MP CM List : मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्रियों की पूरी सूची और उनके कार्यकाल की अवधि यहां देखें

By | December 11, 2023
Follow Us: Google News

MP CM List: मध्यप्रदेश आए दिन सुर्खियों में बना रहता है।आज कल सीएम की चर्चा को लेकर चर्चा चल रही हैं। आज के इस लेख में हम आपको मध्यप्रदेश के सीएम के इतिहास को लेकर के बारे में बताने जा रहे है। मध्यप्रदेश की स्थापना 1 नवंबर 1956 को हुई थी। हम आपको बता दें कि राज्य पुनर्गठन अधिनियम, 1956 के तहत मध्य भारत, विंध्य प्रदेश और भोपाल राज्यों को मध्य प्रदेश में मिला दिया गया और 1 नवंबर 1956 को पुनर्गठन का गठन किया गया। तब से भारत ने 18 मुख्यमंत्रियों को देखा है। पं. रविशंकर शुक्ला पहले मुख्यमंत्री थे जिन्होंने 1956 में शपथ ली थी। बारह मुख्यमंत्री कांग्रेस के थे। पहले गैर-कांग्रेसी मुख्यमंत्री गोविंद नारायण सिंह थे जिन्होंने 1967 से 1969 तक संयुक्त विधायक दल सरकार का नेतृत्व किया था। कांग्रेस के दिग्विजय सिंह ने सेवा की थी दो पूर्ण पाँच-वर्षीय कार्यकाल।

उनकी जगह भारतीय जनता पार्टी, मध्य प्रदेश की उमा भारती ने ली, जो एक वर्ष तक सेवा करने वाली एकमात्र महिला मुख्यमंत्री हैं। शिवराज सिंह चौहान वर्तमान और सबसे लंबे समय तक सेवा करने वाले मुख्यमंत्री हैं जिन्होंने 2005 में शपथ ली थी और 13 वर्षों तक सेवा की है। एमपी भी थोड़े समय के दौरान तीन बार राष्ट्रपति शासन के अधीन रहा है। प्रमुख सत्तारूढ़ दल भाजपा और कांग्रेस रहे हैं।

NameYearConstituencyShort Description 
शिवराज सिंह चौहान23 मार्च 2005 से अभी तकबुधनीशिवराज सिंह चौहान 23 मार्च 2000 को पहली बार मुख्यमंत्री बने थे उसके बाद लगातार मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे हैं । हाल के दिनों में राज्य में विधानसभा के चुनाव हुए थे चुनाव में पार्टी को प्रचंड बहुमत मिला है ऐसे में देखना होगा कि राज्य का मुख्यमंत्री बनती है कि नहीं 2005 में पहली बार वह बुधनी से विधायक बने थे
कमलनाथ17 दिसंबर 2018 से 23 मार्च 2020 तकछिंदवाड़ा2018 में मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी को बहुमत मिला  था। इसके बाद कमलनाथ को राज्य का मुख्यमंत्री बनाया गया।  2018 में  कमलनाथ ने छिंदवाड़ा से विधायक का चुनाव जीता था कमलनाथ 17 दिसंबर 2018 से 23 मार्च 2020 तक मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री बने रहे 
शिवराज सिंह चौहान14 दिसंबर 2013 से 17 दिसंबर 2018 तकबुधनीशिवराज सिंह चौहान चार बार मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं 2013 में राज्य में विधानसभा के चुनाव हुए थे इस चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को बहुमत मिला था जिसके बाद बीजेपी के सेंट्रल लीडरशिप ने इन्हें राज्य का मुख्यमंत्री बनाया था इस दौरान बुधनी विधानसभा से द्वारा विधायक का चुनाव  जीत कर 14 दिसंबर 2013 से लेकर 17 दिसंबर 2018 तक राज्य के मुख्यमंत्री बने रहते हैं ।
शिवराज सिंह चौहान12 दिसंबर 2008 से 13 दिसंबर 2013 तकबुधनी12 दिसंबर 2008 को शिवराज सिंह चौहान दूसरी बार राज्य के मुख्यमंत्री बनते हैं इस दौरान उनका कार्यकाल 12 दिसंबर 2008 से 13 दिसंबर 2013  तक रहता है । 
शिवराज सिंह चौहान29 नवंबर 2005 से 12 दिसंबर 2008 तकबुधनी29 नवंबर 2005 को शिवराज सिंह चौहान पहली बार राज्य के मुख्यमंत्री बनते हैं और इस दौरान वह अपने विधानसभा क्षेत्र बुधनी से भारी मतों से जीत करते हैं जिसके बाद उन्हें राज्य का मुख्यमंत्री बनाया जाता है  उस दौरान उनका   कार्यकाल 29 नवंबर 2005  से  लेकर 12 दिसंबर 2008 तक रहता है ।
बाबूलाल गौर23 अगस्त 2004 से 29 नवंबर 2005 तकगोविंदपुरा23 अगस्त 2004 को  गोविंदपुर से विधानसभा का चुनाव जीत करते हैं उन्होंने राज्य का मुख्यमंत्री बनाया जाता है उनका कार्यकाल 23 अगस्त 2004 से लेकर 29 नवंबर 2005 तक रहता है । 
उमा भारती8 दिसंबर 2003 से 23 अगस्त 2004 तकमलहरा8 दिसंबर 2003 को भारतीय जनता पार्टी उमा भारती को राज्य का मुखिया बनती है । उमा भारती ने 2003 का विधानसभा चुनाव मलहरा से जीता  था।
दिग्विजय सिंह1 दिसंबर 1998 से 8 दिसंबर 2003 तकराघोगढ़दिग्विजय सिंह 1 दिसंबर 1998 में राज्य के मुख्यमंत्री बनते हैं उनका विधानसभा क्षेत्र राघोगढ़  था।  मुख्यमंत्री के तौर पर उनका कार्यकाल 1 दिसंबर 1998 से लेकर दिसंबर 2003 तक रहता है
दिग्विजय सिंह7 दिसंबर 1993 से 1 दिसंबर 1998 तकचचौरादिग्विजय सिंह पहली बार 7 दिसंबर 1993 को राज्य के मुख्यमंत्री बनते हैं । इस दौरान उनका कार्यकाल  दिसंबर 1993 से 1 दिसंबर 1998 तक रहता है ।
सुंदरलाल पटवा5 मार्च 1990 से 15 दिसंबर 1992 तकनीमचसुंदरलाल पटवा 5 मार्च 1990 को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री बनते हैं । उनका कार्यकाल मुख्यमंत्री के तौर पर 5 मार्च 1990 से 15 दिसंबर 1992 तक रहता है ।
श्याम चरण शुक्ला9 दिसंबर 1989 से 5 मार्च 1990 तकश्यामचंद शुक्ला  दिसंबर 1989 से 5 मार्च 1990 तक मुख्यमंत्री के पद पर रहते हैं ।
मोतीलाल वोरा25 जनवरी 1989 से दिसंबर 1989 तकदुर्गमोतीलाल बोरा 25 जनवरी 1989 से दिसंबर 1989 तक विधानसभा क्षेत्र दुर्ग निर्वाचित हुए थे
अर्जुन सिंह14 फरवरी 1988 से 25 जनवरी 1989 तकखरसियाअर्जुन सिंह 14 फरवरी 1988 से 25 जनवरी 1989 तक  विधानसभा क्षेत्र खरसिया निर्वाचित हुए थे
मोतीलाल वोरा13 मार्च 1985 से 14 फरवरी 1988 तकदुर्गमोतीलाल बोरा 13 मार्च 1985 से 14 फरवरी 1988 तक विधानसभा क्षेत्र दुर्ग निर्वाचित हुए थे
अर्जुन सिंह11 मार्च 1985 से 13 मार्च 1985 तकचुरहटअर्जुन सिंह 11 मार्च 1985 से 13 मार्च 1985 तक विधानसभा क्षेत्र चुरहट निर्वाचित हुए थे
अर्जुन सिंह9 जून 1980 से 10 मार्च 1985 तकचुरहटअर्जुन सिंह 9 जून 1980 से 10 मार्च 1985 तक विधानसभा क्षेत्र चुरहट
सुंदरलाल पटवा20 जनवरी 1980 से 17 फरवरी 1980 तकमंदसौरसुंदरलाल पटवा जनवरी 1980 से 17 फरवरी 1980 तक विधानसभा क्षेत्र मंदसौर निर्वाचित हुए थे
वीरेंद्र कुमार सकलेचा18 जनवरी 1978 से 30 जनवरी 1980 तकजावदवीरेंद्र कुमार सकलेचा 18 जनवरी 1978 से 30 जनवरी 1980 तक विधानसभा क्षेत्र जावद निर्वाचित हुए थे
कैलाश चंद्र जोशी24 जून 1977 से 18 जनवरी 1978 तकबागलीकैलाश चंद्र जोशी 24 जून 1977 से 18 जनवरी 1978 तक विधानसभा क्षेत्र  बागली निर्वाचित हुए थे
श्याम चरण शुक्ला23 दिसंबर 1975 से 30 अप्रैल 1977 तकराजिमश्याम चरण शुक्ला दिसंबर 1975 से 30 अप्रैल 1977 तक विधानसभा क्षेत्र राजिम
प्रकाश चंद्र सेठी23 मार्च 1972 से 23 दिसंबर 1975 तकउज्जैन उत्तर प्रकाश चंद्र सेठी 23 मार्च 1972 से लेकर 23 दिसंबर 1975 तक विधानसभा क्षेत्र उत्तर उज्जैन
प्रकाश चंद्र सेठी29 जनवरी 1972 से 22 मार्च 1972 तकउज्जैन उत्तरप्रकाश चंद्र सेठी का कार्यकाल 29 जनवरी 1972 से लेकर 22 मार्च 1972 तक विधानसभा का क्षेत्र उत्तर उज्जैन
श्याम चरण शुक्ला26 मार्च 1969 से 29 जनवरी 1972 तकराजिमश्याम चरण शुक्ला 26 मार्च 1969 से 29 जनवरी 1972 तक विधानसभा का क्षेत्र राजिम 
नरेश चंद्र सिंह13 मार्च 1969 से 26 मार्च 1969 तकपुसौरनरेश चंद्र सिंह 13 मार्च 1969 से 26 मार्च 1969 तक  विधानसभा का क्षेत्र पुसौर 
गोविंद नारायण सिंह30 जुलाई 1967 से 13 मार्च 1969 तकरामपुर बघेलानगोविंद नारायण सिंह 30 जुलाई 1967 से लेकर 13 मार्च 1969 तक विधानसभा क्षेत्र रामपुर बघेलान
द्वारका प्रसाद मिश्र8 मार्च 1967 से 30 जुलाई 1967 तककटंगी  द्वारका प्रसाद मिश्र मार्च 1967 से 30 जुलाई 1967 तक विधानसभा क्षेत्र कटंगी
द्वारका प्रसाद मिश्र30 सितंबर 1963 से 8 मार्च 1967 तककटंगीद्वारका प्रसाद मिश्र 30 सितंबर 1963 से 8 मार्च 1967 तक विधानसभा क्षेत्र कटंगी
भगवंतराव मंडलोइ22 मार्च 1962 से 30 सितंबर 1963 तकखंडवाभगवंतराव मंडलोइ 22 मार्च 1962 से 30 सितंबर 1963 तक  विधानसभा क्षेत्र खंडवा
कैलाश नाथ काटजू14 मार्च 1957 से 17 मार्च 1962 तकजावराकैलाश नाथ काटजू  14 मार्च 1957 से 17 मार्च 1962 तक  विधानसभा क्षेत्र जावरा
कैलाश नाथ काटजू31 जनवरी 1957 से 14 मार्च 1957 तकजावराकैलाश नाथ काटजू 31 जनवरी 1957 से 14 मार्च 1957 तक विधानसभा क्षेत्र जावरा 
भगवंतराव मंडलोइ9 जनवरी 1957 से 31 जनवरी 1957 तकखंडवाभगवंतराव मंडलोइ 9 जनवरी 1957 से 31 जनवरी 1957 तक  रहे विधानसभा क्षेत्र खंडवा
रवि शंकर शुक्ला1 नवंबर 1956 से 31 दिसंबर 1956 तकसरायपालीरवि शंकर शुक्ला 1 नंबर 1956 से लेकर 31 दिसंबर 1956 तक विधानसभा क्षेत्र सरायपाली
रवि शंकर शुक्ला31मार्च 1952 से 31 अक्टूबर 1956 तकसरायपालीरवि शंकर शुक्ला 31मार्च 1952 से 31 अक्टूबर 1956 तक विधानसभा क्षेत्र सरायपाली

You May Also Like: सीएम शिवराज सिंह चौहान मोबाइल नंबर क्या हैं

FAQ’s: MP CM List 2023

Q. मध्य प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री का क्या नाम है?

See also  सीएम शिवराज सिंह चौहान मोबाइल नंबर क्या हैं? CM Shivraj Singh Chouhan's Contact Number, WhatsApp No, Address

Ans. रवि शंकर शुक्ला 

Q. मध्य प्रदेश में  अधिक दिनों तक मुख्यमंत्री के तौर पर काम करने वाले मुख्यमंत्री का क्या नाम है? 

Ans. शिवराज सिंह चौहान

Q. मध्य प्रदेश की महिला मुख्यमंत्री कौन थी?

Ans. मध्य प्रदेश की महिला मुख्यमंत्री का नाम उमा भारती था।

Q.मध्य प्रदेश में सबसे कम कार्यकाल के लिए मुख्यमंत्री कौन बने थे?

Ans.मध्य प्रदेश में सबसे कम कार्यकाल के लिए श्री नरेश चंद्र जी मुख्यमंत्री बने थे जो केवल 12 दिन तक थे थे।

Q.मध्य प्रदेश का पुनर्गठन कब हुआ था?

Ans.मध्य प्रदेश का पुनर्गठन 1 नवंबर 1956 को हुआ था।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं।
Category: मध्य प्रदेश

About Shalu Saini

Hi, I am Shalu Saini a copywriter and content creator with a passion for telling stories that grab readers attention. With a background in journalism and over four years of writing experience, I am specialize in crafting unique and compelling stories.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *