महाशिवरात्रि व्रत क्यों रखा जाता हैं? व्रत विधि, महा शिवरात्रि व्रत कथा | Mahashivaratri Vart Katha 2023

Mahashivratri Vrat Katha

Mahashivratri Vrat Katha:-शिवरात्रि का व्रत भगवान शिव के भक्तों के लिए सबसे महत्वपूर्ण व्रत माना जाता है। शिव पुराण में कहा गया है कि यदि कोई भक्त शिवरात्रि व्रत को ईमानदारी, शुद्ध भक्ति और प्रेम के साथ करता है तो उसे भगवान शिव की दिव्य कृपा प्राप्त होती है। हर साल भक्त भक्ति और ईमानदारी के साथ महा शिवरात्रि का व्रत रखते हैं। हालांकि कई लोग फल और दूध का आहार लेते हैं, कुछ शिवरात्रि महोत्सव के दिन और रात भर पानी की एक बूंद भी नहीं पीते हैं।

इस लेख में हम आपको महाशिवरात्रि पर व्रत कैसे करे और उसका पारण कैसे करें इसके बारें में बातएंगे। साथ ही इस लेख में आपको महाशिवरात्रि व्रत कथा भी मिल जाएगी। ये लेख को हमने कई महत्वपूर्ण बिंदूओं के आधार पर तैयार किया है जैसे कि महाशिवरात्रि व्रत कथा,महाशिवरात्रि व्रत क्यों रखा जाता हैं,महाशिवरात्रि व्रत विधि,महाशिवरात्रि व्रत पारण विधि महाशिवरात्रि व्रत कथा। इस लेख को पूरा पढ़े और महाशिवरात्रि से जुड़ी जानकारियां पाएं और लोगों को भी महाशिवरात्रि से जुड़ी जानकारियां दें।

महाशिवरात्रि शुभ मुहूर्त 2023 |

Mahashivratri Vrat Katha 2023

टॉपिकमहाशिवरात्रि व्रत कथा 
लेख प्रकारआर्टिकल
साल2023
भाषाहिंदी
महाशिवरात्रि 202318 फरवरी
किस का त्योहार हैहिंदूओं
कहां मनाया जाता हैभारत और दुनिया भर में हिंदू समुदाएं वालों के द्वारा
दिनशनिवार
शिव के प्रिय गणनंदी
शिव के वाहननंदी

महाशिवरात्रि व्रत क्यों रखा जाता हैं? | Mahashivratri Vrat

महाशिवरात्रि हिंदूओं के लिए सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। देश भर के मंदिरों में भक्तों की भीड़ देखी जाती है जो भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए प्रचुर मात्रा में प्रसाद के साथ शिव लिंग के आसपास इकट्ठा होते हैं। जबकि महाशिवरात्रि की पूरी रात प्रार्थना और जागरण चलते हैं, जो इस त्योहार को खास बनाता है, वह है इसका विशिष्ट उपवास या महाशिवरात्रि व्रत। प्रत्येक शिव भक्त के लिए व्रत का बहुत अधिक महत्व होता है, कुछ लोग पानी की एक भी बूंद के बिना पूरे दिन उपवास करने का विकल्प चुनते हैं, अधिकांश भक्त एक विशेष व्रत का पालन करते हैं

जिसमें बहुत सारे पानी और दूध के साथ-साथ फल भी शामिल होते हैं। उन्हें हाइड्रेटेड। पीढ़ियों के लिए, हिंदुओं ने अत्यंत परिश्रम के साथ व्रत का पालन किया है, शास्त्रों का कहना है कि यदि कोई भक्त ईमानदारी के साथ करतब करने में सक्षम है, तो भगवान शिव उसे उसके सभी पापों से मुक्त कर देते हैं और उसे प्रचुर समृद्धि का आशीर्वाद देते हैं।जबकि कुछ भक्त पानी की एक बूंद का सेवन किए बिना पूर्ण उपवास का विकल्प चुनते हैं, कई अन्य लोगों के लिए यह बीमारी, नौकरी या वृद्धावस्था के कारण व्यावहारिक विकल्प नहीं है, इसलिए उनके शिवरात्रि व्रत को फलों से लदे एक विशेष भोजन के रूप में मनाया जाता है। दूध और पानी। शिवरात्रि के दिन सूर्यास्त के बाद भोजन नहीं किया जाता है। पूजा करने के बाद अगला भोजन अमावस्या (अगले दिन सुबह) की सुबह लिया जाता है।

Mahashivratri 2023

त्यौहार नामसम्बंधित लेख
शिव रात्रि क्यों मनाई जाती हैंयहाँ से देखें
महाशिवरात्रि व्रत क्यों रखा जाता हैंयहाँ से देखें
महाशिवरात्रि व्रत 2023 नियम, विधि, शुभ मुहूर्त व व्रत कथा यहाँ से देखें
महाशिवरात्रि पर निबंध हिंदी मेंयहाँ से देखें
शिवरात्रि का महत्व, इतिहासयहाँ से देखें
महाशिवरात्रि शुभ मुहूर्त 2023 | महाशिवरात्रि पूजा मुहूर्तयहाँ से देखें
महाशिवरात्रि शायरी हिंदी में यहाँ से देखें
महाशिवरात्रि स्टेटसयहाँ से देखें
महाशिवरात्रि कोट्स हिंदी में 2023यहाँ से देखें
महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएंयहाँ से देखें

महाशिवरात्रि व्रत विधि | Maha Shivratri Vrat Vidhi

1. व्रत के दिन ब्राह्मी मुहूर्त में उठें। विधिपूर्वक शुद्ध स्नान कर सफेद वस्त्र धारण करें। उपवास के बिना किसी बाधा के सुचारू रूप से शुरू और समाप्त होने के लिए अपना व्रत या संकल्प लें।

See also  संत कबीर दास की जयंती कब है? | Kabir Das Jayanti in Hindi(तिथि,उत्सव व इतिहास)

2. इस दिन दो बार स्नान करने का महत्व है, एक बार सुबह और दूसरी बार शाम को पूजा शुरू होने से पहले। चूंकि शिव पूजा रात के दौरान की जाती है, भक्तों को उपवास तोड़ने के लिए अगले दिन स्नान करना चाहिए। यह अत्यंत शुद्धता और सफाई सुनिश्चित करने के लिए है। शास्त्रों के अनुसार स्वच्छता ही देवत्व है।

3. लिंगम की पूजा करते समय दूध, बेलपत्र, दही, शहद, घी और चीनी जैसी सामग्री अवश्य चढ़ाएं।

4. उपवास और ॐ नमः शिवाय का जाप करने से आपको बहुत मदद मिलेगी।

5. अगर आपको पहले से ही कोई पुरानी बीमारी है जिससे पूरा दिन खाली पेट रहना मुश्किल हो जाता है, तो बेहतर होगा कि व्रत शुरू करने से पहले डॉक्टरी राय ले लें।

6. वास्तविक अर्थों में व्रत से लाभ पाने के लिए भक्तों को सूर्योदय के ठीक बाद पारण करना चाहिए। यह सबसे अच्छा समय है जब आपकी प्रार्थना भगवान शिव द्वारा उत्तर दी जाएगी।

महाशिवरात्रि व्रत पारण विधि | Mahashivratri Vrat Paran Vidhi

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, अनुशासन के साथ महाशिवरात्रि व्रत का पालन एक भक्त को दो महान प्राकृतिक शक्तियों को नियंत्रित करने में मदद करता है। जो मनुष्य को पीड़ित करती हैं, रजस गुण (भावुक गतिविधि की गुणवत्ता) और तमस गुण (जड़ता की गुणवत्ता)। जब एक भक्त पूरा दिन भगवान के चरणों में बिताता है और ईमानदारी से पूजा करता है, तो उसकी गति को नियंत्रित किया जाता है और रजोगुणों से उत्पन्न काम, क्रोध और ईर्ष्या जैसी बुराइयों को अनदेखा और वश में किया जाता है।

इसके अलावा, जब एक भक्त रात भर जागरण करता है (जागरण) तो वह तामस गुण की बुराइयों पर भी विजय प्राप्त कर लेता है। यह भी उल्लेख किया गया है कि जब कोई भक्त हर तीन घंटे में पूजा करता  है, तो शिवरात्रि व्रत सिद्ध हो जाता है। भगवान शिव के भक्त मानते हैं कि शिवरात्रि व्रत अत्यंत शुभ है और इसे अश्वमेध यज्ञ करने के बराबर या उससे अधिक आंकते हैं। कुछ लोगों का मानना है कि एक भक्त जो शिवरात्रि व्रत को ईमानदारी के साथ रखता है और पूरी भक्ति के साथ भगवान शिव के नाम का उच्चारण करता है, वह सभी पापों से मुक्त हो जाता है। ऐसा भक्त भगवान शिव के धाम पहुँच जाता है और वहाँ सुखपूर्वक निवास करता है। वह जन्म मरण के चक्र से भी मुक्त हो जाता है।

See also  विश्व जनसंख्या दिवस | World Population Day 2023 | जानें इसका इतिहास, महत्व व थीम (History, Importance, Theme)

शिवरात्रि व्रत कथा | Mahashivaratri Vart Katha PDF 2023

एक बार पार्वती जी ने भगवान शिवशंकर से पूछा, ‘ऐसा कौन-सा श्रेष्ठ तथा सरल व्रत-पूजन है, जिससे मृत्युलोक के प्राणी आपकी कृपा सहज ही प्राप्त कर लेते हैं?’ उत्तर में शिवजी ने पार्वती को ‘शिवरात्रि’ के व्रत का विधान बताकर यह कथा सुनाई- एक बार चित्रभानु नामक एक शिकारी था। पशुओं की हत्या करके वह अपने कुटुम्ब को पालता था। वह एक साहूकार का ऋणी था, लेकिन उसका ऋण समय पर न चुका सका। क्रोधित साहूकार ने शिकारी को शिवमठ में बंदी बना लिया। संयोग से उस दिन शिवरात्रि थी।

शिकारी ध्यानमग्न होकर शिव-संबंधी धार्मिक बातें सुनता रहा। चतुर्दशी को उसने शिवरात्रि व्रत की कथा भी सुनी। संध्या होते ही साहूकार ने उसे अपने पास बुलाया और ऋण चुकाने के विषय में बात की। शिकारी अगले दिन सारा ऋण लौटा देने का वचन देकर बंधन से छूट गया। अपनी दिनचर्या की भांति वह जंगल में शिकार के लिए निकला। लेकिन दिनभर बंदी गृह में रहने के कारण भूख-प्यास से व्याकुल था। शिकार करने के लिए वह एक तालाब के किनारे बेल-वृक्ष पर पड़ाव बनाने लगा। बेल वृक्ष के नीचे शिवलिंग था जो विल्वपत्रों से ढका हुआ था। शिकारी को उसका पता न चला।

पड़ाव बनाते समय उसने जो टहनियां तोड़ीं, वे संयोग से शिवलिंग पर गिरीं। इस प्रकार दिनभर भूखे-प्यासे शिकारी का व्रत भी हो गया और शिवलिंग पर बेलपत्र भी चढ़ गए। एक पहर रात्रि बीत जाने पर एक गर्भिणी मृगी तालाब पर पानी पीने पहुंची। शिकारी ने धनुष पर तीर चढ़ाकर ज्यों ही प्रत्यंचा खींची, मृगी बोली, ‘मैं गर्भिणी हूं। शीघ्र ही प्रसव करूंगी। तुम एक साथ दो जीवों की हत्या करोगे, जो ठीक नहीं है। मैं बच्चे को जन्म देकर शीघ्र ही तुम्हारे समक्ष प्रस्तुत हो जाऊंगी, तब मार लेना।’ शिकारी ने प्रत्यंचा ढीली कर दी और मृगी जंगली झाड़ियों में लुप्त हो गई।

महाशिवरात्रि व्रत कथा PDF डाउनलोड करें।

Shivratri Puja

कुछ ही देर बाद एक और मृगी उधर से निकली। शिकारी की प्रसन्नता का ठिकाना न रहा। समीप आने पर उसने धनुष पर बाण चढ़ाया। तब उसे देख मृगी ने विनम्रतापूर्वक निवेदन किया, ‘हे पारधी! मैं थोड़ी देर पहले ऋतु से निवृत्त हुई हूं। कामातुर विरहिणी हूं। अपने प्रिय की खोज में भटक रही हूं। मैं अपने पति से मिलकर शीघ्र ही तुम्हारे पास आ जाऊंगी।’ शिकारी ने उसे भी जाने दिया। दो बार शिकार को खोकर उसका माथा ठनका। वह चिंता में पड़ गया। रात्रि का आखिरी पहर बीत रहा था।

तभी एक अन्य मृगी अपने बच्चों के साथ उधर से निकली। शिकारी के लिए यह स्वर्णिम अवसर था। उसने धनुष पर तीर चढ़ाने में देर नहीं लगाई। वह तीर छोड़ने ही वाला था कि मृगी बोली, ‘हे पारधी!’ मैं इन बच्चों को इनके पिता के हवाले करके लौट आऊंगी। इस समय मुझे छोड़ दो। इसपर शिकारी हंसा और बोला, सामने आए शिकार को छोड़ दूं, मैं ऐसा मूर्ख नहीं। इससे पहले मैं दो बार अपना शिकार खो चुका हूं। मेरे बच्चे भूख-प्यास से तड़प रहे होंगे। उत्तर में मृगी ने फिर कहा, जैसे तुम्हें अपने बच्चों की ममता सता रही है, ठीक वैसे ही मुझे भी।

See also  31 December Quotes in Hindi | साल के आखिरी दिन को हमारे 31 दिसंबर पर शायरी के साथ करें अलविदा

Maha Shivratri Puja Katha

इसलिए सिर्फ बच्चों के नाम पर मैं थोड़ी देर के लिए जीवनदान मांग रही हूं। हे पारधी! मेरा विश्वास कर, मैं इन्हें इनके पिता के पास छोड़कर तुरंत लौटने की प्रतिज्ञा करती हूं।मृगी का दीन स्वर सुनकर शिकारी को उस पर दया आ गई। उसने उस मृगी को भी जाने दिया। शिकार के अभाव में बेल-वृक्ष पर बैठा शिकारी बेलपत्र तोड़-तोड़कर नीचे फेंकता जा रहा था। पौ फटने को हुई तो एक हृष्ट-पुष्ट मृग उसी रास्ते पर आया। शिकारी ने सोच लिया कि इसका शिकार वह अवश्य करेगा।

शिकारी की तनी प्रत्यंचा देखकर मृग विनीत स्वर में बोला, हे पारधी भाई! यदि तुमने मुझसे पूर्व आने वाली तीन मृगियों तथा छोटे-छोटे बच्चों को मार डाला है तो मुझे भी मारने में विलंब न करो, ताकि मुझे उनके वियोग में एक क्षण भी दुःख न सहना पड़े। मैं उन मृगियों का पति हूं। यदि तुमने उन्हें जीवनदान दिया है तो मुझे भी कुछ क्षण का जीवन देने की कृपा करो। मैं उनसे मिलकर तुम्हारे सामने उपस्थित होऊंगा।

Shivratri Vrat Kahani

मृग की बात सुनते ही शिकारी के सामने पूरी रात का घटनाचक्र घूम गया, उसने सारी कथा मृग को सुना दी। तब मृग ने कहा, ‘मेरी तीनों पत्नियां जिस प्रकार प्रतिज्ञाबद्ध होकर गई हैं, मेरी मृत्यु से अपने धर्म का पालन नहीं कर पाएंगी। अतः जैसे तुमने उन्हें विश्वासपात्र मानकर छोड़ा है, वैसे ही मुझे भी जाने दो। मैं उन सबके साथ तुम्हारे सामने शीघ्र ही उपस्थित होता हूं।’ उपवास, रात्रि-जागरण तथा शिवलिंग पर बेलपत्र चढ़ने से शिकारी का हिंसक हृदय निर्मल हो गया था। उसमें भगवद् शक्ति का वास हो गया था। धनुष-बाण उसके हाथ से सहज ही छूट गए। भगवान शिव की कृपा से उसका हिंसक हृदय करुणा भाव से भर गया। वह अपने अतीत के कर्मों को याद करके पश्चाताप करने लगा।

ताकि वह उनका शिकार कर सके, लेकिन जंगली पशुओं की ऐसी सत्यता, सात्विकता और सामूहिक प्रेम भावना देखकर शिकारी को बड़ी ग्लानि हुई। उसके नेत्रों से आंसुओं की धारा बहने लगी। उस मृग परिवार को न मारकर शिकारी ने अपने कठोर हृदय को जीव हिंसा से हटाकर सदा के लिए कोमल एवं दयालु बना लिया। देवलोक से सभी देवी-देवता भी इस घटना को देख रहे थे। सभी ने पुष्प-वर्षा की। तब शिकारी और मृग परिवार को मोक्ष की प्राप्ति हुई।

FAQ’s Mahashivratri Vrat Katha 2023

Q. महाशिवरात्रि आमतौर पर कब मनाई जाती है?

Ans. महाशिवरात्रि आमतौर पर चंद्र महीने के 14 वें दिन मनाई जाती है, जो अमावस्या के दिन से एक दिन पहले भी है।

Q. महाशिवरात्रि 2023 कब है?

Ans. इस साल महाशिवरात्रि 18 फरवरी को मनाई जाएगी इसके के साथ ही इस दिन शनि प्रदोष का भी व्रत पड़ रहा है।

Q. महाशिवरात्रि का क्या महत्व है?

Ans. महाशिवरात्रि वैवाहिक जीवन में प्यार, जुनून और एकता का प्रतीक है। शिव और शक्ति एक ही ऊर्जा के दो रूप हैं और एक साथ ही वे पूर्ण या शक्तिशाली खड़े होते हैं।

Q. महाशिवरात्रि शुभ मुहूर्त कब हैं?

Ans. इस वर्ष फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि 18 फरवरी दिन शनिवार को रात्रि 08 बजकर 02 मिनट से प्रारंभ हो रही है। चतुर्दशी तिथि का समापन अगले दिन 19 फरवरी दिन रविवार को शाम 04 बजकर 18।निशिता काल पूजा का समय रात 12:09 बजे से शुरू हो रहा है और देर रात 01:00 बजे तक प्रभावी रहेगा।  

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja