होली पर कविता हिंदी में | Holi Poems in Hindi | Holi Hindi Poetry

Holi Poem in Hindi

Holi Poems in Hindi:- रंगों का त्योहार होली मस्ती से भरा उत्सव है जो पूरे भारत में लोगों द्वारा पसंद किया जाता है। यह मौज-मस्ती का समय है, जब लोग एक-दूसरे पर गुलाल लगाते हैं और एक-दूसरे को पानी से सराबोर करते हैं। गौरतलब है कि होली देश भर में मनाई जाती है। वहीं भारत के कुछ ऐसे स्थान हैं जो विशेष रूप से होली मनाने और रंगीन समारोहों के लिए प्रसिद्ध हैं। जैसे कि हम जानते है कि होली भारत के सबसे पुराने त्योहारों में से एक है। त्योहार की उत्पत्ति के साथ कई दिलचस्प कहानियां जुड़ी हुई हैं।

होली के त्योहार का वर्णन करने में पौराणिक कथाएं बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। होली उत्पत्ति की सर्वाधिक लोकप्रिय कथाएं ‘होलिका दहन’ और राधा-कृष्ण की कथा से संबंधित हैं। होली के दिन कवि सम्मेलन का भी आयोजन किया जाता है, वहीं होली से पूर्व स्कूलों में कविता प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है जिसमें होली विषय पर कविता बोलनी होती है। इस लेख में हम आपको होली पर कविता प्रस्तुत करेंगे, जिसे आप कवि सम्मेलन से लेकर स्कूल प्रतियोगिता में शामिल कर सकते है। इस लेख को कई आधार पर तैयार किया गया है जैसे कि होली पर कविता हिंदी में poem on holi in hindi,Holi Poems in Hindi, Holi Par Kavita Hindi Me हैं। इस लेख को पूरा पढ़े और एक से बढ़कर एक कविता का आनंद लें।

Poem on Holi in Hindi

देखो देखो होली का त्योहार आया
दुश्मनों ने भी हाथ मिलाया,
अपनों ने भी साथ निभाया।
देखो देखो होली का त्योहार आया
रंग लगाओ, ढोल बजाओ,
अपनों के संग होली मनाओ।
देखो देखो होली का त्योहार आया
रंगों का त्योहार आया,
मिठाइयों की मिठास संग में लाया है।
देखो देखो होली का त्योहार आया
ऋतु बसंत को भी संग में लाया है,
हंसी ठिठोली का मौसम संग में लाया है।
देखो देखो होली का त्योहार आया

हैप्पी होली 2024होली पर्व से जुड़े अन्य लेख
होलिका दहन कब है 2024क्लिक करें
होली पर निबंध हिंदी मेंक्लिक करें
Happy Holi Wishes in Hindiक्लिक करें
होली पर कविता हिंदी मेंक्लिक करें
 हैप्पी होली कोट्स हिंदी मेंक्लिक करें
हैप्पी होली स्टेटस हिंदी मेंक्लिक करें
हैप्पी होली शायरी हिंदी मेंक्लिक करें
होली की हार्दिक शुभकामनाएं संदेशक्लिक करें

होली पर कविता हिंदी में

पिचकारी चलाओ, गुलाल उड़ाओ,

See also  Makar Sankranti 2024 | मकर संक्रांति कब, और क्यों मनाई जाती हैं? जाने महत्व क्या है?

गीत गाओ सब के संग होली मनाओ।

केशर की, कलि की पिचकारीः

पात-पात की गात सँवारी ।

राग-पराग-कपोल किए हैं,

लाल-गुलाल अमोल लिए हैं

तरू-तरू के तन खोल दिए हैं,

आरती जोत-उदोत उतारी-

गन्ध-पवन की धूप धवारी ।

गाए खग-कुल-कण्ठ गीत शत,

संग मृदंग तरंग-तीर-हत

भजन-मनोरंजन-रत अविरत,

राग-राग को फलित किया री-

विकल-अंग कल गगन विहारी ।

Holi Par Kavita

रंंगों का त्योहार है होली

खुशियों की बौछार है होली।

लाल गुलाबी पिले देखो

रंग सभी रंगीले देखो।

पिचकारी भर-भर लाते

इक दूजे पर सभी चलाते।

होली पर अब ऐसा हाल

हर हर चेहरे पर आज गुलाल।

आओ यारों इसी बहाने

दुश्मन को भी चले मनाने।

Holi Poems in Hindi

होली आयी, होली आयी, साथ ढेरों खुशियाँ लायी

होली खेले राधा सँग कन्हाई

डाले इक दूजे पे रंग गुलाल

हो गए सब के रंगबिरंगी गाल

यह प्यार का त्योहार सबसे निराला

खुश है सब के संग कान्हा

चढा सब पर प्रेम का ऐसा रँग

मस्ती मे झूमे सबका अन्ग-अन्ग

आओ हम भी साथ खेले होली

होली पर प्रेरणादायक कविता

चलो आज होलिका को सब मिल के जलाएँ

एक नया इतिहास बनाएँ

जलाएँ हम उसमे अपने बुरे विचार

कटु-भावो का करे तिरस्कार

नफरत की दे दे आहुति

आज लगाएँ प्रेम भभूति

प्रेम के रन्ग मे सब रन्ग डाले

नफरत नही कोई मन मे पाले

सब इक दूजे के हो जाएँ

आओ हम सब होली मनाएँ

Holi Poems in Hindi 

रंग बिरंगी सबसे न्यारी सबसे प्यारी

रंग गुलाल की पिचकारी,

हम सब को सबसे प्यारी होली हमारी।

रंग में रंग मिल गए

मन से मन मिल गए,

होली में सब रंग खिल गए।

परंपरा की पहचान है होली हमारी

खुशियों का पैगाम है होली हमारी,

रिश्तो की अंगूठी पहचान है होली हमारी।

ढोल नगाड़े खूब बजाये

खूब नाचे, झूम झूम कर नाचे,

धूमधाम से सबने है होली मनाई

बच्चे करते सबसे मस्ती न्यारी

पिचकारी से रंग उड़ाए, गुब्बारों में रंग भर के मारे,

रंग बिरंगी सबसे प्यारी होली हमारी।

Poems on Holi in Hindi

युवकजनों की है जान ;

   ख़ून की होली जो खेली ।

पाया है लोगों में मान,

   ख़ून की होली जो खेली ।

रँग गये जैसे पलाश;

   कुसुम किंशुक के, सुहाए,

कोकनद के पाए प्राण,

    ख़ून की होली जो खेली ।

निकले क्या कोंपल लाल,

     फाग की आग लगी है,

फागुन की टेढ़ी तान,

See also  हिंदी दिवस 2023 | Hindi Diwas Status in Hindi | स्टेटस 2023

     ख़ून की होली जो खेली ।

खुल गई गीतों की रात,

      किरन उतरी है प्रात की ;-

हाथ कुसुम-वरदान,

   ख़ून की होली जो खेली ।

आई सुवेश बहार,

   आम-लीची की मंजरी;

कटहल की अरघान,

    ख़ून की होली जो खेली ।

विकच हुए कचनार,

    हार पड़े अमलतास के ;

पाटल-होठों मुसकान,

    ख़ून की होली जो खेली ।

Holi Poem Hindi

एक चुटकी  गुलाल में

मिटा देगा मन का मलाल

रंग लागा गुलाबी प्रीत का

जो न अब कभी उतरे।

कुछ रंग नीला रे बरसे

उसमे एक रंग लाल साहस का

ले हरा रंग समृद्धि और विश्वास का

मिला पीला रंग शांति और ज्ञान का

मत भूल रंग केसरी बलिदान का।

रंग भर गेरूआ  जीवन में

नए सवेरे नयी आस का

पर हर रंग से पहले…

शुभ धवल रंग सा मन हो

जिस पर जो रंग चढ़े वो पावन हो

जैसे रंग बिरंगी होली अपनी

वैसा ही रंगो से भरा जीवन हो।

होली आती हैं हमें याद दिलाती

पिचली कितनी होली

वो बचपन की होली

वो सखियों की होली

वो गुजियों वाली होली

सब कुछ याद दिलती

होली आती हैं रंग गले लगाती हैं

आकर सब को नहलाती हैं,

होली आती हैं हमें हमारे पुराने दिनों की याद दिलाती हैं।

Holi Par Kavita Hindi Me 

डगर डगर गांव शहर उड़े रे उड़े गुलाल उड़े

चंग, ढोल और थाप चहु और सुने रे सुने,

होली आयी रे, आयी होली आयी।

गीतों की राग मन बहलाये रे बहलायें

रंग ऐसे उड़े, मन से मन मिले रे मिले,

होली आयी रे, आयी होली आयी।

बच्चे, बूढ़े सब में मस्ती की उमंग उठे रे उठे

अपनों संग कितने दिनों बाद मिले रे मिले,

होली आयी रे, आयी होली आयी।

सुबह शाम ऐसे बीते रे बीते

रंग बिरंगे रंगों में दिन बीते रे बीते,

होली आयी रे, आयी होली आयी।

संध्या होते ही ढप और चंग बाजे रे बाजे

चटपटी मिठाइयों का स्वाद आया रे आया,

होली आयी रे, आयी होली आयी।

जात-पात के सब बैर मिटे रे मिटे

शत्रुओ के हाथ मित्रता को बढ़े रे बढ़े,

होली आयी रे, आयी होली आयी।

Poem on Holi

खेलूँगी कभी न होली

उससे जो नहीं हमजोली ।

यह आँख नहीं कुछ बोली,

यह हुई श्याम की तोली,

ऐसी भी रही ठठोली,

गाढ़े रेशम की चोली-

अपने से अपनी धो लो,

अपना घूँघट तुम खोलो,

अपनी ही बातें बोलो,

See also  गांधी जयंती पर भाषण 2023 | Gandhi Jayanti Speech, 10 Lines in Hindi

मैं बसी पराई टोली ।

जिनसे होगा कुछ नाता,

उनसे रह लेगा माथा,

उनसे हैं जोडूँ-जाता,

मैं मोल दूसरे मोली

रंगो का त्योहार होली

Holi Poems in Hindi

मारो सब मिलकर पिचकारी

लाल गुलाल सबको रंगाए

सबका मन प्रफुल्लित हो जाए

बच्चे खेल खूब रंगों से

मारो पिचकारी दूर से

रंग बिरंगी होली ये

देखो कैसे खेले सब

कोई दूर भागता है

दूसरा पकड़कर लाता है

हसी मजाक  का त्योहार ये

रंगो से सजी ये होली

हर गीले सिकवे मिटाता है

जीवन में रंग भरता है

खूब लाला पीले हो जाओ सारे

कुछ देर ही सही हर गम भुलाओ सारे

रंगो की शक्ति की पहचान

सबको याद दिलाओ प्यारे

घर घर का त्योहार है होली

होली पर कविता हिंदी में

रंगों का त्योहार है होली

रंगों का खजाना है होली

मिलकर मारो सारे पिचकारी।

होली है भाई होली है

मौज मस्ती की होली है

रंगो से भरा ये त्यौहार

बच्चो की टोली रंग लगाने आयी है

बुरा ना मानो होली है

होली है भाई होली है

एक दूसरे हो रंग लगाओ

मन की कड़वाहट को छोड़ो

सब मिल के खुशियां मनाओ

अपनी परंपरा कभी न छोड़ो

बुरा ना मानो होली है

होली है भाई होली है

होलिका दहन का मतलब समझो

हिरणकश्यप के दंभ को तोड़ो

भक्त प्रह्लाद को रखना याद

कभी न छोड़ना सच का साथ

बुरा ना मानो होली है

होली है भाई होली है

FAQ’s Holi Poems in Hindi

Q. भारत में होली कैसे मनाई जाती है?

Ans. होली पूरे भारत और दुनिया भर में अलग-अलग तरह से मनाई जाती है। त्योहार में आम तौर पर गायन, नृत्य, रंगों और पिचकारी (पानी की बंदूकें) के साथ खेलना और गुजिया और लड्डू जैसे व्यंजनों का आनंद लेना शामिल होता है।

Q. होली कब मनाई जाती है?

Ans. होली हर साल मार्च के महीने में पूर्णिमा के दिन मनाई जाती है। वर्ष के इस समय वसंत ऋतु होने के कारण इस दिन को “वसंत पूर्णिमा” भी कहा जाता है।

Q. होली का त्योहार में मिठास घोलने के लिए कौन सी स्पेशल मिठाई बनाई जाती है ?

Ans. होली का त्योहार मनाने के लिए घर घर में स्पेशल मिठाई के तौर पर गुजियां बनाई जाती है।

Q. साल 2024 में होली का पर्व कौन सी तारीख और दिन मनाया जाएगा ?

Ans. साल 2024 में होली का पर्व 25 मार्च के दिन मनाया जाएगा।

Q. होली के पर्व को और किस नाम से जाना जाता है ?

Ans. होली के पर्व को रंगो के त्योहार के नाम से भी जाना जाता है।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja