Janaki Jayanti 2023 | जानकी जयंती कब हैं? | सीता अष्टमी, माता सीता पूजा विधि और शुभ मुहूर्त 

Janaki Jayanti

Janaki Jayanti:- हर साल फाल्गुन (फाल्गुन) मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को सीता जी का जन्मोत्सव मनाया जाता है। सीता माता की जयंती को जानकी जयंती या सीता अष्टमी के नाम से भी जाना जाता है। सीता माता एक हिंदू देवी है,जिनके देश और दुनिया में काफी भक्त है। सीता माता का वर्णन रामायण महाकाव्य है। सीता माता को अक्सर भूमि (पृथ्वी) की बेटी और विदेह के राजा जनक और उनकी पत्नी, रानी सुनयना की गोद ली हुई बेटी के रूप में वर्णित किया जाता है।

माता सीता को कई विशेषणों से जाना जाता है। उन्हें जनक की पुत्री के रूप में जानकी और मिथिला की राजकुमारी के रूप में मैथिली भी कहा जाता है। राम की पत्नी के रूप में उन्हें रामा कहा जाता है तो उनके पिता जनक ने देह चेतना को पार करने की क्षमता के कारण विदेह की उपाधि अर्जित की थी इसलिए सीता को वैदेही भी कहा जाता है।

इस लेख में हम आपको जानकी जयंती के बारे में बताएंगे। इस लेख को हमने जानकी जयंती 2023,Janaki Jayanti,माता जानकी जयंती कब हैं? सीता अष्टमी जानकी जयंती,जानकी माता पूजा मुहूर्त,माता माता पूजा विधि,जानकी माता आरती,जानकी जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं के बारे में बताएंगे। जानकी माता के बारे में और डिटेल्स में जानने के लिए इस लेख को पूरा पढ़ें।

Saraswati Puja 2023 | जाने बसंत पंचमी पर सरस्वती पूजा कब व कैसे की जाती है।

Janaki Jayanti | जानकी जयंती 2023

टॉपिकजानकी जयंती 2023
लेख प्रकारआर्टिकल
साल2023
जानकी जयंती 202314 फरवरी
दिनमंगलवार
किसी पूजा होती हैमाता सीता की
जानकी जयंती तिथी शुरुआत13 फरवरी सुबह 9 बजकर 50 मिनट
जानकी जयंती तिथी समाप्त14 फरवरी सुबह 9 बजकर 05 मिनट
सीता माता के अन्य नामजानकी,भूमिका,रामा,सिया,मैथिली

माता जानकी जयंती कब हैं? | Janakai Jayanti Kab Hai

Janaki Jayanti इस साल यानि की 2023 मे माता जानकी जयंती 14 फरवरी को पूरे देश में बड़े उत्साह से साथ मनाई जाएगी। बता दें कि उत्तर भारत में कई हिंदू समुदायों द्वारा फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष के दौरान आठवें दिन (अष्टमी) को सीता जयंती मनाई जाती है। इस दिन को उत्तर भारत के कई क्षेत्रों में सीता अष्टमी, जानकी जन्म और जानकी जयंती के रूप में मनाया जाता है।इस साल जानकी जयंती तिथि 14 फरवरी है।

माता सीता की कहानी आज भी लाखों लोगों को प्रेरित करती है। कुछ के लिए वह पवित्रता और पत्नी भक्ति का अवतार है। कुछ लोगों के लिए वह उन संघर्षों का प्रतिनिधित्व करती हैं जिनका सामना पुरुष प्रधान समाज में हर उम्र में महिलाओं को करना पड़ता है। बता दें कि राजा जनक को खेत जोतते समय माता सीता मिलीं थी। इस प्रकार उन्हें धरती माता की पुत्री माना जाता है।

दुनिया के तौर-तरीकों से तंग आकर आखिरकार वह धरती माता की गोद में शरण लेती है और धरती माता भी उन्हें  अपने अंदर वापस सामाहित करने के लिए खुल जाती है।इस दिन को भगवान राम मंदिरों में सत्संग और विशेष पूजा के साथ मनाया जाता है। गौरतलब है कि माता सीता के जन्मदिन या जयंती को भारत के पश्चिमी और पूर्वी हिस्सों में कुछ हिंदू समुदायों के लिए सीता नवमी के रूप में जाना जाता है और वैशाख महीने (अप्रैल-मई) में मनाया जाता है।

See also  गणेश चतुर्थी पर कविता | Ganesh Chaturthi Poem in Hindi

सीता अष्टमी जानकी जयंती | Sita Ashtami Janaki Jayanti

सीता यूं ही नारीत्व की पराकाष्ठा नहीं हैं। सीता का जीवन उतार-चढ़ाव से भरा था, फिर भी उन्होंने अपने संतुलन और गरिमा को बनाए रखा। उनकी कहानी सीतायनम उपन्यास में बताई गई है। अपने लंबे जीवन के दौरान उन्होंने जिन आदर्शों को जिया और उन्हें मूर्त रूप दिया, वे अतीत, वर्तमान और भविष्य की सभी भारतीय पीढ़ियों द्वारा पूजनीय नारीत्व के मूल्य बन गए हैं।

वाल्मीकि के रामायण से बहुत पहले “सीता” नाम मौजूद था। वह एक महिला उर्वरता देवी थी, हालांकि अधिक प्रमुख उर्वरता देवताओं ने उसे ग्रहण किया।जैसा कि आपको पहले बताया गया है कि राजा जनक को हल चलाते समय एक कुंड में सीता माता मिली थी। संस्कृत में, “सीत” का अर्थ है “फरो”। जनक राजा थे।

इससे हम यह निष्कर्ष निकाल सकते हैं किउस समय मिट्टी की उर्वरता सुनिश्चित करने के लिए राजा नियमित रुप से फसल जोतने जाते थे।राजा और भूमि के पवित्र मिलन से जन्मी सीता माता को धरती की बेटी माना जाता है। इसलिए, देवी सीता पृथ्वी की उर्वरता, प्रचुरता, शांति और समृद्धि का प्रतिनिधित्व करती हैं।

सीता माता से जुड़े आश्चर्य कर देने वासे तथ्य | Janaki Jayanti 2023

सीता माता के बारे में एक दिलचस्प तथ्य यह है कि उन्हें वेदवती का पुनर्जन्म भी माना जाता है, जिसे रावण ने तपस्या के दौरान छेड़छाड़ करने की कोशिश की थी, ताकि वह भगवान विष्णु की पत्नी बन सके। उसने फिर रावण को अपने अगले जन्म में उसके विनाश का कारण बनने का श्राप दिया था। वहींं पुराणों में यह भी बताया गया है

कि देवी सीता रावण और मंदोदरी की पहली संतान थीं। ज्योतिषियों ने भविष्यवाणी की थी कि मंदोदरी का पहला जन्म उसके पूरे वंश के विनाश का कारण होगा। इसलिए, रावण ने Sita Mata सीता माता को त्याग दिया था और बच्चे को दूर देश में दफनाने का आदेश दिया था, जिसे तब राजा जनक और उनकी पत्नी ने मिथिला की राजकुमारी के रूप में पाला था।

सीता के बारे में एक और अज्ञात तथ्य यह है कि रामायण के कुछ संस्करणों में माया सीता (देवी सीता का मायावी संस्करण) का उल्लेख है। इनके अनुसार, यह माया सीता थी, जिसे वास्तव में रावण ने अपहरण कर लिया था, जबकि असली सीता ने अग्नि देव अग्नि की शरण ली, जो उन्हें देवी पार्वती के निवास स्थान पर ले गई। बाद में, युद्ध समाप्त होने के बाद वह भगवान राम के पास लौट आई। कहा जाता है कि माया सीता ने अपने अगले जन्म में द्रौपदी के रूप में पुनर्जन्म लिया।

See also  Gangaur Puja 2023 | अखंड सुहाग का पर्व गणगौर व्रत आज है | गणगौर पूजा मुहूर्त, विधि, कहानी

जानकी माता पूजा मुहूर्त | Janaki Mata Puja Muhurat

जानकी माता जयंती हर साल फाल्गुन (फाल्गुन) मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाई जाती है। इस साल जानकी माता की जयंती की तिथि 13 फरवरी सुबह 9 बजकर 50 मिनट से शुरु होगी वहीं ये तिथि दूसरे दिन यानी कि 14 फरवरी सुबह 9 बजकर 05 मिनट पर समाप्त हो जाएगी।

यही कारण है जो लोग जानकी माता की जयंती 13 फरवरी और 14 फरवरी दोनों ही दिन मनाएंगे।ऐसा माना जाता है कि जो लोग इस शुभ दिन पर सभी अनुष्ठानों और परंपराओं का पालन करते हैं, उन्हें सुखी वैवाहिक जीवन का आशीर्वाद मिलता है। साथ ही माता सीता के आशीर्वाद से उनके जीवन की सभी बाधाएं दूर हो जाती हैं।

सीता जयंती पौराणिक कथा | Sita Jayanti Pauranik Katha

सीता जयंती की पौराणिक कथा के अनुसार मारवाड़ क्षेत्र में एक वेदवादी श्रेष्ठ धर्मधुरीण ब्राह्मण निवास करते थे। उनका नाम देवदत्त था। उन ब्राह्मण की बड़ी सुंदर रूपगर्विता पत्नी थी, उसका नाम शोभना था।

ब्राह्मण देवता जीविका के लिए अपने ग्राम से अन्य किसी ग्राम में भिक्षाटन के लिए गए हुए थे। इधर ब्राह्मणी कुसंगत में फंसकर व्यभिचार में प्रवृत्त हो गई।अब तो पूरे गांव में उसके इस निंदित कर्म की चर्चाएं होने लगीं। परंतु उस दुष्ट ने गांव ही जलवा दिया। दुष्कर्मों में रत रहने वाली वह दुर्बुद्धि मरी तो उसका अगला जन्म चांडाल के घर में हुआ।

पति का त्याग करने से वह चांडालिनी बनी, ग्राम जलाने से उसे भीषण कुष्ठ हो गया तथा व्यभिचार-कर्म के कारण वह अंधी भी हो गई। अपने कर्म का फल उसे भोगना ही था।इस प्रकार वह अपने कर्म के योग से दिनों दिन दारुण दुख प्राप्त करती हुई देश-देशांतर में भटकने लगी। एक बार दैवयोग से वह भटकती हुई कौशलपुरी पहुंच गई। संयोगवश उस दिन वैशाख मास, शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि थी, जो समस्त पापों का नाश करने में समर्थ है।

Janaki Jayanti 2023

सीता (जानकी) नवमी के पावन उत्सव पर भूख-प्यास से व्याकुल वह दुखियारी इस प्रकार प्रार्थना करने लगी- हे सज्जनों! मुझ पर कृपा कर कुछ भोजन सामग्री प्रदान करो।मैं भूख से मर रही हूं- ऐसा कहती हुई वह स्त्री श्री कनक भवन के सामने बने एक हजार पुष्प मंडित स्तंभों से गुजरती हुई उसमें प्रविष्ट हुई। उसने पुनः पुकार लगाई- भैया! कोई तो मेरी मदद करो- कुछ भोजन दे दो।इतने में एक भक्त ने उससे कहा- देवी! आज तो सीता नवमी है, भोजन में अन्न देने वाले को पाप लगता है, इसीलिए आज तो अन्न नहीं मिलेगा। कल पारणा करने के समय आना, ठाकुर जी का प्रसाद भरपेट मिलेगा, किंतु वह नहीं मानी।

See also  Teachers Day Poem in Hindi | शिक्षक दिवस पर कविता

अधिक कहने पर भक्त ने उसे तुलसी एवं जल प्रदान किया। वह पापिनी भूख से मर गई। किंतु इसी बहाने अनजाने में उससे सीता नवमी का व्रत पूरा हो गया।अब तो परम कृपालिनी ने उसे समस्त पापों से मुक्त कर दिया। इस व्रत के प्रभाव से वह पापिनी निर्मल होकर स्वर्ग में आनंदपूर्वक अनंत वर्षों तक रही। तत्पश्चात् वह कामरूप देश के महाराज जयसिंह की महारानी काम कला के नाम से विख्यात हुई। जातिस्मरा उस महान साध्वी ने अपने राज्य में अनेक देवालय बनवाए, जिनमें जानकी-रघुनाथ की प्रतिष्ठा करवाई।

अत: सीता नवमी पर जो श्रद्धालु माता जानकी का पूजन-अर्चन करते हैं, उन्हें सभी प्रकार के सुख-सौभाग्य प्राप्त होते हैं। इस दिन जानकी स्तोत्र, रामचंद्रष्टाकम्, रामचरित मानस आदि का पाठ करने से मनुष्य के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं।

सीता माता पूजा विधि | Sita Mata Puja Vidhi

इस व्रत को विवाहित और अविवाहित महिलाएं दोनों ही रख सकती हैं। सीताष्टमी के दिन व्रत रखने वाली महिलाओं को सुबह जल्दी उठकर स्नान करना चाहिए।स्नान के बाद व्रत का संकल्प लिया जाता है और व्रत की शुरुआत होती है। साफ कपड़े पहने जाते हैं और माता सीता, भगवान राम, गणपति बप्पा और माता अंबिका की भी पूजा की जाती है। पूजा में पीले फूल और वस्त्र शामिल किए जाते हैं। इसके साथ ही सोलह श्रृंगार की वस्तुएं भी माता को भेंट की जाती है।

सीता माता को केवल पीली चीजें ही चढ़ाई जाती हैं। इसके बाद सीता जी की आरती की जाती है और दूध और गुड़ से बने व्यंजन का उन्हे भोग लगाया जाता है। सुबह और शाम पूजा करने के बाद व्रत को खोला जाता है। ऐसा माना जाता है कि यदि विवाहित स्त्री सीताष्टमी का व्रत रखती है तो उनका वैवाहिक जीवन सुखमय हो जाता है। इसके साथ ही अविवाहित महिलाओं के इस व्रत (सीता अष्टमी व्रत) को रखने से अच्छे वर की प्राप्ति होती है।

जानकी माता आरती  | Jankai Mata Arti

आरती श्री जनक दुलारी की।
सीता जी रघुवर प्यारी की॥

जगत जननी जग की विस्तारिणी,
नित्य सत्य साकेत विहारिणी,
परम दयामयी दिनोधारिणी,
सीता मैया भक्तन हितकारी की॥

आरती श्री जनक दुलारी की।
सीता जी रघुवर प्यारी की॥

सती श्रोमणि पति हित कारिणी,
पति सेवा वित्त वन वन चारिणी,
पति हित पति वियोग स्वीकारिणी,
त्याग धर्म मूर्ति धरी की॥

आरती श्री जनक दुलारी की।
सीता जी रघुवर प्यारी की॥
विमल कीर्ति सब लोकन छाई,
नाम लेत पवन मति आई,
सुमीरात काटत कष्ट दुख दाई,
शरणागत जन भय हरी की॥

आरती श्री जनक दुलारी की।
सीता जी रघुवर प्यारी की॥

जानकी जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं | Janaki Jayant Best Wishes

देश मना रहा है सीता नवमी का त्योहार,
आपको मिले उनका आशीर्वाद और प्यार,
धन-धान्य और खुशियों से भरा रहे घर-परिवार,
दिनों-दिन बढ़ता जाए आपका कारोबार.
सीता जयंती की शुभकामनाएं

आरती श्री जनक दुलारी की,
सीता जी रघुवर प्यारी की,
जगत जननी जग की विस्तारिणी,
नित्य सत्य साकेत विहारिणी,
परम दयामयी दिनोधारिणी,
सीता मैया भक्तन हितकारी की
आरती श्री जनक दुलारी की.
जानकी जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं

आओ मनाएं जानकी अष्टमी का त्यौहार,
आपको मिले माँ सीता का आशीर्वाद और प्यार
समृद्धि और खुशियों से भरा रहे घर-परिवार,
दिन दूना और रात चौगुना बढ़े आपका कारोबार।
जानकी जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं

आओ मनाएं जानकी अष्टमी का त्यौहार,
आपको मिले माँ सीता का आशीर्वाद और प्यार
समृद्धि और खुशियों से भरा रहे घर-परिवार,
दिन दूना और रात चौगुना बढ़े आपका कारोबार।
जानकी जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं

समस्त देशवासियों को भारतीय संस्कृति
एवं सभ्यता की आदर्श नारी की प्रतिमूर्ति
त्याग, प्रेम, धैर्य, करूणा की अधिष्ठात्री
देवी माता सीता के जन्मोत्सव जानकी जयंती
की हार्दिक शुभकामनाएं।

जग में सुंदर दो नाम,
एक है सीता दूजा राम,
लेने से हो जाएँ उद्धार और
पूर्ण हो जाएँ अधूरे काम.
सीता जयंती की शुभकामनाएं

श्री राम जी आपके संसार में,
सुख की बरसात करें,
और दुखों का नाश करें,
माता सीता के आशीर्वाद से,
आपका घर आंगन सदा खुशहाल रहे.
जानकी जयंती की शुभकामनाएं

निज इच्छा मखभूमि ते प्रगट भई सिय आय,
चरित किये पावन परम बरधन मोद निकाय।
जानकी जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं

हृदय में खुशियाँ ही खुशियाँ है छाई,
माँ सीता हर परेशानी को हरने आई,
आपके काम सफल और फलदायी हो
आपको जानकी जयंती की बधाई।
हैप्पी जानकी जयंती

मिथिला पुत्री, जनक नंदनी माता सीता जी के प्राकट्योत्सव जानकी नवमी की
समस्त देश एवं प्रदेशवासियों हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं..
जानकी जयंती की बधाई,

जनकसुता जग जननि जानकी। अतिसय प्रिय करुनानिधान की॥ 
            सीता जयंती की शुभकामनाएं 

माँ सीता के आशीर्वाद से
आपकी सारी इच्छाएं पूरी हो जाएँ,
आपको और आपके परिवार को
जानकी जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं।
Happy Janaki Jayanti

FAQ’s Janaki Jayanti 2023 

Q. जानकी जयंती कब मनाई जाती है?

Ans. हर साल जानती जयंती हर साल फाल्गुन (फाल्गुन) मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाई जाती है!

Q. साल 2023 में जानकी जयंती कब मनाई जाएगी?

Ans. साल 2023 में जानकी जयंती 14 फरवरी को बड़े ही उत्साह से साथ मनाई जाएगी।

Q. सीता माता की पूजा जानकी जयंती पर करने से क्या होता है?

Ans. ऐसा माना जाता है कि इस दिन जो लोग माता सीता की पूजा करते है उन्हे माता वैवाहिक जीवन का आशीर्वाद प्रदान करती है। और उनके जीवन की सभी बाधाएं दूर हो जाती हैं।

Q. सीता माता को और किन नामों से जाना जाता है?

Ans. सिया, वैदेही, भूमिजा, भूमिका, मैथिली, रामा, जनकनंदनी, महिजा, भौमी, क्षितिजा आदि है।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja