कवयित्री सुभद्रा कुमारी चौहान जीवन परिचय | (शिक्षा, प्रमुख रचनाएँ, पुरस्कार व सम्मान) Subhadra Kumari Chauhan Biography in Hindi

By | November 3, 2023
Follow Us: Google News

Subhadra Kumari Chauhan Biography in Hindi:- सुभद्रा कुमारी चौहान, 1904-1948, लेखिका और स्वतंत्रता सेनानी। यूपी के इलाहाबाद के एक रूढ़िवादी मध्यमवर्गीय राजपूत परिवार में जन्मी उनकी शादी जबलपुर के वकील ठाकुर लक्ष्मण सिंह से हुई थी। वह अपने पति के साथ असहयोग आंदोलन में शामिल हुईं और पहली महिला सत्याग्रही थीं, और मार्च 1923 में पुलिस अत्याचारों के विरोध में अपने पति के साथ एक जुलूस का नेतृत्व किया। वह 1940 में और फिर 1942 में जेल में रहीं। वह 1936 में और फिर 1946 में पूर्व मध्य प्रांत की विधान सभा के लिए चुनी गईं। वह एक लेखिका भी थीं और उन्होंने कई कविताएँ और लघु कहानियाँ लिखीं, जिनमें एक प्रसिद्ध कविता भी शामिल है। झाँसी की रानी. 1948 में एक कार दुर्घटना में उनकी मृत्यु हो गई।अगर आप सुभद्रा कुमारी चौहान जीवन परिचय को खोज रहे है तो आपके ही लिए हमारा यह लेख तैयार किया गया हैं। सुभद्रा कुमारी चौहान जीवन परिचय के लिए हमारा यह लेख आपके बहुत काम आएंगा। 

कवयित्री सुभद्रा कुमारी चौहान | Subhadra Kumari Chauhan Biography in Hindi

इस लेख को हमने कई तरह के शोध के बाद तैयार किया है। इसमें कई तरह के पॉइन्ट्स को जोड़ा है जो इस लेख को पूरा करता हैं। हमने जो पॉइन्ट्स को जोड़ कर इस लेख को रेडि किया है वह हैं-सुभद्रा कुमारी चौहान जीवनी | Subhadra Kumari Chauhan Biography,सुभद्रा कुमारी चौहान का जीवन परिचय  | Subhadra Kumari Chauhan Biography in Hindi.सुभद्रा कुमारी चौहान कौन थी ?सुभद्रा कुमारी चौहान की शिक्षा (Education) सुभद्रा कुमारी चौहान का वैवाहिक जीवन ( Husband and Kids)सुभद्रा कुमारी जी का करियर | Subhadra Kumari Chauhan Career,भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन में भूमिका,सुभद्रा कुमारी चौहान की कविता झांसी की रानी ,सुभद्रा कुमारी चौहान की प्रमुख रचनाएँ – कहानी संग्रह- कविता संग्रह- बाल साहित्य,सुभद्रा कुमारी चौहान को मिले पुरस्कार व सम्मान (Awards and Honors), सुभद्रा कुमारी चौहान की मृत्यु, सुभद्रा कुमारी चौहान की काव्यगत विशेषताएँ PDF,सुभद्रा कुमारी चौहान का जीवन परिचय PDF,सुभद्रा कुमारी चौहान का जीवन परिचय हिंदी में, Summary about Subhadra Kumari Chauhan in Hindi, सुभद्रा कुमारी चौहान की कौन सी कविता सर्वाधिक लोकप्रिय हुई?सुभद्रा कुमारी चौहान का पहला कहानी संग्रह कौन सा था? सुभद्रा कुमारी चौहान की लिखी कविता कौन कौन सी है?

सुभद्रा कुमारी चौहान जीवनी | Subhadra Kumari Chauhan Biography

टॉपिकसुभद्रा कुमारी चौहान जीवनी
लेख प्रकारजीवनी
साल2023
नामसुभद्रा कुमारी चौहान
धर्मधर्म
जन्म16 अगस्त, 1904
जन्म स्थाननिहालपुर गांव, जिला प्रयागराज, उत्तर प्रदेश
पिता का नामरामनाथ सिंह
पति का नामठाकुर लक्ष्मी सिंह चौहान
नागरिकता भारतीय
भाषाहिंदी
बच्चे  5
मृत्यु15 फ़रवरी 1948

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ का जीवन परिचय 

सुभद्रा कुमारी चौहान का जीवन परिचय  | Subhadra Kumari Chauhan Wiki Bio in Hindi

Subhadra Kumari Chauhan Wiki Bio: सुभद्रा कुमारी चौहान एक प्रख्यात भारतीय कवयित्री, स्वतंत्रता सेनानी और सामाजिक कार्यकर्ता थीं। वह अपनी क्रांतिकारी हिंदी कविता और भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में अपने योगदान के लिए जानी जाती हैं। 16 अगस्त 1904 को निहालपुर गाँव, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश, भारत में जन्मी सुभद्रा कुमारी चौहान ने अपने शक्तिशाली और देशभक्तिपूर्ण छंदों के माध्यम से जनता को प्रेरित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।सुभद्रा कुमारी चौहान एक सुशिक्षित परिवार से थीं, जिसने उनकी साहित्यिक गतिविधियों को प्रोत्साहित किया। उनके पिता, श्री देवी सहाय, अपने समुदाय में एक अत्यधिक सम्मानित व्यक्ति थे। उनके मार्गदर्शन में उनमें साहित्य के प्रति गहरा प्रेम विकसित हुआ और उन्होंने कम उम्र से ही कविता लिखना शुरू कर दिया।

19 साल की उम्र में सुभद्रा कुमारी चौहान ने ठाकुर लक्ष्मण सिंह चौहान से शादी की, जो खुद एक स्वतंत्रता सेनानी थे। उनकी शादी ने उन्हें भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय रूप से भाग लेने और ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के खिलाफ लड़ने की अनुमति दी। भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन के दौरान, चौहान की कविताएँ उनके राष्ट्रवादी उत्साह और स्वतंत्रता के आह्वान के लिए बेहद लोकप्रिय हुईं। उनकी देशभक्ति कविताओं ने अनगिनत व्यक्तियों को स्वतंत्रता की लड़ाई में शामिल होने के लिए प्रेरित किया।उनकी सबसे प्रसिद्ध कृतियों में से एक कविता “झाँसी की रानी” (झाँसी की रानी) है, जो एक प्रेरक गीत है जो अंग्रेजों के खिलाफ 1857 के विद्रोह में झाँसी की रानी रानी लक्ष्मीबाई की वीरता और साहस को दर्शाती है। यह कविता आज भी व्यापक रूप से मनाई जाती है और भारतीय साहित्य का अभिन्न अंग बन गई है।“झांसी की रानी” के अलावा, चौहान की अन्य उल्लेखनीय कृतियों में “वीरों का कैसा हो बसंत” (बहादुरों के लिए वसंत कैसा होना चाहिए), “ये कदम्ब का पेड़” (यह कदम्ब का पेड़), और “खिलौनेवाला” (खिलौना विक्रेता) शामिल हैं। ), दूसरों के बीच में। उनकी कविता में राष्ट्रवाद, सामाजिक जागरूकता और पीड़ितों के प्रति करुणा की गहरी भावना झलकती है।

सुभद्रा कुमारी चौहान ने महात्मा गांधी के नेतृत्व में असहयोग आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लिया। उन्होंने महिला सशक्तिकरण की दिशा में भी काम किया और लड़कियों के लिए शिक्षा का समर्थन किया। चौहान ने महिलाओं को स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेने के लिए संगठित करने और प्रोत्साहित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।दुखद बात यह है कि सुभद्रा कुमारी चौहान का जीवन 42 वर्ष की आयु में समाप्त हो गया। 15 फरवरी, 1948 को उत्तर प्रदेश के बरेली में एक सड़क दुर्घटना में उनकी मृत्यु हो गई। उनका असामयिक निधन साहित्य जगत और भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के लिए एक बड़ी क्षति थी।आज सुभद्रा कुमारी चौहान को अपने समय की सबसे प्रभावशाली हिंदी कवयित्रियों में से एक के रूप में याद किया जाता है। उनकी कविताएँ पीढ़ियों को प्रेरित करती रहती हैं, जनता में देशभक्ति और साहस की भावना पैदा करती हैं। भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में चौहान के योगदान और उनकी साहित्यिक विरासत ने उन्हें भारतीय इतिहास और साहित्य में एक प्रतिष्ठित स्थान दिलाया है |

See also  फाल्गुनी नायर कौन है? | जीवन परिचय | Falguni Nayar Biography in Hindi, NYKAA Founder, Husband, Son, Daughter, Net Worth

पीएम नरेंद्र मोदी का जीवन परिचय , शिक्षा, परिवार, राजनितिक, उपलब्धियाँ, विदेश यात्राएं, निर्णय, योजनाएं, कुल सम्पति

सुभद्रा कुमारी चौहान कौन थी? Subhadra Kumari Chauhan Kon Thi?

Who is Subhadra Kumari Chauhan: सुभद्रा चौहान का जन्म उत्तर प्रदेश के निहालपुर में हुआ था। इलाहाबाद के क्रोस्थवेट गर्ल्स स्कूल में तीन साल के बाद, उन्होंने 1919 में मिडिल स्कूल की परीक्षा पूरी की। सोलह साल की उम्र में, उन्होंने 1919 में खंडवा के ठाकुर लक्ष्मण सिंह चौहान से शादी की; उनके एक साथ पांच बच्चे थे।उसी वर्ष जब उन्होंने खंडवा के ठाकुर लक्ष्मी सिंह चौहान से शादी की, वह मध्य प्रांत के जुब्बुलपुर (अब जबलपुर) चली गईं। सुधा कुमारी चौहान सुधा चौहान, अशोक चौहान, विजय चौहान, अजय चौहान और ममता चौहान उनके बच्चे हैं।1921 में, वह और उनकी पत्नी महात्मा गांधी के असहयोग आंदोलन में शामिल हुईं। वह ब्रिटिश शासन का विरोध करने के लिए नागपुर में हिरासत में ली जाने वाली पहली महिला थीं और उन्हें 1923 और 1942 में दो बार जेल में डाल दिया गया था।

बाद में वह राज्य (पूर्व में मध्य प्रांत) विधान सभा की सदस्य बनीं। 1948 में, मध्य प्रांत की राजधानी नागपुर में एक विधानसभा सत्र से लौटते समय सिवनी के पास एक वाहन दुर्घटना में उनकी मृत्यु हो गई, जहाँ उन्होंने भाग लिया था।16 अगस्त, 2021 को उनके 117वें जन्मदिन पर, Google Doodle में भारतीय कवयित्री सुभद्रा कुमारी चौहान की एक कविता रचती हुई तस्वीर दिखाई जाएगी। न्यूजीलैंड स्थित कलाकार प्रभा माल्या ने डूडल तैयार किया, जो इस महान शख्सियत के जीवन पर एक नजर डालता है।चौहान ने अपना जीवन स्वतंत्रता आंदोलन के लिए समर्पित कर दिया और पन्ने से हटकर क्रांतिकारी घोषणाएं करती रहीं। मुक्ति के प्रति अपनी भक्ति के हिस्से के रूप में, उन्होंने 88 कविताएँ और 46 लघु कहानियाँ जारी की

मदर टेरेसा का जीवन परिचय

सुभद्रा कुमारी चौहान की शिक्षा (Education)

उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गाँव में जन्मी सुभद्रा कुमारी चौहान को बहुत कम उम्र से ही एक महान कवि बनने के लिए तैयार किया गया था। अपनी स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद, उन्होंने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से कला स्नातक की उपाधि प्राप्त की। इसके बाद उन्होंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से हिंदी साहित्य में मास्टर ऑफ आर्ट्स की पढ़ाई पूरी की। चौहान एक उत्कृष्ट छात्र होने के साथ-साथ एक महान वक्ता भी थे। वह अपने प्रभावशाली भाषणों के लिए जानी जाती थीं और उन्हें अक्सर सभाओं और सम्मेलनों को संबोधित करने के लिए आमंत्रित किया जाता था।

सुभद्रा कुमारी चौहान का वैवाहिक जीवन (Husband &Kids)

सोलह साल की उम्र में उन्होंने 1919 में खंडवा के ठाकुर लक्ष्मण सिंह चौहान से शादी की, उनके पांच बच्चे थे, सुधा चौहान (अब दिवंगत), अजय चौहान (अब दिवंगत), विजय चौहान (अब दिवंगत), अशोक चौहान (अब दिवंगत) और ममता चौहान (भार्गव), जो वर्तमान में बफ़ेलो, न्यूयॉर्क में रहते हैं। अजय और अशोक चौहान की विधवाएं वर्तमान में मध्य प्रदेश के जबलपुर में रहती हैं। अशोक चौहान के पुत्र कार्तिक चौहान उसी परिसर में रहते हैं जिसे सुभद्रा और उनके पति लक्ष्मण सिंह चौहान ने राइट टाउन में अपना निवास स्थान बनाया था, जिसका नाम अब सुभद्रा कुमारी चौहान वार्ड रखा गया है।

पंडित जवाहर लाल नेहरू की जीवनी 

सुभद्रा कुमारी जी का करियर | Subhadra Kumari Chauhan Career

Subhadra Kumari Chauhan Career:- असहयोग आंदोलन में उन्हें “कर्मवीर” पत्रिका के संपादक माखनलाल चतुर्वेदी का अमूल्य मार्गदर्शन प्राप्त हुआ था।जिससे सुभद्रा कुमारी को आगे बढ़ने में मदद मिली. वह कांग्रेस का संदेश घर-घर तक पहुंचाती थीं।वह सड़क, नुक्कड़ और नुक्कड़ पर खड़ी होकर अपनी ऊंची आवाज में नागरिकों से सत्याग्रह में भाग लेने की अपील करती थीं।18 मार्च 1923 को जबलपुर में झंडा सत्याग्रह हुआ। सुभद्रा कुमारी चौहान इसमें भाग लेने वाली देश की पहली सत्याग्रही महिला बनीं।वर्ष 1923 से 1942 के बीच उन्हें दो बार कारावास की सजा दी गई, जिसे उन्होंने मुस्कुराकर स्वीकार कर लिया।कारावास की कठोर सजा भुगतने के बाद भी वह नहीं रुकीं। बल्कि उन्होंने आंदोलन में अपनी भागीदारी जारी रखी.वह हमेशा नए युवक-युवतियों को आंदोलन में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करती रहती थीं। इसके लिए बैठकें होती थीं और उन बैठकों में सुभद्रा कुमारी भी बोलती थीं.उनकी भाषा शैली और वक्तृत्व कौशल को देखते हुए. टाइम्स ऑफ इंडिया के एक पत्रकार ने उन्हें सरोजिनी नाम से संबोधित किया।

ग़ज़ल अलघ का जीवन परिचय

सुभद्रा कुमारी चौहान की कविता झांसी की रानी

सुभद्रा कुमारी चौहान की कविता झांसी की रानी
सुभद्रा कुमारी चौहान की कविता झांसी की रानी

सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी,

बूढ़े भारत में भी आई फिर से नयी जवानी थी,

गुमी हुई आज़ादी की कीमत सबने पहचानी थी,

दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी.

चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी.

कानपूर के नाना की, मुंहबोली बहन छबीली थी,

लक्ष्मीबाई नाम, पिता की वह संतान अकेली थी,

नाना के संग पढ़ती थी वह, नाना के संग खेली थी,

बरछी, ढाल, कृपाण, कटारी उसकी यही सहेली थी.

वीर शिवाजी की गाथायें उसको याद ज़बानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी.

लक्ष्मी थी या दुर्गा थी वह स्वयं वीरता की अवतार,

देख मराठे पुलकित होते उसकी तलवारों के वार,

नकली युद्ध-व्यूह की रचना और खेलना खूब शिकार,

सैन्य घेरना, दुर्ग तोड़ना ये थे उसके प्रिय खिलवाड़.

महाराष्ट्र-कुल-देवी उसकी भी आराध्य भवानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी.

हुई वीरता की वैभव के साथ सगाई झांसी में,

ब्याह हुआ रानी बन आई लक्ष्मीबाई झांसी में,

राजमहल में बजी बधाई खुशियां छाईं झांसी में,

सुघट बुंदेलों की विरुदावलि-सी वह आयी थी झांसी में.

चित्रा ने अर्जुन को पाया, शिव को मिली भवानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी.

उदित हुआ सौभाग्य, मुदित महलों में उजियारी छाई,

किंतु कालगति चुपके-चुपके काली घटा घेर लाई,

तीर चलाने वाले कर में उसे चूड़ियां कब भाई,

रानी विधवा हुई, हाय! विधि को भी नहीं दया आई.

निसंतान मरे राजाजी रानी शोक-समानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी.

बुझा दीप झांसी का तब डलहौज़ी मन में हरषाया,

राज्य हड़प करने का उसने यह अच्छा अवसर पाया,

फ़ौरन फौजें भेज दुर्ग पर अपना झंडा फहराया,

लावारिस का वारिस बनकर ब्रिटिश राज्य झांसी आया.

अश्रुपूर्ण रानी ने देखा झांसी हुई बिरानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी.

अनुनय विनय नहीं सुनती है, विकट शासकों की माया,

व्यापारी बन दया चाहता था जब यह भारत आया,

डलहौज़ी ने पैर पसारे, अब तो पलट गई काया,

राजाओं नवाबों को भी उसने पैरों ठुकराया.

रानी दासी बनी, बनी यह दासी अब महरानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी.

छिनी राजधानी दिल्ली की, लखनऊ छीना बातों-बात,

कैद पेशवा था बिठूर में, हुआ नागपुर का भी घात,

उदयपुर, तंजौर, सतारा, कर्नाटक की कौन बिसात?

जब कि सिंध, पंजाब ब्रह्म पर अभी हुआ था वज्र-निपात.

बंगाल, मद्रास आदि की भी तो वही कहानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी.

रानी रोयीं रनिवासों में, बेगम ग़म से थीं बेज़ार,

उनके गहने कपड़े बिकते थे कलकत्ते के बाज़ार,

सरे आम नीलाम छापते थे अंग्रेज़ों के अखबार,

‘नागपुर के ज़ेवर ले लो लखनऊ के लो नौलखा हार’.

यों परदे की इज़्ज़त परदेशी के हाथ बिकानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी.

कुटियों में भी विषम वेदना, महलों में आहत अपमान,

वीर सैनिकों के मन में था अपने पुरखों का अभिमान,

नाना धुंधूपंत पेशवा जुटा रहा था सब सामान,

बहिन छबीली ने रण-चण्डी का कर दिया प्रकट आहवान.

हुआ यज्ञ प्रारम्भ उन्हें तो सोई ज्योति जगानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी.

महलों ने दी आग, झोपड़ी ने ज्वाला सुलगाई थी,

यह स्वतंत्रता की चिनगारी अंतरतम से आई थी,

झांसी चेती, दिल्ली चेती, लखनऊ लपटें छाई थी,

मेरठ, कानपुर,पटना ने भारी धूम मचाई थी,

जबलपुर, कोल्हापुर में भी कुछ हलचल उकसानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी.

इस स्वतंत्रता महायज्ञ में कई वीरवर आए काम,

नाना धुंधूपंत, तांतिया, चतुर अज़ीमुल्ला सरनाम,

अहमदशाह मौलवी, ठाकुर कुंवरसिंह सैनिक अभिराम,

भारत के इतिहास गगन में अमर रहेंगे जिनके नाम.

लेकिन आज जुर्म कहलाती उनकी जो कुरबानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी.

इनकी गाथा छोड़, चले हम झांसी के मैदानों में,

जहां खड़ी है लक्ष्मीबाई मर्द बनी मर्दानों में,

लेफ्टिनेंट वाकर आ पहुंचा, आगे बढ़ा जवानों में,

रानी ने तलवार खींच ली, हुआ द्वंद असमानों में.

ज़ख्मी होकर वाकर भागा, उसे अजब हैरानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी.

रानी बढ़ी कालपी आई, कर सौ मील निरंतर पार,

घोड़ा थक कर गिरा भूमि पर गया स्वर्ग तत्काल सिधार,

यमुना तट पर अंग्रेज़ों ने फिर खाई रानी से हार,

विजयी रानी आगे चल दी, किया ग्वालियर पर अधिकार.

अंग्रेज़ों के मित्र सिंधिया ने छोड़ी राजधानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी.

विजय मिली, पर अंग्रेज़ों की फिर सेना घिर आई थी,

अब के जनरल स्मिथ सम्मुख था, उसने मुहं की खाई थी,

काना और मंदरा सखियां रानी के संग आई थी,

युद्ध श्रेत्र में उन दोनों ने भारी मार मचाई थी.

पर पीछे ह्यूरोज़ आ गया, हाय! घिरी अब रानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी.

तो भी रानी मार काट कर चलती बनी सैन्य के पार,

किन्तु सामने नाला आया, था वह संकट विषम अपार,

घोड़ा अड़ा, नया घोड़ा था, इतने में आ गये सवार,

रानी एक, शत्रु बहुतेरे, होने लगे वार-पर-वार.

घायल होकर गिरी सिंहनी उसे वीर गति पानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी.

रानी गई सिधार चिता अब उसकी दिव्य सवारी थी,

मिला तेज से तेज, तेज की वह सच्ची अधिकारी थी,

अभी उम्र कुल तेइस की थी, मनुज नहीं अवतारी थी,

हमको जीवित करने आयी बन स्वतंत्रता-नारी थी,

दिखा गई पथ, सिखा गई हमको जो सीख सिखानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी.

जाओ रानी याद रखेंगे ये कृतज्ञ भारतवासी,

यह तेरा बलिदान जगावेगा स्वतंत्रता अविनासी,

होवे चुप इतिहास, लगे सच्चाई को चाहे फांसी,

हो मदमाती विजय, मिटा दे गोलों से चाहे झांसी.

तेरा स्मारक तू ही होगी, तू खुद अमिट निशानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी.

सुभद्रा कुमारी चौहान की प्रमुख रचनाएँ | Subhadra Kumari Chauhan Rachnayen

क्रोस्थवेट गर्ल्स स्कूल में महादेवी वर्मा से कुछ वर्ष वरिष्ठ चौहान को स्कूल में एक आत्मीय आत्मा मिली थी। उन्होंने वर्मा की काव्यात्मक रुचि को देखा, पोषित किया और प्रोत्साहित किया, जिससे जीवन भर के लिए दोस्ती कायम हो गई। अन्य महान व्यक्तित्व, जिनकी संगत में चौहान रहते थे, वे हैं कवि मुक्तिबोध और उपन्यासकार जैनेंद्र कुमार।

See also  गौतम अडानी की कुल संपत्ति, कंपनी, परिवार, शिक्षा, विवाद | Gautam Adani Biography in Hindi, Net Worth, Business, Age, Wife

उन्होंने हिंदी की खड़ीबोली बोली के उपयोग से अपने पाठकों के साथ तुरंत संबंध स्थापित कर लिया। इस विश्वास का पालन करते हुए कि कलम तलवार से अधिक शक्तिशाली है, चौहान ने अपनी रचना को 88 कविताओं और 46 लघु कथाओं तक विस्तारित किया।

चौहान एक प्रतिभाशाली लेखिका थीं और उन्होंने 9 साल की उम्र में कविता प्रकाशित की थी। हालाँकि, उन्हें पहचान तब मिली जब उनके काम को कविता कौमुदी में प्रतिष्ठित कवियों के बीच प्रदर्शित किया गया। उन्होंने हिंदी की खड़ीबोली बोली के उपयोग से अपने पाठकों के साथ तुरंत संबंध स्थापित कर लिया। इस विश्वास का पालन करते हुए कि कलम तलवार से अधिक शक्तिशाली है, चौहान ने अपनी रचना को 88 कविताओं और 46 लघु कथाओं तक विस्तारित किया। मुकुल (1930), जिसमें क्लासिक कविता, झाँसी की रानी शामिल है, उनकी कविताओं का सबसे प्रसिद्ध संग्रह है। उन्होंने कोयल जैसी बच्चों की कविताओं की शैली में भी कदम रखा।

– कहानी संग्रह

Yearकहानी संग्रह के नाम
1932बिखरे मोती
1934उन्मादिनी
1947सीधे-सादे चित्र

– कविता संग्रह

  • झाँसी वाली रानी थी |
  • लक्ष्मी थी या दुर्गा थी वो स्वंय वीरता का अवतार,
  • देख मराठे पुलकित होते उसकी तलवारों की वार,
  • नकली युद्ध-व्यूह की रचना और खेलना खूब शिकार,
  • सान्या घेरना, दुर्ग तोड़ना याह वे उसकी प्रीया खिलवाड।
  • महाराष्ट्र-कुल-देवी उसकी भी आराध्या भवानी थी,
  • बुंदेले हरबोलों की मुंह हमने सुनी कहानी थी,
  • ख़ूब लड़ी मर्दानी वो तो झाँसी वाली रानी थी।
  • वसंत में जलियांवाला बाग

– बाल साहित्य

  • “एक माँ की बेबसी”
  • “खिलोनेवाला”
  • त्रिधारा, पुरी तरावा से छोड़ो
  • मुकुल (1930)
  • ये कदंब का पेड़
See also  Peyush Bansal Biography in Hindi | पीयूष बंसल का जीवन परिचय

सुभद्रा कुमारी चौहान को मिले पुरस्कार व सम्मान (Awards and Honors)

भारतीय तटरक्षक जहाज आईसीजीएस सुभद्रा कुमारी चौहान का नाम भारत सरकार द्वारा उनके नाम पर रखा गया था जो उनके अटूट साहस की याद दिलाता है। 1976 में, भारतीय डाक ने उनके जीवन और कार्य का जश्न मनाने के लिए एक डाक टिकट जारी किया। मध्य प्रदेश सरकार ने जबलपुर में नगर निगम कार्यालय के सामने उनकी प्रतिमा लगाई।

कलाकारों और साहित्यकारों का सबसे अच्छा काम वही है जहां वे पूरी तरह डूब जाते हैं. इसीलिए, मेरा मानना है कि सुभद्रा कुमारी चौहान ने न केवल रानी लक्ष्मीबाई के बारे में लिखा बल्कि उनके व्यक्तित्व, उनके साहस और उनकी अवज्ञा को मूर्त रूप देने का भी प्रयास किया। चौहान ने झाँसी की रानी की भावना को अमर कर दिया और बदले में, झाँसी की रानी ने उसे इतिहास के इतिहास में अमर कर दिया..!

सन्पुरुस्कार (Awards and Honors)
1931सेकसरिया पारोशिक मुकुल’ (कविता-संग्रह) के लिए
1932सेकसरिया पारोशिक पियालिया मोती’ (कहानी-संग्रह) के लिए
6 अगस्त 197625 पैसे का एक डाक-टिकट
28 अप्रैल 2006तट रक्षक जहाज़ का नाम सुभद्रा कुमारी चौहान

सुभद्रा कुमारी चौहान की मृत्यु | Subhadra Kumari Chauhan Death

1948 में सिवनी एमपी के पास एक कार दुर्घटना में उनकी मृत्यु हो गई। सीपी की तत्कालीन राजधानी नागपुर से जबलपुर लौटते समय, जहां वह विधानसभा सत्र में भाग लेने गई थीं। वह राज्य की विधान सभा की सदस्य थीं।

सुभद्रा कुमारी चौहान का जीवन परिचय Download PDF

हमारे पॉइन्ट सुभद्रा कुमारी चौहान का जीवन परिचय PDF में हम आपको पूरी सुभद्रा कुमारी चौहान के जीवन परिचय का पीडीएफ उपलब्ध करा रहे है, जो आप डाउनलोड कर सकते हैं। इस पीडीएफ की फाइल सेव कर के आप सुभद्रा कुमारी चौहान के बारे में अपने परिजनों को भी बता सकते हैं।

सुभद्रा कुमारी चौहान की कौन सी कविता सर्वाधिक लोकप्रिय हुई?

 सुभद्र कुमारी चौहान की झाँसी की रानी कविता सर्वाधिक लोकप्रिय हुई हैं।

सुभद्रा कुमारी चौहान का पहला कहानी संग्रह कौन सा था?

सुभद्रा कुमारी चौहान का पहला कहानी बिखरे मोती था।

सुभद्रा कुमारी चौहान की लिखी कविता कौन कौन सी है?

सुभद्रा कुमारी चौहान की लिखी कविता झाँसी की रानी कविता, मुरझाया हुआ फूल, पूजा करने चली आई,  झाड़ के पात, जब तक मैं, मैं हूं |

निष्कर्ष (Conclusion):

About Subhadra Kumari Chauhan in Hindi: हमारे द्वारा लिखी गई सुभद्रा कुमारी चौहान की जीवनी हम आशा करते है कि आपको पसंद आई होगी। हमने शोध कर के जानकारी जुटाई है जो आपके सुभद्रा कुमारी के बारे में डिटेल में उपलब्ध कराई गई हैं। अगर हमारे द्वारा लिखा यह लेख आपको पसंद आया है तो कमेंट करना ना भूले, साथ ही अपने परिजनों के साथ इस लेख को जरुर शेयर करें।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *