शिक्षा पर भाषण हिंदी में | Education Speech in Hindi

Speech On Education

Speech On Education in Hindi:-आदरणीय प्राचार्य महोदय और अध्यापक गण एवं यहां उपस्थित सभी विद्यार्थियों को नमस्कार । आज मैं यहां इस आयोजन पर आपके सामने शिक्षा के बारे में एक भाषण के जरिए अपने विचार प्रस्तुत करने जा रहा हूं। शिक्षा का हमारे जीवन में क्या महत्व है, यह एक शिक्षित व्यक्ति भली भांति जानता है। शिक्षा (Education) के बगैर जीवन में आने वाली कठिनाइयों को एक अशिक्षित व्यक्ति (Uneducated person) बखूबी समझता है। एक श्लोक से समझते हैं, विद्या का महत्व। ये सभी बातें आपको इस लेख के जरिए मिल जाएगी इस लेख में शिक्षा पर भाषण हिंदी में Speech on Education in Hindi,Shiksha ka Mahatva ,शिक्षा पर भाषण टीचर्स के लिए ,शिक्षा पर भाषण स्टूडेंट्स के लिए  इन सभी बिंदूओं पर आपसे इस लेख के जरिए चर्चा करेंगे। 

      “विद्या नाम नरस्य रूपमधिकं प्रच्छन्नगुप्तं धनम् ।

       विद्या भोगकरी यश: सुखकरी विद्या गुरूणां गुरू: ।।

       विद्या बंधुजनो विदेश गमने विद्या परं दैवतम् ।

       विद्या राजसु पूज्यते न हि धनं विद्या विहीन: पशु: ।।”

इस श्लोक का मतलब है कि विद्या किसी व्यक्ति का विशिष्ट रूप है, विद्या किसी व्यक्ति का विशिष्ट रूप है, विद्या गुप्त धन है। विद्या भोग देने वाली, यश-कीर्ति देने वाली और सुख देने वाली है। विद्या गुरुओं की गुरू है, विदेश में विद्या बंधु है, यानि दोस्त है। विद्या ही सबसे बड़ी देवता है, राजाओं में विद्या की पूजा होती है, धन की नहीं, विद्याहीन व्यक्ति पशु के समान है। जो लोग पढ़ाई-लिखाई से दूर भागते हैं, वे घर कष्टों में जीवन जीते हैं। शिक्षा एक ऐसा धन है,जिसे कोई चोरी नही कर सकता। यह हमें अंधविश्वास से दूर रखती है। 

डॉ. राधाकृष्णन सर्वपल्ली का जीवन परिचय

राष्ट्रीय युवा दिवस निबंध हिंदी में

Education Speech in Hindi

टॉपिकशिक्षा पर भाषण हिंदी में
लेख प्रकार आर्टिकल
साल2023
राष्ट्रीय शिक्षा दिवस11 नवंबर
राष्ट्रीय शिक्षा दिवस सबसे पहले कब मनाया गयासाल 2008
शिक्षक दिवस कब मनाया जाता है5 सितंबर
किसकी याद में शिक्षा दिवस मनाया जाता हैमौलाना अबुल कलाम आज़ाद
अंतरराष्ट्रीय शिक्षा दिवस है24 जनवरी

शिक्षा का महत्व | Shiksha ka Mahatva

Education के बल पर ही स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekananda), आचार्य चाणक्य (Acharya Chanakya), दयानंद सरस्वती (Dayanand Saraswati), ज्योतिबा फुले (Jyotiba Phule) और डॉ. बाबासाहेब अंबेडकर (Dr.Babasaheb Ambedkar) समेत कई महापुरुषों की पूजा हुई और इन लोगों ने शिक्षा का महत्व जानकर Shiksha का जमकर प्रचार-प्रसार किया। शिक्षा, महिला और पुरुषों के लिए समान महत्व रखती है। शिक्षा मनुष्य का मानसिक (Mental), सामाजिक(Social), आर्थिक (Financial) और राजनीतिक (Political) सभी रूप में विकास करके यश-कीर्ति दिलवाती है।

See also  23 मार्च शहीद दिवस पर दमदार भाषण हिंदी में | Shahid Diwas Speech in Hindi

शिक्षा ‘जीवन’ का मूल आधार है। बिना Shiksha के मनुष्य का जीवन जानवर के समान प्रतीत होता है, क्योंकि ना तो वह किसी बात को आसानी से समझता है और ना ही कोई काम अपने बल पर कर पाता है। जब एक बच्चा जन्मता है, तो उसका पहला School घर और गुरू माता-पिता होते हैं। बच्चा अपनी मां और घर वालों से तो सीखता ही है,लेकिन बड़े होने पर उसे व्यवहारिक जीवन में सफल होने के लिए स्कूली शिक्षा का होना बहुत जरूरी है। School Education बच्चे के मानसिक बुध्दि का विकास करती है और उसको नैतिकता का ज्ञान कराती है। 

बचपन से ही माता-पिता अपने बच्चों को अच्छी Education देने के लिए अच्छे School में भेजने का प्रयास करते हैं। एक पिता अपने बच्चों को सही और अच्छी शिक्षा देने के लिए हरसंभव प्रयास करता है, क्योंकि उचित Shiksha के बगैर मनुष्य जीवनभर भटकता है।

शिक्षा पर भाषण टीचर्स के लिए | Speech On Education for Teachers

बच्चो क्या आप जानते हैं कि डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन (Dr. Sarvepalli Radhakrishnan) हमारे देश के पहले उप-राष्ट्रपति(Vice-President) थे । उनके ही जन्मदिवस को शिक्षक दिवस (Teachers Day) के तौर पर मनाया जाता है। Dr. Sarvepalli Radhakrishnan ने एक Teacher भी रहे हैं और उन्होंने करीब 35 वर्ष की उम्र से ज्यादा तक पढ़ाई की । इसके अलावा डॉ. ए.पी.जे अब्दुल कलाम (About Dr. A.P.J. Abdul Kalam) को कोई कैसे भूल सकता है। उन्होंने तो जीवन में संघर्ष करके एक ऐसा मुकाम पाया जो हर किसी के बस की बात नहीं है। वे बच्चों को Education Tips दिया करते थे। कलाम ने बहुत मेहनत की और वैज्ञानिक(Scientist) के बाद  (President) तक का सफर किया।

See also  बाल दिवस पर भाषण हिंदी में | Children's Day Speech in Hindi

Shiksha के जरिए ही इंसान में कौशलता का निर्माण होता है और Society में एक बेहतर सामाजिक व्यक्तित्व का निर्माण होता है। एक Educated human को सफलता की सीढ़ियां चढ़ने में वक्त नहीं लगता है और वह अपने लक्ष्य तक आसानी से पहुंच सकता है। व्यक्ति को शिक्षित होने में कई साल देने होते हैं, लेकिन यह प्रक्रिया गतिशील है। बाल्यवस्था (Childhood) से लेकर युवावस्था (Adulthood) तक स्वयं को शिक्षित कर हम भविष्य के लिए तैयार रहने के लिए शिक्षा ग्रहण करते हैं।


एक Educated Person समस्याओं से घबराने की बजाय उस परेशानी से आसानी से निपट सकता है। School में हमें शिक्षित करने के लिए कई नई-नई चीजें सीखने को मिलती हैं। छात्रों को अध्यापक की डांट भी इसीलिए लगती है, कि वह गलती को सुधारे और भविष्य के लिए आगे बढ़े।

Education के जरिए ही एक छात्र अच्छी नौकरी और पेशा करके अपने परिवार के लिए जीविका उपार्जन (earning a living )करता है। देशहित में सहयोग के लिए शिक्षा का काफी महत्व है। बिना शिक्षा के इंसान को यह पता नहीं चल पाता कि उसे क्या बनना है और क्या जीवन का लक्ष्य है।       

शिक्षा पर भाषण स्टूडेंट्स के लिए | Speech On Education for Students

Speech On Education 2023;-व्यक्ति का व्यवहार ही उसके Educated होने का परिचय देता है। इसीलिए अगर किसी देश को Developed होना है, तो उस देश के नागरिकों का शिक्षित होना बहुत जरूरी है। यदि देश uneducated Political Leader के हाथों चला जाएगा, तो इसका खामियाजा पूरे देशवासियों को भुगतना पड़ सकता है। Society में व्याप्त ऊंच-नीच, जात-पात को Shiksha के माध्यम से ही खत्म किया जा सकता है। शिक्षा हर मनुष्य के अंदर समानता का भाव लाती है। यह हमें कई विषयों जैसे, गणित(Maths), भूगोल(Geography), विज्ञान(Science) के अलावा अच्छे और सही फैसले लेने के लिए योग्य बनाती है। कहा गया है कि एक राजा की पूजा उसके राज्य तक होती है, लेकिन एक शिक्षित व्यक्ति देश-विदेश में पूजा जाता है।

आजादी के 70 साल के बाद देश में शिक्षा का स्तर काफी बढ़ चुका है और नई तकनीक (Technology) ने लोगों का जीवन काफी आसान बना दिया है। मोबाइल में 5G से लेकर अंतरिक्ष (Space) तक की यात्रा भारत देश ने कर ली है। स्कूलों में नए Syllabus को शामिल किया गया है। बच्चे कई भाषाओं का ज्ञान तो ले ही रहे हैं, साथ ही साइंस के क्षेत्र में भी कई तरह के आविष्कार (Inventions) रोज हो रहे हैं।कोरोना के बाद छात्रों की पढ़ाई करने का तरीका ही बदल गया। सभी टीचर और छात्र ऑनलाइन Mobile पर शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। आज कल घर बैठे ही छात्र बहुत कुछ Online सीख रहे हैं । कई Online COurse भी टीचर्स ने मुहैया करा दिये, जिसके बाद घर बैठे शिक्षा ग्रहण कर सकते हैं।

See also  बैसाखी पर भाषण (Short & Long Speech on Baisakhi in Hindi) 10 Lines बैसाखी पर भाषण

FAQ’s Education Speech in Hindi

Q. शिक्षा का महत्व क्या है?

Ans. शिक्षा से व्यक्ति में सोचने समझने की क्षमता का विकास होता है, जो समाज में समानता लाती है और देश की प्रगति होती है।

Q. शिक्षा में क्या बदलाव हुए? 

Ans. वर्तमान में ऑनलाइन शिक्षा का चलन काफी बढ़ा है।

 Q. शिक्षा क्या सिखाती है ?

Ans. जीवन जीने का तरीका शिक्षा सिखाती है।

 Q. भारत में शिक्षक दिवस कब मनाया जाता है क्या सिखाती है?

 Ans. भारत में शिक्षक दिवस 5 सितंबर को मनाया जाता है।

Q. भारत में शिक्षक दिवस किसकी याद में मनाया जाता है?

Ans. भारत में शिक्षक दिवस 5 सितंबर को डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की याद में  मनाया जाता है।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja