Republic Day 2024 | 75वें गणतंत्र दिवस का महत्व व तैयारियाँ

Republic Day 2024

75th Republic Day: भारत 2024 में अपना 75th गणतंत्र दिवस (Republic Day) मनाएगा 26 जनवरी 1950 को भारत में संविधान  (Constitution) लागू किया गया था। भारत ने 15 अगस्त, 1947 को ब्रिटिश प्रभुत्व से अपनी स्वतंत्रता प्राप्त की। 200 से अधिक वर्षों तक, ब्रिटिश ने देश पर शासन किया।  आजादी मिलने के बाद देश को सुचारू रूप से चलने के लिए संविधान की जरूरत थी। इसको ध्यान रखकर भारतीय संविधान की स्थापना के लिए एक अद्वितीय संवैधानिक संसद को चुना गया। 

डॉ. बी.आर अंबेडकर ने संविधान-मसौदा समिति का नेतृत्व किया। भारत का संविधान बनाते समय अन्य देशों के संविधानों पर भी विचार किया गया। आख़िरकार 166 दिन बाद भारतीय संविधान का निर्माण हुआ। गणतंत्र दिवस के के अवसर पर दिल्ली इंडिया गेट पर देश की राजधानी, नई दिल्ली, गणतंत्र दिवस (Gantantra Diwas) परेड की मेजबानी करती है, जिसे रक्षा मंत्रालय आयोजित करता है। 

यह इंडिया गेट से होते हुए रायसीना हिल तक राजपथ पर चलता रहता है। परेड में भारत की सांस्कृतिक, सामाजिक और सैन्य ताकत का प्रदर्शन किया जाता है। भारतीय सेना की नौ से बारह अलग-अलग बटालियनें पूरे राजचिह्न और आधिकारिक प्रतीक चिन्ह पहनकर नौसेना और वायु सेना के साथ मार्च करती हैं। हर वर्ष विभिन्न देशों से अतिथि वक्ता आमंत्रित किये  जाते हैं। आज के आर्टिकल में हम आपके साथ 75th Republic Day से जुड़ी सभी जानकारी जैसे- 26 जनवरी 2024 को कौन सा गणतंत्र दिवस है,गणतंत्र दिवस 2024 थीम, 26 Jan 2024 Republic Day in Hindi संबंधित जानकारी आपसे साझा करेंगे ताकि आपका ज्ञान बढ़ सके चलिए जानते हैं:-

26th January 2024 | Gantantra Diwas

गणतंत्र दिवस कब है? 75th Republic Day Kab Hai

आपको बता दें कि इस साल 26 जनवरी 2024 को 75वां गणतंत्र दिवस Republic Day का आयोजन किया जा रहा है। इस साल गणतंत्र दिवस गुरूवार के दिन मनाया जाएगा। 26 जनवरी 1950 को देश का संविधान लागू किया गया था, उसी के उपलक्ष्य में भारत देश के हर एक नागरिक के द्वारा गणतंत्र दिवस को बड़े ही उत्साह और उमंग के साथ मनाया जाता है। गणतंत्र का अर्थ है, जनता के द्वारा, जनता के लिए शासन 26 जनवरी 1950 को हमारे देश भारत को गणतंत्र देश के रूप में घोषित किया गया था। सभी भारतीय नागरिकों के द्वारा यह दिवस बिना भेदभाव के मनाया जाता है।

हम सभी देशवासियों को भारत का नागरिक होने का गर्व है। समाज में, हमारी अलग जाति, धर्म या कई अन्य चीजें हैं, जो हमें अलग करती हैं, लेकिन इसकी एक व्यापक तस्वीर यह है कि हम सभी भारतीय हैं। सभी भारतीयों के द्वारा एकजुट के रूप में गणतंत्र दिवस को मनाया जाता है। हमारे देश के महान स्वतंत्रता सेनानियों के द्वारा जो अपने मेहनत और संघर्ष की आहुति दी गई थी। उसके कारण ही भारत को पूर्ण स्वराज दिलाया गया। 

See also  गणतंत्र दिवस पर देशभक्ति गीत | Desh bhakti Geet Hindi writing
टॉपिक26 जनवरी 2024
लेख प्रकारआर्टिकल
साल2024
आवर्तीप्रतिवर्ष
लागू कब हुआ26 जनवरी 1950
चीफ गेस्टमिस्त्र के राष्ट्रपति
आयोजन स्थानराजपथ, दिल्ली
कौन सा गणतंत्र है75वां
क्यों मनाते हैंसंविधान निर्माण के उपलक्ष्य में
गणतंत्र दिवस का अन्य नाम26 जनवरी

26 जनवरी 2024 को कौन सा गणतंत्र दिवस है?

2024 में भारत अपना 75th गणतंत्र दिवस उमंग और उत्साह के साथ पूरे भारतवर्ष में मनाया जाएगाI 2024 के रिपब्लिक डे में भारत में फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों मुख्य अतिथि के तौर पर आमंत्रित किया।

गणतंत्र दिवस 2024 थीम (26th January Theme)

भारत का गणतंत्र दिवस प्रत्येक साल एक विशेष Theme के माध्यम से मनाया जाता हैं। 2024 में विकसित भारत और लोकतंत्र की जननी भारत भूमि रहेगी। राज्यों की झांकियों का चयन भी इसी थीम के आधार पर किया गया है।

26 Jan 2024 Republic Day in Hindi

भारत 2024 में अपना 75th रिपब्लिक डे धूमधाम और उत्साह के साथ मनाएगा इस बार रिपब्लिक डे पर फ्रांस के राष्ट्रपति  इमैनुएल मैक्रों को चीफ गेस्ट के रूप में आमंत्रित किया गया हैं। भारतीय संविधान को 26 जनवरी को लागू किया गया है इसके पीछे का प्रमुख कारण क्योंकि 1930 में इसी दिन भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने भारत को पूर्ण स्वराज घोषित किया था। भारत ने अपना पहला गणतंत्र दिवस 1950 को मनाया था। उस समय मुख्य अतिथि के तौर पर  राष्ट्रपति सुकर्णो (इंडोनेशिया) को आमंत्रित किया गया था तभी से भारत में गणतंत्र दिवस के दिन विदेशी राष्ट्र अध्यक्ष को आमंत्रित करने की परंपरा शुरू की गई जिसका पालन आज भी किया जा रहा हैं। गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर भारत के प्रधान मंत्री इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति पर पुष्पचक्र चढ़ाकर शहीदों का सम्मान करते हैं। उसके उपरांत लाल किले से देश को संबोधित करते हैं।

2024 का भारतीय गणतंत्र दिवस बहुत ही खास होने वाला है दिल्ली के  कर्तव्य पथ पर आयोजित गणतंत्र दिवस परेड में दिल्ली पुलिस की ओर से परेड में सिर्फ महिला पुलिसकर्मी शामिल होंगी। मार्चिंग दस्ते में कुल 194 महिला हेड कॉन्स्टेबल और महिला कॉन्स्टेबल हिस्सा लेंगी। इनका नेतृत्व IPS ऑफिसर श्वेता के सुगथन करेंगी। देश में महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने के लिए  यह फैसला किया गया है।  रिपब्लिक डे के अवसर पर राज्यों के द्वारा झांकी भी प्रस्तुत की जाती हैं। जो भारत के सांस्कृतिक विविधता को दर्शाते हैं।

गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है?

26th January Kyu Manai Jati Hai:- साल 1950 में भारत का संविधान (Constitution) लागू किया गया था। स्वतंत्र गणराज्य बनने और देश में कानून का राज स्थापित करने के लिए 26 नवंबर 1949 को संविधान सभा (constituent Assembly) ने संविधान अपनाया था। 26 जनवरी 1950 को संविधान को लोकतांत्रिक सरकार प्रणाली के साथ लागू किया गया। मतलब 2 साल 11 महीने 18 दिन बाद संविधान लागू हुआ था। इसी दिव भारत को पूर्ण गणतंत्र घोषित किया गया था। जानकारी के लिए बता दें कि इसी दिन पहली बार भारत का स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) मनाया गया था। 15 अगस्त 1947 को आजादी मिलने तक 26 जनवरी को ही स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) मनाया जाता था । 26 जनवरी 1930 को पूर्ण स्वराज घोषित करने की तारीख को महत्व देने के लिए 26 जनवरी 1950 को संविधान लागू किया गया और गणतंत्र दिवस घोषित किया गया । 

See also  Swami Vivekananda Thoughts : इन विचारों के साथ मनाएं इस साल की स्वामी विवेकानंद जयंती

गणतंत्र दिवस का महत्व | Importance of Gantantra Diwas

26 नवंबर 1949 को भारतीय संविधान सभा (Indian Constituent Assembly) द्वारा संविधान को अपनाने के बाद इसे 26 जनवरी, 1950 को लागू किया गया था। तारीख को इसलिए चुना गया था, क्योंकि यह पूर्ण स्वराज दिवस के साथ मेल खाता था। जब भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (Indian National Congress) ने ब्रिटिश शासन के विरोध में पूर्ण स्वराज की घोषणा की थी। लाहौर, Lahore (अब पाकिस्तान) में कांग्रेस के ऐतिहासिक वार्षिक सत्र में घोषणा की गई थी। जवाहरलाल नेहरू (JL Nehru) को अपने पिता मोतीलाल नेहरू (Motilal Nehru) से पदभार संभालने के लिए कांग्रेस का अध्यक्ष नियुक्त किया गया था, जिन्होंने भारत के लिए एक नए डोमिनियन स्टेटस संविधान का समर्थन किया था। 40 वर्षीय जवाहरलाल नेहरू ने अपने पिता के प्रस्ताव को खारिज कर दिया और ब्रिटिश शासन (British Rule) से पूरी तरह से अलग होने का तर्क दिया।

उन्हें बाल गंगाधर तिलक (Bal Gangadhar Tilak), सुभाष चंद्र बोस (Subhash Chandra Bose), अरबिंदो और बिपिन चंद्र पाल जैसे नेताओं का समर्थन प्राप्त था। प्रस्ताव पारित किया गया और कांग्रेस ने पूर्ण स्वराज के लिए जनवरी 1930 का अंतिम रविवार निर्धारित किया। स्वतंत्रता के बाद इस अहम तारीख को छोड़ा नहीं जा सकता था। इसलिए 26 तारीख को इस दिन मनाने के लिए चिंहित किया गया ।

Also Read: गणतंत्र दिवस पर भाषण हिंदी में

75वे गणतंत्र दिवस की तैयारियां?

दिल्ली में कर्तव्य पथ पर हर साल आयोजित होने वाले गणतंत्र दिवस परेड को देखने के लिए दिल्ली ही नहीं, बल्कि दिल्ली से बाहर के लोग भी पहुंचते हैं। ऐसे में गणतंत्र दिवस परेड (republic day parade) के लिए दिल्ली में सेना के जवानों की तैयारी चल रही हैं। सुबह जिस वक्त 20 मीटर तक भी कुछ दिखाई नहीं पड़ता उस वक्त परेड में शामिल होने वाली कई टुकडियां अपनी तैयारी में जुट जाती हैं। कोहरा, ठंड की वजह से दिल्ली का पारा भले ही नीचे है, लेकिन जवानों का जोश हमेशा हाई रहता है। अपनी-अपनी टुकड़ियों के साथ जवान सुबह-सुबह यहां पहुंच जाते हैं और उसके बाद परेड की रिहर्सल शुरू होती है। आगामी समारोह को लेकर तैयारियां जोरों-शोरों से हो रही हैं। विजय चौक पर परेड की रिहर्सल चल रही है, जहां कड़ाके की ठंड में जवानों को रिहर्सल करते हुए देखा जा सकता है। 

See also  UNICEF Day 2022 | यूनिसेफ दिवस कब, क्यों, कैसे मनाया जाता है।

75वां गणतंत्र दिवस को कैसे मनाया जाएगा?

हर साल Gantantra Diwas (Republic Day) के मौके पर पूरे देश में भव्य आयोजन किया जाता है। इस दिन देश के हर सरकारी और प्राइवेट कार्यालयों में झंडा रोहण किया जाता है। स्कूल, कॉलेजों और हर शिक्षण संस्थान में कई तरह के आयोजन किये जाते हैं। बच्चों को इस दिन के महत्व के बारे में जानकारी दी जाती है। राष्ट्रीय त्यौहार के इस मौके पर हर साल विदेश के नेता को चीफ गेस्ट के तौर पर बुलाया जाता है। गणतंत्र दिवस के मौके पर विदेशी चीफ गेस्ट (Chief Guest) को आमंत्रित करने की परंपरा रही है। वहीं इस बार 26 जनवरी 2024 को होने वाले गणतंत्र दिवस के मौके पर इजिप्ट (Egypt) यानि मिस्त्र के राष्ट्रपति अब्देल फतेह अल सिसी (President Abdel Fattah El Sisi) बतौर चीफ गेस्ट के रूप में शामिल होंगे। 

FAQ’s Gantantra Diwas 2024

Q. 2024 में कौन सा गणतंत्र दिवस मनाया जा रहा है?

Ans. 2024 में भारत अपना 75वा गणतंत्र दिवस मनाएगा। 

Q, 26 जनवरी को कितने बजे झंडा फहराया जाता है?

Ans. सुबह 8:30 से पहले या 11 बजे बाद ध्वजारोहण किया जाता हैं। 

Q. 26 जनवरी कैसे बनाते हैं?

Ans. यह तो हम सब जानते ही हैं कि गणतंत्र दिवस इसलिए मनाया जाता है क्योंकि इस दिन हमारे देश का संविधान लागू किया गया था। साल 1950 में भारत को एक गणतंत्र राष्ट्र घोषित किया गया था।

Q. पहला भारतीय गणतंत्र दिवस कब मनाया गया था?

Ans. पहला भारतीय गणतंत्र दिवस गणतंत्र दिवस 26 जनवरी, 1950 को मनाया गया था।

Q. गणतंत्र दिवस पर ध्वज रोहण कौन करता है?

Ans. राष्ट्रपति द्वारा गणतंत्र दिवस पर ध्वज रोहण किया जाता है।

Q. इस साल 2024 में कौन सा गणतंत्र दिवस मनाया जाएगा? 

Ans.इस साल 2024 में 75वां गणतंत्र दिवस मनाया जाएगा ।

Q. गणतंत्र दिवस 2024 के मौके पर चीफ गेस्ट कौन होंगे?

Ans. मिस्त्र के राष्ट्रपति अब्देल फतेह अल सिसी इस साल के चीफ गेस्ट होंगे।

Q. गणतंत्र दिवस 2024 किस दिन मनाया जाएगा?

Ans. गुरूवार को इस साल गणतंत्र दिवस 2024 मनाया जाएगा।

Q. गणतंत्र दिवस को और क्या कहते हैं? 

Ans. गणतंत्र दिवस को कई लोगों द्वारा 26 जनवरी भी कहा जाता है। 

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja