हरियाली तीज व्रत कथा 2023 | Hariyali Teej Ki Katha in Hindi | Savan Teej Download PDF

Hariyali Teej Ki Katha in Hindi

Hariyali Teej Ki Katha :- हरियाली तीज त्योहार उत्तर भारतीय है और मुख्य रूप से राजस्थान, झारखंड, उत्तर प्रदेश, पंजाब, दिल्ली, चंडीगढ़, बिहार और मध्य प्रदेश राज्यों में मनाया जाता है। यह तीज तीन प्रसिद्ध तीजों में से एक है, अन्य दो हैं हरतालिका तीज और कजरी तीज। हरियाली शब्द का अर्थ हरा है और यह त्योहार मानसून अवधि के दौरान होता है जब आसपास का वातावरण हरा-भरा होता है। इसलिए, इसे हरित उत्सव भी कहा जाता है।यह त्यौहार हिंदू श्रावण या सावन में चंद्रमा के उज्ज्वल पखवाड़े के तीसरे दिन मनाया जाता है। इसीलिए इस त्यौहार को सावन तीज के नाम से भी जाना जाता है। विवाहित महिलाओं के लिए यह त्योहार करवा चौथ के समान ही महत्व रखता है, हालांकि दोनों अवसरों के लिए उत्सव की शैली अलग-अलग होती है।हरियाली तीज त्योहार देवी पार्वती के प्रति समर्पण का प्रतीक है और भगवान शिव के साथ उनके मिलन का जश्न मनाता है। पार्वती ने शिव पर विजय प्राप्त करने के लिए कई वर्षों तक कठोर व्रत के साथ कठोर तपस्या की। पृथ्वी पर 108 पुनर्जन्मों की लंबी अवधि के बाद अंततः भगवान ने उन्हें अपनी अर्धांगिनी के रूप में स्वीकार कर लिया। यही कारण है कि मां पार्वती को तीज माता के नाम से भी जाना जाता है। हिंदू पौराणिक कथाओं में भगवान शिव और देवी पार्वती को एक आदर्श युगल माना जाता है।इस लेख के जरिए हम आपको Hariyali Teej katha 2023, hariyali teej ki kahani, teej mata ki katha हरियाली तीज की पौराणिक कथा,हरियाली तीज की मुख्य बातें के बारे में जानकारी उपलब्ध कराने जा रहे हैं।

Hariyali Teej katha 2023 | teej ki kahani in Hindi

teej ki kahani: हरियाली तीज भगवान शिव और देवी पार्वती को समर्पित है। इसी दिन भगवान शिव ने पार्वती को अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार किया था। माता पार्वती ने भगवान शिव द्वारा अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार किए जाने के लिए कई वर्षों तक उपवास किया। इस त्योहार के दौरान भक्त दोनों के मिलन का जश्न मनाते हैं। ऐसा माना जाता है कि जो अविवाहित महिलाएं इस दिन व्रत रखती हैं उन्हें भगवान शिव जैसा जीवनसाथी मिलता है। विवाहित महिलाएं भी अपने वैवाहिक जीवन में आने वाली बाधाओं को दूर करने के लिए इस दिन व्रत रखती हैं। इस दिन व्रत करने से रिलेशनशिप में रहने वालों को भी भगवान शिव और देवी पार्वती का आशीर्वाद मिलता है।

See also  Ahoi Ashtami 2023 | अहोई अष्टमी क्या है? ये कब व क्यों मनाई जाती है, जानें (तिथि, शुभ मुहूर्त, महत्व, पूजन विधि, व्रत कथा)

Also Read: सावन सोमवार व्रत कथा 2023 | सावन सोमवार कहानी, पूजा विधि, आरती, व्रत के नियम

हरियाली तीज की पौराणिक कथा | Hariyali Teej Vrat Katha PDF Download

Hariyali Teej Vrat Katha: हरियाली तीज की व्रत कथा एक पौराणिक कथाओं में से एक है। इस कथा में ऐसा बताया गया है कि माता पार्वती जी इस दिन सैकड़ों वर्षो की साधनाएं तप के बाद भगवान शिवजी से मिली थी और यह भी कहा जाता है कि भगवान शिवजी को पति के रूप में पाने के लिए पार्वती जी ने १०७ बार जन्म लिया था और फिर भी उसका बाद माता पार्वती जी को पति के रूप में शिवजी प्राप्त नहीं हुए था।फिर जब १०८ जन्म पार्वती जी हुआ था और फिर उनका जन्म हिमालय राज जी के घर पार्वतीजी ने पुनर्जन्म लिया था। उन्हे बचपन से ही शिव जी को पति के रूप में पाने की कामना की थीं। काफी समय बीत जाने के बाद एक दिन नारद मुनी राजा हिमालय जीं से मिलने गए।
नारद मुनी ने राजा हिमालय जी को माता पार्वती जी की शादी के लिये विष्णु जी का नाम सुझाया। नारद मुनी ने राजा हिमालय जी को माता पार्वती जी की शादी के लिये विष्णु जी का नाम सुझाया। राजा हिमालय जी को बात बहुत ही अच्छी लगी। राजा हिमालय जी ने भगवान विष्णु जी को दामाद के रूप में स्वीकराने की सहमती दे दी।

सावन से समन्धित लेख:-

1.सावन सोमवार की शुभकामनाएं
2.सावन सोमवार व्रत कथा 2023 | सावन सोमवार कहानी, पूजा विधि, आरती, व्रत के नियम
3.Sawan Quotes, Shayari, Wallpapers, Wishes in Hindi
4.नाग पंचमी कब है और क्यों मनाई जाती है पौराणिक कथा, पूजन विधि, शुभ मुहूर्त देखें
5.नाग पंचमी की शुभकामनाएं संदेश, कोट्स, शायरी, व्हाट्सप्प स्टेटस

या बात जब माता पार्वती को पता चली की उनकी शादी विष्णुजी से तय कर दिया गया है तो वह बहुत दुखी हुई और फिर वह शिवजी को पाने के लिये एकांत जंगल में चली गई, फिर वह उन्होने रेत से एक शिवलिंग बना दिया और फिर शिव जी की आराधना या तप करने लगी, जिससे फिर शिव जी बहुत खुश हो गए और माता पार्वती जी की मनोकामना पूरी कर दी।जब पर्वत राज हिमालय जी को पार्वती जी के दिल की पता चली तो फिर उन्होने शिव जी और माता पार्वती जी शादी के लिये तैयार हो गए। जभी से शिवजी माता पार्वती जी को पति के रूप में मिल सके तभी से तीज का व्रत शुरू हो गया। तभी से तीज वाले शादी शुदा महिलाएं व्रत रखती हैं और उनके पति की लम्बी उम्र की परतना करती है और साथ ही माता पार्वती जी के कहने पर शिव जी ने यह आशीर्वाद दिया था कि जो कुंवारी कन्या तीज का व्रत रखेगी, उसका शादी में आने वाली सारी मुश्किल दूर हो जाएगी और साथ में उसे अच्छा पति प्रताप होगा।शादीशुदा महिलाओं को इस व्रत से सौभाग्य की प्राप्ति होगी और साथ ही उनके पति का साथ उनका विवाहित जीवन का सुख ले सकेंगी। इसीलिए इस व्रत को कुंवारी और सुहागन दोनों ही रखती हैं। इसलिए ये तीज का त्यौहार मनाया जाता है।

See also  कारगिल विजय दिवस पर स्लोगन, नारे, पोस्टर, संदेश | Kargil Vijay Diwas Slogan, Poster Message, Quotes in Hindi

PDF Download:

Also Read: महा शिवरात्रि व्रत कथा | Mahashivaratri Vart Katha 2023

  • देवि देवि उमे गौरी त्राहि माम करुणा निधे, ममापराधा छन्तव्य भुक्ति मुक्ति प्रदा भव।
  • गण गौरी शंकरार्धांगि यथा त्वं शंकर प्रिया। मां कुरु कल्याणी कांत कांता सुदुर्लभाम्।।
  • उमामहेश्वरसायुज्य सिद्धये हरितालिका व्रतमहं करिष्ये
  • श्री भगवते साम्ब शिवाय नमः

Also Read: नाग पंचमी की शुभकामनाएं संदेश, कोट्स, शायरी, व्हाट्सप्प स्टेटस

और पढ़ें:- Upcoming Festivals:

1.ओणम कब व कहां मनाया जाता है
2.Happy Onam 2023
3.रक्षाबंधन कोट्स हिंदी में
4.50+ रक्षाबंधन स्टेटस
5.राखी स्टेटस 2023
6.राखी पर निबंध 2023

Teej Vrat ki Katha | हरियाली तीज की मुख्य बातें |

  • हरियाली तीज जिसे श्रावण तीज के नाम से भी जाना जाता है, हिंदुओं का त्योहार है जो देवी पार्वती और भगवान शिव के साथ उनके मिलन को समर्पित है। यह उत्तरी राज्यों पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और चंडीगढ़ में मनाया जाता है।
  • श्रावण तीज को हरियाली तीज के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि यह मानसून के मौसम का त्योहार है जहां बारिश के कारण आसपास का वातावरण हरा-भरा हो जाता है।
  • हरियाली तीज, जिसे छोटी तीज भी कहा जाता है, श्रावण माह में मधुसरवा तीज मनाई जाती है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन, भगवान शिव ने कई वर्षों तक कठोर व्रत का पालन करने के बाद देवी पार्वती को उनके 108वें जन्म में अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार किया था।
  • तीज तीन प्रकार की होती हैं- हरियाली तीज, कजरी तीज और हरतालिका तीज। हरियाली तीज श्रावण या श्रावण के चंद्र माह के शुक्ल पक्ष के तीसरे दिन आती है।
  • महिलाएं अपने हाथों और पैरों पर मेंहदी लगाती हैं, जो सोलह श्रृंगार का एक हिस्सा है, चमकीले रंग की पारंपरिक पोशाक पहनती हैं और प्रार्थना करती हैं।
  • त्योहार का उद्देश्य परिवार में खुशियां तलाशना है। विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र और कल्याण के लिए और अपने परिवार के सदस्यों को बुरी नजर से बचाने के लिए हरियाली तीज का व्रत रखती हैं। अविवाहित लड़कियां भगवान शिव जैसा प्यार करने वाला और देखभाल करने वाला पति पाने के लिए यह व्रत रखती हैं।
  • भगवान शिव और देवी पार्वती को भोग प्रसाद के रूप में चढ़ाने के लिए महिलाओं द्वारा सात्विक भोजन तैयार किया जाता है।
  • इस त्यौहार को कुछ राज्यों में आधिकारिक अवकाश का दर्जा दिया गया है जबकि अन्य राज्यों में यह प्रतिबंधित अवकाश है।
See also  Saraswati Puja 2024 | जाने बसंत पंचमी पर सरस्वती पूजा कब व कैसे की जाती है।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized with PageSpeed Ninja