महाशिवरात्रि शुभ मुहूर्त 2023 | महाशिवरात्रि पूजा मुहूर्त, विधि, शिव चालीसा | Mahashivratri Shubh Muhurat

Mahashivratri Shubh Muhurat

Mahashivratri Shubh Muhurat 2023:-महाशिवरात्रि एक हिंदू त्योहार है जो भारत में हिंदू धर्म का पालन करने वाले लोगों द्वारा मनाया जाता है। लोग अक्सर शिवरात्रि की रात को उपवास करते हैं और भजन गाते हैं और भगवान शिव के नाम की स्तुति करते हैं। देश भर के हिंदू मंदिरों को रोशनी और रंगीन सजावट से सजाया जाता है और लोगों द्वारा रात भर शिव लिंग की पूजा की जाती है। इस दिन शिवलिंग पर बेल के पत्ते, ठंडा पानी और दूध चढ़ाया जाता है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि ये भगवान शिव को बहुत पसंद हैं।

शनि प्रदोष व्रत महाशिवरात्रि के साथ ही पड़ रहा है। शनि प्रदोष व्रत करने वाले को भगवान शिव पुत्र प्राप्ति का वरदान देते हैं। इस लेख में हम आपको महाशिवरात्रि शुभ मुहूर्त के बारे में जानकारी देंगे। इस लेख को कई बिंदूओं पर रिसर्च कर के तैयार किया गया है जैसे कि महाशिवरात्रि शुभ मुहूर्त 2023, महाशिवरात्रि पूजा कब हैं, महाशिवरात्रि शुभ मुहूर्त कब हैं, महाशिवरात्रि पूजन का शुभ मुहूर्त, शिव रात्रि पर पूजा कैसे करते हैं और महाशिवरात्रि चालीसा आदि। अगर आप महाशिवरात्रि के शुभ मुहूर्त के बारे में जानना चाहते है तो इस लेख को पूरा पढ़े . क्योकि पूजा से लेकर व्रत तक के शुभ मुहूर्त के बारे में जानकारी आपको इस लेख के जरिए मिल जाएगी।

सीता अष्टमी, माता सीता पूजा विधि और शुभ मुहूर्त 

Mahashivratri Shubh Muhurat  2023

त्यौहार नामसम्बंधित लेख
शिव रात्रि क्यों मनाई जाती हैंयहाँ से देखें
महाशिवरात्रि व्रत क्यों रखा जाता हैंयहाँ से देखें
महाशिवरात्रि व्रत 2023 नियम, विधि, शुभ मुहूर्त व व्रत कथा यहाँ से देखें
महाशिवरात्रि पर निबंध हिंदी मेंयहाँ से देखें
शिवरात्रि का महत्व, इतिहासयहाँ से देखें
महाशिवरात्रि शुभ मुहूर्त 2023 | महाशिवरात्रि पूजा मुहूर्तयहाँ से देखें
महाशिवरात्रि शायरी हिंदी में यहाँ से देखें
महाशिवरात्रि स्टेटसयहाँ से देखें
महाशिवरात्रि कोट्स हिंदी में 2023यहाँ से देखें
महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएंयहाँ से देखें

महाशिवरात्रि पूजा कब हैं? | Mahashivratri Puja Kab Hai

टॉपिकमहाशिवरात्रि शुभ मुहूर्त 2023
लेख प्रकारआर्टिकल
साल2023
महाशिवरात्रि 202318 फरवरी
दिनशनिवार
तिथिमाघ (फाल्गुन)महीने कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी 
किसकी पूजा की जाती हैमहादेव
कहा मनाया जाता हैभारत में
किसका त्योहार हैहिंदू
भगवान शिव के वाहननंदी
भगवान शिव से जुड़ी पुराणशिवपुराण

Mahashivratri Shubh Muhurat:-हिंदू कैलेंडर के अनुसार महाशिवरात्रि 2023 को माघ (फाल्गुन) के महीने में कृष्ण पक्ष के दौरान चतुर्दशी तिथि को मनाई जाती है जो कि इस साल 18 फरवरी को पड़ रही है, इसलिए 18 फरवरी को देश भर में धूमधाम के साथ महाशिवरात्रि का त्योहार मनाया जाएगा।  यह शुभ अवसर वह समय है जब भगवान शिव और देवी शक्ति की दिव्य शक्तियां एक साथ आती हैं। यह भी माना जाता है कि इस दिन ब्रह्मांड काफी आसानी से आध्यात्मिक ऊर्जाओं का आह्वान करता है। महाशिवरात्रि का उपवास का पालन , भगवान शिव का ध्यान, आत्मनिरीक्षण, सामाजिक सद्भाव और शिव मंदिरों में लोगों की भीड़ इस दिन की पहचान है है। महाशिवरात्रि के दिन के दौरान मनाए जाने वाले अन्य हिंदू त्योहारों के विपरीत, ये एक अनूठा त्योहार है

See also  सावन सोमवार व्रत कथा 2023 | सावन सोमवार कहानी, पूजा विधि, आरती, व्रत के नियम | Sawan ka Pehla Somvar Vrat katha PDF Download

जो रात के दौरान मनाया जाता है। यह हिंदू त्योहार भगवान शिव के सभी उत्साही भक्तों द्वारा अत्यधिक उत्साह और पवित्र भावना के साथ मनाया जाता है। महाशिवरात्रि का उत्सव सुबह से ही शुरू हो जाता है और देर रात तक जारी रहता है। भक्त इस दिन एक दिन का उपवास रखते हैं और अपना समय भगवान शिव की पूजा और स्मरण करने में व्यतीत करते हैं। ऐसा माना जाता है कि शिव और उनके प्रतीकों की पूजा करने से उनके पिछले पापों में से एक को दूर किया जा सकता है और उन्हें मोक्ष प्राप्त करने में मदद मिल सकती है। लोग इस दिन भगवान की प्रार्थना करने के लिए मंदिरों में जाते हैं।

महाशिवरात्रि शुभ मुहूर्त कब हैं? | Mahashivratri Shubh Muhurat Kab Hai

इस वर्ष फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि 18 फरवरी दिन शनिवार को रात्रि 08 बजकर 02 मिनट से प्रारंभ हो रही है। चतुर्दशी तिथि का समापन अगले दिन 19 फरवरी दिन रविवार को शाम 04 बजकर 18 मिनट पर होगा।इस शुभ दिन पर पूरे दिन महा शिवरात्रि मुहूर्त प्रभावी रहता है। पूरे दिन कई लोग अपनी प्रार्थना में महा मृत्युंजय मंत्र का जाप करते हैं। आप कभी भी भगवान शिव की पूजा कर सकते हैं।

महाशिवरात्रि पर, निशिता काल पूजा का समय रात 12:09 बजे से शुरू हो रहा है और देर रात 01:00 बजे तक प्रभावी रहेगा। महा शिवरात्रि व्रत 2023 पारण का समयजो लोग 18 फरवरी को अपना महाशिवरात्रि व्रत शुरू करते हैं, वे अगले दिन 19 फरवरी को इसे समाप्त करेंगे। 19 फरवरी को महा शिवरात्रि व्रत का पारण सुबह 06 बजकर 59 मिनट से शुरू होगा और दोपहर 03 बजकर 24 मिनट के बीच कभी भी पारण किया जा सकता है.

महाशिवरात्रि पूजन का शुभ मुहूर्त | Mahashivratri Pujan Shubh Muhurat

Mahashivratri poojan Shubh Muhurat:-महाशिवरात्रि व्रत विधि में इस दिन उपवास करने की पूरी प्रक्रिया शामिल है। भक्तों को शिवरात्रि व्रत करने से पहले दिन में केवल एक समय भोजन करना चाहिए। महाशिवरात्रि के दिन भक्तों को पूरे दिन कठोर उपवास करने का संकल्प लेना चाहिए और अगले दिन ही भोजन करना चाहिए। वे बिना किसी बाधा और हस्तक्षेप के महाशिवरात्रि व्रत को समाप्त करने के लिए शक्ति और दृढ़ संकल्प के साथ भगवान शिव का आशीर्वाद मांगते हैं।

See also  National Voters Day 2024: राष्ट्रीय मतदाता दिवस कब और क्यों मनाया जाता हैं?

महाशिवरात्रि की पूजा रात के समय की जानी चाहिए और भक्तों को अगले दिन स्नान करने के बाद उपवास तोड़ना चाहिए। व्रत रखने का अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए सूर्योदय और चतुर्दशी तिथि समाप्त होने से पहले के समय के बीच कभी भी उपवास तोड़ा जा सकता है।यह देश भर में मनाया जाने वाला एक सुंदर पवित्र और धार्मिक त्योहार है। महाशिवरात्रि एक ऐसा त्यौहार है जब हवा भगवान शिव के सम्मान में धार्मिक पवित्रता से भर जाती है और सभी के द्वारा अत्यंत भक्ति के साथ इस त्योहार प्रतीक्षा की जाती है।

शिवरात्रि पर पूजा कैसे करते हैं? | Mahashivratri Pooja Shubh Muhurat

महाशिवरात्रि पूजा निष्ठा काल के दौरान की जाती है। व्रती को पूजा करने से पहले स्नान अवश्य करना चाहिए। महाशिवरात्रि के दिन भोलेनाथ की पूजा कैसे की जाती है इसकी विधि नीचे दी गई है।

  • ध्यान – अपने आंतरिक स्व को महादेव से जोड़ो।
  • आसन – भगवान शिव की मूर्ति या शिव लिंग को एक नए सफेद कपड़े के टुकड़े से ढकी चौकी (एक लकड़ी के मंच) पर सम्मानपूर्वक रखें। घी का दीपक जलाएं।
  • पाद्य – भगवान के चरणों पर थोड़ा जल छिड़कें।
  • अर्घ्य – भगवान को जल अर्पित करें।
  • आचमन – अपनी दाहिनी हथेली पर उद्रानी से थोड़ा जल डालें और उसका सेवन करें।
  • स्नाना – देवता पर थोड़ा जल छिड़कें। यदि मूर्ति धातु या शिवलिंग की बनी हो तो आप अभिषेक के लिए जल, दूध, गंगाजल, शहद, दही आदि का उपयोग कर भोलेनाथ का अभिषेक करें।
  • वस्त्र – देवता को शुद्ध सफेद कपड़े टुकड़ा अर्पित करें। आप कलावा का एक टुकड़ा वस्त्र के रुप में  भी अर्पित कर सकते हैं।
  • यज्ञोपवीत – भगवान को पवित्र जनेऊ और अक्षत अर्पित करें
  • गंध – चंदन का लेप या प्राकृतिक इत्र अर्पित करें
  • पुष्पा – धतूरे के फूल, बेल पत्र आदि अर्पित करें
  • धूप – अगरबत्ती (अगरबत्ती/धूप) चढ़ाएं
  • दीप – तेल का दीपक अर्पित करें
  • नैवेद्य- भगवान को भोग लगाएं। इसमें फल या आपके द्वारा तैयार किया गया कोई भी सात्विक नुस्खा शामिल हो सकता है। (आप ताम्बूलम भी चढ़ा सकते हैं, जिसमें पान, सुपारी, एक भूरा नारियल दो भागों में तोड़ा हुआ, दक्षिणा, केला और/या कुछ फल शामिल होते हैं)
  • प्रदक्षिणा या परिक्रमा/परिक्रमा – अपने पैरों पर खड़े हो जाएं और अपने दाहिनी ओर से मुड़ें।
  • आरती करें।
  • पुष्पांजलि – पुष्प अर्पित कर और प्रणाम कर पूजा का समापन करें।

महाशिवरात्रि चालीसा | Mahashivratri Chailsa

॥ दोहा ॥

See also  पुलिस स्मृति दिवस 2023 | पुलिस शहीद दिवस कब व क्यों मनाया जाता है? Police Martyrs' Day History, Theme, Significance

जय गणेश गिरिजा सुवन,मंगल मूल सुजान।

कहत अयोध्यादास तुम,देहु अभय वरदान॥

॥चौपाई॥

जय गिरिजा पति दीन दयाला।सदा करत सन्तन प्रतिपाला॥

भाल चन्द्रमा सोहत नीके।कानन कुण्डल नागफनी के॥

अंग गौर शिर गंग बहाये।मुण्डमाल तन क्षार लगाए॥

वस्त्र खाल बाघम्बर सोहे।छवि को देखि नाग मन मोहे॥

मैना मातु की हवे दुलारी।बाम अंग सोहत छवि न्यारी॥

कर त्रिशूल सोहत छवि भारी।करत सदा शत्रुन क्षयकारी॥

नन्दि गणेश सोहै तहँ कैसे।सागर मध्य कमल हैं जैसे॥

कार्तिक श्याम और गणराऊ।या छवि को कहि जात न काऊ॥

देवन जबहीं जाय पुकारा।तब ही दुख प्रभु आप निवारा॥

किया उपद्रव तारक भारी।देवन सब मिलि तुमहिं जुहारी॥

तुरत षडानन आप पठायउ।लवनिमेष महँ मारि गिरायउ॥

आप जलंधर असुर संहारा।सुयश तुम्हार विदित संसारा॥

त्रिपुरासुर सन युद्ध मचाई।सबहिं कृपा कर लीन बचाई॥

किया तपहिं भागीरथ भारी।पुरब प्रतिज्ञा तासु पुरारी॥

दानिन महँ तुम सम कोउ नाहीं।सेवक स्तुति करत सदाहीं॥

वेद माहि महिमा तुम गाई।अकथ अनादि भेद नहिं पाई॥

प्रकटी उदधि मंथन में ज्वाला।जरत सुरासुर भए विहाला॥

कीन्ही दया तहं करी सहाई।नीलकण्ठ तब नाम कहाई॥

पूजन रामचन्द्र जब कीन्हा।जीत के लंक विभीषण दीन्हा॥

सहस कमल में हो रहे धारी।कीन्ह परीक्षा तबहिं पुरारी॥

एक कमल प्रभु राखेउ जोई।कमल नयन पूजन चहं सोई॥

कठिन भक्ति देखी प्रभु शंकर।भए प्रसन्न दिए इच्छित वर॥

जय जय जय अनन्त अविनाशी।करत कृपा सब के घटवासी॥

Mahashivratri Chailsa

दुष्ट सकल नित मोहि सतावै।भ्रमत रहौं मोहि चैन न आवै॥

त्राहि त्राहि मैं नाथ पुकारो।येहि अवसर मोहि आन उबारो॥

लै त्रिशूल शत्रुन को मारो।संकट ते मोहि आन उबारो॥

मात-पिता भ्राता सब होई।संकट में पूछत नहिं कोई॥

स्वामी एक है आस तुम्हारी।आय हरहु मम संकट भारी॥

धन निर्धन को देत सदा हीं।जो कोई जांचे सो फल पाहीं॥

अस्तुति केहि विधि करैं तुम्हारी।क्षमहु नाथ अब चूक हमारी॥

शंकर हो संकट के नाशन।मंगल कारण विघ्न विनाशन॥

योगी यति मुनि ध्यान लगावैं।शारद नारद शीश नवावैं॥

नमो नमो जय नमः शिवाय।सुर ब्रह्मादिक पार न पाय॥

जो यह पाठ करे मन लाई।ता पर होत है शम्भु सहाई॥

ॠनियां जो कोई हो अधिकारी।पाठ करे सो पावन हारी॥

पुत्र होन कर इच्छा जोई।निश्चय शिव प्रसाद तेहि होई॥

पण्डित त्रयोदशी को लावे।ध्यान पूर्वक होम करावे॥

त्रयोदशी व्रत करै हमेशा।ताके तन नहीं रहै कलेशा॥

धूप दीप नैवेद्य चढ़ावे।शंकर सम्मुख पाठ सुनावे॥

जन्म जन्म के पाप नसावे।अन्त धाम शिवपुर में पावे॥

कहैं अयोध्यादास आस तुम्हारी।जानि सकल दुःख हरहु हमारी॥

॥ दोहा ॥

नित्त नेम उठि प्रातः ही,पाठ करो चालीसा।

तुम मेरी मनोकामना,पूर्ण करो जगदीश॥

मगसिर छठि हेमन्त ॠतु,संवत चौसठ जान।

स्तुति चालीसा शिवहि,पूर्ण कीन कल्याण॥

FAQ’s Mahashivratri Shubh Muhurat 2023

Q. महाशिवरात्रि 2023 कब है?

Ans. इस साल महाशिवरात्रि 18 फरवरी को मनाई जाएगी इसके के साथ ही इस दिन शनि प्रदोष का भी व्रत पड़ रहा है।

Q. शनि प्रदोष व्रत का क्या महत्व है?

Ans. शनि प्रदोष व्रत रख भगवान शिव की पूजा करने से पुत्र रत्न की प्राप्ती होती है।

Q. भगवान शिव को और कौन कौन से नाम से जाना जाता है?

Ans. शंभु, ईश, शंकर, शिव, चंद्रशेखर, महेश्वर, महादेव, भव, भूतेश, गिरीश, हर, त्रिलोचन के नाम से भी जाना जाता हैं।

Q. भगवान शिव को कौन सा फूल चढ़ाना चाहिए और कौन सा नहीं?

Ans. हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, हम भगवान शिव को धतूरा, बेल के पेड़ के पत्ते और सूखे कमल चढ़ा सकते हैं। चंपक और केतकी के फूलों से शिव जी की पूजा ना करें।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja