Janmashtami Shayari | Krishna Janamashtami Shayari in Hindi | कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं शायरी

By | अगस्त 16, 2022
Janmashtami Shayari

Janmashtami Shayari 2022 खूबसूरत तरीके से जन्माष्टमी की शुभकामनाएं हर किसी तक पहुंचाने के लिए लोग स्टेटस, शायरी, और कोट्स का इस्तेमाल करते है। आज इस लेख में हम आपको जन्माष्टमी शायरी 2022 से जुड़ी कुछ बेहतरीन कलेक्शन प्रस्तुत करने जा रहे हैं जिनका इस्तेमाल सोशल मीडिया स्टेटस और अन्य जगहों पर कर सकते है। जैसा कि हम सब जानते हैं इस साल जन्माष्टमी का त्योहार 18 अगस्त 2022 को मनाया जाएगा। इस दिन से पहले ही लोग अपने व्हाट्सएप इंस्टाग्राम और अन्य सोशल मीडिया एप्लीकेशन पर शायरी कोर्ट के जरिए हर किसी को जन्माष्टमी की शुभकामनाएं देने लगेंगे।

जन्माष्टमी की शुभकामनाएं अलग-अलग तरीके से दी जाती है, कुछ लोग खूबसूरत कोट्स का इस्तेमाल करते है तो कुछ लोग शायरी, कोट्स, स्टेटस, और वॉलपेपर का इस्तेमाल करते है अगर आप भी जन्माष्टमी की शुभकामनाएं लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं और इसके लिए अलग-अलग तरह की जानकारी चाहते हैं तो नीचे बताए गए निर्देशों का आदेश अनुसार पालन करें।

Shri Krishna Janmashtami
Shri Krishna Janmashtami

कृष्ण जन्माष्टमी 2022 | Janmashtami Shayari 2022

त्यौहार का नामJanmashtami Shayari 2022
त्योहार की तिथि18 अगस्त 2022 
त्योहार का महीनाअगस्त
पूजा की विधिभगवान कृष्ण के बाल गोपाल स्वरूप की पूजा माखन और बांसुरी के साथ

कृष्ण जन्माष्टमी शायरी (Krishna Janmashtami Shayari)

कृष्ण जन्माष्टमी से जुडी कुछ महत्वपूर्ण शायरियों की सूची नीचे प्रस्तुत की गई है उन्हें ध्यानपूर्वक पढ़ें और अपनी सुविधा के अनुसार उनका इस्तेमाल करें – 

बाल गोपाल भगवान कृष्ण आपके घर आएं,

कृष्णा जन्माष्टमी की ढेर सारी शुभकामनाएं।

वृन्दावन की खुशबू

राधा कृष्ण का प्यार

कन्हैया का नटखटपन

मां यशोदा की फटकार

मुबारक हो आप सबको

जन्माष्टमी का त्यौहार।।

यशोदा के घर लल्ला

माखन चोर है आयो रे

शुभ घड़ी है देखो आयी

गोकुल में खुशियाँ छायो रे

जन्में हैं कृष्ण कन्हैया

नंद फूले न समायो रे ।।

मिश्री से मीठे नन्द लाल के बोल, इनकी बातें हैं सबसे अनमोल,

जन्माष्टमी के इस पावन अवसर पर, दिल खोल के जय श्री कृष्ण बोल।

Janmashtami Shayari

हो काल-गति से परे चिरंतन अभी वहाँ थे, अभी यहाँ हो,

कभी धरा पर, कभी गगन में, कभी कहाँ थे, कभी कहाँ हो,

तुम्हारी राधा को भान हैं तुम सकल चराचर में हो समायें,

बस एक मेरा हैं भाग्य मोहन कि जिसमें हो कर भी तुम नही हो.

राधा की भक्ति, मुरली की मिठास,

माखन का स्वाद और गोपियों का रास,

सब मिलके बनाता हैं जन्माष्टमी का दिन ख़ास.

गोकुल में है जिनका वास,गोपियों संग रचाए जो रास

देवकी यसोदा जिनकी मैया, ऐसे है हमारे कृष्ण कन्हैया

“कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं”

Janmashtami Shayari in Hindi

माखन का कटोरा, मिश्री का थाल,

मिट्टी की खुशबू, बारिश की फुहार,

राधा की उम्मीद कन्हैया का प्यार,

मुबारक हो आपको जन्माष्टमी का त्यौहार।

जन्माष्टमी शायरी | janmashtami shayari

हर शाम हर किसी के लिए सुहानी नहीं होती

हर प्यार के पीछे कोई कहानी नहीं होती

कुछ तो असर होता हैं दो आत्मा के मेल का

वरना गोरी राधा, सांवले कृष्णा की दीवानी ना होती

Krishna God
Krishna God

राधा की चाहत है कृष्णा, उसके दिल की विरासत है कृष्णा !

चाहें कितना भी रास रचा ले कृष्णा, दुनिया तो फिर भी कहती है,

राधे-कृष्णा, राधे-कृष्णा !!

माखन चोर नन्द किशोर, बांधी जिसने प्रीत की डोर,

हरे कृष्ण हरे मुरारी, पूजती जिन्हें दुनिया सारी,

आओ उनके गुण गाएं सब मिल के जन्माष्टमी मनाए।

happy janmashtami shayari | जन्माष्टमी की शायरी

जन्माष्टमी त्योहार से जुड़ी कुछ खूबसूरत शायरी ओं की सूची नीचे प्रस्तुत की गई है जिनका इस्तेमाल आप अपनी सुविधा के अनुसार कहीं भी कर सकते हैं उन सभी जन्माष्टमी की शायरियों को पढ़े और अपने विचार प्रकट करना ना भूले –

प्रेम से श्री कृष्ण का नाम जपो,

दिल की हर इच्छा पूरी होगी,

कृष्ण आराधना में लीन हो जाओ,

उनकी महिमा जीवन खुशहाल कर देगी।

मिश्री से मीठे नन्द लाल के बोल, इनकी बातें हैं सबसे अनमोल,

जन्माष्टमी के इस पावन अवसर पर, दिल खोल के जय श्री कृष्ण बोल।

Krishna Janmashtami Shayari

कन्हैया हमारे दुलारे, वही सबसे प्यारे,

माखन के लिए झगड़ जाए, गोपियाँ देखकर आकर्षित हो जाए,

लेकिन सबके रखवाले, तभी तो सबसे दुलारे।

मुझको मालूम नहीं अगला जन्म हैं की नहीं

ये जन्म प्यार में गुजरे ये दुआ मांगी हैं

और कुछ मुझे जमाने से मिले या ना मिले

ए मेरे कान्हा तेरी मोहब्बत ही सदा मांगी हैं

Happy Krishna Janmashtami
Happy Krishna Janmashtami

हो काल-गति से परे चिरंतन अभी वहाँ थे, अभी यहाँ हो,

कभी धरा पर, कभी गगन में, कभी कहाँ थे, कभी कहाँ हो,

तुम्हारी राधा को भान हैं तुम सकल चराचर में हो समायें,

बस एक मेरा हैं भाग्य मोहन कि जिसमें हो कर भी तुम नही हो

कृष्ण जन्माष्टमी पर शायरी

लोगो की रक्षा करने एक उंगली पर पहाड़ उठाया

उसी कन्हैया की याद दिलाने जन्माष्टमी का पावन दिन आया।

बाल रूप है सब को भाता माखन चोर वो कहलाया है,

आला आला गोविंदा आला बाल ग्वालों ने शोर मचाया है,

झूम उठे हैं सब ख़ुशी में, देखो मुरली वाला आया है,

कृष्णा जन्माष्टमी की बधाई!

पल पल हर पल तुमको पुकारू जनम जनम से बाट निहारु

कर दे कृपा तोपे तन मन वारू अपने बाग का फूल समझ कर

प्रेम करो कृष्णा प्रेम करो कृष्णा।

Happy Janmashtami Shayari

READ  Bhai Dooj 2022 | भाई दूज क्यों, कब और कैसे मनाई जाती हैं | भाई दूज की कहानी

पलकें झुकें , और नमन हो जाए

मस्तक झुके, और वंदन हो जाए

ऐसी नज़र, कंहाँ से लाऊँ, मेरे कन्हैया

कि आपको याद करूँ और आपके दर्शन हो जाए..!!

जन्माष्टमी शायरी इन हिंदी | Janmashtami Shayari in Hindi

जन्माष्टमी शायरी लोग अपने विभिन्न सोशल मीडिया एप्लीकेशन पर दर्शाते है। अगर इस जन्माष्टमी आप भी लोगों को शायरी के रूप में शुभकामनाएं देना चाहते हैं तो नीचे बताई गई जानकारियों को ध्यानपूर्वक पढ़ें –

आओ मिलकर सजाये नन्दलाल को, आओ मिलकर करें उनका गुणगान!

जो सबको राह दिखाते हैं, और सबकी बिगड़ी बनाते हैं!

माखन का कटोरा, मिश्री का थाल,

मिट्टी की खुशबू, बारिश की फुहार,

राधा की उम्मीदें, कृष्ण का प्यार,

मुबारक हो आपको, जन्माष्टमी का त्यौहार।

Happy Janmashtami
Happy Janmashtami

देखो फिर जन्माष्टमी आयी है,

माखन की हांडी ने फिर मिठास बढ़ाई है,

कान्हा की लीला है सबसे प्यारी,

वो दे तुम्हें दुनिया की खुशियाँ सारी।

बैकुंठ में भी ना मिले जो वो सुख कान्हा तेरे वृंदावन धाम में हैं

कितनी भी बड़ी विपदा हो चाहे समाधान तो बस श्री राधे तेरे नाम में हैं

कृष्ण जन्माष्टमी शायरी | Krishna Janmashtami Shayari

चारों तरफ फैल रही हैं, इनके प्यार की खुशबू थोड़ी-थोड़ी

कितनी प्यारी लग रही हैं, मेरे साँवरे-गोरी की यह जोड़ी।

छोड़ा सबका दामन हठयोग में तुम्हारे,

मेरी साँसे उखड़ रही वियोग में तुम्हारे,

लौट आओ मोहने किस बात पे अड़े हो,

मूर्त बनकर बस मंदिर में क्यों खड़े हो.

राधा की भक्ति, मुरली की मिठास,

माखन का स्वाद और गोपियों का रास,

सब मिलके बनाता हैं जन्माष्टमी का दिन ख़ास

चंदन की ख़ुशबू को रेशम का हार,

सावन की सुगंध और बारिश की फुहार,

राधा की उम्मीद को कन्हैया का प्यार,

मुबारक हो आपको जन्माष्टमी का त्यौहार.

कृष्ण जन्माष्टमी पर शायरी

अगर आप जन्माष्टमी के त्योहार की शुभकामनाएं लोगों तक पहुंचाने के लिए कृष्ण जन्माष्टमी पर शायरी ढूंढ रहे हैं तो हमने कुछ बेहतरीन शायरियों के संग्रहण को नीचे आपके समक्ष प्रस्तुत किया है उन्हें ध्यानपूर्वक पढ़ें – 

पल पल हर पल तुमको पुकारू जनम जनम से बाट निहारु

कर दे कृपा तोपे तन मन वारू अपने बाग का फूल समझ कर

प्रेम करो कृष्णा प्रेम करो कृष्णा..

माखन चुराकर जिसने खाया, बंसी बजाकर जिसने नचाया,

खुशी मनाओ उसके जन्म दिन की, जिसने दुनिया को प्रेम का रास्ता दिखाया

कृष्णा तेरी गलियों का जो आनंद है,

वो दुनिया के किसी कोने में नहीं ।

जो मजा तेरी वृंदावन की रज में है,

मैंने पाया किसी बिछौने में नहीं ।।

Krishna Janmashtami Shayari

माखन चुराकर जिसने खाया, बंसी बजाकर जिसने नचाया,

ख़ुशी मनाओ उनके जन्मदिन की, जिसने दुनिया को प्रेम का रास्ता दिखाया।

मेरा आपकी कृपा से, सब काम हो रहा है, करते हो तुम कन्हैया, मेरा नाम हो रहा है

पतवार के बिना हे, मेरी नाव चल रही है, बस होता रहे हमेशा, जो कुछ भी हो रहा हैं

कन्हैया हमारे दुलारे, वही सबसे प्यारे,

माखन के लिए झगड़ जाए, गोपियाँ देखकर आकर्षित हो जाए,

लेकिन सबके रखवाले, तभी तो सबसे दुलारे।

माखन का कटोरा, मिश्री का थाल,

मिट्टी की खुशबू, बारिश की फुहार,

राधा की उम्मीदें, कृष्ण का प्यार,

मुबारक हो आपको, जन्माष्टमी का त्यौहार।

पलकें झुकें और नमन हो जाए, मस्तक झुके और वंदन हो जाए,

ऐसी नजर कहाँ से लाऊं, मेरे कन्हैया कि आपको याद करूँ,

और आपके दर्शन हो जाए।

माखन चुराकर खाया जिसने, बंसी बजाकर नचाया जिसने,

प्रेम का रास्ता दिखाया जिसने, उसके जन्मदिन की खुशी मनाओ।

Karishna
Karishna

मुझको मालूम नहीं अगला जन्म हैं की नहीं

ये जन्म प्यार में गुजरे ये दुआ मांगी हैं

और कुछ मुझे जमाने से मिले या ना मिले

ए मेरे कान्हा तेरी मोहब्बत ही सदा मांगी हैं

हर पल आंखों में पानी हैं क्योंकि चाहत में रुहानी हैं

मैं हूँ तुझसे, तू हैं मुझसे, राधा-कृष्ण की यही तो प्रेम कहानी हैं

कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं शायरी

कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं देने के लिए अगर आपको शायरी ढूंढ रहे हैं तो इसके लिए कुछ बेहतरीन शायरियों का संस्करण नीचे प्रस्तुत किया गया है उन्हें ध्यानपूर्वक पढ़ें – 

READ  50+Rakshabandhan quotes in Hindi | रक्षाबंधन कोट्स हिंदी में

मुझको मालूम नहीं अगला जन्म हैं की नहीं ये जन्म प्यार में गुजरे ये दुआ मांगी हैं

और कुछ मुझे जमाने से मिले या ना मिले ए मेरे कान्हा तेरी मोहब्बत ही सदा मांगी हैं

सांवरे तेरी मोहब्बत को, नया अंजाम देने की तैयारी हैं कल तक मीरा दीवानी थी, आज मेरी बारी हैं

दही-माखन का त्योहार आया, खुशियां अपने संग लाया,

प्रेम से सब कहते हैं उसे नन्द लाला, गाते हैं सब प्यार से,

आंखें तरस गई अब तो आजा गोपाला।

मक्खन का कटोरा, फूलों की बहार,

मिश्री की मिठास, मैया का प्यार और दुलार,

मुबारक हो सबको जन्माष्टमी का त्योहार।

बांधी है जिसने प्रेम की डोर, वो है प्यारा माखन चोर,

हाथी-घोड़ा, पालकी जय कन्हैया लाल की, हर तरफ है यही शोर।

कृष्ण जन्माष्टमी की शायरी | Janmashtami Shayari 2022

भरी रहे झोली कान्हा के प्यार और महिमा से,

हर मनोकामना पूरी हो उसके आने से।

बहुत-बहुत मुबारक हो आपको इस वर्ष की जन्माष्टमी।

जन्माष्टमी की शुभकामनाएं!

कृष्ण जन्माष्टमी के इस शुभ अवसर पर ये कामना करते हैं

हम कि बनी रहे आप पर सदा मथुरा के लाल की कृपा।

आप और आपका परिवार श्री कृष्ण की लीला से हमेशा सुखी रहे।

शुभ कृष्ण जन्माष्टमी!

आज मेरे कान्हा आएंगे घर, खाएंगे मेवा-मिश्री संग फल,

दूध-दही माखन भी है रखा, सब ले जाएंगे मटकी फोड़ कर संग।

बोलो जय कन्हैया लाल की!

बांके बिहारी के नाम से मिलेगा सहारा,

जप लो ये नाम इसी जीवन में,

ये जीवन तुम्हें न मिलेगा दोबारा,

डूबी कश्ती को भी तार देंगे कान्हा,

एक बार जपकर तो देखो नन्द लाला।

Krishna Wallpaper
Krishna Wallpaper

मीरा का प्रेम, राधा रानी की भक्ति, मुरली की धुन, माखन का स्वाद,

और गोपियों का रास, इन सबसे मिलकर बनता है जन्माष्टमी का त्योहार।

राधा रानी की कसम, जो आनंद तेरी गलियों में है, वो दुनिया के किसी कोने में नहीं,

जो सुकून तेरी वृंदावन की छांव में है, वो किसी बिछौने में नहीं।

मुबारक हो जन्माष्टमी का त्योहार!

कृष्ण जन्माष्टमी से जुड़े कुछ आवश्यक प्रश्न (FAQ)

Q. इस साल कृष्ण जन्माष्टमी कब है?

कृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार इस साल 18 अगस्त 2022 को पड़ रहा है।

READ  15 अगस्त पर निबंध हिंदी में | Essay on Independence day in Hindi

Q. जन्माष्टमी की पूजा कैसे की जाती है?

जन्माष्टमी के दिन भगवान कृष्ण के बाल गोपाल स्वरूप की पूजा की जाती है जिसमे मुख्य रूप से माखन और बांसुरी का इस्तेमाल किया जाता है।

Q. जन्माष्टमी व्रत का पारण कब किया जाता है?

जन्माष्टमी व्रत का पारण जन्माष्टमी के दिन अर्ध रात्रि को भगवान कृष्ण के जन्म के बाद किया जाता है कुछ जगहों पर अगले देना सुबह की विधि अपनाई जाती है आप जन्माष्टमी व्रत पारण के लिए किसी भी प्रकार का व्यंजन खा सकते हैं। 

निष्कर्ष

इस लेख में हमने आपको कृष्ण जन्माष्टमी से जुड़ी कुछ बेहतरीन शायरी ओं के बारे में बताया जिनका इस्तेमाल आप विभिन्न प्रकार के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर करके लोगों को शुभकामनाएं दे सकते है। अगर इस लेख में बताई गई जानकारियों से आप कृष्ण जन्माष्टमी शायरी के बारे में सब कुछ समझ पाए हैं तो इसे अपने मित्रों के साथ साझा करें साथ ही अपने सुझाव विचार या किसी भी प्रकार के प्रश्न को कमेंट में पूछना ना भूलें।

People Also Search:- janmashtami shayari | janmashtami shayari in hindi | krishna janmashtami shayari | happy janmashtami shayari | krishna janmashtami shayari in hindi | shayari on janmashtami in hindi | happy birthday krishna shayari | कृष्णा जन्माष्टमी शायरी | कृष्णा जन्माष्टमी शायरी हिंदी में | कृष्णा जन्माष्टमी शायरी 2022 | जन्माष्टमी शायरी हिंदी में | श्री कृष्णा जन्माष्टमी शायरी

One thought on “Janmashtami Shayari | Krishna Janamashtami Shayari in Hindi | कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं शायरी

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *