National Voters Day 2024: राष्ट्रीय मतदाता दिवस कब और क्यों मनाया जाता हैं?

National Voters Day

National Voters Day:- भारत में राष्ट्रीय मतदाता दिवस प्रत्येक वर्ष 25 जनवरी को मनाया जाता है। क्योंकि 1950 में 25 जनवरी के दिन चुनाव आयोग का स्थापना हुआ था और पहली बार 25 जनवरी 2011 को तत्कालीन राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा पाटिल के द्वारा शुभारंभ किया गया था।इसलिए इस दिन को चिन्हित करने के लिए प्रत्येक वर्ष के तरह इस वर्ष भी 2024 में 14 वा राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाया जाएगा। देश के नागरिकों के लिए मतदान सबसे महत्वपूर्ण अधिकारों में से एक है जो लोकतंत्र में प्रत्येक व्यक्ति के पास होता है। वोट देने के अधिकार से जनता यह तय करती है कि हमारे लोकतंत्र देश में कौन शासन करेगा। मतदाता अपने वोट के द्वारा देश के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। अक्सर देखा जाता है,अधिकांश संख्या में लोग चुनाव के समय मतदान देने से कतराते हैं या वह अपने कर्तव्य से अनजान होते हैं जिन्हें एक जागरूक नागरिक के रूप में पालन करने की आवश्यकता होती है।

इसलिए देश के जिन नागरिकों का उम्र 18 वर्ष पूर्ण हो चुका है उनको मतदान देने के लिए पंजीकरण करने के लिए प्रोत्साहित करना राष्ट्रीय मतदाता दिवस का मुख्य उद्देश्य होता है। ऐसे में हम में से कई लोगों के मन में राष्ट्रीय मतदाता दिवस संबंधित प्रश्न उठा होगा तो आईए हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से National Voters Day 2024,राष्ट्रीय मतदाता दिवस(National Voters Day) कब होता है?,राष्ट्रीय मतदाता दिवस का उद्देश्य ,राष्ट्रीय मतदाता दिवस का महत्व(important of national Voters Day), राष्ट्रीय मतदाता दिवस 2024 थीम | National Voters Day Theme 2024 संबंधित जानकारी विस्तार पूर्वक प्रदान कर रहे हैं इसलिए आप लोग इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े।

Also Read: गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है?

National Voters Day 2024- Overview

टॉपिकराष्ट्रीय मतदाता दिवस 2024
लेख प्रकारआर्टिकल
साल2024
दिवस का नामराष्ट्रीय मतदाता दिवस
तारीख25 जनवरी 2024
साल 2023 थीमसमावेशी, सुगम एवं सहभागी निर्वाचन की ओर अग्रसर
उद्देश्यलोगों को वोट डालने के लिए जागरुक करना
प्रमुख थीमकोई मतदाता पीछे न छूटे
कौन सा13 वां मतदाता दिवस
मुख्य निर्वाचन अधिकारी नियुक्तिराष्ट्रपति

Also Read: 26 जनवरी 2024 के मुख्य अतिथि

वोटर हेल्पलाइन एप्प | Voter Helpline App

भारत के ऐसे युवा जो हाल ही में मतदाता बनने वाले हैं। अर्थात उनकी उम्र 18 वर्ष हो चुकी है, और अब Voter ID Card बनवाना चाहते हैं। तो वह घर बैठे मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से वोटर आईडी कार्ड के लिए रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। तो चलिए जानते हैं, सरकार द्वारा लॉन्च किए गए वोटर आईडी कार्ड एप्लीकेशन (Voter Helpline App) जिनके माध्यम से मतदाता पंजीकरण से लेकर अन्य सुविधाओं का उपयोग कर सकते हैं।
Voter Helpline App को आप गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं। डाउनलोड करने के पश्चात वोटर हेल्पलाइन एप्लीकेशन पर अपना पंजीकरण कर ले। पंजीकरण फॉर्म के साथ-साथ अन्य सेवाएं इस मोबाइल एप्लीकेशन पर उपलब्ध होगी जैसे:-
Form No. 6 नव मतदाता पंजीकरण के लिए।
Form No. 6B आधार से मतदाता पहचान पत्र जोड़ने के लिए।
Form No. 7 वोटर लिस्ट में नाम हटाने के लिए।
Form No. 8 मतदाता विवरण में त्रुटि होने पर इस फॉर्म का उपयोग कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त मतदाता का स्थाई परिवर्तन होने पर पता चेंज कर सकते हैं। विशेष योग्यजन मतदाता (PwD) ऑनलाइन सेवाओं हेतु मोबाइल नंबर जोड़ना। इत्यादि के लिए फॉर्म नंबर 8 का उपयोग कर सकते हैं।
इसी के साथ Application पर चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। चुनाव के परिणाम जान सकते हैं। इसी के साथ चुनाव एवं विभाग से जुड़ी शिकायतों को दर्ज कर सकते हैं।

See also  World Hepatitis Day 2023 | विश्व हेपेटाइटिस दिवस, जानें इतिहास, महत्व व थीम (History, Importance, Theme)

सक्षम ईसीआई ऐप | Saksham-ECI App

मतदान विभाग द्वारा मतदाता के रूप में रजिस्ट्रेशन करने हेतु नया एप्लीकेशन लॉन्च (Saksham-ECI App) किया है। इस मोबाइल एप्लीकेशन पर आप नए मतदाता पंजीकरण के लिए आवेदन कर सकते हैं। दिव्यांग मतदाता के रूप में चीनी करण कर सकते हैं। वोटर आईडी कार्ड में संशोधन एवं वोटर कार्ड को आधार कार्ड से लिंक कर सकते हैं।
ऐसे मतदाता जो फिजिकली फिट नहीं है। अर्थात दिव्यांग है वह इस ऍप पर मतदान विभाग से पूर्व अनुरोध कर सकते हैं, कि उन्हें व्हीलचेयर या परिवहन की सुविधा दी जाए ताकि वे अपने मतदान अधिकार का पालन कर सकें।
सक्षम ईसीआई मोबाइल एप्लीकेशन पर मतदाता सूची में नाम देख सकते हैं। लोकेटर देख सकते हैं। उम्मीदवार के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

National Voters Day 2024

आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि भारतीय चुनाव आयोग (election Commission of India) की स्थापना 1950 में हुई, जिसके 61वें स्थापना वर्ष 25 जनवरी 2011 से राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाने का फैसला लिया गया और तत्कालीन राष्ट्रपति श्रीमति प्रतिभा देवी सिंह पाटिल (President Mrs. Pratibha Devi Singh Patil) ने इसका शुभारंभ किया था। भारत का लोकतंत्र विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र (Democracy)माना जाता है,

इसको देखते हुए National Voter Day मनाने का निर्णय लिया गया। इसका मुख्य लक्ष्य सभी लोगों को अपने मतदान के प्रति जागरुक करना और निष्पक्ष होकर मतदान करने को लेकर प्रोत्साहित करना है। सभी 18 साल के हो चुके वयस्क युवकों का Voter List  में नाम जोड़ना और अपने वोट के प्रति उन्हें जागरुक करना वोटर डे का प्रोग्राम होना चाहिए। पंजीकरण प्रक्रिया को आसान बनाना और एक भी मतदाता ना छूटे इस नारे को आगे बढ़ाना होगा। 

राष्ट्रीय मतदाता दिवस कब से मनाया जाता है?

National Voters Day 2024:-विश्व में भारत जैसे सबसे बड़े लोकतंत्र में मतदान को लेकर कम होते रुझान को देखते हुए राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाया जाने लगा था। इसके मनाए जाने के पीछे निर्वाचन आयोग का उद्देश्य था कि देश भर के सभी मतदान केंद्र (Polling Booth) वाले क्षेत्रों में प्रत्येक वर्ष उन सभी पात्र मतदाताओं की पहचान की जाएगी, जिनकी उम्र एक जनवरी को 18 वर्ष हो चुकी होगी। भारत में जितने भी चुनाव हैं, उनको निष्पक्षता से संपन्न कराने की जिम्मेदारी ‘भारत निर्वाचन आयोग’ की होती है।

See also  Consumer Rights in Hindi | उपभोक्ता के अधिकार एवं विश्व उपभोक्ता अधिकार जाने

राष्ट्रीय मतदाता दिवस 2024 (Rashtriya Matdata Diwas)

भारत निर्वाचन आयोग (Election Commission of India) का गठन भारतीय संविधान (Indian Constitution) के लागू होने से एक दिन पहले 25 जनवरी 1950 को हुआ था, क्योंकि 26 जनवरी 1950 को भारत एक गणतांत्रिक देश बनने वाला था और भारत में लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं से चुनाव कराने के लिए निर्वाचन आयोग (Election Commission) का गठन जरूरी था, इसलिए इसी दिन इसका गठन हुआ।

भारत सरकार ने वर्ष 2011 से हर चुनाव में लोगों की भागीदारी बढ़ाने के लिए निर्वाचन आयोग के स्थापना दिवस ’25 जनवरी’ को ही राष्ट्रीय मतदाता दिवस (Voter’s Day)के रूप में मनाने की शुरूआत की थी और 2011 से ही हर साल इसे तय तारीख पर मनाया जाता है। इस दिन देश में सरकारों और अनेक सामाजिक संस्थाओं द्वारा लोगों को मतदान के प्रति जागरुक करने के लिए अनेक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है, जिससे कि देश की राजनीतिक प्रक्रियाओं में लोगोंकी अधिकतम भागीदारी सुनिश्चित की जा सके। 

National Voters Day 2024 | 25 जनवरी को राष्ट्रीय मतदाता दिवस क्यों मनाया जाता है?

राष्ट्रीय मतदाता दिवस प्रत्येक वर्ष संपूर्ण भारत में 25 जनवरी को मनाया जाता है। भारतीय निर्वाचन चुनाव आयोग इस वर्ष 2024 में 14 वा राष्ट्रीय मतदाता दिवस सेलिब्रेट हो रहा है। भारत की तत्कालीन राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा पाटिल के द्वारा सन 2011 में 25 जनवरी को राष्ट्रीय मतदाता दिवस का शुभारंभ किया गया था।

किसी भी लोकतांत्रिक देश में सरकार बनाने के लिए सबसे बड़ी और अहम भूमिका मतदाताओं की होती है। वोटर्स अपने कीमती वोट से किसी भी दल या पार्टी को पांच साल के लिए सत्ता में लाती है। ऐसा कर के वोटर्स देश और राज्य के विकास के लिए एक जागरुकनागरिक होने के कर्तव्य को पूरा करती है। भारत में मतदान को लेकर लोगों में कम होते रुझान को देखते हुए मतदान दिवस की शुरुआत की गई थी। 

राष्ट्रीय मतदाता दिवस का उद्देश्य (National Voters Day Significance)

राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य देश के नागरिकों को मतदान के प्रति जागृत करना होता है। देश के जिन नागरिकों का उम्र 18 वर्ष पूर्ण हो चुका है उनका नाम वोटर लिस्ट में जोड़ना एवं उनको अपने मतदान के प्रति जागृत एवं प्रेरित करना इस दिवस का मुख्य उद्देश्य होता है।

राष्ट्रीय मतदाता दिवस की प्रतिज्ञा क्या है? National Voters Day Pratigya Kya Hai

National Voters Day:- राष्ट्रीय मतदाता दिवस (National Voter Day) की प्रतिज्ञा इस प्रकार है– हम, India के नागरिक, लोकतंत्र में अपनी विश्वास रखते हुए यह शपथ लेते हैं कि हम अपने देश की Democratic परंपराओं की मर्यादा को बनाए रखेंगे तथा स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण निर्वाचन की गरिमा को अक्षुण्ण रखते हुए, निर्भीक होकर धर्म, वर्ग, जाति, समुदाय, भाषा अथवा अन्य किसी भी प्रलोभन से प्रभावित हुए बिना सभी निर्वाचन में अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। मतदान के प्रति लोगों को Aware करने को लेकर इस तरह की Pledge लोगों के द्वारा ली जाती है। इससे लोगों में चुनाव के दौरान वोट डालने के लिए प्रोत्साहन की वृध्दि होती है। लोगों में एक विश्वास का भाव जाग्रत होता है। 

See also  शिव रात्रि क्यों मनाई जाती हैं? | महाशिवरात्रि मानाने के पीछे वैज्ञानिक, आध्यात्मिक महत्व | Shivratri 2023

राष्ट्रीय मतदाता दिवस 2024 थीम | National Voters Day Theme 2024

भारतीय चुनाव आयोग (Election Commission of India) की स्थापना के 61वें वर्ष 25 जनवरी 2011 को राष्ट्रीय मतदाता दिवस (National Voter Day) मनाने का फैसला किया गया। इसे तत्कालीन राष्ट्रपति श्रीमति प्रतिभा देवी सिंह पाटिल ने हरी झंडी दिखाई थी। उस दौरान 2011 में थीम (Theme) मतदाता बनें सशक्त, सतर्क, सुरक्षित और जागरुक रखी गई थी। जबकि 2022 में थीम का नाम, ‘मजबूत लोकतंत्र के लिए चुनावी साक्षरता’ रखी गई है। साल 2023 में थीम “समावेशी, सुगम एवं सहभागी निर्वाचन की ओर अग्रसर” है।

इस बार राष्ट्रीय मतदाता दिवस की थीम ‘वोट जैसा कुछ नहीं, वोट जरूर डालेंगे हम’ पर मतदाताओं को जागरूक किया जाएगा |

Yearराष्ट्रीय मतदाता दिवस की थीम (National Voter Day Theme)
2024राष्ट्रीय मतदाता दिवस की थीम ‘वोट जैसा कुछ नहीं, वोट जरूर डालेंगे हम’ पर मतदाताओं को जागरूक किया जाएगा
2023समावेशी, सुगम एवं सहभागी निर्वाचन की ओर अग्रसर
2022मजबूत लोकतंत्र के लिए चुनावी साक्षरता
2021मतदाता बनें सशक्त, सतर्क, सुरक्षित और जागरुक

2021 में “मतदाता बनें सशक्त, सतर्क, सुरक्षित और जागरुक” नामक थीम को रखा गया था। इन थीम रखने के पीछे की एक वजह यह भी है कि लोग इस नारे को पढ़कर जागरुक बनें और अपने अमूल्य मतदान को जरूर करें। इसे व्यर्थ नहीं जाने दें, क्योंकि मतदान का यह अधिकार आपको ऐसे ही नहीं मिला है, इसके पीछे लाखों लोगों का योगदान है, उन स्वतंत्रता सेनानियों का बलिदान है, जिन्होंने इस देश को आजाद कराने में अपने प्राणों की आहुति दे दी थी। यह मतदान का अधिकार आपको इतने सस्ते में नहीं मिला है। मतदान की कीमत वे लोग भलीभांति जानते हैं, जिन्हें आज भी वोट डालने का अधिकार नहीं हो। 

राष्ट्रीय मतदाता दिवस का महत्व (Important of National Voters Day)

लोगों की वोटिंग पसंद तय करती है कि स्थानीय, क्षेत्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर कौन शासन करेगा। इसका मतलब यह है कि वोटों में यह चुनने की शक्ति है कि कौन से लोग, विचारधाराएं और नीतियां देश के भविष्य को आकार देंगी। इस प्रकार, लोगों के जीवन की दिशा को आकार देने में मतदान महत्वपूर्ण है। लोगों के विचार, ज़रूरतें और आकांक्षाएँ पीढ़ी-दर-पीढ़ी बदलती रहती हैं। यह महत्वपूर्ण है कि अगली पीढ़ी, जो देश के सामाजिक-सांस्कृतिक और आर्थिक क्षेत्रों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी, मतदान करेगी और राष्ट्र-निर्माण की प्रक्रिया में शामिल महसूस करेगी।

Conclusion:

उम्मीद करता हूं कि यह हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल आप लोगों को काफी पसंद आया होगा ऐसे में आप हमारे आर्टिकल संबंधित कोई प्रश्न एवं सुझाव है तो आप लोग हमारे कमेंट्स बॉक्स में आकर अपने प्रश्नों को पूछ सकते हैं हम आपके प्रश्नों का जवाब जरूर देंगे।

FAQ’s National Voters Day 2024

Q. राष्ट्रीय मतदाता दिवस की शुरुआत कब हुई?

Ans. 25 जनवरी 2011 से।

Q. राष्ट्रीय मतदाता दिवस की शुरुआत किसने की थी?

 Ans. पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा देवी सिंह पाटिल द्वारा राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाने की शुरुआत की गई थी। 

Q. राष्ट्रीय मतदाता दिवस क्यों मनाया जाता है?

Ans. मतदाताओं को वोट डालने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए।

Q. वीवीपैट का फुल फॉर्म क्या है?

Ans. Voter Verified Paper Audit Trail (मतदाता सत्यापन योग्य पेपर ऑडिट ट्रेल)

Q. मुख्य निर्वाचन अधिकारी की नियुक्ति कौन करता है?

Ans. राष्ट्रपति मुख्य निर्वाचन अधिकारी की नियुक्ति करता है।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja