गणतंत्र दिवस पर निबंध हिंदी में | Essay On Republic Day in Hindi | PDF Download, 10 Lines

Essay On Republic Day in Hindi

Essay on Gantantra Diwas in Hindi :- गणतंत्र दिवस (Republic Day) भारत का राष्ट्रीय पर्व है। यह प्रतिवर्ष  26 जनवरी को मनाया जाने वाला एक ऐसा पर्व है जिसको भारत के लोग काफी उत्साह एवं सम्मान के साथ मानते हैं। राष्ट्रीय पर्व होने के कारण इस दिवस को देश का प्रत्येक वर्ग प्रत्येक धर्म एवं प्रत्येक जाति के लोग एक साथ मिलकर मानते हैं। भारत का गणतंत्र दिवस भारत के संविधान को अपने के याद में मनाया जाता है जिसे संविधान सभा के द्वारा 26 नवंबर 1949 को अपनाया गया था तथा 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया था।

भारत संविधान को डॉ भीमराव अंबेडकर के द्वारा लिखा गया एवं तैयार किया गया था। भारत में संविधान को अपनाने के बाद भारत संपूर्ण रूप से एक लोकतांत्रिक देश बन गया। इसलिए भारत के स्वतंत्र होने में अपना योगदान देने वाले स्वतंत्रता सेनानियों को याद करने के लिए प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस का पालन किया जाता है। इस राष्ट्रीय पर्व गणतंत्र दिवस के दिन हमारे देश के सरकारी ,गैर सरकारी कार्यालय एवं स्कूल कॉलेज में कई प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। इन कार्यक्रमों में गणतंत्र दिवस पर निबंध जैसे कार्यक्रम सम्मिलित होते हैं ऐसे में यदि आप लोग भी किसी गणतंत्र दिवस के कार्यक्रम में निबंध के प्रतियोगिता में हिस्सा लिए हैं लेकिन आपको समझ में नहीं आ रहा है कि कैसा निबंध लिखूं।

तो आईए हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से Republic Day Essay in Hindi (500 Word) | गणतंत्र दिवस पर निबंध हिंदी में, गणतंत्र दिवस निबंध हिंदी में 15 लाइन, Republic Day Essay in Hindi 10 Line | गणतंत्र दिवस पर निबंध10 लाइन संबंधित जानकारी विस्तार पूर्वक प्रदान कर रहे हैं इसलिए आप लोग इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े।

Republic Day Essay in Hindi (500 Word) गणतंत्र दिवस पर निबंध हिंदी में

भारत में हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस बहुत गर्व और उत्साह के साथ मनाया जाता है। यह एक ऐसा दिन है जो हर भारतीय नागरिक के लिए महत्वपूर्ण है। यह उस दिन का प्रतीक है जब भारत वास्तव में स्वतंत्र हुआ और लोकतंत्र को अपनाया। दूसरे शब्दों में, यह उस दिन का जश्न मनाता है जिस दिन हमारा संविधान लागू हुआ था। आजादी के लगभग 3 साल बाद 26 जनवरी 1950 को हम एक संप्रभु, धर्मनिरपेक्ष, समाजवादी, लोकतांत्रिक राष्ट्र बन गए।

गणतंत्र दिवस का इतिहास । History of Republic Day

15 अगस्त 1947 को हमें ब्रिटिश शासन से आजादी तो मिल गई, लेकिन हमारे देश में अभी भी एक ठोस संविधान का अभाव था। इसके अलावा, भारत के पास कोई विशेषज्ञ और राजनीतिक शक्तियाँ भी नहीं थीं जो राज्य के मामलों को सुचारू रूप से चलाने में मदद करतीं। तब तक, 1935 के भारत सरकार अधिनियम को मूल रूप से शासन करने के लिए संशोधित किया गया था, हालांकि, वह अधिनियम औपनिवेशिक शासन की ओर अधिक झुका हुआ था। इसलिए, एक विशेष संविधान बनाने की सख्त जरूरत थी जो भारत के सभी विचारों को प्रतिबिंब करे।

इस प्रकार, डॉ. बी.आर. अम्बेडकर ने 28 अगस्त, 1947 को एक संवैधानिक मसौदा समिति का नेतृत्व किया। मसौदा तैयार करने के बाद, इसे 4 नवंबर, 1947 को उसी समिति द्वारा संविधान सभा में प्रस्तुत किया गया। यह पूरी प्रक्रिया बहुत बड़ा था और इसे पूरा करने में 166 दिन लगे। इसके अलावा, समिति द्वारा आयोजित सत्र जनता के लिए खुले रखे गए थे |

चुनौतियों और कठिनाइयों से कोई फर्क नहीं पड़ता, हमारी संवैधानिक समिति ने सभी के अधिकारों को शामिल करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। इसका उद्देश्य सही संतुलन बनाना था ताकि देश के सभी नागरिक अपने धर्म, संस्कृति, जाति, लिंग, और अन्य से संबंधित समान अधिकारों का आनंद ले सकें। आख़िरकार उन्होंने 26 जनवरी 1950 को देश के सामने आधिकारिक भारतीय संविधान प्रस्तुत किया।

See also  लाचित बोरफुकन पर निबंध | Lachit Borphukan Essay in Hindi (कक्षा-3 से 10 के लिए)

इसके अलावा, भारतीय संसद का पहला सत्र भी इसी दिन आयोजित किया गया था। इसके अलावा, 26 जनवरी को भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद का शपथ ग्रहण भी हुआ। इस प्रकार, यह दिन बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह ब्रिटिश शासन के अंत और एक गणतंत्र राज्य के रूप में भारत के जन्म का प्रतीक है।

गणतंत्र दिवस समारोह

भारतीय हर साल 26 जनवरी को बहुत उत्साह और जोश के साथ मनाते हैं। इस दिन लोग अपना धर्म, जाति, लिंग और बहुत कुछ भूल जाते हैं। यह सम्पूर्ण देश को एक साथ लाता है। यह सचमुच हमारे देश की विविधता को दर्शाता है। भारत की राजधानी, नई दिल्ली, इसे गणतंत्र दिवस परेड के साथ मनाती है जो भारतीय सेना की ताकत और हमारे देश की सांस्कृतिक विविधता को प्रदर्शित करती है।

ये परेड देश के अन्य शहरों में भी होती हैं, जहाँ बहुत सारे स्कूल भाग लेते हैं। बच्चों और पेशेवरों को इतना प्रयास करते हुए देखना खुशी की बात है। जिस तरह से वे परेड की शोभा बढ़ाते हैं उससे किसी को भी अपने देश पर गर्व होता है। इस दिन हम राष्ट्रीय ध्वजारोहण भी करते हैं। नई दिल्ली में, भारत के राष्ट्रपति द्वारा हमारा राष्ट्रीय ध्वज फहराए जाने के बाद, सैन्य बैंड द्वारा बजाए गए राष्ट्रगान के साथ 21 तोपों की सलामी दी जाती है।

इसके अलावा, स्कूलों में मार्च पास्ट होता है और प्रत्येक छात्र के लिए समारोह में भाग लेना अनिवार्य है। कई स्कूलों में इस दिन मिठाइयाँ भी बाँटी जाती हैं। हालांकि यह बहुत खुशी का दिन है, हमें स्वतंत्रता के उस संघर्ष को नहीं भूलना चाहिए जिसमें हमारे पूर्वजों ने भाग लिया था। इसके अलावा, यह स्वतंत्रता की भावना का जश्न मनाने और भविष्य में भारत को और अधिक ऊंचाइयों तक पहुंचने में मदद करने के लिए सुनिश्चित करने का दिन है।

Essay On Gantantra Diwas in Hindi

भारत में 26 जनवरी का विशेष महत्व है। इस दिन हमारे देश का संविधान (Constitution) लागू हुआ था। यह दिवस हमारे लिए लोकप्रिय राष्ट्रीय पर्व बन गया है। भारतीय स्वतंत्रता संग्राम (Indian Freedom Struggle) का इतिहास बहुत लंबा है। 26 जनवरी का दिन संघर्ष में नया मोड़ देने वाला पॉइंट है। सन 1929 तक स्वतंत्रता संग्राम के सेनानी औपनिवेशक स्वराज्य की मांग कर रहे थे, किंतु जब अंग्रेज किसी भी तरह इसके लिए तैयार नहीं हुए, तब अखिल भारतीय कांग्रेस (All India Congress) के उन दिनों के अध्यक्ष पंडित जवाहरलाल नेहरू (Pandit jawaharlal Nehru) ने अपने विचारों एवं बलवत्ता का परिचय देते हुए लाहौर के पास रावी नदी (Ravi River) के तट पर घोषणा की थी कि, यदि ब्रिटिश सरकार (British Government) औपनिवेशिक स्वराज्य देना चाहें, तो 31 दिसंबर 1929 से लागू होने की स्पष्ट घोषणा करे। 

टॉपिकगणतंत्र दिवस पर हिंदी में निबंध
लेख प्रकारनिबंध
साल2024
गणतंत्र दिवस 2023 कब है26 जनवरी
वारगुरुवार 
साल 2024 गणतंत्र दिवस कौन सा है75वां
पहला  गणतंत्र दिवस26 जनवरी 1950
गणतंत्र दिवस का कारणभारत का संविधान लागू हुआ था
पहले गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रपति कौन थेडॉ. राजेंद्र प्रसाद 

Also Read: गणतंत्र दिवस पर देशभक्ति गीत

1 जनवरी 1930 से हमारी मांग पूर्ण स्वाधीनता होगी। इस घोषणा के बाद 26 जनवरी 1930 को कांग्रेस द्वारा तैयार किया हुआ प्रतिज्ञा-पत्र पढ़ा गया। इसी पूर्ण स्वतंत्रता के समर्थन में 26 जनवरी 1930 को सारे देश में तिरंगे के नीचे जुलूस निकाले गए और सभाएं की गईं।

See also  मेरे प्रिय अध्यापक पर निबंध | Essay On My Favorite Teacher in Hindi,10 Lines (कक्षा-1 से 8 के लिए)

स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) का महत्व 15 अगस्त को हो गया, लेकिन 26 जनवरी फिर भी अपना महत्व रखती है। भारतीयों ने इसके गौरव को स्थिर रखने के लिए डॉ. राजेंद्र प्रसाद (Dr. Rajendra Prasad) की अध्यक्षता में देश के नेताओं द्वारा बनाए गए विधान को 26 जनवरी 1950 को लागू किया । इस दिन भारत में प्रजातांत्रिक शासन की घोषणा की गई। भारतीय संविधान में देश के सभी नागरिकोंको समान अधिकार दिए गए।

Also Read: गणतंत्र दिवस 2024 पर हिंदी शायरी

गणतंत्र दिवस निबंध हिंदी में 15 लाइन

  1. भारत में 26 जनवरी 1950 को अपना खुद का संविधान लागू हुआ, तब से हम प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी को रिपब्लिक डे के रूप में मनाते हैं।
  2. 26 जनवरी republic day के दिन राष्ट्रपति लाल किला से देश के नागरिकों को संबोधित करते हैं।
  3. गणतंत्र दिवस हमारा देश भारत का एक राष्ट्रीय पर्व है।
  4. 26 जनवरी 1950 को जब हमारे देश में संविधान लागू हुआ तब से हमारा देश एक गणतांत्रिक एवं लोकतांत्रिक देश माना जाता है।
  5. गणतांत्रिक का मतलब है गण यानि की जनता का तंत्र अर्थात जनता के लिए, जनता के बीच से, जनता द्वारा चुने गए प्रतिनिधियों का तंत्र, गणतंत्र कहलाता है।
  6. संविधान लागू होने से पहले हमारे देश का शासन अंग्रेजों द्वारा बनाए गए ‘भारत शासन अधिनियम 1935’ के आधार पर चलता था।
  7. बाबासाहेब अम्बेडकर संविधान सभा के मसौदा समिति के अध्यक्ष थे।
  8. इस दिन सेना के वीर सिपाहियों को वीर चक्र, परमवीर चक्र तथा शौर्य चक्र जैसे कई राष्ट्रीय सम्मान भी वितरित किए जाते हैं।
  9. बाबासाहेब को आजादी के बाद “संविधान के मुख्य वास्तुकार” के रूप में सम्मानित किया गया था।
  10. देश की राजधानी दिल्ली में राजपथ से विजय चौक होते हुए राष्ट्रीय संग्रहालय तक एक विशाल परेड के साथ गणतंत्र दिवस का आयोजन किया जाता है।
  11. इस विशाल परेड में भारत की तीनों सेनाएं (जलसेना, थलसेना तथा वायुसेवा) भाग लेती है।
  12. इस दिन देश के सभी विद्यालयों में जश्न का माहौल होता हैं तथा उनमें अनेक प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आयोजन भी होता है।
  13. 26 जनवरी के दिन सभी देशवासी मिलकर हमारे स्वतंत्रता सेनानियों को याद करते हैं तथा उन्हें श्रद्धांजली भी अर्पित करते हैं।
  14. इस पर्व को मनाने का हमारा उद्देश्य देश की एकता तथा गौरव को बनाए रखना है।
  15. विश्व के सभी देश के संविधान में भारतीय संविधान सबसे बड़ा हस्तलिखित संविधान है।

Republic Day Essay in Hindi 10 Line | गणतंत्र दिवस पर निबंध 10 लाइन

Republic Day Essay in Hindi 10 Lines
  1. भारत का गणतंत्र दिवस (Republic Day) प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी के दिन मनाया जाता है।
  2. भारत का संविधान पूर्ण रूप से 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ।
  3. भारत का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान माना गया है।
  4. गणतंत्र दिवस के दिन राष्ट्रपति द्वारा राष्ट्र ध्वज का ध्वजारोहण होता है।
  5. भारत का संविधान हमारे देश का सर्वोच्च कानून है।
  6. 26 जनवरी के दिन विद्यालयों और अन्य शिक्षण और सरकारी संस्थानों में झंडा फहराया जाता है।
  7. 26 जनवरी के दिन भारत की राजधानी दिल्ली में इंडिया गेट से राष्ट्रपति भवन तक परेड निकाली जाती है।
  8. इस परेड में भारत के जवान जैसे -थलसेना, वायुसेना और नौसेना भाग लेते हैं व अपने तरीके से गणतंत्र दिवस की शोभा बढ़ाते है।
  9. गणतंत्र दिवस के दिन सभी सरकारी और गैर सरकारी दफ्तर का अवकाश होता है।
  10. हमे अपने गणतंत्र और देश के कानून का सम्मान एवं पालन करना चाहिए।

Gantantra Diwas Essay in Hindi PDF Download | गणतंत्र दिवस निबंध हिंदी में

हर साल 26 जनवरी को भारत की जनता अपने इस प्यारे राष्ट्रीय पर्व को मनाती है। इस दिन पाठशालाएं, कॉलेज, ऑफिस, बाजार बंद रहते हैं। लोग बड़े उत्साह से ध्वजवंदन के प्रोग्राम में भाग लेते हैं। राष्ट्रीत गाते समय सबके ह्रदय में राष्ट्रप्रेम उमड़ पड़ता है। भारत के सैकड़ों नगरों तथा लाखों गांवों में इस दिन देशप्रेम और राष्ट्रीयता की नई लहर पैदा करता है।

See also  विश्व धरोहर दिवस अथवा विश्व विरासत दिवस पर निबंध (300, 600 शब्द) | Essay on World Heritage Day in Hindi

गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या को हमारे राष्ट्रपति (President) दूरदर्शन पर राष्ट्र के नाम अपना संदेश प्रसारित करते हैं। इस संदेश में वे देश से जुड़ी हुई समस्याओं की चर्चा करते हैं और देशवासियों तथा विदेशों में बसे भारतीयों का अभिनंदन करते हैं। सभी लोग अपने घरों में परिवार के साथ राष्ट्रपति का संदेश सुनते हैं।

गणतंत्र दिवस के दिन अद्भुत कार्यक्रम

इस दिन सभी लोग अपने मकानों की खिड़कियों पर छोटे-छोटे तिरंगे लगाते हैं, जिसकी शोभा दर्शनीय होती है। जगह-जगह ध्वज वंदन के प्रोग्राम की धुन सुनाई देती है। स्कूलों और कॉलेजों में राष्ट्रध्वज फहराने के साथ ही तरह-तरह के रंगारंग कार्यक्रम होते हैं। आकाशवाणी के द्वारा इस दिन एक अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन किया जाता है। 

भारत की राजधानी दिल्ली (Delhi) में यह समारोह विशेष उत्साह से मनाया जाता है। गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या को राष्ट्रपति देश के नाम संदेश प्रसारित करते हैं। गणतंत्र दिवस की सुबह शहीद ज्योति के अभिवादन से कार्यक्रम की शुरुआत होती है। प्रधानमंत्री सुबह ही इंडिया गेट पर शहीद ज्योति जलाकर उसका अभिनंदन करके राष्ट्र की ओर से शहीदों को श्रध्दांजलि अर्पित करते हैं। 

Also Read: 30 जनवरी शहीद दिवस पर निबंध

गणतंत्र दिवस पर 10 लाइन (10 Lines On Republic Day)

  1. इस दिन दिल्ली में विदेश से आए अतिथि हमारे राष्ट्र की ताकत और शौर्य को देखते हैं। 
  2. इस दिन दिल्ली में थल सेना, वायु सेना और नौ सेना द्वारा परेड निकाली जाती है। 
  3. सेना के जवान की विशेष टुकड़ी बैंड बजाकर अलग-अलग धुन निकालती है। 
  4. स्कूलों, कॉलेजों में भाषण, गायन, नृत्य का आयोजन किया जाता है। 
  5. राज्य स्तर पर भी नेताओं और अधिकारियों के द्वारा झंडा फहराया जाता है।
  6. इस दिन हम अपने महान नायकों को याद करते हैं। 
  7. गणतंत्र दिवस एकता और अखंडता का प्रतीक है।
  8. गणतंत्र हमें अपने कर्तव्य और अधिकार की आजादी देता है। 
  9. संविधान के प्रति सम्मान में यह दिवस मनाया जाता है।
  10. भारतीय सेना इस दिन अस्त्र-शस्त्र का प्रदर्शन करते हैं।

FAQ’s Essay On Gantantra Diwas in Hindi

Q. गणतंत्र दिवस का आयोजन कब किया जाता है?

Ans. 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस का आयोजन किया जाता है।

Q. गणतंत्र दिवस के दिन क्या हुआ था?

Ans. गणंतंत्र दिवस के दिन भारत का संविधान लागू हुआ था।

Q. गणतंत्र दिवस के दिन लाल किले पर झंडा कौन फहराता है?

Ans. भारत के राष्ट्रपति (President) गणतंत्र दिवस के दिन लाल किले पर झंडा फहराता है।

Q. स्वतंत्रता दिवस के दिन लाल किले पर झंडा कौन फहराता है?

Ans. भारत के प्रधानमंत्री (Prime minister) स्वतंत्रता दिवस के दिन लाल किले पर झंडा फहराते है।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद लेख www.easyhindi.in पर पढ़ सकते हैं। जिसमे केंद्र व राज्य सरकार की लाभप्रद योजनाए, नरेगा, श्रमिक कार्ड, राशन कार्ड, स्कॉलरशिप एवं उत्सव, पर्व-त्योहार की सटीक जानकारी दी जाती है।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja