National Education Day 2023 | राष्ट्रीय शिक्षा दिवस कब मनाया जाता है, जाने (History, Significance, and Themes)

History, Significance, and Themes

राष्ट्रीय शिक्षा दिवस  2023 : National Education Day:- भारत में हर साल 11 नवंबर को मनाया जाता है। National Education Day मौलाना अब्दुल आजाद कलाम के जयंती के दिन मनाया जाता हैं। मौलाना अब्दुल आजाद कलाम भारत के पहले शिक्षा मंत्री (First Education Minister ) थे। उन्होंने भारत में शिक्षा के क्षेत्र में अपना बहुमूल्य योगदान दिया था।  उनको याद करने के लिए ही राष्ट्रीय शिक्षा दिवस Celebrate किया जाता हैं। सन 2008 में भारत के मानव संसाधन मंत्रालय ने आधिकारिक तौर घोषणा किया कि’ 11 नवंबर नेशनल एजुकेशन डे के रूप में मनाया जाएगा। मौलाना अबुल कलाम आजाद 1947 से 1958 तक पंडित जवाहरलाल नेहरू की कैबिनेट में देश के पहले शिक्षा मंत्री थे। उन्होंने शिक्षा मंत्री ( Education Minister) के रूप में भारत के शिक्षा स्तर को काफी मजबूत किया था और उनके कार्यकाल में कई प्रकार के राष्ट्रीय शिक्षा संस्थान भी भारत में स्थापित किए गए थे। इसलिए आज के लेख में हम National Education Day से संबंधित जानकारी आपके साथ साझा करेंगे आर्टिकल हमारा पूरा पढ़िए- 

राष्ट्रीय शिक्षा दिवस क्या है? | What is National Education Day

हर साल 11 नवंबर राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाया जाता हैं। मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने भारत के पहले शिक्षा मंत्री मौलाना अब्दुल आजाद कलाम  के द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में किए गए योगदान को याद करने के लिए 2008 में 11 नवंबर राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाएं जाने कि घोषणा की थी तभी से लेकर हर साल  भारत में 11 नवंबर को National Education Day मनाए जाने की परंपरा शुरू हुई।

यह भी पढ़ें:- विश्व उपयोगिता दिवस कब मनाया जाता है? जाने इतिहास, महत्व और थीम

क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय शिक्षा दिवस 2023 | Why National Education Day Celebrates

मौलाना अबुल कलाम आजाद  के जन्म दिवस के मौके पर  भारत में हर वर्ष नेशनल एजुकेशन डे मनाया जाता है।  इस दिन छात्रों को मौलाना अब्दुल कलाम के शिक्षा के क्षेत्र में  दिए गए योगदान के में जानकारी दी जाती हैं। ताकि छात्रों को जीवन में शिक्षा का क्या महत्व है? उसके बारे में  जानकारी मिल सकें।  मौलाना अब्दुल कलाम आजाद 1947 में भारत के शिक्षा मंत्री बने, उस समय देश में शिक्षा का स्तर काफी खराब था। कई प्रकार के राष्ट्रीय शैक्षणिक संस्थाओं की कमी थी। उन्होंने शिक्षा मंत्री के रूप में भारत में कई महत्वपूर्ण शैक्षणिक संस्थाओं जैसे-साहित्य अकादमी, ललित कला अकादमी, संगीत नाटक अकादमी, भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद आदि संस्थाओं स्थापित करने का काम किया।  उनके द्वारा प्रयास के कारण भारत में शिक्षा का स्तर मजबूत हुआ। इस दिन स्टूडेंट्स को अच्छे विचारों और शिक्षा के महत्व बताते हुए जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित  किया जाता हैं।

See also  अखिल भारतीय हस्तशिल्प सप्ताह 2022 | हस्तशिल्प सप्ताह कब शुरू होता हैं?

राष्ट्रीय शिक्षा दिवस कब मनाया जाता है | When National Education Day is Celebrated

नेशनल एजुकेशन डे भारत में प्रत्येक साल 11 नवंबर को मनाया जाता हैं। भारत में नेशनल एजुकेशन डे मनाने की शुरुआत मानव संसाधन मंत्रालय के द्वारा 2008 में किया गया था।

राष्ट्रीय शिक्षा दिवस का इतिहास | National Education Day History

मौलाना अबुल कलाम आज़ाद के सम्मान में  11 नवंबर को भारत में राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाया जाता हैं। नेशनल एजुकेशन डे के अवसर पर छात्र और शिक्षक साक्षरता के महत्व और शिक्षा के सभी पहलुओं के प्रति राष्ट्र की प्रतिबद्धता के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए एक साथ आते हैं।  मौलाना अब्दुल कलाम आजाद 1947 से लेकर 1958 तक पंडित जवाहरलाल नेहरू के कैबिनेट में शिक्षा मंत्री के पद पर नियुक्त थे।  आज़ाद एक दूरदर्शी विद्वान थे, उन्होंने 1950 के दशक में ही  सूचना और तकनीकी के क्षेत्र में शिक्षा का प्रचार हो इस बात का उन्होंने समर्थन किया।  देश में आधुनिक शिक्षा पद्धति के लिए उन्होंने कई प्रकार के उल्लेखनीय कदम उठाए उनके कार्यकाल में देश के अंदर कई महत्वपूर्ण तकनीकी शिक्षण संस्थान  ‘इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी’ ‘अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) और सेकेंडरी एजुकेशन कमीशन की स्थापना हुई थी। 

जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय की स्थापना में भी उनका अहम योगदान रहा है। मौलाना आजाद महिलाओं और  वंचित वर्ग को शिक्षा आसानी से मिले उसके वह बहुत बड़े समर्थक थे।  उनकी पहल पर ही भारत में 1956 में ‘विश्वविद्यालय अनुदान आयोग’ की स्थापना की गई।

यह भी पढ़ें:- धनतेरस में क्या खरीदना चाहिए? क्या खरीदना शुभ होता हैं?

राष्ट्रीय शिक्षा दिवस का महत्व | National Education Day Significance

राष्ट्रीय शिक्षा दिवस का हमारे जीवन में विशेष महत्व हैं। इस विशेष दिन पर शिक्षा हमारे लिए कितनी अहम हैं उसकी प्रेरणा मिलती हैं। भारत में शिक्षा दिवस मनाने की शुरुआत 2008 में मानव संसाधन मंत्रालय के द्वारा की गई थी। राष्ट्रीय शिक्षा दिवस भारत के पहले शिक्षा मंत्री मौलाना अब्दुल आजाद कलाम को याद करने के लिए मनाया जाता हैं। भारतीय शिक्षा के क्षेत्र में उनका योगदान अतुल्य और अबिस्मरणीय हैं।  आज़ाद भारत के ‘केंद्रीय शिक्षा बोर्ड’ के चेयरमैन थे, जिसका काम केंद्र और राज्य दोनों स्तरों पर शिक्षा का प्रचार और प्रसार करना था। उन्होंने इस बात का पुरजोर तरीके से समर्थन किया कि भारत में धर्म, जाति और लिंग से से ऊपर उठकर हमें 14 साल तक सभी बच्चों को प्राथमिक शिक्षा प्रदान करनी चाहिए ताकि उनका समुचित विकास हो सकें।

See also  विश्व हिंदी दिवस पर निबंध हिंदी में | Vishva Hindi Diwas Essay in Hindi

राष्ट्रीय शिक्षा दिवस  2023 थीम | National Education Day Theme

राष्ट्रीय शिक्षा दिवस प्रत्येक साल निर्धारित थीम के अनुसार ही मनाया जाता हैं। राष्ट्रीय शिक्षा दिवस 2023 की थीम एक सतत भविष्य के लिए अभिनव शिक्षा (Innovative Education for a Sustainable future) है। इसी थीम के बेसिस पर पूरा कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

राष्ट्रीय शिक्षा दिवस पर कोट्स | National Education Day Quotes

शिक्षा सबसे शक्तिशाली हथियार है, जिसका उपयोग आप दुनिया को बदलने के लिए कर सकते हैं।” – नेल्सन मंडेला

“पुस्तक की सामग्री शिक्षा की शक्ति रखती है और इस शक्ति के साथ हम अपने भविष्य को आकार दे सकते हैं और जीवन बदल सकते हैं।” – मलाला यूसूफजई

“शिक्षा वह है जो स्कूल में सीखी गई बातों को भूल जाने के बाद भी बची रहती है।” – अल्बर्ट आइंस्टीन

जितना अधिक आप पढ़ेंगे, उतनी ही अधिक चीजें आप जानेंगे, जितना अधिक आप सीखेंगे, उतनी ही अधिक जगहों पर आप जाएंगे।” – डॉ. सिअस

“शिक्षा वह कुंजी है जो स्वतंत्रता के सुनहरे दरवाजे को खोलती है।” – जॉर्ज वाशिंगटन कार्वर

“शिक्षा भविष्य का पासपोर्ट है, क्योंकि आने वाला कल उसी का है जो आज इसकी तैयारी करता है।” – मैल्कम एक्स

ज्ञान शक्ति है। सूचना मुक्ति है। शिक्षा हर समाज में, हर परिवार में प्रगति का आधार है।” – कोफी अन्नान

“शिक्षा हिंसा का टीका (वैक्सीन) है।” – एडवर्ड जेम्स ओलमोस

“शिक्षा एक ऐसी चीज है जो आपसे कोई नहीं छीन सकता।” – एलिन नॉर्डेग्रेन

“शिक्षा का उद्देश्य खाली दिमाग को खुले दिमाग से बदलना है।” – मैल्कम फोर्ब्स

शिक्षा जीवन की तैयारी नहीं है; शिक्षा ही जीवन है।” – जॉन डूई

“शिक्षा का उद्देश्य तथ्यों का नहीं, बल्कि मूल्यों का ज्ञान है।” – विलियम एस बरोज़

“शिक्षा लोगों का नेतृत्व करना आसान बनाती है लेकिन गाड़ी चलाना मुश्किल; शासन करना आसान है, लेकिन गुलाम बनाना असंभव है।” – पीटर ब्रोघम

“शिक्षा का उद्देश्य दर्पणों को खिड़कियों में बदलना है।” – सिडनी जे. हैरिस

बुद्धि और चरित्र – यही सच्ची शिक्षा का लक्ष्य है।” – मार्टिन लूथर किंग जूनियर

निष्कर्ष: नेशनल एजुकेशन-डे 2023

उम्मीद करता हूं कि हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल आपको पसंद आया होगा आर्टिकल से जुड़ा कोई भी सुझाव या प्रश्न है आप हमारे कमेंट सेक्शन में आकर दर्ज करें उसका जवाब हम आपको जरूर देंगे इसी तरह के ट्रेंडिंग न्यूज़ पढ़ने के लिए Easy hindi.in  के साथ बने रहिए तब तक के लिए  लिए धन्यवाद

See also  World Hindi Day 2024 | विश्व हिंदी दिवस क्यों मनाया जाता है? जानें क्या है (History, Significance, Purpose and Theme)

FAQ’s: National Education Day 2023

Q. राष्ट्रीय शिक्षा दिवस कब और किसकी याद में मनाया जाता है?

Ans. राष्ट्रीय शिक्षा दिवस 11 नवंबर को भारत के पहले शिक्षा मंत्री मौलाना अब्दुल आजाद की याद में मनाया जाता हैं।

Q. राष्ट्रीय शिक्षा दिवस की शुरुआत किसने की?

Ans. राष्ट्रीय शिक्षा दिवस की शुरुआत मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने की थी।

Q. राष्ट्रीय शिक्षा दिवस पहली बार कब मनाया गया था?

Ans. राष्ट्रीय शिक्षा दिवस पहली बार 11 नवंबर 2008 को मनाया गया था।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja