विश्व तंबाकू निषेध दिवस 2023 | World No Tobacco Day in Hindi

विश्व तंबाकू निषेध दिवस 2023: तंबाकू के उपयोग के कारण होने वाली तकलिफें और खूब सारी बुराइयों के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए हर साल 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया जाता है। जब हम तम्बाकू के बारे में बात करते हैं तो सिगरेट को लेकर विचार हमारे दिमाग में ना आए ऐसा हो नहीं सकता है। वहीं कई लोग तंबाकू को कई अन्य रूपों में सेवन करते हैं, जिनमें चबाना, सूंघना, डुबकी, स्नूस और घुलने योग्य तम्बाकू शामिल हैं। तंबाकू के सेवन से होने वाले नुकसान के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए हर साल विश्व तंबाकू दिवस मनाया जाता है जिसमें  व्यक्ति, सरकारी और गैर-सरकारी संगठन  और विविध क्षेत्रों के हितधारक इस अभियान के हिस्से के रूप में एक साथ आते हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मनाए जाने वाले इस दिवस पर, डब्ल्यूएचओ और अन्य राज्य और सार्वजनिक स्वास्थ्य संगठन दुनिया में तंबाकू की खपत को कम करने और नियंत्रित करने के लिए नीतिगत बदलावों की अपील और वकालत करते हैं। World No Tobacco Day in Hindi 2023 लेख में हम आपके साथ विश्व तंबाकू दिवस पर चर्चा करने जा रहे है, जिसमें हम आपको विश्व तंबाकू दिवस क्यों मनाया जाता है? World No Tobacco Day 2023,विश्व तंबाकू निषेध दिवस,विश्व तंबाकू निषेध दिवस का महत्‍व,विश्‍व तंबाकू निषेध दिवस’ की थीम,विश्व तंबाकू निषेध दिवस का इतिहास के बारे में जानकारी देंगे। इस लेख को पूरा पढ़े और इस दिवस के बारे में विस्तार से जानें।

World No Tobacco Day 2023

टॉपिकविश्व तंबाकू दिवस
लेख प्रकारआर्टिकल
साल2023
विश्व तंबाकू दिवस31 मई
वारबुद्धवार
अवर्तीहर साल
कहां मनाया जाता हैदुनिया भर में
कब से मनाया जा रहा है7 अप्रैल 1988
क्यों मनाया जाता हैतंबाकू के दुष्प्रभाव को लेकर जागरूकता बढाने के लिए
विश्व तंबाकू दिवस 2023 थीमWe need food, not tobacco

Also Read: गुरु अर्जुन देव जी की जीवन परिचय 2023

विश्व तंबाकू दिवस क्यों मनाया जाता है?

तंबाकू की खपत जिस तेजी से बढ़ रही है, उसे देखकर हैरानी होती है। तम्बाकू का न केवल शरीर और स्वास्थ्य पर विनाशकारी प्रभाव पड़ता है, बल्कि यह व्यक्ति के जीवन को भी पूरी तरह से बर्बाद कर देता है। दुनिया भर के कई देशों में तंबाकू पर प्रतिबंध लगाने की मांग बढ़ रही थी। विश्व तंबाकू दिवस मनाने के पीछे का मकसद लोगों का ध्यान तंबाकू के दुष्प्रभावों की ओर आकर्षित करना था। दुनिया भर के लोगों से 24 घंटे के लिए किसी भी रूप में तंबाकू का सेवन करने से परहेज करने का आग्रह किया जाता है। यह लोगों को लंबे समय में तम्बाकू के उपयोग को छोड़ने या कम से कम कम करने के लिए प्रोत्साहित करने और समर्थन करने वाला दिन है। यही कारण है जो इसे पूरी दुनिया द्वारा 31 मई को मनाया जाता है। देश को

See also  Ladli Behna Yojana Application Status कैसे करें चेक? रिजेक्ट हुआ या हो गया स्वीकार? अभी जानें

विश्व तंबाकू निषेध दिवस

हर साल विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाता है। उनका लक्ष्य तंबाकू के उपयोग के जोखिमों के बारे में जागरूकता फैलाना है और हम दुनिया को तंबाकू मुक्त कैसे बना सकते हैं इस पर विचार विमर्श करना है। तंबाकू से होने वाली बीमारियों से हर साल करीब 60 लाख लोगों की मौत होती है। और यह संख्या 2030 तक बढ़कर 8 मिलियन से अधिक होने का अनुमान लगाया जा रहा है। लेकिन इस आंकडे कि कोई गारंटी नहीं है। सतत विकास एजेंडा का उद्देश्य गैर-संक्रामक रोगों से होने वाली मौतों को एक तिहाई तक कम करना है। तम्बाकू से कई बड़ी बीमारियाँ जुड़ी हुईम हैं, इसलिए यदि हम लक्ष्य तक पहुँचते हैं, तो 2030 जश्न मनाने का साल होगा यह न केवल हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होगा, बल्कि हमारे बटुए के आकार के लिए भी।हम आपको बता दें कि औसत धूम्रपान करने वाला सालाना व्यक्ति सिगरेट पर करीब 4,000 डॉलर खर्च कर देता है।इन पैसों से आप उन सभी शानदार छुट्टियों के बारे में सोच सकते है अगर आप तंबाकू का सेवन ना करें तो आप उस पैसे से आनंद ले सकते हैं। क्यों ना विश्व तम्बाकू निषेध दिवस को एक उज्जवल और कम धुएँ वाले भविष्य के लॉन्चिंग पैड के रूप में उपयोग किया जाए । उल्लेखनिय है कि  तम्बाकू के पौधे की पत्तियों को संसाधित कर सिगरेट, सिगार, पाइप और पाउडर बनाया जाता है। शीर्ष 10 तंबाकू उत्पादक देश चीन, भारत, अमेरिका, ब्राजील, इंडोनेशिया, अर्जेंटीना, मलावी, जिम्बाब्वे, तंजानिया और पाकिस्तान हैं। तम्बाकू का धुआँ कई प्रकार के कैंसर और कई श्वसन रोगों से सीधे जुड़ा हुआ है। तंबाकू के उपयोग और खेती के दुष्प्रभावों के बारे में जन जागरूकता बढ़ाने के लिए प्रतिवर्ष 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया जाता है।

Also Read: World Mother’s Day in Hindi 2023

विश्व तंबाकू निषेध दिवस का महत्‍व

विश्व तंबाकू निषेध दिवस के आयोजन का अत्यधिक महत्व है। चूंकि यह तम्बाकू और उसके बाद के प्रभावों जैसे महत्वपूर्ण विषय को संबोधित करता है, इसलिए इसे अधिक व्यापक रूप से पहचाना और देखा जाना चाहिए। तम्बाकू के कारण लगभग 80% मौतें निम्न और मध्यम आय वाले देशों में होती हैं। दूसरे शब्दों में अगर कहा जाए तो सबसे गरीब लोग सबसे अधिक नकारात्मक रूप से प्रभावित होते हैं। नशे की लत के कारण जो पैसा शिक्षा, भोजन या स्वास्थ्य देखभाल पर खर्च किया जा सकता है, वह तंबाकू में चला जाता है। सालों से यह उत्पादकता कम करता है और स्वास्थ्य देखभाल की लागत को बढ़ाता है। यह किसी भी आय के लिए एक सुंदर तस्वीर नहीं है और यह कम भाग्यशाली लोगों को गरीब रखने का एक निश्चित तरीका है। यह दिन आवश्यक है क्योंकि यह कई मामलों पर ध्यान आकर्षित करता है। यह धूम्रपान और सेकेंड हैंड धूम्रपान के परिणामों और धूम्रपान करने वाले के फेफड़ों पर इसके प्रभावों पर चर्चा करता है। यह हर साल तंबाकू के सेवन से होने वाली मौतों की संख्या, प्रभावित लोगों की संख्या और ठीक होने के बारे में खुले तौर पर बात करता है।यह दिन महत्वपूर्ण चिंताओं पर भी ध्यान केंद्रित करता है कि कैसे तम्बाकू का उपयोग तपेदिक और कैंसर जैसी अन्य हानिकारक बीमारियों से जुड़ा हुआ है। इसमें विभिन्न आयु वर्ग के लोगों पर तम्बाकू से होने वाले नुकसान की मात्रा पर चर्चा की गई है।

See also  Karwa Chauth 2023 | करवा चौथ को चाँद कब दिखेगा? जानिए चंद्रोदय का समय और शुभ संयोग

Also read: गुरु अर्जुन देव शहीदी दिवस 2023

विश्‍व तंबाकू निषेध दिवस’ की थीम

31 मई 2023 को WHO और दुनिया भर के सार्वजनिक स्वास्थ्य चैंपियन विश्व तंबाकू निषेध दिवस (WNTD) मनाने के लिए एक साथ आएंगे। इस वर्ष की थीम है “(We need food, not tobacco)हमें भोजन की आवश्यकता है, तम्बाकू की नहीं”। 2023 के वैश्विक अभियान का उद्देश्य तंबाकू किसानों के लिए वैकल्पिक फसल उत्पादन और विपणन के अवसरों के बारे में जागरूकता बढ़ाना और उन्हें टिकाऊ, पौष्टिक फसलें उगाने के लिए प्रोत्साहित करना है। इसका उद्देश्य टिकाऊ फसलों के साथ बढ़ते तंबाकू को बदलने के प्रयासों में हस्तक्षेप करने के तंबाकू उद्योग के प्रयासों को उजागर करना भी होगा, जिससे वैश्विक खाद्य संकट में योगदान होगा।

Also Read: राजा राममोहन राय जीवन परिचय 2023

विश्व तंबाकू निषेध दिवस का इतिहास | World No Tobbacu Day 2023

विश्व तंबाकू निषेध दिवस की स्थापना 1987 में विश्व स्वास्थ्य संगठन के सदस्य राज्यों द्वारा की गई थी। इसका लक्ष्य था “तंबाकू महामारी और इसके कारण होने वाली मौतों और बीमारियों के बारे में वैश्विक जागरूकता बढ़ाना। 7 अप्रैल 1988 को विश्व स्वास्थ्य सभा ने एक प्रस्ताव जारी कर 7 अप्रैल को “विश्व धूम्रपान निषेध दिवस” घोषित किया। WHO ने यह फैसला केवल लोगों को कम से कम 24 घंटे तक तंबाकू का सेवन रोकने के लिए प्रेरित करने के लिए लिया था।संकल्प की पुष्टि के बाद वैश्विक स्वास्थ्य निकाय ने एक और प्रस्ताव पारित किया जिसमें घोषणा की गई कि 31 मई को ‘विश्व तंबाकू निषेध दिवस’ के रूप में मनाया जाएगा। 2008 में WHO ने तंबाकू के बारे में किसी भी तरह के विज्ञापन या प्रचार पर प्रतिबंध लगा दिया था। विश्व तम्बाकू निषेध दिवस स्वास्थ्य और सामुदायिक कार्यकर्ताओं के लिए बाहर जाने और लोगों को धूम्रपान छोड़ने में मदद करने के लिए एक प्रमुख दिन बन गया।विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट है कि तंबाकू के सेवन से हर साल 80 लाख लोगों की मौत होती है। तम्बाकू श्वसन संबंधी विकारों जैसे क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज, तपेदिक और अन्य फेफड़ों के रोगों का प्रमुख कारण है। 2008 में WHO ने तंबाकू के किसी भी प्रकार के विज्ञापन या प्रचार पर प्रतिबंध लगा दिया था। दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले देश के रूप में, चीन सिगरेट उद्योग में अग्रणी है। 2014 में दुनिया में कुल सिगरेट का 30% से अधिक उत्पादन और उपभोग चीन में किया गया था।

See also  Christmas Day Special 2023 | क्रिसमस डे को कैसे बनाएं खास,जाने रोचक तथ्य

Also read: Shani Jayanti in Hindi 2023

FAQ’s विश्व तंबाकू निषेध दिवस 2023

Q. विश्व तंबाकू निषेध दिवस कब मनाया जाता है?

Ans.लोगों को धूम्रपान की खतरनाक आदत से बचाने के लिए हर साल 31 मई को विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया जाता है।

Q. साल 2023 के लिए विश्व तंबाकू निषेध दिवस थीम क्या तय की गई है?

Ans.साल 2023 के लिए विश्व तंबाकू निषेध दिवस थीम  We need food, not tobacco रखी गई हैं।

Q. कब और किसके द्वारा हर साल विश्व तंबाकू दिवस को घोषित किया गया था

Ans.सन 1987 में विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा विश्व तंबाकू दिवस मनाने कि घोषण की गई थी, हम आपको बता दें कि पहली बार यह 7 अप्रैल 1988 में मनाया गया था, इसके बाद हर साल यह 31 मई को मनाया जाने लगा।

Q. विश्व तंबाकू निषेध दिवस का उद्देश्य क्या है?

Ans.शुरुआत में विश्व तंबाकू निषेध दिवस का उद्देश्य लोगों को 24 घंटे तंबाकू या निकोटीन उत्पादों का उपयोग करने रोकना था। वहीं हर साल इसको मनाने के पीछे का कारण लोगों में तंबाकू के दुष्प्रभावों के बारे में जागरूकता फैलाना हैं।

Q तंबाकू के सेवन से कौन कौन सी बीमारियां होती है?

Ans. कैंसर ,सूंघने और चखने की शक्ति खत्म,बदबूदार बाल,कोलेस्ट्रॉल,बांझपन,अस्थमा और दिल का दौरा यह सभी बीमारियां तंबाकू के सेवन से होती हैं।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja