Navratri Vart 2023 | व्रत के नियम, व्रत विधि, कथा, व्रत पारण विधि

Navratri Vrat

नवरात्रि व्रत 2023-देवी दुर्गा को समर्पित नौ दिनों तक चलने वाला त्योहार, नवरात्रि, सबसे बड़े भारतीय त्योहारों में से एक है। यद्यपि उत्साही भक्त या शाक्त संप्रदाय (शक्तिवाद) से संबंधित लोग साल में चार बार नवरात्रि व्रत रखते हैं, लेकिन अश्विन माह (ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार सितंबर/अक्टूबर) में मनाया जाने वाला व्रत सबसे लोकप्रिय है। और दिलचस्प बात यह है कि उपवास (नवरात्रि व्रत) उत्सव का एक अभिन्न अंग है। लेकिन भक्त व्रत क्यों रखते हैं? क्या यह मुख्य रूप से एक धार्मिक विश्वास है, या इसमें और भी कुछ है? नवरात्रि के दौरान उपवास के फायदे जानने के लिए नीचे स्क्रॉल करें। उपवास एक सदियों पुरानी परंपरा है जिसे पुरुषों, महिलाओं और विभिन्न आयु वर्ग के लोगों द्वारा मनाया जाता है। और यह एक उद्देश्य को पूरा करता है और विवेकपूर्ण तरीके से किए जाने पर इसके असंख्य स्वास्थ्य लाभ होते हैं। नौ दिनों तक चलने वाला नवरात्रि उत्सव भारत में सबसे प्रतीक्षित अवसरों में से एक है। पूरे त्योहार के दौरान भक्त मां दुर्गा के नौ अवतारों की पूजा करते हैं। बहुत से लोग भक्तिभाव से नवरात्रि में 9 दिनों का उपवास रखते हैं लेकिन दिलचस्प बात यह है कि उपवास के कई स्वास्थ्य लाभ भी हैं।

Welcome writer

Navratri Vrat 2023 -Overview

त्यौहार का नामNavratri Vrat
कब मनाया जाता हैइस साल 15 अक्टूबर 2023 से 24 अक्टूबर 2023 तक
कैसे मनाया जाता है9 दिनों तक मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरूप की पूजा अर्चना की जाती है
कहां मनाया जाता हैपूरे विश्व में मां दुर्गा की पूजा की जाती है
कौन कर सकता है व्रतकोई भी व्यक्ति 9 दिनों तक उपवास करके मां दुर्गा की पूजा कर सकता है 

नवरात्रि के दौरान व्रत क्यों रखें?

नवरात्रि, जिसका अर्थ है ‘नौ रातें’, देवी दुर्गा और उनके नौ अवतारों की पूजा के लिए समर्पित है, जिन्हें बोलचाल और सांस्कृतिक रूप से नवदुर्गे के नाम से जाना जाता है। पुराण और ‘नवरात्रि व्रत कथा’ जैसे ग्रंथ हमें नौ दिनों के दौरान ‘निर्जल’ (पानी के बिना) और ‘निरहार’ (भोजन के बिना) ‘व्रत’ या उपवास के महत्व के बारे में बताते हैं। इस पवित्र उपवास अनुष्ठान का उद्देश्य शरीर और मन दोनों को उन्नत करना है, और ऐसा माना जाता है कि यह भक्तों के लिए एक लंबा और समृद्ध वैवाहिक जीवन सुनिश्चित करता है।

उपवास के स्वास्थ्य लाभ

अगर हम भक्ति को एक तरफ रख दें तो नवरात्रि के दौरान उपवास विभिन्न स्वास्थ्य लाभों के साथ आता है। यहां उपवास के कुछ फायदे बताए गए हैं जो आपके होश उड़ा सकते हैं।

1. वजन घटना

उपवास से वजन कम करने में मदद मिल सकती है लेकिन इसके कुछ नियमों का पालन करना भी जरूरी है। जब आप उपवास समाप्त करें तो अधिक भोजन न करें। नवरात्रि उपवास अलग है और आप वजन कम करने के लिए उपवास के सभी आवश्यक लाभ प्राप्त कर सकते हैं। कुछ प्रकार के भोजन का सेवन सीमित मात्रा में करना चाहिए। वे खाद्य पदार्थ जो पौष्टिक हों और पचने में आसान हों। क्या नवरात्रि व्रत में खीरा खा सकते हैं? पानी आपको हाइड्रेटेड रखता है और वजन घटाने में सहायता कर सकता है। बढ़ी हुई जलयोजन आपके चयापचय को तेज कर सकती है और आपके शरीर की वसा जलाने की क्षमता को बढ़ा सकती है। इसलिए, उपवास के दौरान खूब पानी पिएं। अधिक ताज़ा पेय के लिए, इसमें पुदीना या खीरा मिलाएं।

See also  Ahoi Ashtami 2023 | अहोई अष्टमी क्या है? ये कब व क्यों मनाई जाती है, जानें (तिथि, शुभ मुहूर्त, महत्व, पूजन विधि, व्रत कथा)

2. डिटॉक्स

हमें ऐसी कोई भी चीज़ खाने की आदत है जो हमें लुभाती है। प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ और जंक फूड हमारे स्वास्थ्य के लिए विषाक्त हैं। इनका शरीर पर दीर्घकालिक दुष्प्रभाव पड़ता है। उपवास डिटॉक्स करने का एक अच्छा अवसर है। यह निस्संदेह उपवास के सर्वोत्तम स्वास्थ्य लाभों में से एक है।

3. सेल मरम्मत

हममें से ज्यादातर लोग सोचते हैं कि उपवास करने से हम कमजोर हो सकते हैं लेकिन यह पूरी तरह से सही नहीं है। सही पोषण और स्वस्थ उपवास आहार योजना आपको मांसपेशियों के निर्माण में मदद कर सकती है। इसलिए यह कहना सही है कि उपवास करना स्वास्थ्य के लिए अच्छा है। नीचे, आपको नवरात्रि के लिए मांसपेशियों के निर्माण के लिए आहार मिलेगा जिसमें सही मात्रा में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और अन्य पोषक तत्व शामिल हैं। साथ ही यह मांसपेशियों में कोशिकाओं की मरम्मत के लिए भी बहुत प्रभावी है।

4. इंसुलिन प्रतिरोध में कमी

उन लोगों के लिए अच्छी खबर है जो शरीर में निम्न रक्त शर्करा स्तर या उच्च इंसुलिन का सामना कर रहे हैं। नवरात्रि व्रत के लाभों में से एक इंसुलिन प्रतिरोध को कम करने में सहायता है जो मधुमेह रोगियों के लिए अच्छा है।

5. ऑक्सीडेटिव तनाव में कमी

यह जानना आश्चर्यजनक है कि उपवास ऑक्सीडेटिव तनाव के स्तर को कम करने में आपकी सहायता कर सकता है। उपवास मुक्त कण रिलीज के प्रति प्रतिरोध को बढ़ा सकता है जो शरीर में डीएनए, प्रोटीन और अन्य अणुओं को नुकसान पहुंचाता है। इसके अलावा, यह बढ़े हुए ऑक्सीडेटिव तनाव स्तर से प्रेरित सूजन से लड़ता है।

6. हृदय स्वास्थ्य

उपवास हृदय स्वास्थ्य के मामले में चमत्कार कर सकता है क्योंकि यह रक्त ट्राइग्लिसराइड्स, रक्त शर्करा स्तर, एलडीएल और हृदय के लिए हानिकारक कई अन्य जोखिम कारकों में सुधार कर सकता है। नवरात्रि व्रत आहार से आप अपने हृदय के स्वास्थ्य को और भी बेहतर बना सकते हैं।

7. मानसिक स्वास्थ्य

हृदय और लीवर के स्वास्थ्य के साथ-साथ उपवास आपके मस्तिष्क के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। यह सूजन, ऑक्सीडेटिव तनाव को कम कर सकता है और मस्तिष्क में तंत्रिका कोशिकाओं के उत्पादन को बढ़ा सकता है। साथ ही, उपवास मस्तिष्क की कोशिकाओं को स्ट्रोक से बचा सकता है। यह उपवास के प्रमुख लाभों में से एक है।

नवरात्रि व्रत के नियम | Navratri Vrat Rules

  • पलंग पर हम कभी-कभार खाना खा लेते हैं और अलग-अलग प्रकार की गतिविधि से वह दूषित भी हो जाता है इस वजह से उपवास करने वाले को पलंग पर नहीं सोना चाहिए उसे मंदिर के पास जमीन पर सोना चाहिए। अगर आप जमीन पर नहीं सो सकते तो पलंग पर से गद्दा हटाकर लकड़ी के तख्ते सोए। 
  • 9 दिनों तक व्रत करने के दौरान भोजन नहीं करना चाहिए आप केवल व्रत में खाए जाने वाली चीजों को खा सकते है। 
  • व्रत रखने के दौरान ब्रम्हचर्य का पालन करना चाहिए और काम क्रोध लोभ और इस तरह के विचारों पर संयम रखते हुए उनसे दूर रहना चाहिए। 
  • व्रत रखने वाले व्यक्ति को मां दुर्गा की पूजा करने के बाद अपने इष्ट देव की पूजा करनी चाहिए और अपने इंद्रियों पर काबू रखना चाहिए। 

Navratri Festival Related Article:-

Navratri Festival 2023Similar Posts Links
नवरात्रि कब से शुरू होगी | स्थापना, मुहूर्त, नवरात्रि की महिमा जानेClick Here
नवरात्रि व्रत के नियम, व्रत विधि, कथा, व्रत पारण विधिClick Here
नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं सन्देशClick Here
नवरात्रि कोट्स (Navratri Quotes)Click Here
नवरात्रि स्टेटस (Navratri Status)Click Here
नवरात्रि शायरी (Navratri Shayari)Click Here
नवरात्री पूजा विधि, स्थापना मुहूर्त, पूजा मंत्र, आरतीClick Here
नवरात्रि पर नौ रंग का महत्व जानेClick Here

नवरात्रि व्रत विधि | Navratri Vrat Vidhi

अगर आप नवरात्रि व्रत रख रहे हैं तो आपको नीचे दिए गए विधि का निर्देश अनुसार पालन करना चाहिए :– 

  • सबसे पहले आपको अपने घर के मंदिर में मां दुर्गा की मूर्ति या फोटो के साथ कलश की स्थापना करनी चाहिए। नवरात्रि के शुरुआत से ही आप घर में किसी भी प्रकार के शुभ कार्य की शुरुआत कर सकते हैं अपने घर के दरवाजे पर या मंदिर के दरवाजे पर आम पत्र और अशोक पत्र का तारण लगाना चाहिए। 
  • अगर आप माता की मूर्ति की पूजा कर रहे हैं तो उसे एक लकड़ी के चौकी पर स्थापित करें जिस पर लाल रंग का कपड़ा बिछा दे। 
  • माता की मूर्ति को हमेशा अपने घर के ईशान कोण की दिशा की ओर रखना चाहिए। बहुत सारे जगहों पर ईशान कोण स्थान पर ही माता की पूजा होती है। 
  • अगर आप मूर्ति के पास कलश स्थापना कर रहे है तो कलश में नारियल अवश्य रखें ध्यान रखें नारियल का मुंह कलर्स के अंदर नहीं होना चाहिए। 
Navratri Puja

नवरात्रि व्रत में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए

अगर आप नवरात्रि का व्रत उपवास करने जा रहे हैं तो आपको कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना होगा कि आप इस व्रत के दौरान क्या खा सकते हैं और क्या नहीं खा सकते है, इसकी एक संक्षिप्त सूची नीचे प्रस्तुत की गई है – 

See also  Essay On Dussehra in Hindi | दशहरा/विजयादशमी पर निबंध (Nibandh) (कक्षा-3 से 10 के लिए)

नवरात्रि व्रत में क्या खाना चाहिए

  • नवरात्रि व्रत में रोजाना जिस आटा का इस्तेमाल करते हैं उसके स्थान पर चावल का आटा, आरारोट का आटा, या सिंघाड़ा आटा खाया जा सकता है। 
  • नवरात्रि व्रत के दिनों में अपने आपको ऊर्जावान रखने के लिए ड्राई फ्रूट खाया जा सकता है। 
  • नवरात्रि के व्रत में आप किसी भी प्रकार के फल का सेवन कर सकते है।
  • नवरात्रि के व्रत में आप कच्ची सब्जियों को भी खा सकते हैं जिसमें गाजर टमाटर आता है। 
  • व्रत के दौरान आप दूध दही मक्खन जैसी चीजों का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

नवरात्रि के व्रत में क्या नहीं खाना चाहिए:-

  • नवरात्रि के व्रत के दौरान आप गेहूं का आटा नहीं खा सकते है।
  • नवरात्रि के व्रत के दौरान आप लहसुन प्याज या किसी भी प्रकार के मसाले का सेवन नहीं कर सकते है।
  • नवरात्रि के व्रत के दौरान आप सादर नमक नहीं खा सकते है उसके जगह पर आप सेंधा नमक का प्रयोग कर सकते है। 
  • व्रत के दौरान आप किसी भी चीज का नशा नहीं कर सकते है। 

नवरात्रि व्रत पारण विधि | Navratri 2023

नवरात्रि व्रत का पारण नवमी की आखरी आरती के बाद कर सकते हैं इसके अलावा ज्यादातर लोग दशमी की शुरुआत के दिन पारण करते है। अगर आप नवमी के दिन में या दशमी के दिन पारण करना चाहते है तो सबसे पहले आपको मां दुर्गा की सुपारी और अक्षत, सिंदूर के साथ पूजा करनी है। उसके बाद प्रसाद खा कर अपना व्रत तोड़ सकते हैं और कुछ भी खाना शुरू कर सकते है।

नवरात्रि उपवास 2023

नवरात्रि व्रत पारण की विधि नवमी और दशमी दोनों दिन कर सकते हैं नवमी को पूजा होने के बाद रात में आप अपना व्रत तोड़ सकते हैं या फिर अगले दिन दशमी की सुबह आप नवरात्रि व्रत का पारण कर सकते है। आप चाहे जब भी नवरात्रि व्रत का पारण करें आपको मां दुर्गा की पूजा-अर्चना करने के बाद ही अपने व्रत का पारण करना है। 

See also  Karwa Chauth 2023 | करवा चौथ पर लगाएं सुंदर और आसान मेहंदी डिजाइन | Very Easy Mehndi Design | लेटेस्ट मेहंदी डिजाइन फोटो

नवरात्रि व्रत कथा | Navratri Vrat Katha

Navratri Vrat Katha

नवरात्रि व्रत मां दुर्गा की पूजा के लिए किया जाता है जब मां दुर्गा ने महिषासुर का वध किया था तब से नवरात्रि का त्यौहार मनाया जा रहा है। मगर नवरात्रि व्रत क्यों किया जाता है और इसकी क्या महिमा है इसे जानने के लिए एक बार एक ऋषि ब्रह्मा जी के पास गए थे। भगवान ब्रह्मा ने उन्हें बताया कि एक बार एक सुंदर स्त्री का विवाह एक चोर के साथ हो गया। चोरी चोरी करने जाता था तो अपने साथ अपनी पत्नी को लेकर जाता था उसकी पत्नी उसे बहुत समझाती थी मगर वह उसे जबरदस्ती लेकर जाता था एक दिन चोरी करने के दौरान चोर और उसकी पत्नी पकड़ा गए और सिपाहियों ने उन्हें जेल में डाल दिया। जेल में बिना कुछ खाए पिए उन दोनों की मृत्यु हो गई है मगर इन दिनों वह भोजन नहीं कर रहे थे उस दिन बीच में नवरात्रि का त्यौहार भी पढ़ा था।

दोनों ने नवरात्रि का व्रत अनजाने में कर लिया था जिस वजह से सुंदर स्त्री का नया जन्म एक पंडित के घर होता है और एक कुस्ट रोगी के रूप में होता है। पंडित के घर में जो बच्चे जन्म लेती है वह पूजा-पाठ में बहुत ही लीन रहती है मगर एक दिन अपने पिता के साथ पूजा में सम्मिलित ना होने पर उसके पिता उससे बहुत क्रोधित होते है और उसे दंड देने के लिए उसका विवाह है उसकी मर्जी के खिलाफ एक कुष्ठ रोगी के साथ कर देते है।

Navratri Vrat Katha in Hindi

विवाह के बाद वह स्त्री बहुत रोती है मगर अचानक उसके समक्ष देवी दुर्गा प्रकट होती है और वह उसे बीते जन्म का पूरा वृतांत बताती है कि किस तरह उसने पिछले जन्म में अनजाने में नवरात्रि का व्रत कर लिया था जिसके बाद उसने देवी से कुछ नहीं मांगा था इसलिए दी उसके पास प्रकट हुई है और उससे कोई वरदान मांगने को कहती है। उस वक्त उसने अपने पति के कुष्ठ रोग को ठीक करने का वरदान मांगा और उसी वक्त उसका पति ठीक हो गया। 

यह बात पूरे गांव में हर किसी को पता चली और तब से लेकर आज तक लोग हर नवरात्रि के दिन मा देवी की पूजा करते हैं और नवरात्रि का व्रत करते हैं ताकि उनके मन की सभी इच्छा पूरी हो सके। 

FAQ’s: Navratri Vrat

Q. नवरात्रि व्रत का कब से शुरू होगा?

नवरात्रि व्रत इस साल 15 अक्टूबर 2023 को शुरू होगा और 24 अक्टूबर 2023 तक नवरात्रि व्रत किया जाएगा।

Q. नवरात्रि व्रत में क्या नहीं खाना चाहिए?

नवरात्रि व्रत के दौरान गेहूं का आटा चावल किसी भी प्रकार का मसाला, लहसुन प्याज, और नमक नहीं खाना चाहिए। 

Q. नवरात्रि व्रत किस प्रकार सफल बनाया जाता है?

नवरात्रि व्रत करने के दौरान मां दुर्गा के सभी नौ अवतारों की पूजा-अर्चना की जाती है और उपवास रखा जाता है। 9 दिनों तक उपवास करने के बाद नवमी की रात को या अगले दिन दशमी की सुबह को आप नवरात्रि व्रत का पारण कर सकते है। 

निष्कर्ष

आज इस लेख में हमने आपको Navratri Vrat 2023 से जुड़ी कुछ आवश्यक जानकारियों के बारे में बताया है। इस लेख में दी गई जानकारियों को पढ़ने के बाद अब समझ पाए होंगे कि नवरात्रि व्रत में किस प्रकार का भोजन करना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए। अगर हमारे द्वारा इस लेख में दी गई जानकारी को पढ़कर आप नवरात्रि व्रत के बारे में अच्छे से समझ पाए हैं तो इसे अपने मित्रों के साथ साझा करें साथ ही अपने सुझावों विचार या किसी भी प्रकार के प्रश्न को कमेंट में पूछना ना भूले। 

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja