गणतंत्र दिवस पर देशभक्ति गीत | Desh bhakti Geet Hindi writing

Desh bhakti Geet writing in Hindi .
By | जनवरी 23, 2023
Desh bhakti Geet Hindi writing

Desh bhakti Geet Hindi writing:- गणतंत्र दिवस हर साल 26 जनवरी को पूरे देश में बड़े हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता है। Republic Day की तैयारी में पूरा भारत और भारतवासी जोरो शोरो से जुट जाते है। 26 जनवरी की रोनक देखते ही बनती है। सभी स्कूलों और दफ्तरो में में बड़े ही जोश के साथ Republic Day का फेस्टिवल मनाया जाता है। देश भक्ति से भरें गाने इस दिन सुनने और सुनाने का आनंद ही कुछ और होता है। क्या आप भी आने वाले गणतंत्र दिवस के लिए गाने की खोज कर रहे है? क्या आप भी अपने दफ्तर या स्कूल में Republic Day के गाने पर प्रस्तुति देना चाह रहे है पर गाने कहां से मिले और कैसे डाउनलोड करें, आपको समझ नहीं आ रहा है ?

क्या आप गणतंत्र दिवस के गानों के बोल सर्च कर रहे है ? तो अपकी सभी खोज का जवाब इस लेख में हम लेकर आए है। इस लेख में हम आपको Patriotism से भरे गानों के बारें में तो बताएंगे ही इसके साथ ही हम आपको गाने के लिरिक्स साथ ही गानों के कैसे Download कर सकते है उसकी लिंक आपके साथ Share करेंगे। इस लेख में गणतंत्र दिवस पर देश भक्ति गाने के साथ ही,Gantantra Diwas songs lyrics in Hindi, गणतंत्र दिवस पर देश भक्ति गीत,देश भक्ति गानो के बोल सब कुछ आपको मिल जाएगा। अगर आप देश भक्ति के लिए बेहतरीन गानों के साथ ही उनके लिरिक्स भी ढ़ूंड रहे है तो ये लेख आपकी काफी मदद करेगा। इस लेख को अंत तक पढ़े और देशभक्ति के गानों की खोज को विराम दें।

Desh bhakti Geet writing in Hindi

Republic Day 2023Similar Content
26 जनवरी 2023Click Here
26 जनवरी 2023 के मुख्य अतिथिClick Here
गणतंत्र दिवस पर निबंध हिंदी में Click Here
गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता हैClick Here
26 जनवरी पर भाषण हिंदी में Click Here
Republic Day Status In HindiClick Here
गणतंत्र दिवस पर भाषण हिंदी मेंClick Here
गणतंत्र दिवस पर कविता हिंदी मेंClick Here
गणतंत्र दिवस 2023 पर हिंदी शायरीClick Here
गणतंत्र दिवस पर देशभक्ति गीतClick Here

गणतंत्र दिवस पर देश भक्ति गीत 

  • ऐ मेरे वतन के लोगों

ऐ मेरे वतन के लोगों’ को चीन-भारत युद्ध में मारे गए भारतीय सैनिकों के सम्मान में लिखा गया था। प्रसिद्ध पार्श्व गायिका लता मंगेशकर ने इस गीत को आवाज दी है और इसे सच्ची भारतीय भावना के साथ गाया है।

  • वंदे मातरम

‘वंदे मातरम’ भारत का राष्ट्रीय गीत है, जिसे बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय ने रचा है। गीत के बोल बंगाली और संस्कृत दोनों शब्दों को जोड़ते हैं। 

  • सारे जहान से अच्छा

‘सारे जहान से अच्छा’ उर्दू कवि मुहम्मद इकबाल द्वारा लिखी गई एक प्रसिद्ध कविता है। ग़ज़ल शैली में लिखे जाने के बावजूद, यह कविता ब्रिटिश शासन के लिए विरोध का गान बन गई। यै काफी पुराना गीत है फिर भी आज भीन उसी भक्ति और ऊर्जा के साथ संजोया और गाया जाता है। इस गीत को “तराना-ए-हिंदी” या “हिंदुस्तान के लोगों का गान” के रूप में जाना जाता है।

  • ऐ मेरे प्यारे वतन

‘ऐ मेरे प्यारे वतन’ फिल्म ‘काबुलीवाला’ का एक क्लासिक देशभक्ति गीत है। मन्ना डे द्वारा गाया गया, यह गीत हमें हमारे राष्ट्र की याद दिलाता है, खासकर उन लोगों द्वारा जो लंबे समय से दूर रह रहे हैं।

ऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी कसम

  • ऐ वतन ऐ वतन
  • ऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी कसम’ प्रेम धवन द्वारा लिखित और रचित एक महान समर्पित गीत है। वास्तव में देशभक्ति गीत, यह हमें स्वतंत्रता-पूर्व युग में वापस ले जाता है जो हमें लाखों लोगों द्वारा किए गए बलिदान की याद दिलाता है।
  • मेरा रंग दे बसंती चोल

‘मेरा रंग दे बसंती चोला’ बॉलीवुड की ऐतिहासिक जीवनी फिल्म ‘द लीजेंड ऑफ भगत सिंह’ से है, जो स्वतंत्रता सेनानी भगत सिंह के जीवन पर आधारित है, जिन्होंने भारत की स्वतंत्रता के लिए लड़ाई लड़ी थी। यह देशभक्ति गीत गणतंत्र दिवस पर देशभक्ति गीतों की सूची में ना आए ऐसा हो ही नहीं सकता।

  • कल की बातें

‘कल की बातें’ सच्ची देशभक्ति को दर्शाने वाला एक लोकप्रिय गीत है। यह मशहूर गाना 1960 में रिलीज हुई फिल्म ‘हम हिंदुस्तानी’ का है। हालांकि एक पुराना गीत, यह अभी भी पूरे भारत में देशभक्ति के लिए फेमस है और गणतंत्र दिवस पर कई गीतों के बीच बजाया जाता है।

READ  महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं | Maha Shivratri wishes in Hindi
  • मां तुझे सलाम

‘मां तुझे सलाम’ एल्बम ‘वंदे मातरम’ के देशभक्ति गीतों में से एक है जो वर्ष 1997 में भारत की स्वतंत्रता की 50 वीं वर्षगांठ का सम्मान करने के लिए जारी किया गया था। अत्यधिक लोकप्रिय और प्रभावशाली, यह गीत एक ऐसा है जो बड़े पैमाने पर सभी राष्ट्रीय त्योहारों पर बजाया जाता है और गणतंत्र दिवस पर तो खास तौर पर बजाता जाता है।

  • फिर भी दिल है हिंदुस्तानी

‘फिर भी दिल है हिंदुस्तानी’ एक हल्का पेप्पी नंबर है जो उच्च ऊर्जावान तरीके से देशभक्ति का जोश दिलों में भरता है। उदित नारायण द्वारा गाया गया यह गाना हर श्रोता का मन मोह लेता है।

  • मेरे देश की धरती

‘मेरे देश की धरती’ साल 1967 में रिलीज हुई देशभक्ति फिल्म ‘उपकार’ का एक खूबसूरत और जीवंत देशभक्ति गीत है। यह गीत अपने शासनकाल के दौरान एक हिट था और अभी भी एक लोकप्रिय विकल्प है।

Gantantra Diwas songs lyrics in Hindi 

ऐ मेरे वतन के लोगों

ऐ मेरे वतन के लोगों

तुम खूब लगा लो नारा

ये शुभ दिन है हम सब का

लहरा लो तिरंगा प्यारा

पर मत भूलो सीमा पर

वीरों ने है प्राण गँवाए

कुछ याद उन्हें भी कर लो

जो लौट के घर न आए

ऐ मेरे वतन के लोगों

ज़रा आँख में भर लो पानी

जो शहीद हुए हैं उनकी

ज़रा याद करो कुर्बानी

जब घायल हुआ हिमालय

खतरे में पड़ी आज़ादी

जब तक थी साँस लड़े वो

फिर अपनी लाश बिछा दी

संगीन पे धर कर माथा

सो गए अमर बलिदानी

जो शहीद हुए हैं उनकी

ज़रा याद करो कुर्बानी

जब देश में थी दिवाली

वो खेल रहे थे होली

जब हम बैठे थे घरों में

वो झेल रहे थे गोली

थे धन्य जवान वो अपने

थी धन्य वो उनकी जवानी

जो शहीद हुए हैं उनकी

ज़रा याद करो कुर्बानी

कोई सिख कोई जाट मराठा

कोई गुरखा कोई मदरासी

सरहद पे मरने वाला

हर वीर था भारतवासी

जो ख़ून गिरा पर्वत पर

वो ख़ून था हिन्दुस्तानी

जो शहीद हुए हैं उनकी

ज़रा याद करो कुर्बानी

थी ख़ून से लथ-पथ काया

फिर भी बन्दूक उठाके

दस-दस को एक ने मारा

फिर गिर गए होश गँवा के

जब अंत-समय आया तो

कह गए के अब मरते हैं

खुश रहना देश के प्यारों

अब हम तो सफर करते हैं

क्या लोग थे वो दीवाने

क्या लोग थे वो अभिमानी

जो शहीद हुए हैं उनकी

ज़रा याद करो कुर्बानी

तुम भूल न जाओ उनको

इस लिए कही ये कहानी

जो शहीद हुए हैं उनकी

ज़रा याद करो कुर्बानी

जय हिंद जय हिंद की सेना

जय हिंद जय हिंद की सेना

जय हिंद, जय हिंद, जय हिंद, जय हिंद

वन्दे मातरम्

वन्दे मातरम्

सुजलां सुफलां मलयजशीतलाम्

शस्यशामलां मातरम् ।

शुभ्रज्योत्स्नापुलकितयामिनीं

फुल्लकुसुमितद्रुमदलशोभिनीं

सुहासिनीं सुमधुर भाषिणीं

सुखदां वरदां मातरम् ।। १ ।।

वन्दे मातरम् ।

कोटि-कोटि-कण्ठ-कल-कल-निनाद-कराले

कोटि-कोटि-भुजैर्धृत-खरकरवाले,

अबला केन मा एत बले ।

बहुबलधारिणीं नमामि तारिणीं

रिपुदलवारिणीं मातरम् ।। २ ।।

वन्दे मातरम् ।

तुमि विद्या, तुमि धर्म

तुमि हृदि, तुमि मर्म

त्वं हि प्राणा: शरीरे

बाहुते तुमि मा शक्ति,

हृदये तुमि मा भक्ति,

तोमारई प्रतिमा गडि

मन्दिरे-मन्दिरे मातरम् ।। ३ ।।

वन्दे मातरम् ।

त्वं हि दुर्गा दशप्रहरणधारिणी

कमला कमलदलविहारिणी

वाणी विद्यादायिनी, नमामि त्वाम्

नमामि कमलां अमलां अतुलां

सुजलां सुफलां मातरम् ।। ४ ।।

वन्दे मातरम् ।

श्यामलां सरलां सुस्मितां भूषितां

धरणीं भरणीं मातरम् ।। ५ ।।वन्दे मातरम् ।।

सारे जहाँ से अच्छा

सारे जहाँ से अच्छा, हिन्दोस्तां हमारा

हम बुलबुले हैं इसकी, वो गुलसितां हमारा

गुरबत में हों अगर हम, रहता है दिल वतन में

समझो वहीं हमें भी, दिल हो जहाँ हमारा, सारे …

पर्वत हो सबसे ऊँचा, हमसाया आसमाँ का

वो संतरी हमारा, वो पासवां हमारा, सारे …

गोदी में खेलती हैं, जिसकी हज़ारों नदियां

गुलशन है जिसके दम से, रश्क-ए-जिनां हमारा

सारे …

ऐ आब-ए-रौंद-ए-गंगा!  वो दिन है याद तुझको

उतरा तेरे किनारे, जब कारवां हमारा, सारे …

मजहब नहीं सिखाता, आपस में बैर रखना

हिन्दी हैं हम वतन हैं, हिन्दोस्तां हमारा, सारे …

यूनान, मिस्र, रोमां, सब मिट गए जहाँ से

अब तक मगर है बाकी, नाम-ओ-निशां हमारा,

सारे …

READ  बालिका दिवस पर शायरी | Balika Diwas Shayari in Hindi 

कुछ बात है की हस्ती, मिटती नहीं हमारी

सदियों रहा है दुश्मन, दौर-ए-जहाँ हमारा, सारे …

‘इक़बाल’ कोई मरहूम, अपना नहीं जहाँ में

मालूम क्या किसी को, दर्द-ए-निहां हमारा, सारे …

ऐ मेरे प्यारे वतन

ऐ मेरे प्यारे वतन, ऐ मेरे बिछड़े चमन

तुझ पे दिल क़ुरबान

तू ही मेरी आरज़ू, तू ही मेरी आबरू

तू ही मेरी जान

(तेरे दामन से जो आए उन हवाओं को सलाम

चूम लूँ मैं उस ज़ुबाँ को जिसपे आए तेरा नाम ) – २

सबसे प्यारी सुबह तेरी

सबसे रंगीं तेरी शाम

तुझ पे दिल क़ुरबान …

(माँ का दिल बनके कभी सीने से लग जाता है तू

और कभी नन्हीं सी बेटी बन के याद आता है तू ) – २

जितना याद आता है मुझको

उतना तड़पाता है तू

तुझ पे दिल क़ुरबान …

(छोड़ कर तेरी ज़मीं को दूर आ पहुंचे हैं हम

फिर भी है ये ही तमन्ना तेरे ज़र्रों की क़सम ) – २

हम जहाँ पैदा हुए 

उस जगह पे ही निकले दम

तुझ पे दिल क़ुरबान …

ऐ वतन ऐ

ऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी क़सम,

तेरी राहों में जां तक लुटा जायेंगे ।

फूल क्या चीज़ है तेरे कदमों पे हम,

भेंट अपने सरों की चढ़ा जायेंगे ।।

ऐ वतन ऐ वतन ।।

कोई पंजाब से कोई महाराष्ट्र से,

कोई यूपी से है कोई बंगाल से ।

तेरी पूजा की थाली में लाये हैं हम,

फूल हर रंग के आज हर डाल से ।।

नाम कुछ भी सही पर लगन एक है,

जोत से जोत दिल की जगा जायेंगे ।

ऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी क़सम,

तेरी राहों में जां तक लुटा जायेंगे ।।

ऐ वतन ऐ वतन ।।

तेरी जानिब उठी जो कहर की नज़र,

उस नज़र को झुक, के ही दम लेंगे हम ।

तेरी धरती पे है जो कदम ग़ैर का,

उस कदम का निशां तक मिटा देंगे हम ।।

जो भी दीवार आयेगी अब सामने,

ठोकरों से उसे हम गिरा जायेंगे ।

ऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी क़सम,

तेरी राहों में जां तक लुटा जायेंगे ।।

ऐ वतन ऐ वतन ।।

ऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी क़सम,

तेरी राहों में जां तक लुटा जायेंगे ।

फूल क्या चीज़ है तेरे कदमों पे हम,

भेंट अपने सरों की चढ़ा जायेंगे ।।

ऐ वतन ऐ वतन ।।

देश भक्ति गानो के बोल 

मेरा रंग दे…
मेरा रंग दे बसंती चोला माए रंग दे ।

मेरा रंग दे बसंती चोला माए रंग दे ।।

निकले हैं वीर जिया ले,

यूं अपना सीना ताने,

हस हँस के जान लुटाने,

आज़ाद सवेरा लाने ।

मर के कैसे जीते हैं,

इस दुनिया को बतलाने,

तेरे लाल चले हैं माए,

अब तेरी लाज बचाने ।।

आज़ादी का शोला,

बन के खून रगों में डोला ।।

मेरा रंग दे…

मेरा रंग दे बसंती चोला माये रंग दे ।

मेरा रंग दे बसंती चोला माये रंग दे ।।

दिन आज तो बड़ा सुहाना,

मौसम भी बड़ा सुनहरा ।

हम सर पे बाँध के आये,

बलिदानों का ये सेहरा ।।

बेताब हमारे दिल में,

इक मस्ती सी छायी है,

ऐ देश अलविदा तुझको,

कहने की घडी आई है ।

महकेंगे तेरी फिज़ा में हम,

बन के हवा का झोंका,

किस्मत वालों को मिलता,

ऐसे मरने का मौका ।

निकली है बरात,

सजा है इंक़लाब का डोला ।।

मेरा रंग दे

मेरा रंग दे बसंती चोला माये रंग दे ।

मेरा रंग दे बसंती चोला माये रंग दे ।।

मेरा रंग दे बसंती चोला रंग दे, रंग दे ।

रंग दे बसंती चोला माये रंग दे ।।

छोड़ो कल की बातें

छोड़ो कल की बातें, कल की बात पुरानी

नए दौर में लिखेंगे, मिल कर नई कहानी

हम हिन्दुस्तानी, हम हिन्दुस्तानी

आज पुरानी ज़ंजीरों को तोड़ चुके हैं

क्या देखें उस मंज़िल को जो छोड़ चुके हैं

चाँद के दर पर जा पहुंचा है आज ज़माना

नए जगत से हम भी नाता जोड़ चुके हैं

नया खून है नई उमंगें, अब है नई जवानी

हम हिन्दुस्तानी …

हमको कितने ताजमहल हैं और बनाने

कितने हैं अजंता हम को और सजाने

अभी पलटना है रुख कितने दरियाओं का

कितने पवर्त राहों से हैं आज हटाने

नया खून है नई उमंगें, अब है नई जवानी

READ  गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है? | 26 जनवरी का सम्पूर्ण इतिहास जाने

हम हिन्दुस्तानी …

आओ मेहनत को अपना ईमान बनायें

अपने हाथों को अपना भगवान बनायें

राम की इस धरती को गौतम की भूमी को

सपनों से भी प्यारा हिंदुस्तान बनायें

नया खून है नई उमंगें, अब है नई जवानी

हम हिन्दुस्तानी …

हर ज़र्रा है मोती आँख उठाकर देखो

माटी में सोना है हाथ बढ़ाकर देखो

सोने की ये गंगा है चांदी की यमुना

चाहो तो पत्थर से धान उगाकर देखो

नया खून है नई उमंगें, अब है नई जवानी

हम हिन्दुस्तानी …

मां तुझे सलाम

माँ तुझे सलाम,

वन्दे मातरम, वन्दे मातरम,

वन्दे मातरम वन्दे मातरम।।

यहाँ वहाँ सारा जहाँ देख लिया है,

कहीं भी तेरे जैसा कोई नहीं है,

अस्सी नहीं सौ दिन दुनिया घूमा है,

नहीं कहीं तेरे जैसा कोई नहीं,

मैं गया जहाँ भी,

बस तेरी याद थी,

जो मेरे साथ थी,

मुझको तड़पाती, रुलाती,

सबसे प्यारी तेरी सूरत,

प्यार है बस तेरा प्यार ही,

माँ तुझे सलाम,

वन्दे मातरम, वन्दे मातरम,

वन्दे मातरम वन्दे मातरम।।

तेरे पास ही मैं आ रहा हूँ,

अपनी बाहें खोल दे,

ज़ोर से मुझको गले लगा ले,

मुझको फिर वो प्यार दे,

तू ही जिंदगी है,

तू ही मेरी मोहब्बत है,

तेरे ही पैरों में जन्नत है,

तू ही दिल तू जा माँ,

माँ तुझे सलाम,

वन्दे मातरम, वन्दे मातरम,

वन्दे मातरम वन्दे मातरम।।

फिर भी दिल है हिंदुस्तानी

अपनी छतरी तुमको दे दे

कभी जो बरसे पानी

कभी नये पैकेट में बेचें

तुमको चीज़ पुरानी

फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी

फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी

फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी।

थोड़े अनाड़ी है, थोड़े खिलाड़ी

रुक-रुक के चलती है, अपनी गाड़ी

हमें प्यार चाहिए, और कुछ पैसे भी

हम ऐसे भी हैं, हम हैं वैसे भी

हम लोगो को समझ सको तो

समझो दिलबर जानी

उलटी-सीधी जैसी भी है

अपनी यही कहानी

थोड़ी हम में होशियारी है, थोड़ी है नादानी

थोड़ी हम में सच्चाई है, थोड़ी बेईमानी

फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी

फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी

फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी

आँखों में कुछ आँसू हैं, कुछ सपनें हैं

आँसू और सपने दोनों, ही अपने हैं

दिल दुखा है लेकिन, टूटा तो नहीं है

उम्मीद का दामन, छूटा तो नहीं है

हम लोगो को समझ सको तो

समझो दिलबर जानी

थोड़ी मजबूरी है लेकिन

थोड़ी है मनमानी

थोड़ी तू-तू मैं-मैं है और

थोड़ी खींचा-तानी

हम में काफ़ी बातें हैं जो

लगती हैं दीवानी

फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी

फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी

फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी

हम लोगों को समझ सको तो

समझो दिलबर जानी

जितना भी तुम समझोगे

उतनी होगी हैरानी

अपनी छतरी तुमको दे दे

कभी जो बरसे पानी

कभी नये पैकेट में बेचें

तुमको चीज़ पुरानी

फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी

फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी

फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी

मेरे देश की धरती | Desh bhakti Geet Hindi writing Mere Desh ki Dharti

मेरे देश की धरती सोना उगले,

उगले हीरे मोती,

मेरे देश की धरती।।

बैलों के गले में जब घुँघरू,

जीवन का राग सुनाते हैं,

ग़म कोस दूर हो जाते है,

खुशियों के कमल मुस्काते हैं,

सुन के रहट की आवाज़ें,

यूँ लगे कहीं शहनाई बजे,

आते ही मस्त बहारों के,

दुल्हन की तरह हर खेत सजे।

मेरे देश की धरती सोना उगले,

उगले हीरे मोती,

मेरे देश की धरती।।

जब चलते हैं इस धरती पर हल,

ममता अँगड़ाइयाँ लेती है,

क्यों ना पूजें इस माटी को,

जो जीवन का सुख देती है,

इस धरती पे जिसने जन्म लिया,

उसने ही पाया प्यार तेरा,

यहाँ अपना पराया कोई नही,

हैं सब पे है माँ उपकार तेरा।

मेरे देश की धरती सोना उगले,

उगले हीरे मोती,

मेरे देश की धरती।।

ये बाग़ हैं गौतम नानक का,

खिलते हैं अमन के फूल यहाँ,

गांधी सुभाष टैगोर तिलक,

ऐसे हैं चमन के फूल यहाँ,

रंग हरा हरिसिंह नलवे से,

रंग लाल है लाल बहादुर से,

रंग बना बसंती भगतसिंह,

रंग अमन का वीर जवाहर से।

मेरे देश की धरती सोना उगले,

उगले हीरे मोती,

मेरे देश की धरती।।

FAQ’s Desh bhakti Geet Hindi writing

Q. गणतंत्र दिवस को और किस नाम से देश में मनाया जाता है ?

Ans. गणतंत्र दिवस को देश में 26 जनवरी के नाम से भी मनाया जाता है।

Q. गणतंत्र दिवस किस लिए मनाया जाता है?

Ans. गणतंत्र दिवस के दिन देश का संविधान लागू हुआ था

Q. पहला गणतंत्र दिवस कब मनाया गया था ?

Ans.  26 जनवरी 1950 को पहला गणतंत्र दिवस मनाया गया था।

Q. पहला गणतंत्र दिवस जब मनाया गया था तब देश के राष्ट्रपति कौन था ?

Ans.जब पहला गणतंत्र दिवस मनाया गया था तब देश के राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद थे। 

Q. साल 2023 में कौन सा गणतंत्र दिवस मनाया जाएगा ?

Ans.  साल 2023 में 74 वां गणतंत्र दिवस मनाया जाएगा।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *