महादेवी वर्मा का जीवन परिचय | Mahadevi Verma Biography in Hindi [ रचनाएं, पुरस्कार,अवार्ड, रोचक तथ्य मृत्यु ]

By | November 3, 2023
Follow Us: Google News

महादेवी वर्मा का जीवन परिचय | Mahadevi Verma Biography in HIndi : महादेवी वर्मा  छायावाद युग की मशहूर कवयित्री मानी जाती है उन्होंने अपने कविता के माध्यम से समाज के लोगों का मार्गदर्शन किया है और साथ में उनकी कलम उन सभी मुद्दों पर चली है जो हमारे सामाजिक जीवन से जुड़े हुए मुद्दे हैं। महादेवी वर्मा को आधुनिक भारतीय साहित्य का मीरा कहा जाता हैं। हम आपको बता दें कि महादेवी वर्मा ने हमेशा महिलाओं के लिए अपनी आवाज बुलंद की है उनका मन था कि अगर महिलाएं सशक्त और आत्मनिर्भर बनेगी तभी जाकर भारतीय समाज का विकास तेजी के साथ होगा।  महादेवी वर्मा के बारे में मशहूर कवि निराला जी ने कहा था कि हिंदी साहित्य के विशाल मंदिर की सरस्वती” भी महादेवी वर्मा हैं।

ऐसे में हर एक भारतीयों के मन में महादेवी वर्मा के निजी जीवन के बारे में जानने की आवश्यकता तेजी के साथ बढ़ रही है कि महादेवी वर्मा कौन है? प्रारंभिक जीवन, शिक्षा, परिवार, साहित्यिक करियर, उनके द्वारा लिखे गए रचनाएं मिलने वाले अवार्ड, मृत्यु, इन सब के बारे में अगर आप पूरी जानकारी चाहते हैं तो आज के आर्टिकल में हम आपको Mahadevi Verma Ka Jeevan Parichay के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी उपलब्ध करवाएंगे आपसे अनुरोध है कि आर्टिकल पर बने रहे हैं चलिए जानते हैं:-

Mahadevi Verma ka Jeevan Parichay | महादेवी वर्मा का संक्षिप्त परिचय

आर्टिकल का प्रकारजीवन परिचय
आर्टिकल का नाममहादेवी वर्मा का जीवन परिचय
साल2023
जन्म कहां हुआ थाउत्तर प्रदेश फर्रुखाबाद में
मृत्यु कब हुई11 सितंबर 1987

Also Read: कवयित्री सुभद्रा कुमारी चौहान जीवन परिचय

महादेवी वर्मा जीवन परिचय | Mahadevi Verma Wiki Bio in Hindi

नाममहादेवी वर्मा
जन्मतिथि1907
जन्म-स्थानफर्रुखाबाद
होमटाउनफर्रुखाबाद उत्तर प्रदेश
आधुनिक युग मीरा कौन थीमहादेवी वर्मा
पतिडॉक्टर स्वरूप नारायण मिश्रा
प्रारंभिक शिक्षा  कहां से पूरीइंदौर
उच्च शिक्षा कहां से पूरी कियाप्रयाग
किस रूप में प्रसिद्ध थीकवयित्री, लेखिका
भाषाखड़ी बोली
कितने वर्ष तक जीवित थे80 वर्ष
कविताएँनिहार, रश्मी, नीरजा, संध्यागीत, प्रथम आयाम, सप्तपर्ण, दीपशिक्षा आदि।
कहानियाँअतीत के चलचित्र पथ के साथी, मेरा परिवार, संस्मरण. संभाषण, के रेहाये, आदि।
मृत्यु11 सितंबर, 1987

Also Read: कवयित्री सुभद्रा कुमारी चौहान जीवन परिचय | (शिक्षा, प्रमुख रचनाएँ, पुरस्कार व सम्मान)

महादेवी वर्मा का प्रारंभिक जीवन और शिक्षा (Mahadevi Verma Early Life And Education)

Mahadevi Verma Jeevan: महादेवी वर्मा का जन्म 26 मार्च 1907 फर्रुखाबाद उत्तर प्रदेश में हुआ था हम आपको बता दे कि  उनके परिवार में 200 वर्षों के बाद पहली बार पुत्री का जन्म हुआ था जिसके कारण उनके दादा खुशी के साथ झूम उठे थे और उन्होंने महादेवी वर्मा को देवी मानते हुए उनका नाम महादेवी रखा था उनके पिता का नाम गोविंद प्रसाद वर्मा है जो स्कूल में शिक्षक थे उनकी माता का नाम  हेमरानी देवी बड़ी धर्म परायण, कर्मनिष्ठ, महिला थी । महादेवी वर्मा जब छोटी थी तो उन्होंने अपने बचपन के बारे में लिखा था वह काफी भाग्यशाली हैं कि उनका जन्म एक उदार परिवार में हुआ है और ऐसे समय जब समाज में लोग लड़कियों को बोझ मानते हैं लेकिन उनके घर में उन्हें जो मान सम्मान मिलता है शायद किसी दूसरे लड़की को मिलता हो महादेवी वर्मा का विवाह 9 साल की उम्र में हो गया था जिससे मैं वह दसवीं कक्षा में पढ़ती थी उसे समय उन्हें शादी का क्या मतलब है उसके बारे में कोई जानकारी नहीं थी |

See also  जे रॉबर्ट ओपेनहाइमर का जीवन परिचय | J. Robert Oppenheimer Biography in Hindi

हालांकि उनका वैवाहिक जीवन उतना सफल नहीं रहा था  अगर हम उनकी शिक्षा की बात करें तो उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा इन्दौर में  किया था और अपनी उच्च शिक्षा प्रयाग में पूरी की  इन्होंने प्रयाग विश्वविद्यालय से बी० ए० तथा संस्कृत में एम० ए० की परीक्षा उत्तीर्ण की। विवाह के पश्चात इन्होंने एफ० ए०, बी० ए० और एम० ए० परीक्षाएं सम्मान सहित उत्तीर्ण की। महादेवी जी ने घर पर ही चित्रकला तथा संगीत की शिक्षा भी प्राप्त की थी।

महादेवी वर्मा के काव्य की भाषा शैली और शब्दावली

महादेवी जी की भाषा खड़ीबोली एवं संस्कृत पूर्ण है फिर भी उसमें शुष्कता तथा दुर्बोधता नहीं है। हम आपको बता दे की विषय के अनुरूप अपनी भाषा में भी बदलाव करती थी   उनकी भाषा की शैली काफी आसान और आकर्षण शक्ति और हम आपको बता दें कि महादेवी वर्मा की प्रमुख रूप से  तीन प्रकार के शैलियों को अपनाया है, जैसे – विवेचनात्मक शैली, विवर्णनात्मक शैली तथा ओजमयी विद्रोहात्मक शैली।

महादेवी वर्मा की रचनाएँ | Mahadevi Verma Rachnayen

कविता संग्रह

महादेवी वर्मा के कविता संग्रह की बात करें तो उसका पूरा विवरण हम आपको नीचे दे रहे हैं आईए जानते हैं-

निहार’रश्मि ‘नीरजा’, ‘सान्ध्यगीत’, ‘दीपशिखा’, ‘सप्तपर्णी’ व ‘हिमालय’ आदि इनके काव्य संग्रह हैं।

काव्य संकलन

1. आत्मिका
2. निरंतरा
3. परिक्रमा
4. सन्धिनी (1965)
5.यामा (1936)
6. गीतपर्व
7. दीपगीत
8. स्मारिका
9. हिमालय (1963)
10. आधुनिक कवि महादेवी आदि।

निबंध संग्रह | Essay

श्रृखला की कड़ियाँ’, ‘विवेचनात्मक गद्य’, ‘साहित्यकार की आस्था’ तथा ‘अन्य निबंध आदि

महादेवी वर्मा के कविता संग्रह

1930नीहार
1932रश्मि
1934नीरजा
1935सांध्यगीत
1942दीपशिखा
1984प्रथम आयाम
1990अग्निरेखा
1940यामा
1983गीतपर्व, परिक्रमा, संधिनी, आत्मिका
1983दीपगीत
1983नीलाम्बरा

महादेवी वर्मा को मिली प्रमुख पुरस्कार और सम्मान (Awards and Honors)

  • वर्ष 1934 में निरजा ₹500 का नगद और साथ में और सेकसरिया पुरस्कार उनको दिया गया था
  • 1944 में आधुनिक कवि और निहार पर 1200 का मंगला प्रसाद पारितोषिक पुरस्कार उन्होंने जीता था
  • वर्ष 1956 में पद्म भूषण से  अवार्ड  उनको दिया गया था
  • वर्ष 1988 में पदम विभूषण से सम्मानित किया गया।
  • हिंदी साहित्य सम्मेलन द्वारा उन्हें भारतेंदु पुरस्कार  से सम्मानित किया गया
  • वर्ष 1982 में  यामा के लिए ज्ञानपीठ पुरस्कार दिया गया था
  • 1943 में मंगलाप्रसाद पारितोषिक भारत  अवार्ड दिया गया था
  • 1952 में उत्तर प्रदेश विधान परिषद के लिए  मनोनीत किया गया था
  • महादेवी वर्मा को 1969 में विक्रम विश्वविद्यालय, 1977 में कुमाऊं विश्वविद्यालय, नैनीताल, 1980 में दिल्ली विश्वविद्यालय तथा 1984 में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, वाराणसी ने इनको डी.लिट उपाधि से इन्हें नवाजा गया था |
See also  पंडित जवाहरलाल नेहरू पर निबंध | Pandit Jawaharlal Nehru Essay in Hindi

महादेवी वर्मा के बारे में रोचक तथ्य (Interesting Fact)

महादेवी वर्मा के बारे में रोचक जानकारी का विवरण हम आपको नीचे दे रहे हैं आईए जानते हैं-

  • गाय को अत्यधिक प्रेम करती थी।
  • महादेवी वर्मा के पिताजी मांसाहारी थे और उनकी माता शाकाहारी हैं
  • आठवीं कक्षा में उन्होंने पूरे प्रांत में प्रथम स्थान प्राप्त किया था
  • महादेवी वर्मा इलाहाबाद महिला विद्यापीठ की कुलपति और प्रधानाचार्य भी रही हैं
  • महादेवी वर्मा के पिताजी मांसाहारी थे और उनकी माताजी शुद्ध शाकाहारी थी।
  • महादेवी वर्मा कक्षा आठवीं में पूरी प्रांत में प्रथम स्थान पर रही।
  • महादेवी वर्मा इलाहाबाद महिला विद्यापीठ की कुलपति और प्रधानाचार्य भी रही।
  • भारतीय साहित्य अकादमी की मेंबर बनने वाली पहली महिला महादेवी वर्मा थी
  • इनका विवाह बचपन में ही हो गया था लेकिन उन्होंने पूरा जीवन  अविवाहित की तरह ही गुजारा।
  • महादेवी वर्मा को साहित्य के साथ चित्रकला और संगीत में भी  रुचि थी
  • एक बार मैथिलीशरण गुप्त ने उनसे पूछा कि आप इतना काम करते हैं कभी थकती नहीं है तो इस पर महादेवी वर्मा ने कहा कि उनका जन्म होली के दिन हुआ था इसलिए होली का रंग और उसके उल्लास की चमक हमेशा मेरे चेहरे पर बनी रहती हैं।

Summary- महादेवी वर्मा की जीवनी

उम्मीद करता हूं कि हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल महादेवी वर्मा की बायोग्राफी आपको पसंद आई होगी ऐसे में आर्टिकल से संबंधित कोई भी जानकारी आपका सुझाव है तो आप हमारे कमेंट सेक्शन में जाकर पूछ सकते हैं उसका उत्तर हम आपको जरूर देंगे अगर आप बायोग्राफी संबंधित अपडेट जानकारी नियमित  रूप से प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमारे वेबसाइट को बुकमार्क कर ले ताकि जब भी कोई नई बायोग्राफी हमारे वेबसाइट पर पब्लिश की जाएगी उसकी जानकारी आपको नोटिफिकेशन के माध्यम से भेज दिया जाएगा तब तक के लिए धन्यवाद और मिलते हैं अगले आर्टिकल में

See also  ग़ज़ल अलघ का जीवन परिचय | Ghazal Alagh Biography in Hindi, Age, Net Worth, Husband, Religion, CEO of mamaearth, Shark Tank India

FAQ’s:- महादेवी वर्मा का जीवन परिचय

Q महादेवी वर्मा का जन्म कब और कहां हुआ था?

Ans.महादेवी वर्मा का जन्म 26 मार्च 1907 ई. में उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद शहर में हुआ था।

Q . महादेवी वर्मा के माता-पिता का क्या नाम था?

Ans. महादेवी वर्मा के माता का नाम हेमरानी देवी है और उनके पिता का नाम श्री गोविंद सहाय वर्मा है जो स्कूल प्रधानाध्यापक थे |

3. महादेवी वर्मा की मृत्यु कब और कहां हुई थी?

महादेवी वर्मा की मृत्यु 11 सितंबर 1987 ई. इलाहाबाद उत्तर प्रदेश में हुआ था |

Q.महादेवी वर्मा की प्रमुख रचनाएं कौन-कौन सी हैं?

महादेवी वर्मा जी की प्रमुख रचनाएं निम्न है – निहार, रश्मि, नीरजा, सान्ध्यगीत, यामा, दीपशिखा, सप्तपर्णा आदि ये इनकी काव्य संग्रह हैं। इसके अतिरिक्त अतीत के चलचित्र, स्मृति की रेखाएं, श्रृंखला की कड़ियां ये इनकी गध रचनाएं इत्यादि हैं |

Q.आधुनिक युग की मीरा किसे कहा जाता है?

Ans. हिंदी साहित्य के आधुनिक युग की मीरा महादेवी वर्मा को कहा जाता  हैं।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं।
Category: जीवन परिचय

About Shalu Saini

Hi, I am Shalu Saini a copywriter and content creator with a passion for telling stories that grab readers attention. With a background in journalism and over four years of writing experience, I am specialize in crafting unique and compelling stories.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *