Navratri Puja Vidhi | नवरात्रि पूजा विधि, शुभ मुहूर्त 2023, नवरात्रि कलश स्थापना विधि जाने

Navratri Puja Vidhi 

22 मार्च से चैत्र नवरात्रि पूजा 2023 पूरे देश में बड़े धूमधाम के साथ मनाई जाएगी। नवरात्रि भारत में सबसे लोकप्रिय और व्यापक रूप से मनाए जाने वाले त्योहारों में से एक है। संस्कृत में ‘नवरात्रि’ शब्द का शाब्दिक अर्थ है ‘नौ रातें’, और यह हिंदू मां दुर्गा और उनके नौ अवतारों – दुर्गा, शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि की पूजा के लिए समर्पित त्योहार है। नवरात्रि के दौरान देशभर में तरह-तरह के धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। वहीं इस लेख में हम आपको नवरात्रि पूजा विधि 2023 (Navratri Puja Vidhi) से जुड़ी जानकारी देंगे। इसके साथ ही आपको बताएंगे कि चैत्र नवरात्रि पूजा मुहूर्त 2023 क्या रहेगा। वहीं नवरात्रि की पूजा कई नियमों के साथ की जाती है, जिसके चलते हम आपको नवरात्रि पूजा विधि के बारे में जानकारी देंगे।

वहीं नवरात्रि के शुरुआती दिन में कलश स्थापना जिसे घटस्थापना भी कहा जाता है वह कि जाती है, इस लेख के जरिए हम आपको नवरात्रि पूजा विधि कलश स्थापना के बारे में बताएंगे। कौन कौन से चैत्र नवरात्रि पूजा सामग्री की जरुरत आपको पूजा के लिए मिलेगी उसके बारे में भी आपको बताया जाएगा। चैत्र नवरात्रि पूजा मन्त्र और चैत्र नवरात्रि पूजा आरती भी इस लेख के जरिए मिल जाएगी, क्योंकि यह हम सब जानते है कि कोई भी हिंदू पूजा बिना आरती और मंत्र के पूरी नहीं होती है, इस लेख में आपको माता रानी के मंत्र और आरती दोनों मिल जाएगी।

चैत्र नवरात्रि 2023 घटस्थापना मुहूर्त

चैत्र नवरात्रि पूजा मुहूर्त | Navratri Puja Muhurat

टॉपिकचैत्र नवरात्रि पूजा 2023
लेख प्रकारआर्टिकल
साल2023
चैत्र नवरात्रि शुरुआत22 मार्च
चैत्र नवरात्रि समापन31 मार्च
माहचैत्र
किसकी पूजा होती हैमां दुर्गा के नौ रूपों की
कहां मनाया जाता हैभारत में
अवर्तिहर साल

नवरात्रि पूजा विधि | Navratri Puja Vidhi

नवरात्रि पूजा माता रानी से शांति, समृद्धि और भरण-पोषण के लिए प्रार्थना करने के लिए की मनाई जाती है। पूजा करने की सही विधि जानना बहुत जरूरी है, क्योंकि माता रानी की पूजा विधि विधान से करना बहुत जरुरी होता है।हम आपको बता दें कि सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण है नवरात्रि पूजा के लिए बहुत साफ और साफ-सुथरा वातावरण सुनिश्चित करना है। जैसा कि यह एक सर्वविदित तथ्य है कि, “स्वच्छता ही ईश्वरत्व है।” नीचे नवरात्रि पूजा प्रक्रिया अनुष्ठान हैं, जिनका पालन करने की आवश्यकता है।

एक कलावा को घड़े की पतवार से बांधा जाता है और इसके बाद पान के पत्तों को एक आवरण के रूप में खोलने पर रखा जाता है और पत्तों के बीच एक नारियल रखकर उसे ढक दिया जाता है। इस घड़े को पूजा स्थल पर मूर्ति या तस्वीर के सामने रखा जाता है। स्थापना के लिए सबसे अच्छा समय प्रातःकाल का माना जाता है। 

यदि लोग 9 दिनों के लिए एक अखंड ज्योत (कभी न खत्म होने वाला दीपक) लगाने का विकल्प चुनते हैं। अगर घर में अखंड ज्योत जलाई जाती है तो घर को सूना नहीं छोड़ा जाता है, घर में किसी ना किसी का रहना बहुत जरुरी होता है। नवरात्रि के पहले दिन जब घटस्थापना की जाती है तब अखंड ज्योत जलाई जाती है और नौ दिन तक चलती है।

See also  100+ Holi Shayari in Hindi | हैप्पी होली शायरी हिंदी में | होली की शायरी

लोग चौकी के बगल में एक कागज के टुकड़े पर परिवार के सबसे बड़े सदस्य के हल्दी के पेस्ट में डूबा हुआ हाथ लगाते हैं। ऐसा माना जाता है कि यह देवी के आशीर्वाद की वर्षा के लिए एक प्रवेश द्वार के रूप में काम करता है।

स्थापना के बाद, लोगों को दो समय यानी सुबह और शाम को प्रार्थना करने के लिए एक सख्त दिनचर्या का पालन करना चाहिए। प्रातःकाल में दुर्गा सप्तशती के श्लोकों का पाठ (आरती) करने के बाद किया जाता है। बहुत से लोग 9 दिनों के दौरान उपवास करते हैं जिसमें वे दिन में केवल एक बार उचित भोजन करते हैं और अन्य समय में फलारी आहार (उपवास भोजन) पर खाने की अनुमति होती है।

नवरात्रि पूजा विधि कलश स्थापना

नवरात्रि हिंदुओं के सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। हिंदूओं के लिए एक वर्ष में 4 नवरात्र होते हैं – शारदीय नवरात्रि, चैत्र नवरात्रि, आषाढ़ नवरात्रि, पौष नवरात्रि और माघ नवरात्रि। 4 नवरात्रियों में सबसे महत्वपूर्ण शारदीय और चैत्र नवरात्रि होती है और इसे अक्सर महा नवरात्रि कहा जाता है। हमने नवरात्रि के दौरान पालन की जाने वाली मूल नवरात्रि पूजा विधि (Navratri Puja Vidhi) को सूचीबद्ध किया है, जिसे आप नवरात्रियों के लिए एक ही प्रक्रिया का पालन किया जा सकता है।

नवरात्रि पूजा विधि | Navratri Puja Vidhi

नवरात्रि पूजा करने के लिए आपको सुबह जल्दी उठना होगा। नवरात्रि पूजा करने के लिए सूर्योदय का समय सबसे अच्छा माना जाता है। स्नान करके धुले हुए वस्त्र धारण करें। दीपक को मां दुर्गा की देवी के बाईं ओर रखें। अखंड ज्योत को प्रज्वलित करने का प्रयास करें। यदि आप ‘अखंड ज्योत’ जला रहे हैं तो यह सलाह दी जाती है कि घर पर हमेशा कोई न कोई हो। शास्त्र सुझाव देते हैं कि घर में कम से कम एक व्यक्ति होना चाहिए। देवी दुर्गा की मूर्ति के दाहिने हाथ पर अगरबत्ती आदि रखें। माता की पूरी श्रद्धा और एकाग्रता के साथ पूजा करें। आपको कलश और नारियल भी रखना होगा। चटाई बिछाकर भगवान के सामने सीधे आसन पर बैठ जाएं। दीपक जलाएं और देवी का आह्वान करते हुए ‘शंख’ बजाएं।

घटस्थापना नवरात्रि के दौरान महत्वपूर्ण अनुष्ठानों में से एक है और इसे नवरात्रि विधि (Navratri Puja Vidhi) कहा जाता है। यह नौ दिनों के उत्सव की शुरुआत का प्रतीक है। हमारे शास्त्रों में नवरात्रि की शुरुआत में एक निश्चित अवधि के दौरान घटस्थापना करने के लिए अच्छी तरह से परिभाषित नियम और दिशानिर्देश हैं। घटस्थापना देवी शक्ति का आवाहन है और हमारे शास्त्रों में पूर्वसूचना दी गई है इसे समय पर गलत करने से देवी शक्ति का प्रकोप हो सकता है। बता दें कि अमावस्या और रात्रि के समय घटस्थापना वर्जित है।

See also  Makar Sankranti Songs : Bollywood के इन सुपर हिट गानों के साथ मनाएं मकर संक्रांति

घटस्थापना करने के लिए सबसे शुभ या शुभ समय दिन का पहला एक तिहाई है जबकि प्रतिपदा प्रचलित है। यदि किन्हीं कारणों से यह समय में आप घटस्थापना नहीं कर पाएं है तो अभिजित मुहूर्त में घटस्थापना की जा सकती है। घटस्थापना के दौरान नक्षत्र चित्रा और वैधृति योग से बचने की सलाह दी जाती है, लेकिन यह निषिद्ध नहीं है। विचार करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक यह है कि घटस्थापना हिंदू मध्याह्न से पहले की जाती है जबकि प्रतिपदा प्रचलित है

  • सबसे पहले अनाज बोने के लिए मिट्टी का चौड़ा बर्तन (जिसका उपयोग कलश रखने के लिए किया जाएगा) लिया जाता है। मिट्टी की पहली परत को गमले में फैलाया जाता है और फिर अनाज के बीज फैलाए जाते हैं। अब मिट्टी और अनाज की दूसरी परत बिछाई जाती है। दूसरी परत में दानों को गमले की परिधि के पास फैला देना चाहिए। अब मिट्टी की तीसरी और अंतिम परत गमले में फैला दी जाती है। जरूरत पड़ने पर मिट्टी को जमने के लिए बर्तन में थोड़ा पानी डाला जाता है।
  • अब कलश के गले में पवित्र धागा बांध दिया जाता है और इसे गले तक पवित्र जल से भर दिया जाता है। सुपारी, गंध, दूर्वा घास, अक्षत और सिक्के जल में डाले जाते हैं। कलश को ढक्कन से ढकने से पहले उसके किनारे पर अशोक के 5 पत्ते रखे जाते हैं।
  • अब बिना छिला हुआ नारियल लें और उसे लाल कपड़े में लपेट लें। नारियल और लाल कपड़े को पवित्र धागे से बांधा जाता है।
  • अब तैयार किए गए कलश के ऊपर नारियल रखा जाता है।
  • अंत में कलश को चरण 1 में तैयार किए गए अनाज के बर्तन पर केंद्र में रखा जाता है।
  • इन चरणों के अंत में, हमारे पास देवी दुर्गा का आह्वान करने के लिए कलश तैयार है।

चैत्र नवरात्रि पूजा सामग्री 

श्रीदुर्गा की सुंदर प्रतिमा या फोटो, सिंदूर, केसर, कपूर, धूप,वस्त्र, दर्पण, कंघी, कंगन-चूड़ी, सुगंधित तेल, बंदनवार आम के पत्तों का, पुष्प, दूर्वा, मेंहदी, बिंदी, सुपारी साबुत, हल्दी की गांठ और पिसी हुई हल्दी, पटरा, आसन, चौकी, रोली, मौली, पुष्पहार, बेलपत्र, कमलगट्टा, दीपक, दीपबत्ती, नैवेद्य, मधु, शक्कर, पंचमेवा, जायफल, लाल रंग की गोटेदार चुनरीलाल रेशमी चूड़ियां, सिन्दूर, – आम के पत्‍ते, लाल वस्त्र, लंबी बत्ती के लिए रुई या बत्ती, धूप, अगरबत्ती, माचिस ,चौकी, चौकी के लिए लाल कपड़ा, पानी वाला जटायुक्त नारियल, दुर्गासप्‍तशती किताब, कलश, साफ चावल, कुमकुम,मौली, श्रृंगार का सामान, दीपक, घी/ तेल ,फूल, फूलों का हार, पान, सुपारी, लाल झंडा, लौंग, इलायची, बताशे या मिसरी, असली कपूर, उपले, फल/मिठाई, दुर्गा चालीसा व आरती की किताब,कलावा, मेवे, हवन के लिए आम की लकड़ी, जौ, पांच मेवा, घी, लोबान,गुग्गुल, लौंग, कमल गट्टा,सुपारी, कपूर. और हवन कुंड आदि.

घर पर नवरात्रि पूजा कैसे करें

See also  150+Rakshabandhan Quotes in Hindi | रक्षाबंधन कोट्स | Raksha Bandhan Special Quotes 2023

चैत्र नवरात्रि पूजा मन्त्र 

कराग्रे वसित लक्ष्मीः करमध्ये सरस्वती।

करमूले तु गोवन्दः प्रभाते करदर्शनम्।।

या देवी सर्वभूतेषु शक्ति-रूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

या देवी सर्वभूतेषु चेतनेत्यभि -धीयते।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

समुद्रवसने देवि पर्वतस्तनमण्डिते।

विष्णुपत्नि नमस्तुभ्यं पादस्पर्शं क्षमस्व मे।।

या देवी सर्वभूतेषु लक्ष्मी-रूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

ओमः अपवित्रः पवित्रो वा सर्वावस्थां गतोपिवा।

यरू स्मरेत् पुण्डरीकाक्षं स बाह्याभ्यान्तरः शुचिः।।

या देवी सर्वभूतेषु शांति-रूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

ओम पृथ्वि त्वया धृमा लोका, देवि त्वं विष्णुना धृता।

त्वं च धारय मां देवि पवित्रं कुरू चासनम्।।

सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके।

शरण्ये त्र्यंबके गौरी नारायणि नमोस्तुते॥

नवरात्रि पूजा आरती 

ॐ जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी

तुम को निशदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिवरी. ॐ जय अम्बे गौरी

कनक समान कलेवर रक्ताम्बर राजे

रक्त पुष्प दल माला कंठन पर साजे. ॐ जय अम्बे गौरी

कानन कुण्डल शोभित नासग्रे मोती

कोटिक चन्द्र दिवाकर राजत सम ज्योति. ॐ जय अम्बे गौरी

मांग सिंदूर विराजत टीको मृगमद को

उज्जवल से दो नैना चन्द्र बदन नीको. ॐ जय अम्बे गौरी

शुम्भ निशुम्भ विडारे महिषासुर धाती

धूम्र विलोचन नैना निशदिन मदमाती. ॐ जय अम्बे गौरी

केहरि वाहन राजत खड़्ग खप्पर धारी

सुर-नर मुनिजन सेवत तिनके दुखहारी. ॐ जय अम्बे गौरी

चण्ड – मुंड संहारे सोणित बीज हरे

मधु कैटभ दोऊ मारे सुर भयहीन करे.ॐ जय अम्बे गौरी

ब्रह्माणी रुद्राणी तुम कमला रानी

आगम निगम बखानी तुम शिव पटरानी. ॐ जय अम्बे गौरी

चौसठ योगिनी मंगल गावत नृत्य करत भैरु

बाजत ताल मृदंगा और बाजत डमरु. ॐ जय अम्बे गौरी

तुम ही जग की माता तुम ही हो भर्ता

भक्तन की दुःख हरता सुख सम्पत्ति कर्ता. ॐ जय अम्बे गौरी

भुजा चार अति शोभित वर मुद्रा धारी

मन वांछित फ़ल पावत सेवत नर-नारी. ॐ जय अम्बे गौरी

कंचन थार विराजत अगर कपूर बाती

श्रीमालकेतु में राजत कोटि रत्न ज्योति. ॐ जय अम्बे गौरी

श्री अम्बे जी की आरती जो कोई नर गावे

कहत शिवानंद स्वामी सुख संपत्ति पावे. ॐ जय अम्बे गौरी

FAQ’s Navratri Puja Vidhi 

Q. चैत्र नवरात्रि साल 2023 में कब से कब तक मनाई जाएगी ?

Ans. चैत्र नवरात्रि साल 2023 में 22 मार्च से लेकर 31 मार्च तक मनाई जाएगी ।

Q. चैत्र नवरात्रि के पहले दिन क्या करने की प्रथा है ?

Ans. चैत्र नवरात्रि के पहले दिन घटस्थापना करने और अखंड ज्योत जलाने की प्रथा है

Q. घर में जब अखंड ज्योत जलाई जाती है तो क्या नहीं किया जाता है ?

Ans. घर में अगर नवरात्रि में अखंड ज्योति जलाई तो घर को सूना नहीं रखा जाता है, घर में किसी ना किसी का होना जरुरी होता है

Q. नवरात्रि के पहले दिन की गई कलश स्थापना का विसर्जन कब किया जाता है ?

Ans. नवरात्रि के पहले दिन की गई कलश स्थापना का विसर्जन नवरात्रि के आखिरी दिन किया जाता है।

 (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja