राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर निबंध हिंदी में | Essay On National Pollution Control Day in Hindi, 10 Lines, PDF Download

By | December 4, 2023
Follow Us: Google News

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर निबंध। National Pollution Control Day Per Nibandh: वर्तमान समय में विश्व के प्रत्येक देश प्रदूषण कि समस्या से जूझ रहे हैं। इस समस्या को कम करने के लिए पूरी दुनिया किसी ना किसी तरह से कोई ना कोई अभियान की शुरुआत करते रहते हैं, जिससे प्रदुष्ण को कम किया जा सकें। प्रत्येक देश में प्रदूषण नियंत्रण दिवस के लिए एक दिन निश्चित रखा जाता है। इसी प्रकार भारत में भी प्रत्येक वर्ष 2 दिसंबर को राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस मनाया जाता है। क्योंकि भारत के लोग 2 दिसंबर सन 1984 के दिन प्रदूषण का काफी भयानक रूप देख चुके हैं। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में 2 और 3 दिसंबर सन 1984 के दिन गैस त्रासदी की घटना को भारत के लोग कभी नहीं भूल सकते हैं। यह दिवस हमें यह उद्देश्य देता है कि प्रकृति के प्रति हमें लापरवाही नहीं करना चाहिए। ऐसे में अगर आप लोग विद्यार्थी है तो आपके स्कूल एवं कॉलेज के परीक्षा में राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस के ऊपर निबंध कैसे लिखें यह प्रश्न आ सकते हैं। तो आईए जानते हैं की राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर छोटे-बड़े निबंध कैसे लिखें, इसकी जानकारी विस्तार पूर्वक इस आर्टिकल में प्रदान की जाएगी। इसलिए आप लोग इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े। 

National Pollution Control Day Diwas Per Nibandh Hindi

आर्टिकल के नामराष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर निबंध हिंदी में
आर्टिकल के प्रकारनिबंध
साल2023
आयोजनEssay on  National Pollution Control Day  | राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर निबंध हिंदी में
आयोजन दिवस2 दिसंबर 2023
थीम 2023अभी तक निर्धारित नहीं किया गया है। 
आयोजन का मुख्य उद्देश्यप्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए लोगों को जानकारी प्रदान करना है। 

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर निबंध (300 शब्द) Essay On National Pollution Control Day in Hindi 300 Words

प्रस्तावना

भोपाल गैस त्रासदी 2 दिसंबर 1984 में हुई मृतकों कि याद में भारत में हर साल राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस मनाया जाता है। यह भारतीय इतिहास में सबसे बड़ी आपदाओं में से एक माना जाता है। इस आपदाओं में लाखों लोग प्रभावित हुए थे। 2 और 3 दिसंबर के रात्रि के समय एक यूनियन कार्बाइड इंडिया लिमिटेड कंपनी में गैस लीक हुआ था। जिसमें हजारों कि संख्या में लोगों की मृत्यु हुई थी। कुछ ही समय में वातावरण में जहरीली गैस घुल गई थी,  जिसके आसपास के क्षेत्र में प्रदुषण फैल गया था। जिसके कारण लोगों को सांस लेने में समस्या होने लगी और इस प्रकार इन लोगों की मृत्यु हो गई। मानव के द्वारा निर्मित प्रदूषण मानव जीवन को काफी हानिकारक नुकसान पहुंचा सकता है, जिसका उदाहरण भोपाल गैस त्रासदी है। 

इन्हें भी पढ़ें: वर्ल्ड एड्स डे पर निबंध हिंदी में

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस का महत्व

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस के दिन प्रदूषण संबंधित मुद्दों को उजागर किया जाता है। इस दिन मनुष्य के स्वास्थ्य के साथ-साथ पर्यावरण की चिंता भी की जाती है। आज हम लोग औद्योगिक युग की स्थिति में जीवन यापन करते हैं क्योंकि हम लोगों के आसपास उद्योग धंधे अधिक उपलब्ध होते हैं। यह उद्योग किसी शहर या कस्बे में उपस्थित होता है और इस प्रकार किसी एक छोटे से लापरवाही के कारण पूरे शहर एवं कस्बे में निवास कर रहे हैं। हजारों एवं लाखों की संख्या में लोगों के जीवन को  खतरे में डाल देती है। उदाहरण स्वरूप भोपाल गैस त्रासदी के घटना को देख सकते हैं। राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस मनाना महत्वपूर्ण इसलिए है कि प्रदूषण को रोकने के लिए लोगों को जागृत करना होता है। साथ ही साथ होने वाले हानिकारक बीमारियां जो मानव स्वास्थ्य पर प्रभाव डालती है, संबंधी जानकारी लोगों को प्रदान करना होता है। प्रदूषण के समस्या से उत्पन्न मुद्दों पर सरकारी एवं गैर सरकारी दोनों प्रकार के एजेंसियां एक साथ मंच पर आती है। 

उपसंहार

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस को  मनाने के पीछे यह तथ्य  देखकर महत्वपूर्ण हो जाता है कि प्रत्येक दिन प्रदूषण का स्तर बढ़ता जा रहा है। इस दिवस के दिन को प्रत्येक व्यक्ति के साथ मिलकर मानना चाहिए और साथ ही साथ सरकार को प्रदूषण नियंत्रण करने के लिए कठोर नियम एवं कानून बनाना चाहिए। 

See also  संविधान दिवस पर निबंध हिंदी में | Essay on Constitution Day in Hindi

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर निबंध (500 शब्द) | National Pollution Control Day Essay in Hindi

प्रस्तावना

1984 की भोपाल गैस आपदा के पीड़ितों की याद में हर साल 2 दिसंबर को राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस मनाया जाता है। यह मुख्य रूप से राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा आयोजित किया जाता है, जो पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के तहत एक वैधानिक संगठन है।

यह दिवस क्यों मनाया जाता है?

यह दिन भोपाल गैस त्रासदी के लगभग चार हजार पीड़ितों की याद में मनाया जाता है, जिन्होंने अपनी जान गंवा दी। यह उन हजारों  एवं अन्य लोगों की भी याद दिलाता है , जो गैस लिक के प्रभाव के कारण अस्थायी या स्थायी रूप से बीमार हो गए थे। यह घटना यूनियन कार्बाइड इंडिया लिमिटेड (यूसीआईएल) द्वारा संचालित कीटनाशक उत्पादन संयंत्र में हुई। 2-3 दिसंबर की उस भयावह को जहरीली मिथाइल आइसोसाइनेट (एमआईसी) गैस वाले एक टैंक में रिसाव हो गया, जिससे लगभग 40 टन गैस वायुमंडल में फैल गई। इस घटना को भारतीय इतिहास में काली रात के नाम से भी जाना जाता है। इस काली रात को दो से तीन घंटों के भीतर, गैस दक्षिण-पश्चिम दिशा में  हवा के साथ मिल गई, जिससे लाखों लोगों को भागने के लिए मजबूर होना पड़ा था। जो लोग बाहर निकलने में असमर्थ थे वे जमीन पर गिर पड़े। इस आपदा में लगभग चार हजार लोग की मृत्यु हुई थी और लगभग पांच लाख लोग घायल हुए थे।

इन्हें भी पढ़ें: गुरु नानक जयंती पर निबंध हिंदी में

प्रदूषण – एक बढ़ती समस्या

आज विश्व के लिए  प्रदूषण एक बढ़ती हुई समस्या का विषय है। यह सिर्फ भारत के लिए ही चिंता का विषय नहीं है। बल्कि पूरी दुनिया कई तरह के प्रदूषण से जूझ रही है। वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण, मृदा प्रदूषण और अन्य, लाखों लोगों के जीवन को गंभीर रूप से प्रभावित करते हैं।इसके अलावा, जो लोग औद्योगिक क्षेत्र के करीब रह रहे हैं वे सभी प्रकार के जहरीले धुएं और उत्पादित गैसों के संपर्क में होते हैं। ऐसा प्रदूषण गंभीर रूप से मनुष्य जीवन की गुणवत्ता को ख़राब करता है और लोगों को विभिन्न प्रकार के बीमारियों से ग्रसित करता है। 

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस का पालन

प्रदूषण के भिन्न-भिन्न प्रकारों और जीवन और स्वास्थ्य पर उनके प्रभाव के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए संबंधित सरकारी संगठनों द्वारा राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस व्यापक रूप से मनाया जाता है।आपदा-संभावित क्षेत्रों में रहने वाले लोगों, यानी रासायनिक संयंत्र या परमाणु संयंत्र के नजदीक रहने वाले लोगों को उठाए जाने वाले एहतियाती सुरक्षा उपायों के बारे में जानकारी प्रदान की जाती है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि सभी सुरक्षा दिशानिर्देशों का अनुपालन किया गया है। संबंधित विभागों द्वारा उद्योगों का निरीक्षण किया जाता है। खराब रखरखाव और सुरक्षा उपायों वाले उद्योगों को तुरंत काम बंद करने की चेतावनी दी जाती है या नोटिस दिया जाता है।

इन्हें भी पढ़ें: लाचित बोरफुकन पर निबंध

उपसंहार

वर्तमान समय में बढ़ते प्रदूषण एवं मनुष्य के जीवन पर हो रहे हानिकारक प्रभाव को ध्यान में रखते हुए प्रत्येक वर्ष राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस मनाया जाता है इस प्रदूषण दिवस का मुख्य उद्देश्य लोगों को प्रदूषण नियंत्रण करने के लिए अधिक से अधिक के संख्या में लोगों को जागरूक करना होता है। 

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस  पर निबंध (800 शब्द)

प्रस्तावना

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस (भारत) 2 दिसंबर को 1984 की रात्रि के समय यूनियन कार्बाइड इंडिया लिमिटेड में भोपाल गैस त्रासदी में अपनी जान गंवाने वाले सभी लोगों की याद में मनाया जाता है। यह दुनिया की सबसे खराब एवं बड़े औद्योगिक आपदाओं में से एक थी, जिसके परिणामस्वरूप कुछ ही घंटे के अंदर लगभग चार हजार लोग की मृत्यु हुआ था। 

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस कब मनाया जाता है? 

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस प्रत्येक वर्ष 2 दिसंबर को मनाया जाता है। क्योंकि भारत के इतिहास में 2 दिसंबर सन 1984 के दिन भोपाल गैस कांड की दुर्घटना हुआ था। और इस दुर्घटना में हजारों की संख्या में लोगों की मृत्यु हुआ था इन्हीं लोगों के याद में प्रत्येक वर्ष 2 दिसंबर को राष्ट्रीय दिवस मनाया जाता है। 

See also  मेरा परिवार पर निबंध हिंदी में | My Family Essay in Hindi 2023

इन्हें भी पढ़ें: जीवन में खेलों का महत्व निबंध

भोपाल गैस त्रासदी | (Bhopal Gas Tragedy)

भोपाल गैस त्रासदी या कुख्यात भोपाल आपदा 2-3 दिसंबर 1984 की रात के दौरान हुई थी। यह घटना यूनियन कार्बाइड इंडिया लिमिटेड (यूसीआईएल) द्वारा संचालित भोपाल में कीटनाशक संयंत्र में हुई थी।यह त्रासदी मिथाइल आइसोसाइनेट (एमआईसी) के रिसाव के कारण हुई, जो एक बेहद जहरीली गैस है। रिसाव एमआईसी टैंकों में से एक में दबाव बनाए रखने के प्रयासों के विफल होने के परिणामस्वरूप हुआ। इसका मतलब था कि 42 टन एमआईसी गैस को टैंक से बाहर नहीं निकाला जा सका। इसके अलावा, संयंत्र के अधिकांश सुरक्षा उपकरणों और पाइपों का रखरखाव भी ख़राब था।जब तक वरिष्ठ रखरखाव अधिकारियों ने प्रतिक्रिया दी, तब तक टैंक में दबाव 50 पीएसआई तक बढ़ गया था |

जिसके परिणामस्वरूप सुरक्षा वाल्व फट गया और एमआईसी में रिसाव हो गया। आसपास के क्षेत्रों में लगभग पांच लाख लोग प्रभावित हुए। इस त्रासदी के परिणामस्वरूप लगभग 4000 मौतें हुईं और पांच लाख घायल हुए।

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस के उद्देश्य

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस का मुख्य उद्देश्य लोगों को प्रदूषण और स्वास्थ्य तथा पर्यावरण पर इसके खतरनाक प्रभावों के बारे में जागरूक करना है।अभूतपूर्व आपदाओं से निपटने के लिए जिम्मेदार सरकारी एजेंसियों का परीक्षण किया जाता है और उनकी प्रतिक्रियाशीलता की जांच करने के लिए मॉक ड्रिल आयोजित की जाती है। एजेंसियों ने लोगों को गैस रिसाव या अन्य मानव निर्मित आपदाओं की स्थिति में अपनी जान बचाने के तरीके सिखाने के लिए कई सूचनात्मक कार्यक्रम भी आयोजित किए।यह सरकार द्वारा उठाए गए विभिन्न प्रदूषण नियंत्रण कदमों के बारे में भी लोगों को जागरूक करता है। 

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर संबंधित सरकारी एजेंसियों द्वारा कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। प्रदूषण के प्राकृतिक और मानव-प्रेरित कारणों के विषयों पर सेमिनार और चर्चाएँ आयोजित की जाती हैं।लोगों को जीवन पर प्रदूषण के प्रभावों और प्रदूषण को खत्म करने के लिए अपनाए जाने वाले तरीकों के बारे में जानकारी दी जाती है और जागरूक किया जाता है।विनिर्माण उद्योग कर्मचारियों के लिए प्रशिक्षण सत्र आयोजित करते हैं जिसमें उन्हें सुरक्षा प्रक्रियाओं को बनाए रखने के बारे में प्रशिक्षित किया जाता है। उन्हें आपातकालीन स्थिति में सुरक्षा और एहतियाती उपायों के लिए दिशानिर्देश भी दिए जाते हैं।

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस का महत्व

यह एक सच्चाई है कि प्रदूषण ग्रह पर किसी भी अन्य बीमारी की तुलना में अधिक जानें लेता है। आज हम एक अत्यधिक औद्योगीकृत दुनिया में रहते हैं जहाँ उद्योग पूरे विश्व में बिखरे हुए पाए जाते हैं। अक्सर, इन उद्योगों के नजदीक शहर और कस्बे होते हैं। इसलिए, छोटी सी लापरवाही भी हजारों या लाखों लोगों की जान को खतरे में डाल सकती है, जैसा कि भोपाल त्रासदी के मामले में देखा गया था।

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस का पालन महत्वपूर्ण है क्योंकि यह अधिकारियों को सर्वोच्च सुरक्षा प्रक्रियाओं को बनाए रखने के साथ-साथ उद्योगों को समय पर दिशानिर्देश जारी करने के लिए तैयार रखता है। यह प्रदूषण के मुद्दे के समाधान के लिए सभी सरकारी और गैर-सरकारी एजेंसियों को एक मंच प्रदान करता है।

व्यापक परिप्रेक्ष्य में, यह दिन न केवल औद्योगिक प्रदूषण को कम करने में मदद करता है, बल्कि अन्य प्रकार जैसे – वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण और अन्य को भी कम करने में मदद करता है। यह एक आवश्यक कार्यक्रम है जो प्रदूषण के संवेदनशील और आवश्यक मुद्दे पर लोगों में जागरूकता पैदा करता है। यह मानव गतिविधि के सभी क्षेत्रों से प्रदूषण को रोकने में मदद करता है।

उपसंहार

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस मनाने की आवश्यकता इसलिए होती है कि दिन प्रतिदिन प्रदूषण का स्तर बढ़ता जा रहा है। इसलिए इस दिवस के दिन लोगों को एक साथ मिलकर मनाना चाहिए और प्रदूषण नियंत्रण करने के लिए जागरूक होना चाहिए और सरकार को प्रदूषण नियंत्रण करने के लिए विभिन्न प्रकार की अभियान एवं नियम बनाना चाहिए। 

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर निबंध (PDF Download)

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर निबंध PDF Download करने का लिंक इस आर्टिकल में प्रदान की जाएगी जिस पर आप लोग क्लिक करके PDF को डाउनलोड कर सकेंगे। 

See also  स्वतंत्रता दिवस पर निबंध 2023 | Essay On Swatantrata Diwas in Hindi | 10 Lines, Download PDF

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर स्पीच | National Pollution Control Day Speech

जैसा कि आप सभी जानते हैं आज राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस है। इस महत्वपूर्ण दिन के सम्मान में, हम  राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर एक भाषण प्रस्तुत करना चाहूँगा।राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस प्रत्येक वर्ष 2 दिसंबर को मनाया जाता है। यह स्वच्छ एवं साफ सुथरा वातावरण बनाए रखने के लिए वार्षिक अनुस्मारक के रूप में कार्य करता है। भोपाल में दुखद एवं दर्दनाक औद्योगिक दुर्घटना ने भारत में औद्योगिक नियमों को प्रभावित किया। राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस भारत में इसी तरह की आपदाओं को रोकने की आवश्यकता के बारे में आम जनता के बीच जागरूकता बढ़ाता है।

इस दिन विरोध प्रदर्शन, रैलियां और अन्य संबंधित गतिविधियों की झलक देखने को मिलती है। लोग मृतकों के जीवन का सम्मान करते हैं और उन्हें श्रद्धांजलि देते हैं। गैर सरकारी संगठन और कई अन्य सामाजिक समूह चर्चाओं और सभाओं की मेजबानी के लिए एक साथ आते हैं। इस आयोजन की जड़ें संगोष्ठियों और सम्मेलनों में भी हैं। राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर चैट शो और सोशल मीडिया पर अभियान चलाया जाता है. राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर पर्यावरण संरक्षण का संदेश प्रसारित किया जाता है। यह सभी संभावित प्रदूषण शमन रणनीतियों पर केंद्रित है। औद्योगिक कचरे से जुड़े खतरों और उससे होने वाली दुर्घटनाओं के कारण यह दुनिया बदल देता है। 2 दिसंबर 1984 को हुई वह दुखद घटना कई लोगों को याद है।

भारत सरकार के केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण ने जन जागरूकता बढ़ाने के लिए कई कदम उठाए हैं। राष्ट्रीय प्रदूषण निवारण दिवस या राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर्यावरणीय गिरावट की दुखद सच्चाई पर प्रकाश डालता है। मानवीय गतिविधियों के कारण वायुमंडलीय वायु गुणवत्ता में गिरावट आ रही है। वायु प्रदूषण का स्रोत ऑटोमोबाइल और औद्योगिक चिमनियों से निकलने वाला निरंतर धुआं है। राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस देश और उसके नागरिकों के लाभ के लिए मनाया जाता है। जैसे-जैसे अधिक लोग प्रदूषण के प्रति जागरूक होंगे, प्रदूषण से होने वाली मौतें कम होंगी।

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस 10 लाइन | 10 Lines on  National Pollution Control Day Day

  • प्रत्येक वर्ष 2 दिसंबर को राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस के रूप में मनाया जाता है। 
  • प्रदूषण के स्तर में लगातार वृद्धि होने के कारण इसके  हानिकारक प्रभाव के प्रति लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस मनाया जाता है। 
  • अनेक रूपों में प्रदूषण में वृद्धि होना एक वैश्विक समस्या है। 
  • राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस के तिथि को भोपाल गैस कांड की घटना के दिन को चुना गया था। 
  • राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस मनाने की कारण  गैस त्रासदी मानी जाती है जिसमें कई हजार लोगों की मृत्यु हुआ था। 
  • भारत में प्रदूषण को रोकने के लिए सरकार के द्वारा कई प्रकार के नियम एवं कानून  बनाया जा चुका है। 
  • राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य प्रदूषण पर नियंत्रण करना एवं औद्योगिक आपदाओं को रोकथाम के  लिए है। 
  • प्रदूषण को रोकने के लिए सभी लोगों को एक साथ मिलकर कार्य करना चाहिए। 
  • इस दिवस के दिन स्कूल एवं कॉलेज में पेड़ पौधा लगाकर लोगों को जागरूक किया जाता है। 
  • प्रदूषण को स्वच्छ रखने के लिए प्राकृतिक संसाधनों का सही से उपयोग करना होगा। 

समरी: Essay On National Pollution Control Day

उम्मीद करता हूं कि हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस संबंधी जानकारी विस्तार पूर्वक प्रदान की गई है जो आप लोगों को काफी पसंद आया होगा ऐसे में आप हमारे आर्टिकल संबंधित कोई प्रश्न एवं सुझाव है तो आप लोग हमारे कमेंट बॉक्स में आकर अपने प्रश्नों को पूछ सकते हैं हम आपके प्रश्नों का जवाब जरूर देंगे। 

FAQ’s: Essay On National Pollution Control Day in Hindi

Q.राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस कब मनाया जाता है? 

Ans.राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस प्रत्येक वर्ष 2 दिसंबर को मनाया जाता है। 

Q.राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस का उद्देश्य क्या है? 

Ans.राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस का मुख्य उद्देश्य लोगों को प्रदूषण नियंत्रण करने के लिए जागरूक करना होता है। 

Q.भोपाल गैस कांड की घटना कब हुई थी? 

Ans. भोपाल गैस कांड की घटना 2 और 3 दिसंबर सन 1984 को हुआ था। 

Q.राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस क्यों मनाया जाता है? 

Ans.राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस इसलिए मनाया जाता है कि दिन प्रतिदिन प्रदूषण का स्तर बढ़ता जा रहा है प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए प्रत्येक वर्ष राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस मनाया जाता है। 

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं।
Category: निबंध

About Shalu Saini

Hi, I am Shalu Saini a copywriter and content creator with a passion for telling stories that grab readers attention. With a background in journalism and over four years of writing experience, I am specialize in crafting unique and compelling stories.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *