hindi कैसे लिखेंगे उससे संबंधित जानकारी आज के आर्टिकल में Science Day Essay in Hindi से जुड़ी जानकारी आपके साथ साझा करेंगे आईए जानते हैं:- 

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर निबंध | National Science Day Essay

हर साल 28 फरवरी को भारत राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाता है। यह दिन 28 फरवरी 1928 को “रमन प्रभाव” की खोज की याद दिलाता है। सीवी रमन ने ‘रमन प्रभाव’ की खोज की और 1930 में नोबेल पुरस्कार प्राप्त किया। राष्ट्रीय विज्ञान दिवस राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार परिषद (एनसीएसटीसी) के अनुरोध पर मनाया जाता है। स्कूलों ने विज्ञान से संबंधित विभिन्न कार्यक्रम आयोजित करके इस दिन को मनाया।इंजीनियरिंग और साइंस कॉलेजों में यह दिन महत्वपूर्ण स्थान रखता है।  इस दिन सरकार विज्ञान के प्रति उत्साही लोगों को पुरस्कार और पुरस्कार भी वितरित करती है। 1987 में भारत ने पहला राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया। National Science Day हमारे दैनिक जीवन में विज्ञान के महत्व को भी बढ़ावा देता है। विज्ञान दिवस लोगों को वैज्ञानिक अनुसंधान में अधिक योगदान देने के लिए भी प्रोत्साहित करता है।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस निबंध | National Science Day Nibandh

लेख का नामविज्ञान दिवस
लेख का प्रकारनिबंध
कब मनाया जाता है28 फरवरी
किस लिए मनाया जाता हैसीवी रमन की खोज के लिए
डॉ. सीवी रमन ने क्या खोजा थारमन प्रभाव
सबसे पहले कब मनाया गया था28 फरवरी 1987
विज्ञान दिवस की घोषणा कब हुई1986
विश्व विज्ञान दिवस कब है?10 नवंबर

प्रस्तावना: 

1928 में सर सीवी रमन द्वारा ‘रमन प्रभाव’ की खोज की याद में हर साल 28 फरवरी को भारत में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया जाता है। इस खोज के लिए सर सीवी रमन को भौतिकी में 1930 का नोबेल पुरस्कार भी मिला

See also  National Girl Child Day 2024 | राष्ट्रीय बालिका दिवस कब, क्यों, कैसे मनाया जाता है? इतिहास, महत्व और थीम

विज्ञान दिवस क्यों मनाया जाता है?

Science Day Kyu Mananya Jata Hai: 28 फरवरी 1928 को, महानतम भारतीय भौतिकविदों में से एक, सर सीवी रमन ने प्रकाश के प्रकीर्णन पर अपनी उपन्यास खोज की घोषणा की, जिसे ‘रमन प्रभाव’ के रूप में जाना जाता है। यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण खोज थी | जिसके कारण उन्हें 1930 में नोबेल पुरस्कार मिला। राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार परिषद (एनसीएसटीसी) ने 1986 में भारत सरकार से 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रूप में मनाने का अनुरोध किया। 

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस का इतिहास क्या है? (Science Day History)

पहला राष्ट्रीय विज्ञान दिवस 1987 में मनाया गया था। सर सीवी रमन की महत्वपूर्ण खोज के लगभग छह दशक बाद, राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार परिषद (एनसीएसटीसी) ने 1986 में सरकार से 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रूप में घोषित करने का अनुरोध किया था। इसलिए, 1987 से शुरू होकर, राष्ट्रीय विज्ञान दिवस हर साल भारतीय स्कूलों, कॉलेजों, विश्वविद्यालयों और अन्य प्रासंगिक स्थानों में मनाया जाता है।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस कैसे मनाया जाता है?

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पूरे भारत में व्यापक रूप से मनाया जाता है। स्कूल और कॉलेज अत्यधिक उत्साह और जोश के साथ भाग लेते हैं। मुख्यतः इंजीनियरिंग और विज्ञान महाविद्यालयों में प्रदर्शनियाँ आयोजित की जाती हैं और छात्र विज्ञान और प्रौद्योगिकी के विकास और उपयोग पर चर्चा करते हैं।सरकार किसी न किसी तरह से विज्ञान और प्रौद्योगिकी को बढ़ावा देने में शामिल व्यक्तियों और संगठनों को  विज्ञान संबंधित पुरस्कार उन्हें प्रदान करती हैं।

विज्ञान दिवस पर संक्षिप्त भाषण | Short Speech On Science Day

विज्ञान दिवस भारत में विज्ञान और प्रौद्योगिकी का एक वार्षिक उत्सव है। राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पहली बार भारत में 1987 में मनाया गया था। इसके अतिरिक्त, विज्ञान दिवस देश भर में स्कूलों, कॉलेजों, सरकारी एजेंसियों, विश्वविद्यालयों आदि सहित विभिन्न सेटिंग्स में मनाया जाता है। अनुसंधान संस्थान, मेडिकल स्कूल और विज्ञान संस्थान सभी राष्ट्रीय विज्ञान में भाग लेते हैं। इस दिन स्कूल और विश्वविद्यालय में विज्ञान दिवस से संबंधित कई प्रकार के प्रतियोगिता आयोजित किए जाते हैं जिसमें अच्छा प्रदर्शन करने वाले छात्रों को पुरस्कार दिया जाता हैं। 

Also Read: राष्ट्रीय बालिका दिवस कब, क्यों, कैसे मनाया जाता है?

विज्ञान दिवस भाषण | Science Day Speech 

प्रिय विशिष्ट अतिथियों, सम्मानित वैज्ञानिकों और मेरे साथी नागरिकों,

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के इस महत्वपूर्ण अवसर पर आपको संबोधित करते हुए मुझे गर्व महसूस हो रहा है। इस दिन, हम भारत के सबसे प्रसिद्ध भौतिकविदों में से एक, सर सीवी रमन द्वारा रमन प्रभाव की खोज का जश्न मनाते हैं, जिनके काम ने हमारे देश और उसके बाहर वैज्ञानिकों की पीढ़ियों को  विज्ञान के क्षेत्र में करियर बनाने के लिए प्रोत्साहित किया था।  रमन प्रभाव एक अभूतपूर्व खोज थीं।  जिसने आधुनिक भौतिकी के विकास का मार्ग प्रशस्त किया और वैज्ञानिक अनुसंधान की दिशा बदल दी। इस खोज ने   सर सीवी रमन को भौतिकी में नोबेल पुरस्कार दिलाया बल्कि भारत को वैश्विक वैज्ञानिक मानचित्र पर स्थापित करने का भी काम किया था।

See also  International Picnic Day | अंतरराष्ट्रीय पिकनिक दिवस 2023 | इतिहास, थीम, महत्व (History, Theme, Importance)

 जो हर एक भारतीयों के लिए गौरव की बात थीं। विज्ञान हमारे समाज और अर्थव्यवस्था के विकास के लिए आवश्यक है। यह वह इंजन है जो स्वास्थ्य देखभाल, कृषि, ऊर्जा और शिक्षा सहित विभिन्न क्षेत्रों में नवाचार और प्रगति को संचालित करता है। वैज्ञानिक अनुसंधान में जलवायु परिवर्तन से लेकर गरीबी और असमानता तक, आज हमारी दुनिया के सामने आने वाली कुछ सबसे गंभीर चुनौतियों का समाधान करने की शक्ति है।

इस राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर, आइए हम वैज्ञानिक अनुसंधान और नवाचार समर्थन करें आइए हम युवाओं को विज्ञान और प्रौद्योगिकी में करियर बनाने के लिए प्रोत्साहित करें और उन्हें उत्कृष्टता हासिल करने के लिए आवश्यक संसाधन और बुनियादी ढांचा प्रदान करें।  अंत में, मैं इस राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर सभी वैज्ञानिकों, शोधकर्ताओं और नवप्रवर्तकों को अपनी हार्दिक शुभकामनाएं देना चाहता हूं। आपका कार्य हम सभी के लिए बेहतर भविष्य के निर्माण के लिए  महत्वपूर्ण हैं। इन शब्दों के माध्यम से मैं अपने भाषण का समापन कर रहा हूं |

विज्ञान दिवस पर भाषण | Speech On Science Day 

आदरणीय प्रधानाचार्य, शिक्षकगण और मेरे प्यारे दोस्तों, सभी को सुप्रभात

माननीय अतिथियों और मेरे प्यारे दोस्तों, राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के बारे में बोलने का इतना बड़ा अवसर पाकर मैं बेहद सम्मानित महसूस कर रहा हूँ। सबसे पहले सभी वैज्ञानिकों एवं विज्ञान प्रेमियों को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं। भारत में हर साल 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया जाता है। लेकिन सवाल यह है कि हम यह दिवस क्यों मनाते हैं? इसका उद्देश्य क्या है? दोस्तों, यह दिन विज्ञान के क्षेत्र में सर चंद्र शेखर वेंकट रमन के समृद्ध और चिरस्थायी योगदान को बड़े गर्व के साथ याद करने के लिए मनाया जाता है। इसी दिन सर सीवी रमन ने वर्ष 1928 में  रमन प्रभाव की खोज की थी सीवी रमन युवा दिमागों के लिए एक महान प्रेरणा हैं, सर सीबी रमन द्वारा किए गए आविष्कार का सम्मान करने के लिए, हर साल 28 फरवरी को पूरे देश में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रूप में मनाया जाता है। विज्ञान के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए सर रमन को वर्ष 1930 में भौतिकी में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

See also  Friendship Day 2023: फ्रेंडशिप डे कब है? फ्रेंडशिप डे, जानें इतिहास, महत्व व थीम(History, Importance, Theme)

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस हमारे वैज्ञानिकों की प्रतिभा और दृढ़ता को सलाम करने का एक अवसर है।  यह दिन लोगों को विज्ञान से जुड़े सभी मुद्दों पर चर्चा करने और विज्ञान के क्षेत्र में विकास के लिए नई तकनीकों को लागू करने के लिए प्रोत्साहित करता है। हर साल राष्ट्रीय विज्ञान दिवस एक थीम के अनुसार मनाया जाता है जो विज्ञान के महत्व के बारे में संदेश फैलाता है। 2024 में विज्ञान दिवस का थीम Science for a Sustainable Future”. घोषित किया गया है उसके अनुरूपी 2024 में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया जाएगा। मैं अपने भाषण का समापन विज्ञान दिवस संबंधित Quote किसी भी देश की उन्नति के लिए सबसे ज्यादा योगदान विज्ञान का होता है।

विज्ञान दिवस पर निबंध PDF Download:

शिक्षण संस्थानों में विज्ञान दिवस 2024 पर निबंध लेखन प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती हैं। ऐसे में निबंध PDF फॉर्मेट में उपलब्ध हो तो बहुत अच्छा हो। प्रस्तुत है आपके लिए राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर निबंध PDF फॉर्मेंट में आप इसे डाउनलोड कर सकते है।

Summary 

उम्मीद करता हूं कि हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल आपको पसंद आएगा आर्टिकल संबंधित अगर आपका कोई भी सुझाव या प्रश्न है तो आप हमारे कमेंट सेक्शन में जाकर पूछ सकते हैं। तब तक के लिए धन्यवाद और मिलते हैं अगले आर्टिकल में 

FAQ’s: Science Day Nibandh in Hindi

Q. राष्ट्रीय विज्ञान दिवस 28 फरवरी को क्यों मनाया जाता है?

Ans.भारत सरकार ने 1986 में 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस (एनएसडी) के रूप में नामित किया था। इस दिन सर सीवी रमन ने ‘रमन प्रभाव’ की खोज की घोषणा की थी जिसके लिए उन्हें 1930 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इस अवसर पर विषय-आधारित विज्ञान पूरे देश में संचार गतिविधियाँ चलायी जाती हैं। 

Q. पहला राष्ट्रीय विज्ञान दिवस कब मनाया गया था?

1986 में, राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार परिषद (एनसीएसटीसी) ने केंद्र से 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रूप में नामित करने का अनुरोध किया। यह दिन पहली बार 28 फरवरी 1987 को मनाया गया था। इसी दिन वैज्ञानिक चन्द्रशेखर वेंकट रमन ने रमन प्रभाव की खोज की थी।

Q. 2024 में विज्ञान दिवस कब मनाया जाएगा? 

Ans. 2024 में विज्ञान दिवस 28 फरवरी को मनाया जाएगा।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja