ads

Bhai Dooj 2023 | भाई दूज क्यों, कब और कैसे मनाई जाती हैं भाई दूज की कहानी

By | नवम्बर 9, 2023
Follow Us: Google News

Bhai Dooj 2023:- जैसा कि आप लोग जानते हैं कि गोवर्धन पूजा के 1 दिन बाद ही यानी 26 अक्टूबर को भारत में भाई दूज मनाया जाएगा . इस पूजा का विशेष महत्व है यह त्योहार बहने विशेष तौर पर अपने भाइयों की लंबी उम्र के लिए व्रत रखती हैं ताकि जीवन के भाइयों की उम्र लंबी हो सके इस पूजा को काफी हर्षोल्लास और धूमधाम के साथ भारत के प्रत्येक राज्य में मनाया जाएगा . ऐसे में आपके मन में सवाल आता होगा कि भैया दूज कब है क्यों मनाई जाती है कैसे बनाई जाती है शुभ मुहूर्त पूजा विधि भाई दूज की कहानी भाई दूज की कथा ऐसे तमाम सवालों के जवाब अगर आप जानना चाहते हैं तो हमारे पोस्ट पर आकर तक बने रहे चलिए शुरू करते हैं I

Bhai Dooj 2023- Overview

त्यौहार का नामभाई दूज 2023
साल2023
कब मनाया जाएगा14 November को
कहां मनाया जाएगाभारतवर्ष में
कौन से धर्म के लोग मनाएंगेहिंदू धर्म के
क्यों मनाया जाता हैभाई के लंबी उम्र के लिए

भाई दूज कब हैं ?

भाई दूज 14 नवंबर को भारत में हर्षोल्लास और धूमधाम के साथ मनाया जाएगा | यह भाई-बहन का पवित्र त्यौहार है I

भाई दूज क्यों मनाई जाती हैं? Bhai Dooj Kyu Manaya Jata Hai

भाई दूज क्यों मनाया जाता है इसके पीछे दो प्रकार के पौराणिक कथा काफी प्रचलित है पहली कथा के अनुसार जब भगवान श्री कृष्ण ने राक्षस नरकासुर का वध कर द्वारिका लौटे तो श्रीकृष्ण की बहन सुभद्रा ने उनका फूल और तिलक लगाकर द्वारिका में स्वागत किया और श्रीकृष्ण के लंबी उम्र की प्रार्थना की तभी से भाई दूज बनाने की परंपरा शुरू हुई इसके बारे में दूसरी कथा के अनुसार ऐसा कहा जाता है कि हम देवता यमराज अपनी बहन यमी से मिलने के लिए उसके घर गए जहां उनकी बहन ने उनका काफी स्वागत किया और उनके माथे पर तिलक लगाया और विभिन्न प्रकार के व्यंजन अपने भाई को खिलाया I

Bhai Dooj Kyon Manai Jati hai

इसके बाद यमराज ने कहा कि बहन तुम कुछ वरदान मांगा इस पर उनके बहन ने कहा कि मेरा आपसे अनुरोध है कि आप प्रत्येक साल मेरे घर पर आया करें तभी यमराज ने कहा कि बिल्कुल ऐसा होगा और इसके बाद से ही भाई दूज मनाने की परंपरा शुरू हो गया इस दिन यमुना नदी में स्नान का बड़ा महत्व है क्योंकि कहा जाता है कि भाई दूज के मौके पर जो भाई-बहन यमुना नदी में स्नान करते हैं उन्हें पुण्य की प्राप्ति होती

READ  Children's Day Status, Quotes, Shayari | बाल दिवस पर स्टेटस, शायरी, कोट्स

भाई दूज कैसे मनाई जाती हैं?

भाईदूज मनाने के लिए सर्वप्रथम बहनें भाईयों को तेल मल कर गंगा जमुना में स्नान करना होता है अगर ऐसा संभव ना हो तो आप सामान्य जल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं इसके बाद भाई-बहन को नया कपड़ा पहनना पड़ता है और फिर भाई एक चौकी पर बैठेगा और उसके हाथ में श्रीफल दिया जाएगा इसके बाद बहन भाई के माथे पर हल्दी चावल की मदद से तिलक करेगी.

Bhai Duj Kaise Manai Jati Hai

साथ ही दूब खास की पत्तियों के साथ भाई की आरती उतारी जाती है और उसके हाथों पर कलावा बांधें और उसे मिठाई खिलाएं। वहीं भाई अपनी बहनों को उपहारस्वरूप कुछ न कुछ अवश्य भेंट करें। इसके अतिरिक्त बहनें इस खास दिन यमराज के नाम से दीपकर जलाकर उसे घर की दहेज के बाहर रखें क्योंकि ऐसी मान्यता है कि अगर आप ऐसा करेंगे तो यमराज की कुदृष्टि आप भाई के ऊपर नहीं पड़ती है I

भाई दूज शुभ मुहूर्त | Bhai Dooj Mahurat 2023

पंचांग के अनुसार अश्विन माह के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि 14 नवंबर 2023, को दोपहर 02 बजकर 42 से आरंभ होगी और अगले दिन 14 नवंबर 2023 को दोपहर 12 बजकर 45 पर इसका समापन होगा. जानकारी के अनुसार इस बार 26 अक्टूबर 2023 को भाई दूज की पूजा का शुभ मुहूर्त है ऐसे में इस दिन ये त्योहार मनाना उत्तम रहेगा |

भाई दूज पूजा विधि | Bhai Dooj Puja Vidhi

भाई दूज के दिन बहने स्नान कर  ईष्ट देव, भगवान विष्णु या भगवान गणेश की पूजा की जाती है इस दिन भाई के हाथों में सिंदूर और चावल का लेप लगाने के बाद उस पर पान के पत्ते सुपारी चांदी का सिक्का रखा जाता है इसके बाद भाई के हाथ पर दिए गए पानी डालते हुए भाई की उम्र लंबी हो इसके लिए मंत्रों का उच्चारण किया जाता है इसके अलावा बहाने भाई के माथे पर तिलक लगाकर उसकी आरती भी उतारती है  और फिर कलाई पर कलावा बांधती है. फिर वह भाई का माखन-मिश्री या मिठाई से मुंह मीठा करवाती हैं. और अंत में आरती करती हैं. इस दिन भाई अपनी बहनों के घर जाते हैं और भोजन कर उन्हें उपहार देते हैं.

READ  अम्बेडकर जयंती की शुभकामनाएं बधाई संदेश, शायरी | Happy Babasaheb Ambedkar Jayanti Status, messages & Quotes in Hindi

भाई दूज की कहानी | Bhai Dooj ki Kahani

शास्त्रों में भाई दूज की जो कहानी वर्णित है वह है यमुना और यमराज की. यमुना और यमराज बहन भाई थे. और वो दोनों एक दूसरे से बहुत ज्यादा हंसने करते थे जमुना जब अपने भाई युवराज को अपने घर पर आने के लिए आमंत्रित करती हुई तो इमरान कहते कि उनके पास टाइम नहीं है क्योंकि वह अपने काम में बहुत ज्यादा व्यस्त है बार-बार वालों ने टाल देते एक दिन उनकी बहाने उनसे वचनबद्ध ले लिया और कहा कि उन्हें उनके घर आना ही होगा तो ऐसे में 1 दिन यमराज उनके घर जाते हैं जहां पर उनका स्वागत उनकी बहन काफी अच्छी तरह से करती है उनके माथे पर तिलक लगाती है और विभिन्न प्रकार का व्यंजन उन्हें खाने के लिए देती है यमराज काफी खुश होते हैं और वह अपनी बहन से कहते हैं कि तुम जो मांगना चाहो मांग सकती हो इस पर उनकी बहन ने कहा कि मेरी तमन्ना है कि तुम प्रत्येक साल मेरे घर आओ इस पर राज करते हैं कि ऐसा ही होगा और तब से भाई दूज बनाने की परंपरा शुरू हो गई

Bhai Duj ki Kahani in Hindi

इसके अलावा एक और भी कहानी इसके बारे में बहुत ज्यादा प्रचलित है भगवान श्री कृष्ण ने जब नरकासुर का वध किया और द्वारिका वापस आए तो उनकी बहन सुभद्रा ने उनका काफी अच्छे तरीके से स्वागत किया और उनके माथे पर तिलक लगाकर उनकी लंबी उम्र की कामना की इस पर भगवान श्री कृष्ण बहुत खुश हुए और उन्होंने अपनी बहन सुभद्रा को वरदान दिया कि प्रत्येक वर्ष मैं तुम्हारे यहां आऊंगा और तुम इसी तरह मुझे अपना समय देना तभी से भैया दूज बनाने की परंपरा शुरू हुई I

READ  Rashifal 2024: मेष से लेकर मीन राशि तक, जानें कैसा रहेगा नया साल

भाई दूज कथा | Bhai Dooj Katha

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार सूर्यदेव और उनकी पत्नी छाया की दो संताने थी। यमराज और यमुना। भाई और बहन दोनों में बड़ा ही स्नेह था। बहन यमुना हमेशा चाहती थी भाई यमराज उनके घर आकर भोजन ग्रहण किया करें। लेकिन हमेशा काम में व्यस्त रहने वाले यमराज बहन की विनती को टाल देते थे।

एक बार बहन यमुना ने कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की द्वितीय तिथि पर अपने घर के दरवाजे पर भाई यमराज को देखकर अत्यंत प्रसन्न हुई। बहन यमुना ने बहुत ही प्रसन्न मन से भाई यमराज को भोजन करवाया। बहन के स्नेह और प्यार को देखकर भाई यमदेव ने वर मांगने को कहा।

तब बहन ने वरदान के रूप में यमराज से यह वचन मांगते हुए कहा कि आप हर वर्ष कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि पर भोजन करने आएं। साथ ही इस तिथि पर जो बहने अपने भाई को टीका लगाकर उन्हें भोजन खिलाएं उनमें आपका भय न हो।

तब यमदेव ने बहन यमुना को यह वरदान देते हुआ कहा कि आगे से ऐसा ही होगा। तब से यही परंपरा चली आ रही है कि हर वर्ष जो बहने अपने भाई के माथे पर तिलक लगाकर भोजन कराएंगी उसे और उसके भाई को कभी भी यमदेव का भय नहीं सताएगा।

FAQ Bhai Dooj 2023

Q: भाई दूज कब मनाया जाएगा?

Ans: Bhai Dooj 2023 अक्टूबर 14 November को पूरे भारतवर्ष में मनाया जाएगा

Q: भाई दूज त्यौहार कौन से धर्म के लोग मनाते हैं?

Ans: भाई दूज त्यौहार हिंदू धर्म के लोग मनाते हैं

Q: भाई दूज त्यौहार क्यों मनाते हैं?

Ans: जैसा कि मैंने आपको आर्टिकल में दो पौराणिक कथाओं के बारे में बताया है उसके कारण ही भैया 2G त्यौहार मनाया जाता है I

Q: भाई दूज के त्यौहार पर भाई अपनी बहन को क्या देते हैं

Ans: भाई दूज पर भाई अपने बहन को उपहार देते हैं I

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *